सत्य की जय हो

20 जुलाई 2019   |  महातम मिश्रा   (34 बार पढ़ा जा चुका है)

"सत्य की जय हो"


विनम्रता से सुख को भोगा जा सकता है।

धैर्य से दुख को मात दिया जा सकता है।

अध्ययन करके विद्या अर्जित की जा सकती है।

सम्मान देकर सम्मान पाया जा सकता है।

धन से ऐश्वर्य प्राप्त किया जा सकता है।

क्रोध से खुद को मिटाया जा सकता है।

धीर-गंभीर रहकर विजय प्राप्त की जा सकती है।

संस्कार से कुल की रक्षा की जा सकती है।

भारतीय संस्कृति को गले लगाकर शिखर पर जाया जा सकता है।

धर्म के शरण में जाकर आवागमन से मुक्त हुआ जा सकता है।

वैमनस्व से अशांति तो प्यार से शांति प्राप्त की जा सकती है।

सब कुछ किया जा सकता हैं अगर कुछ नहीं किया जा सकता है तो वह है

सृष्टि की उत्पत्ति व उसके विनाश को रोका नही जा सकता है तथा सत्य को झुठलाया नहीं जा सकता है।

तर्क से अपनी बात को अन्य पर थोप सकते हैं

पर सकून अर्जित नहीं किया जा सकता है।

......सर्वे भवन्तु सुखिनः.........!


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: हास्य व्यंग्य आधारित सृजन



हार्दिक धन्यवाद सर

साधुवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
बा
07 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x