कांग्रेस के खोखले वादों की वजह से कश्मीर ही नहीं देश को चुकानी पड़ी भारी कीमत- अरुण जेटली

03 जनवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (43 बार पढ़ा जा चुका है)

कांग्रेस के खोखले वादों की वजह से कश्मीर ही नहीं देश को चुकानी पड़ी भारी कीमत- अरुण जेटली

राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर बीजेपी और कांग्रेस के बीच जमकर बहस हुई। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने भाजपा के साढ़े चार साल के शासन के दौरान राज्य में हिंसा की घटनाएं बढ़ने का आरोप लगाया तो वहीं बीजेपी की ओर से अरुण जेटली ने कांग्रेस पर पलटवार किया।


आजाद ने जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग करने समेत कई राज्यों में तोड़फोड़ कर सरकार बनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में अलगाववाद की भावना बढ़ी है। वहीं जेटली ने पलटवार करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर में अलग अस्तित्व की परिकल्पना की गई थी, लेकिन कांग्रेस के 70 साल के कार्यकाल में यह अलगाववाद की ओर मुड़ने लगा।कांग्रेस ने वादे तो कर दिये, लेकिन पूरे देश को कीमत चुकानी पड़ी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सत्ता में तो आ गई, लेकिन अपना इतिहास भूलती चली गई। कश्मीर की समस्या कांग्रेस की गलत नीतियों का नतीजा है। इसके लिए कांग्रेस को कभी मुक्ति नहीं मिलेगी।




जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम रह चुके आजाद ने आरोप लगाया कि जम्मू-कश्मीर में भाजपा ने सत्ता के लिए गठबंधन कर सरकार तो बना ली, लेकिन जब हर मोर्चे पर विफल होने लगे तो सरकार भंग कर दिया। उन्होंने कहा कि साढ़े चार साल के दौरान सबसे ज्यादा बार सीजफायर का उल्लंघन हुआ, सबसे ज्यादा आम नागरिक मारे गए। उन्होंने बीजेपी को इतिहास से सबक लेने तक की नसीहत दे डाली।


जवाब के दौरान जेटली ने कहा कि जिस शासनकाल को कांग्रेस गोल्डन पीरियड साबित करना चाह रही है, उसी समय ने कश्मीर के युवाओं को हथियार में तब्दील कर दिया। पत्थरबाजियां उसी वक्त शुरू हुई और युवा अमन की राह से भटकने लगे। उन्होंने कहा कि इतिहास जब फैसला करेगा कि जम्मू-कश्मीर पर श्यामा प्रसाद मुखर्जी का दृष्टिकोण सही या था या पंडित जवाहरलाल नेहरू का, तो आपको बहुत तकलीफ होगी। उन्होंने कहा कि अब समय कश्मीर के भविष्य पर बात करने की है।


अगला लेख: Guest Post : Guest posting के ज़रिये कैसे अपने ब्लॉग को बनायें NO. 1 - In HIndi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जनवरी 2019
खाब फाउंडेशन एक ऐसी गैर सरकारी संस्था है जिसका उद्देश्य मानसिक रोगियों की मदद करना और उनको उस रोग से बाहर निकालना है। खाब फाउंडेशन एक ऐसी गैर सरकारी संस्था है जिसका उद्देश्य मानसिक रोगियों की मदद करना और उनको उस रोग से बाहर निकालना है।मानसिक रोग जिसका नाम सुनते ही लो
03 जनवरी 2019
10 जनवरी 2019
एक शख्स जो खुद दो कदम नहीं चल सकता है लेकिन जिसने देश को हज़ारों कदम आगे बढ़ा दिया है। अपनी शारीरिक विकलांगता से हज़ारों लोगों की मानसिक विकलांगता को कुचलता ये शख्स आज उन लोगों के लिए मिसाल पेश कर रहा है जिन्होनें ज़िंदगी के आगे घुटने टेक दिए हैं ... आइए सुनते हैं उसकी कहानी उसकी ज़ुबानी…मेरा नाम गो
10 जनवरी 2019
02 जनवरी 2019
राफेल डील मामले पर लोकसभा में हुई चर्चा के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई सवाल खड़े किए और आरोप लगया कि इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झूठ बोला है। राहुल के सवालों को जवाब देने के लिए सत्ता पक्ष से वित्त मंत्री अरुण जेटली खड़े हुए और उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी
02 जनवरी 2019
02 जनवरी 2019
राफेल डील मामले पर लोकसभा में हुई चर्चा के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई सवाल खड़े किए और आरोप लगया कि इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झूठ बोला है। राहुल के सवालों को जवाब देने के लिए सत्ता पक्ष से वित्त मंत्री अरुण जेटली खड़े हुए और उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी
02 जनवरी 2019
02 जनवरी 2019
सभी लोगों को खुशहाल जीवन पसंद है ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो अपने जीवन में खुश रहना नहीं चाहता होगा लगभग सभी लोग चाहते हैं कि उनके जीवन में कभी भी कोई मुसीबत या कठिन परिस्थितियां ना आए व्यक्ति रोजाना अपना कोई ना कोई कार्य करता रहता है कभी-कभी ऐसा होता है कि व्यक्ति कोई का
02 जनवरी 2019
21 दिसम्बर 2018
अपने हिंदी ब्लॉग (Hindi blog) और वेबसाइट (website) के ट्रैफिक को कैसे बढ़ायें ? यह 9 टिप्स आपके ब्लॉग के ट्रैफिक को न केवल बढ़ाएगा बल्कि गूगल पेज रैंक पर ऊपर भी लाएगा। आजकल हर हिंदी लेखक हिंदी ब्लॉगिंग (Hindi blogging) का इस्तेमाल कर रहा
21 दिसम्बर 2018
25 दिसम्बर 2018
SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।SEO ब्लॉग और लेख हमारी ऑनलाइन पीआर सेवाओं और सामाजिक मीडिया प्रबंधन का वास्तव में महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।यदि आप भी एक अच्छे SEO लेख लेखक बनना चाहते हैं और अपने आर्
25 दिसम्बर 2018
31 दिसम्बर 2018
2019 की शुरुआत होने जा रही है और हर किसी के दिमाग में बस यही चल रहा होगा कि कैसा होगा ये नया साल।व्यक्ति के जीवन में राशियों का बड़ा महत्व माना गया है राशियों के आधार पर किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है व्यक्ति को आने वाले समय में किन किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा इन स
31 दिसम्बर 2018
21 दिसम्बर 2018
नवज्योति इंडिया फाउंडेशन (Navjyoti India Foundation) एक गैर-लाभकारी संगठन है। जिसकी शुरुआत 1988 में प्रथम महिला आईपीएस (IPS) डॉ. किरण बेदी और दिल्ली पुलिस के 16 पुलिस अधिकारियों की टीम के द्वारा भारत में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध, निरक्षरता, भेद-भाव, जैसी समाज में फ़ैली विकृतियों को एक जुट होकर साम
21 दिसम्बर 2018
04 जनवरी 2019
2019 लोकसभा चुनावों को लेकर सारी पार्टियां अपने जीत की जद्दोज़हद में लग गए हैं। इस बार पूरा विपक्ष एक होता दिख रहा है वहीं मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। लेकिन एक कहावत है कि जंगल में एक ही शेर होता है और भाजपा इस वाक्य को सही साबित करने में लगी हुई है। इसी के चलते अभी बाकि पार्टियां
04 जनवरी 2019
04 जनवरी 2019
2019 लोकसभा चुनावों को लेकर सारी पार्टियां अपने जीत की जद्दोज़हद में लग गए हैं। इस बार पूरा विपक्ष एक होता दिख रहा है वहीं मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। लेकिन एक कहावत है कि जंगल में एक ही शेर होता है और भाजपा इस वाक्य को सही साबित करने में लगी हुई है। इसी के चलते अभी बाकि पार्टियां
04 जनवरी 2019
21 दिसम्बर 2018
*संपूर्ण विश्व में यदि कहीं पुण्य भूमि है तो वह हमारा देश भारत है , जहां आध्यात्मिकता अपने उच्च शिखर को प्राप्त करती है | आदिकाल से ही इस देश में धर्म संस्थापकों ने समय-समय पर जन्म या अवतार लेकर के संपूर्ण संसार को सत्य की , आध्यात्मिकता की एवं सनातनता की पवित्र धारा से बारंबार स्नान कराया है | हम
21 दिसम्बर 2018
24 दिसम्बर 2018
आजकल शादियों का सीजन चल रहा है। और किसी भी शादी में छोटी-मोटी भूल-चूक, नाराज़गी होना तो आम बात है। लेकिन जब इन छोटे छोटे बातों का लोग मुद्दा बना देते हैं तो शादी के रंग में भंग पड़ते देर नहीं लगती। जिसके चलते कभी कभी नौबत शादी टूटने तक भी आ जाती है। आपने शादी टूटने के कई कि
24 दिसम्बर 2018
26 दिसम्बर 2018
इंसान नहीं इंसान का काम बोलता है ये लाइन अपने कई बार सुनी होगी। आज ऐसे ही एक महिला IAS की कहानी हम आपको बताने जा रहे हैं जिसने इस वाक्य को सही ठहरा दिया।देहरादून में पली-बढ़ी IAS अफसर आरती डोगरा अपने काम के ज़रिये सुर्खियों में बनी रहती हैं। ये ही नहीं इन्होंने ऐसे ऐसे काम किये हैं की खुद प्रधानमंत्री
26 दिसम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x