प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद अब आयुष्मान भारत योजना के फैंन हुए बिल गेट्स, ट्वीट कर कही ये बात

21 जनवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (111 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद अब आयुष्मान भारत योजना के फैंन हुए बिल गेट्स, ट्वीट कर कही ये बात

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब से सत्ता संभाली है तभी से उन्होंने देश को कई सारी योजनाओं से लाभांवित किया है। देश की महिलाओं से लेकर बेटियों तक सभी उनकी किसी ना किसी योजना से लाभांवित हुए हैं और इसके लिए लोगों का प्यार भी उनको भरपूर मिला है। लेकिन हाल ही में उनकी एक योजना की तारीफ दिग्गज टेक्नॉलजी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स ने की हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं बीते साल 25 सितंबर को लॉन्‍च हुई मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी ‘आयुष्मान भारत योजना’ की।




बता दें कि इस स्‍कीम का फायदा 100 दिनों 6 लाख लोगों से ज्यादा मरीजों को देखने को मिला है। जिसके लिए सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी उनकी इस योजना की तारीफ हो रही है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) के डायरेक्‍टर जनरल ने इसे मोदी सरकार की शानदार उपलब्‍धि बताया है। तो वहीं दुनिया के दूसरे सबसे अमीर शख्‍स बिल गेट्स भी उनकी इस योजना के मुरीद हो गए हैं। उन्होंने इस योजना के सफल होने पर खुद सोशल मीडिया पर नरेंद्र मोदी को बधाई दी है।




माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स ने अपने ट्वीटर अकाउंट से पीएमओ को टैग करते हुए पोस्ट किया है, जिसमें लिखा है कि,”आयुष्मान भारत के पहले 100 दिन के मौके पर भारत सरकार को बधाई. यह देखकर अच्छा लग रहा है कि कितनी बड़ी तादाद में लोग इस योजना का फायदा उठा चुके हैं।”




बता दें कि हेल्‍थ मिनिस्‍टर जगत प्रकाश नड्डा ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर के इस योजना की सफलता की जानकारी दी थी उ्न्होंने अपनी इस पोस्ट में बताया था कि “आयुष्‍मान भारत के लॉन्चिंग के 100 दिनों के भीतर इस स्‍कीम के तहत 6 लाख 85 हजार लाभार्थियों ने फ्री में इलाज कराया। लाभार्थियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है”। ऩड्डा के इसी ट्वीट को रिट्वीट करते हुए बिल गेट्स ने भारत सरकार को बधाई दी।


ये कोई पहली बार नहीं हैं जब बिल गेट्स ने नरेंद्र मोदी की किसी योजना की तारीफ की हो इसके पहले भी वो मोदी सरकार के स्वच्छता मिशन की भी तारीफ कर चुके हैं। उन्होंने पीएम मोदी के स्वतंत्रता दिवस पर दिए गए भाषण में शौचालय की बात का जिक्र किया था और ‘हर घर शौचालय’ का संकल्‍प लिया था। तब उन्होंने कहा था कि, मेरे ख्याल से किसी राष्ट्रीय नेता ने आज तक इस तरह के संवेदनशील विषय पर इतने खुलेपन और सार्वजनिक रूप से टिप्पणी नहीं की है। पीएम मोदी के इस पहल का असर देशभर में देखने को मिल रहा है।


सिर्फ गेट्स ही नहीं बल्कि WHO के डायरेक्‍टर जनरल टेड्रस घेब्रेसेस ने भी मोदी सरकार की इस योजना की उपलब्‍धि पर उनको बधाई देते हुए कहा कि, “इस योजना के तहत 100 दिन में करीब 7 लाख लोगों का इलाज हुआ है। मैं इस प्रयास के लिए मोदी सरकार की सराहना करता हूं।“

बता दें कि इस योजना के चलते गरीब परिवार सालाना 5 लाख रुपये का मुफ्त इलाज करा सकते हैं। इसके साथ ही बताते चलें कि ये आज तक की सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम है। प्रधानमंत्री मोदी ने साल 2018 के सितंबर महीने मेंआरएसएस विचारक दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर इस योजना की शुरुआत की थी। इस योजना से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी आपको उनकी इस योजना की वेबसाइट https://www.pmjay.gov.in/ या मोबाइल ऐप और 14555 टोल फ्री नंबर पर कॉल कर के मिल जाएगी।


अगला लेख: Basic Shiksha News: भारत में साक्षरता दर का पूर्ण विवरण



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 जनवरी 2019
एक शख्स जो खुद दो कदम नहीं चल सकता है लेकिन जिसने देश को हज़ारों कदम आगे बढ़ा दिया है। अपनी शारीरिक विकलांगता से हज़ारों लोगों की मानसिक विकलांगता को कुचलता ये शख्स आज उन लोगों के लिए मिसाल पेश कर रहा है जिन्होनें ज़िंदगी के आगे घुटने टेक दिए हैं ... आइए सुनते हैं उसकी कहानी उसकी ज़ुबानी…मेरा नाम गो
10 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
मै
इंसानियत की बस्ती जल रही थी, चारों तरफ आग लगी थी... जहा तक नजर जाती थी, सिर्फ खून में सनी लाशें दिख रही थी, लोग जो जिंदा थे वो खौफ मै यहा से वहां भाग रहे थे, काले रास्तों पर खून की धारे बह रही थी, हर तरफ आग से उठता धुंआ.. चारों और शोर, बच्चे, बूढ़े, औरत... किसी मै फर्क नही किया जा रहा, सबको काट रहे ह
21 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
हर 5 साल बाद भारत में एक चुनावी लहर आती है, जैसे ही लोकसभा चुनावों का बिगुल बजता है।चारों ओर बस चुनावी माहौल गरमाया हुआ होता है। चुनाव आते ही सभी नेता अपने-अपने पार्टियों के साथ जनता के पास पहुंच जाते हैं
22 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
दुनियाभर में भारतीय प्रतिभा अपना लोहा मनवा रही है। बड़ी कंपनियों के महत्वपूर्ण पदों से लेकर कई देशों की सरकारों में भी यहां के लोग शामिल हैं। ज़ाहिर है किसी और देश में जाकर चुनौतियों का सामना करते हुए ख़ास मुकाम बनाना बेहद कठिन होता है। खासकर बात जब महिलाओं की हो तो उनके लिए रास्ते और भी मुश्किल भरे हो
24 जनवरी 2019
25 जनवरी 2019
भले ही शेक्सपीयर ने ये बात कही हो की दुनिया में किसी व्यक्ति का नाम कोई मायने नहीं रखता है। लेकिन, ज्योतिष की दुनिया में किसी व्यक्ति नाम का काफी महत्वपूर्ण होता है। ज्योतिष शास्त्र में नाम के पहले अक्षर से किसी व्यक्ति के स्वभाव के बारे में जानने का तरीका बताया गया है। आज हम आप को बताने जा रहे हैं
25 जनवरी 2019
08 जनवरी 2019
2019 लोकसभा चुनाव कुंवर पुष्पेन्द्र सिंह चंदेल भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं और हमीरपुर, उत्तर प्रदेश (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) से भारतीय आम चुनाव, 2014 जीत चुके हैं। पुष्पेंद्र सिंह चंदेल का जन्म 8 अक्टूबर 1973 को महोबा (उत्तर प्रदेश) में हुआ था। इनके पिता का नाम राजा हरपाल सिंह चंदेल और माता का
08 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
भारत आबादी के मामले में दूसरे नंबर पर आता है. एक रिपोर्ट के अनुसार, 2024 में भारत की आबादी चीन से भी अधिक होगी. आज़ादी के बाद से अलग-अलग सरकारों ने आबादी पर नियंत्रण लाने के लिए कई कदम उठाए. समझा-बुझाकर काम नहीं चला, तो इमरजेंसी के दौरान जबरन नसबंदी भी करवाई गई. कोई भी उपाय आबादी पर नियंत्रण नहीं लग
24 जनवरी 2019
04 फरवरी 2019
पाकिस्तान में लड़कियों के लिए कई कड़े नियम होते हैं। वहां रहने वाले लोगों को इन नियमों को मानना भी होता है, लेकिन कहते हैं ना कि जहां चाह वहां राह। एक ऐसा ही वाक्या पाकिस्तान में घटा है जिसके चलते वहां पर पहली बार कोई हिंदू महिला जज बनी हैं। बता दें सुमन पवन बोदानी नाम की ये महिला पहली महिला सिविल ज
04 फरवरी 2019
10 जनवरी 2019
प्रिय मित्रों/पाठकों, विघ्नविनाशक सिद्घिविनायक भगवान गणेश जी का सबसे लोकप्रिय रूप है। गणेश जी जिन प्रतिमाओं की सूड़ दाईं तरह मुड़ी होती है, वे सिद्घपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्घिविनायक मंदिर कहलाते हैं। कहते हैं कि सिद्धि विनायक की महिमा अपरंपार है, वे भक
10 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
ऐसा कहा जाता है कि व्यक्ति अपनी किस्मत खुद बनाता है क्योंकि व्यक्ति द्वारा किए गए कर्म के अनुसार वह अपनी किस्मत बदल सकता है लेकिन इस दुनिया में बहुत से व्यक्ति ऐसे हैं जो कड़ी मेहनत करते हैं और अच्छे कर्म भी करते हैं इसके बावजूद भी उनकी किस्मत नहीं बदल पाती है। आम भाषा में ये भी कहा जाता हैं कि हर
28 जनवरी 2019
29 जनवरी 2019
साक्षरता और शिक्षा को सामान्यतः सामाजिक विकास के संकेतकों के तौर पर देखा जाता है। साक्षरता का विस्तार औद्योगिकीकरण, शहरीकरण, बेहतर संचार, वाणिज्य विस्तार और आधुनिकीकरण के साथ भी सम्बद्ध किया जाता है। संशोधित साक्षरता स्तर जागरूकता और सामाजिक कौशल बढ़ाने तथा आर्थिक दशा सुधारने में सहायक होता है। साक्
29 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x