लस्सी और नींबू पानी पीकर सरहद पर तैनात हैं भारतीय जवान, भरी गर्मी में कर रहे हैं देश की सेवा

05 जुलाई 2019   |  स्नेहा दुबे   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

लस्सी और नींबू पानी पीकर सरहद पर तैनात हैं भारतीय जवान, भरी गर्मी में कर रहे हैं देश की सेवा

उत्तर भारत में भयंकर गर्मी पड़ रही है जिससे लोग परेशान भी हो गए हैं और इससे बचने के लिए कूलर, एसी और भी ठंडी चीजों का इस्तेमला कर रहे हैं। बहुत से लोग तो गर्मी से परेशान होकर हील स्टेशन या बर्फीले इलाकों में परिवार सहित चले जा रहे हैं लेकिन क्या आपने सोचा है जिनके भरोसे हम आराम से घूमते-फिरते हैं क्या वो ठीक से रह रहे हैं ? हम बात भारतीय आर्मी की कर रहे हैं जो देश की सरहदों पर खड़े होकर भारत की आम जनता की रक्षा करते हैं।


INDIAN ARMY


तपती गर्मी में उन्हें सरहदों पर खड़े रहना पड़ता है और इतना ही नहीं उन्हें अपनी नजर एक सेकेंड के लिए नहीं हटानी होती है क्योंकि कहते हैं ना सावधानी हटी दुर्घटना घटी। तपती गर्मिी और लू से हम सभी बचते फिर रहे लेकिन बीएसएफ के जवान सिर्फ नींबू पानी, ठंडा पानी और लस्सी के सहारे रेत की तपती धूप में तैनात हैं। धूप से बचने के लिए उन्हें लोहे की चादर वाली झोपड़ी दी गई है लेकिन भरी धूप में वो भी जलती है। जवानों के मुताबिक, भरी गर्मी में गश्त करना बहुत ही मुश्किल भला काम है लेकिन विभाग की तरफ से चाय, ठंडा पानी और भी पेय जल जैसी चीजें उन्हें राहत देती हैं। फिर भी गर्मी में परेशानी तो होती ही है, आखिर वे भी इंसान हैं लेकिन उन्हें ट्रेनिंग के समय ठंडे और गर्मी में रहने की ट्रेनिंग उन्हें दी जाती है तो वे सह लेते हैं।जवानों के अनुसार इन दिनों खेतों में धान की फसल बिछी हुई है और इस वजह से खेतों में पानी भरा रहता है। तपती धूप में खेतों का पानी उबलने लगता है औऱ इससे गर्मी भी ज्यादा लगती है। ऐसे में सरहद के किनारे पूरी वर्दी पहनकर हथियार लेकर निगाहें लगाए रहना आसान काम नहीं होता है लेकिन अगर उनकी तरफ से एक भी चूक हुई तो देश खतरे में पड़ सकता है इस कारण उनकी नजरें नहीं हटतीं। सरहद पर लगी फेसिंग के साथ-साथ सूखी मिट्टी पाउडर बनकर जवानों के हर कदम पर धूल की तरह उड़ती है जिसमें सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है।


INDIAN ARMY

जवानों के मुताबिक तपती गर्मी में गश्त करना बहुत कठिन काम होता है लेकिन ऐसी स्थिति में दुश्मन पर पैनी नजर रखनी ही पड़ती है। BSF के एक अधिकारी ने बताया कि सरहद पर रेत या खेतों की वजह से गर्मी तो पड़ती ही है मगर सरहद पर गर्मी के दौरान ड्यूटी देने वाले जवानों को समय-समय पर नींबू पानी, ठंडा पानी और लस्सी मुहैया कराई जाती है। सरहदों पर कुछ ऐसे प्वाइंट्स होते हैं जहां पर दुश्मनों और तस्करों की गतिविधियां होती रहती हैं जिसकी वजह से जवानों की नजरें एक पल के लिए भी नहीं हटनी चाहिए। उनके रहने के लिए लोहे की चादर वाली झोपड़ी दी गई है और साथ में पेय पदार्थों का भी भरपूर इंतजाम किया गया है, हालांकि सरहद से सटे हुए गांव वाले भी इनकी खूब मदद करते रहते हैं।

अगला लेख: हॉलीवुड एक्ट्रेस ने बताया Bikini पहनने के लिए Bikini नहीं, इस चीज की होनी चाहिए जरूरत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 जुलाई 2019
सब टीवी पर आने वाला सबसे पॉपुलर शो Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah पिछले 10 सालों से लोगों को मनोरंजित कर रहा है। इसमें दिखाए जाने वाले बहुत से किरदार आज भी इससे जुड़़े हुए हैं हालांकि कुछ है जो अलग-अलग वजहों से शो से दूर हो चुके हैं। इस शो में एक जर्नलिस्ट का किरदार
08 जुलाई 2019
16 जुलाई 2019
देश में पहली पैसेंजर ट्रेन मुंबई (तब बंबई) से ठाणे के बीच साल 1853 में चलाई गई थी। तब से लेकर आज तक ये भारत की लाइफ लाइऩ बनी हुई है। कहीं भी आने और जाने या फिर माल ढोने के लिए सभी की पहली पसंद रेल ही हुआ करती थी। आज हम आपको भारतीय रेल
16 जुलाई 2019
15 जुलाई 2019
विश्व कप 2019 खत्म हो गया और विजेता टीम इंग्लैंड इस समय बहुत खुश है लेकिन देश जानता है कि इस साल का विश्वकप कितने नाटकीय तौर पर हुआ। फाइनल मैच के दौरान टाई होने के बाद सुपर ओवर भी टाई हो गया और इसके बाद बाउंड्रीज लगाने के आधार पर मेजबान अंग्रेजों को विश्व कप विजेता घो
15 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x