केजरीवाल पर फेंकी गई लाल मिर्च की कीमत जानकर हो जायेंगे आप हैरान

21 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (43 बार पढ़ा जा चुका है)

केजरीवाल पर फेंकी गई लाल मिर्च की कीमत जानकर हो जायेंगे आप हैरान - शब्द (shabd.in)

भारत में जब भी अगर बात चुनाव की आती है तो यहाँ हर कोई इस चुनावी माहौल को गर्माने में लग जाता है और फिर चाहे वो पार्टियाँ या आमजान।सरकार 'पॉपुलर' घोषणाएं करने लगती है, नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने लगते हैं, जिससे सोशल मीडिया पर बहस नए रूप ले लेती है।जो कि चुनावमयी माहौल का ही एक हिस्सा है। इसी के साथ नेताओं पर जनता का रोष भी देखने को मिलता है ।

दिल्ली मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को जनता के इस अजीब प्रकार के रोष का अनेको बार सामना करना पड़ा है। कभी जूता फेंककर , कभी इंक गिराकर , तो कभी भरी सभा में थप्पड़ मारकर जनता ने अपना गुस्सा दिखाया है ।


ऐसे ही एक और घटना फिर सामने आयी है एक बार फिर दिल्ली CM अरविन्द केजरीवाल को जनता के गुस्से का सामना करना पड़ा ।

आपको बता दें कि दिल्ली सचिवालय से बाहर निकलते हुए केजरीवाल पर एक व्यक्ति ने लाल मिर्च पाउडर फेंक दिया। ये व्यक्ति CM के बाहर आते ही उनके पैर छूने लगा, जैसे ही केजरीवाल ने उसे रोका, उसने मिर्ची पाउडर डाल दिया। और ऐसा करने से ठीक पहले उसने केजरीवाल को कहा, 'आप से ही उम्मीद है।’

व्यक्ति की पहचान अशोक कुमार शर्मा के नाम से हुई है। शर्मा के एक हाथ में एक कागज़ और दूसरे में गुटखे के पैकेट में मिर्च पाउडर था। फ़िलहाल पुलिस ने अनिल शर्मा को गिरफ़्तार कर लिया है।

अब देखना ये है कि क्या ये सच में जनता का रोष है या फिर चुनावी दिनों में सुर्ख़ियों में आने का एक तरीका?




अगला लेख: भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा- कुमार विश्वास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 नवम्बर 2018
महादेवी वर्मा हिंदी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक है |शचीरानी गुर्टू ने भी महादेवी वर्मा की कविता (Mahadevi verma poems) को सुसज्जित भाषा का अनुपम उदाहरण मान
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwas बांसुरी चली आओ तुम अगर नहीं आई गीत गा न पाऊँगासाँस साथ छोडेगी, सुर सजा न पाऊँगातान भावना की है शब्द-शब्द दर्पण हैबाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण हैतुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी हैतीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी हैरात की उदासी को याद संग खेला है कुछ गलत ना कर बैठें मन ब
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
इतिहास की बात की जाये तो पूरे देश के इतिहास को यदि तराजू के एक तरफ रख दें और केवल मेवाड़ के ही इतिहास को दूसरी ओर रख दें, तो भी मेवाड़ का पलड़ा हमेशा भारी ही रहेगा | कभी गुलामी स्वीकार न करने वाले शूरवीर महाराणा प्रताप ने इतने संघर्षों के बाद अकबर को मेवाड़ से खदेड़ने पर मजबूर कर दिया था |न जाने मेव
21 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x