मुजफ्फरनगर दंगा: अखिलेश सरकार ने करवाया था हिंदुओं पर 40 और मुस्लिमों पर सिर्फ 1 केस, आज सारे हिन्दू बरी और मुस्लिम दोषी....

22 जुलाई 2019   |  स्नेहा दुबे   (189 बार पढ़ा जा चुका है)

मुजफ्फरनगर दंगा: अखिलेश सरकार ने करवाया था हिंदुओं पर 40 और मुस्लिमों पर सिर्फ 1 केस, आज सारे हिन्दू बरी और मुस्लिम दोषी....

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के कवाल में दो भाईयों की हत्या मामले में अखिलेश सरकार की जबरदस्ती और लापरवाही को निशाना बनाने का अब जाकर खुलासा हुआ है। मुजफ्फरनगर दंगों को लेकर जो रिपोर्ट सामने आई है उससे अब अखिलेश सरकार सवालों के घेरे में आ गई है। अखिलेश सरकार ने हिंदुओं पर जो 40 मुकद्दमें लादे थे जबकि सिर्फ एक का मामला ही दर्ज हुआ था। अखिलेश सरकार ने 40 हिंदुओं पर साधा था निशाना, मगर अब 5 सालों के बाद इंसाफ हो गया और मुख्य आरोपी जेल के पीछे होंगे। क्या आप जानते हैं क्या है पूरा मामला ?


अखिलेश सरकार ने की थी मनमानी ?



साल 2013 में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में दंगे हुए थे औऱ इसमें अखिलेश यादव के नेतृत्व में तत्कालीन सरकार ने 40 हिंदुओं पर मुकद्दमें लादे थे। मुसलमानों को केवल एक मामले में आरोपी बनाया था। अदालत ने सभी हिंदुओं को बरी कर दिया है लेकिन जिस एक मुसलमान आरोपी था उसे लेकर कई मुसलमान घेरे में आ गए हैं और उन्हें दोषी पाया गया। जिस एक मामले में सत्र अदालत ने इस साल 8 फरवरी को सजा सुनाई गई थी, वह 27 अगस्त 2013 को कवल गांव में सचिन और गौरव नाम के दो भाईयों की हत्या से जुडी़ है। इस मामले ने मुज़म्मिल, मुजस्सिम, फुरकान, नदीम, जहॉंगीर, अफज़ल और इकबाल को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इस सिलसिले में एडवोकेट प्रशांत पटेल ने ट्वीट किया है-


अखिलेश सरकार


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हिंदुओं पर जो भी मुकद्दमें लगे थे उनमें आरोपित बनाए गए सभी लोगों को सबूत ना होने की वजह से बरी कर दिया गया है। इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के मुताबाकि हत्या से जुड़े 10 मामलों की सुनवाई जनवरी-फरवरी 2017 तक चली थी। इस मामले में 53 आरोपियों को कटघरे में लिया गया था और अभियोजन पक्ष के पांच गवाह अदालत में इस बात से मुकर गए कि अपने संबंधियों की हत्या के समय वे मौके वारदात पर वहां थे। 6 दूसरे गवाहों ने अदालत में बताया कि पुलिस ने जबरदस्ती खाली कागजों पर उनके हस्ताक्षर लिए और 5 मामलों में हत्या में इस्तेमाल हुए हथियार पुलिस कोर्ट में पेश ही नहीं पाई थी।


क्या हुआ था मुजफ्फरनगर दंगे में ?


अखिलेश सरकार

27 अगस्त, साल 2013 में मुजफ्फरनगर के कवाल में सचिन गौरव और शाहनवाज के बीच झगड़ा हुआ मुजफ्फरनगर और शामली में सांप्रदायिक दंगे भड़क गए थे। झगड़े की शुरुआत शाहनवाज और मुजस्सिम की बाइक से गौरव की साइकिल की टक्कर हो गई थी और इसमें गुस्साए शाहनवाज के साथ मिलकर कुछ और लोगों ने मलिकपुरा के दोनों भाईयों सचिन और गौरव की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद मुजफ्फरनगर और शामली में सांप्रदायिक दंग भड़क गए थे और इसमें 60 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों लोग बेघर हो गए थे। इस दौरान आरोपी पक्ष के शाहनवाज की भी मौत हो गई थी और साधारण सी बात ने भीषण रूप ले लिया था जिसमें कई लोग मारे गए थे।

मुजफ्फरनगर दंगा: अखिलेश सरकार ने करवाया था हिंदुओं पर 40 और मुस्लिमों पर सिर्फ 1 केस, आज सारे हिन्दू बरी और मुस्लिम दोषी....

अगला लेख: हॉलीवुड एक्ट्रेस ने बताया Bikini पहनने के लिए Bikini नहीं, इस चीज की होनी चाहिए जरूरत



anubhav
22 जुलाई 2019

जो सच होता है सामने आ ही जाता है।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 जुलाई 2019
दुनिया में बहुत सी चीजें अजीबों गरीब हैं और लोगों को ऐसी ही चीजें पसंद होती है। अगर किसी इंसान का नाम किसी सेलिब्रिटीज से मिलता जुलता है तो लोग उनका मजाक बनाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मध्य प्रदेश के इस युवक के साथ हुआ जब अपने नाम के कारण कुछ परेशानियों का सामना करना
31 जुलाई 2019
22 जुलाई 2019
एक मध्यवर्गीय परिवार का बिजली का बिल कितना आ सकता है, क्या इसका अंदाजा आपको है ? गर्मियों में एक मध्यवर्गिय परिवार का बिजली का बिल ज्यादा से ज्यादा 4 से 5 हजार ही आता होगा। वो भी तब अगर आप दिनभर AC चला रहे हों। मगर उत्तर प्रदेश के हापुर में एक मध्यवर्गीय परिवार को इतन
22 जुलाई 2019
01 अगस्त 2019
भोलेनाथ को प्रसन्न करने और उनकी पूजा करने के लिए श्रावण मास यानी सावन का महीना सबसे पावन माना जाता है। पूरे देश में 17 जुलाई से सावन का महीना मनाया जा रहा है और सभी भोलेनाथ के प्रति अपनी श्रद्धा भक्ति दिखाई है। 15 अगस्त को सावन का महीना खत्म होने वाला है और इसके पहले
01 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x