राहुल गांधी को अपने नाम की वजह से ना सिम मिला ना लोन !

31 जुलाई 2019   |  स्नेहा दुबे   (467 बार पढ़ा जा चुका है)

राहुल गांधी को अपने नाम की वजह से ना सिम मिला ना लोन !

दुनिया में बहुत सी चीजें अजीबों गरीब हैं और लोगों को ऐसी ही चीजें पसंद होती है। अगर किसी इंसान का नाम किसी सेलिब्रिटीज से मिलता जुलता है तो लोग उनका मजाक बनाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मध्य प्रदेश के इस युवक के साथ हुआ जब अपने नाम के कारण कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। असल में इस युवक का नाम राहुल गांधी है और इसे इसके नाम के कारण फर्जी नाम वाला समझा जा रहा है जिसकी वजह से इन्हें बहुत सी समस्याएं उठानी पड़ी। ये एक ऐसी समस्या है जिसे सुनकर आपको भी लगेगा कि गरीब इंसान को बड़े आदमी का नाम रखने पर कैसा लगता है ?


राहुल गांधी के नाम से हो रही है समस्या


राहुल गांधी

मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में रहने वाले एक युवक का नाम राहुल और उसका सरनेम गांधी है। उसके राहुल गांधी के नाम के कारण उसे कोई सीरियसली नहीं लेता है। राहुल को अगर मोबाइल के लिए सिम लेने जाना होता था तो कंपनी वाले उसकी आईडी को फर्जी मानकर दस्तावेज रिजेक्ट कर देते हैं। यहां तक जब उसे पढ़ाई के लिए लोन लेना था तो भी उसे नहीं मिल पाया। कंपनी वालों को लगता है कि कोई लड़का फर्जी आईडी से ये सभी चीजें कर रहा है। 23 साल के राहुल के पिता राजेश गांधी एक कपड़ा व्यापारी हैं और वे एरोड्रम रोड पर अखंडनगर इलाके में रहते हैं। इनका कहना है कि राहुल नाम और गांधी सरनेम के कारण कोई कंपनी उनके बेटे को सिम नहीं दे रही थी। इस वजह से वो अपने भाई की आईडी से सिम खरीदने गया। तंग आकर राहुल ने गांधी सरनेम हटाकर समाज के नाम से मालवीय लगा लिया और अब अपने सारे डॉक्यूमेंट्स राहुल मालवीय के नाम से फिर से बनवाया है क्योंकि उसके नाम राहुल गांधी को कोई सीरियस नहीं लेता है।


भाई के नाम से दस्तावेज से जुड़ी सभी कार्यवाही करते थे और हाल ही में उन्होंने लोन के लिए आवेदन किया था तो बैंक ने इंकार कर दिया तो वे काफी परेशान से रहने लगे थे। इसके बाद नाम से सरनेम हटाया और सभी डॉक्यूमेंट्स बनवाए। राहुल ने कहा- इन्हीं वजहों से उन्होंने अपना ड्राइविंग लाइसेंस अभी तक नहीं बनवाया क्योंकि वहां भी उन्हें ऐसी ही समस्याओं का सामना करना पड़ता।


काल लोन लेने पर हंस पड़ी कर्मचारी


राहुल गांधी

इंदौर निवासी राहुल कार लोन लेने के लिए जब एक कंपनी में फोन करता है तो उनसे पहले काफी अच्छे से बातचीत की गई। इसके बाद प्लान बनाने के लिए उनसे उनका नाम पूछा गया तो राहुल ने अपना नाम बताया। नाम बताते ही कंपनी की महिला कर्मचारी जोर से हंसने लगीं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी आप दिल्ली से इंदौर कब आ गए ? आखिर में इस फोन को फर्जी समझकर उन लोगों ने फोन काट दिया. राहुल के पिता राजेश बीएसएफ में वॉटरमैन थे और सभी उन्हें गांधी-गांधी बुलाते थे। राहुल ने बताया कि इसी वजह से उन्होंने अपने नाम के आगे गांधी लगाना शुरु कर दिया और बाद में उनके स्कूल में भी उऩका नाम उनके पिता ने राहुल गांधी लिखवा दिया। 23 साल से ज्यादातर मार्कशीट और डॉक्यूमेंट्स में यही नाम चला आ रहा था।

अगला लेख: इस परिवार को बिजली विभाग ने भेजा 1 अरब रूपये का बिल, क्या ये परिवार अंबानी से भी अमीर है ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जुलाई 2019
ज्
19,20 एवम 21 जुलाई 2019 (शुक्रवार से रविवार) तक मेरी परामर्श सेवाएं ...नई दिल्ली में उपलब्ध रहेंगी।आज से दिल्ली प्रवास/विश्राम..22 जुलाई 2019 शाम तक।👍👍💐💐💐कमरा नम्बर - 104.होटल पूनम इंटरनेशनल,3169/70, Sangatrashan,बाँके बिहारी मन्दिर के निकट,पहाड़गंज, नई दिल्ली-110055..फोन नम्बर -(011) 41519884👍
18 जुलाई 2019
02 अगस्त 2019
दुनिया में बहुत सी अजीबोंगरीब चीजें होती हैं और इन चीजों में कभी कुछ फनी बातें हो जाती हैं तो कभी हजम ना करने वाली बात हो जाती है। मगर ऐसी ही हटके दिखने और सुनने वाली बातों की ही खबर बन जाती है। कुछ ऐसा ही हुआ पिछले दिनों झारखंड के धनबाद में जब वहां के एक मेडिकल कॉलेज
02 अगस्त 2019
22 जुलाई 2019
एक मध्यवर्गीय परिवार का बिजली का बिल कितना आ सकता है, क्या इसका अंदाजा आपको है ? गर्मियों में एक मध्यवर्गिय परिवार का बिजली का बिल ज्यादा से ज्यादा 4 से 5 हजार ही आता होगा। वो भी तब अगर आप दिनभर AC चला रहे हों। मगर उत्तर प्रदेश के हापुर में एक मध्यवर्गीय परिवार को इतन
22 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 19 जुलाई 1969 को हुआ जो उस वक़्त की एक धमाकेदार खबर थी. बैंक धन्ना सेठों के थे और सेठ लोग राजनैतिक पार्टियों को चंदा देते थे. अब भी देते हैं. ऐसी स्थिति में सरमायेदारों से पंगा लेना आसान नहीं था. फिर भी तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने साहसी कद
26 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
विजय सोपा नाही
29 जुलाई 2019
01 अगस्त 2019
भोलेनाथ को प्रसन्न करने और उनकी पूजा करने के लिए श्रावण मास यानी सावन का महीना सबसे पावन माना जाता है। पूरे देश में 17 जुलाई से सावन का महीना मनाया जा रहा है और सभी भोलेनाथ के प्रति अपनी श्रद्धा भक्ति दिखाई है। 15 अगस्त को सावन का महीना खत्म होने वाला है और इसके पहले
01 अगस्त 2019
16 जुलाई 2019
देश में पहली पैसेंजर ट्रेन मुंबई (तब बंबई) से ठाणे के बीच साल 1853 में चलाई गई थी। तब से लेकर आज तक ये भारत की लाइफ लाइऩ बनी हुई है। कहीं भी आने और जाने या फिर माल ढोने के लिए सभी की पहली पसंद रेल ही हुआ करती थी। आज हम आपको भारतीय रेल
16 जुलाई 2019
20 जुलाई 2019
दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री Sheila Dikshit का 81 साल की उम्र में निधन हो गया है। लंबे अरसे से बीमार चल रही शीला का एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था और 20 जुलाई को अचानक उनके दिल की धड़कन रुक गई और उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। शीला दीक्षित का अंतिम दर्शन रविव
20 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
रि
19 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x