'अगर सोनिया गांधी बनी प्रधानमंत्री तो मैं सिर मुड़वा लूंगी'- सुषमा स्वराज

07 अगस्त 2019   |  स्नेहा दुबे   (452 बार पढ़ा जा चुका है)

आज देश अपनी दमदार लीडर को खोने का गम मना रहा है और उनका नाम सुषमा स्वराज है जिनका निधन 7 अगस्त की शाम को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हो गया था। सुषमा स्वराज का नाम राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाएगा और भारतीय राजनीति के इतिहास में उनका योगदार अहम रहा है। सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद के लिए आगे रहती थीं और विदेशों में जो भारतीय फंस जाता था उन्हें भी अपनी पूरी कोशिश से आजाद करवाती थीं। सुषमा जी अपने अच्छे व्यक्तित्व के लिए पहचानी जाती थीं। लोगों को अगर सुषमा स्वराज अगर याद रहेंगी तो इसलिए कि वे अपने लोगों यानी भारतीयों के लिए हमेशा मदद करने को तैयार रहती थीं। राजनीति के बारे में बस इतना कहना चाहूंगी कि आज हर पार्टी का नेता उनके लिए आंसू बहा रहा है।


सुषमा स्वराज

वैसे तो उनके कई किस्से फेमस हैं लेकिन एक मैं आपको बचाना चाहूंगी जब एक बार एक युवक ने खाड़ी के किसी देश से ट्वीट किया था और उस ट्वीट में लिखा था कि हमें भारत सरकार जल्दी निकाले यहाँ से नहीं तो आत्महत्या करना पड़ेगा। ट्वीट के जवाब में सुषमा स्वराज ने कहा कि आत्महत्या की बात नहीं सोचते ,हम हैं ना आपकी मदद जल्द से जल्द करेंगे। क़िस्सा चाहे हामिद का हो या कुलभूषण यादव का हमेशा ही सुषमा जी डट कर खड़ी रहीं, कहाँ, कैसे, किस तरह से जवाब देना है किसी को उन्हें इस बात का बख़ूबी ज्ञान था। पाकिस्तान को कई मौक़े पर उन्होंने अपनी राजनीतिक सूझबूझ से धूल चटाई। ख़ैर भगवान उनकी आत्मा को शांति दे। भारत ने आज एक जननेता को खोया है। इसी तरह वे दमदार भाषण के लिए भी लोगों को प्रिय रही हैं और अपने भाषणों से उन्होंने बहुत से लोगों का दिल भी जीता है।


सुषमा स्वराज के कुछ यादगार बयान


बटला हाउस एंनकाउटर के बाद सुषमा स्वराज ने तत्कालीन यूपीए सरकार का समर्थन करने पर ऐतराज जताया था। इसी पर उन्होंने आगे कहा था, ""अगर सोनिया गांधी प्रधानमंत्री बनेंगी तो मैं अपना सिर मुडवा लूंगी।''


एक बार पाकिस्तान के बारे में कुछ बातें बोलते हुए सुषमा स्वराज जी ने कहा था, ''अगर पाकिस्तान आतंकियों की मदद ना करे तो शायद वहां भी डॉक्टर, इंजीनियर और आईटी क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा लोग दुनिया की दौड़ में शामिल हो सकते हैं।'


राज्यसभा में अपनी बात प्रस्तुत करते हुए सुषमा स्वराज ने विपक्ष नेताओं को देश के लिए कई सलाहें दी। उनमें से एक ये है कि 'जो सच में देश का भला चाहता है वो देश के प्रति कोई सरकार अच्छा काम करती है तो उसे सपोर्ट करना चाहिए। मगर यहां पर लोग यही करने में लगे रहते हैं कि दूसरी सरकार ने ऐसा किया है तो ये गलत है।'



साल 2015 में ललित मोदी ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के विदेश मंत्री पद से इस्तीफा देने की मांग की थी। उसी दौरान सुषमा स्वराज ने एक बार फिर सोनिया गांधी पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि अगर एक कैंसर पीड़ित महिला की मदद करना अपराध है तो मैं अपना गुनाह स्वीकार करती हूं।मगर मेरे सिर्फ एक सवाल का जवाब दिया जाए कि अगर सोनिया गांधी मेरी जगह होती तो क्या उसे मरने के लिए छोड़ देती?''


अगला लेख: Pratlipi - इंटरनेट पर अपनी भाषा में स्वयंप्रकाश मंच



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2019
Webdunia- देश में बहुत सारे हिंदी वेब पोर्टल न्यूज वेबसाइट हैं लेकिन कुछ ही ऐसी वेबसाइट्स हैं जो हमें सही और बेहतर तरीके की खबरें प्रोवाइड करवाती हैं। वेबदुनिया उन्हीं में से एक वेबसाइट है जो कई भाषाओं में खबरें पब्लिश करती हैं और रीडर्स को सही जानकारी देती है। वेबदुन
01 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अब हमारे बीच नहीं हैं. 67 साल की उम्र में उन्होंने आखिरी सांस ली. 6 अगस्त की रात उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया. लाख कोशिश की गई, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. रात 9 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया. पूरा देश
07 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रात 8 बजे देश की जनता को संबोधित करने जा रहे हैं। ये जानकारी पीएमओ ने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से दी है। ऐसा माना जा रहा है कि पीएम मोदी का संबोधन जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने के फैसले को लेकर केंद्रित रहेगा। संसद ने जम्मू-
08 अगस्त 2019
29 जुलाई 2019
विजय सोपा नाही
29 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
दुनिया में बहुत सी चीजें अजीबों गरीब हैं और लोगों को ऐसी ही चीजें पसंद होती है। अगर किसी इंसान का नाम किसी सेलिब्रिटीज से मिलता जुलता है तो लोग उनका मजाक बनाने लगते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मध्य प्रदेश के इस युवक के साथ हुआ जब अपने नाम के कारण कुछ परेशानियों का सामना करना
31 जुलाई 2019
08 अगस्त 2019
भारत में हर तरह की बातें होती हैं लेकिन महिलाओं को लेकर सुरक्षा का मामला बिल्कुल सीरियसली नहीं लिया जाता। यहां पर मां-बहन की गालियां देकर लोग इसमें अपनी वाहवाही समझते हैं जबकि वो लोग नहीं जानते हैं वे अपने ही घरवालों का समाज में मजाक बनवा रहे हैं। भारत की महिलाएं सुरक
08 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
साल 2014 में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद देश के लोगों ने इसके नेतृत्व करने वाले नरेंद्र मोदी को मान लिया था। इसके 5 सालों के बाद लोकसभा चुनाव-2019 में भी उससे ज्यादा वोट्स से जीत हासिल करने के बाद लोगों को लग गया कि अब कुछ भी हो जाए लेकिन नरेंद्र मोदी में कुछ बात तो है जिससे जनता इनसे आसानी से कनेक्ट
12 अगस्त 2019
01 अगस्त 2019
जब कोई नई सरकार आती है तो जनता को उम्मीद हो जाती है कि ये सरकार उनकी उम्मीदों पर खरा उतरेगी। उनके लिए सबसे भारी महंगाई को कुछ तो कम करेगी लेकिन जब ऐसा नहीं होता है तब जनता भड़क जाती है और यही सरकार को गिराने का असरदार काम करती है। अब मे
01 अगस्त 2019
26 जुलाई 2019
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 19 जुलाई 1969 को हुआ जो उस वक़्त की एक धमाकेदार खबर थी. बैंक धन्ना सेठों के थे और सेठ लोग राजनैतिक पार्टियों को चंदा देते थे. अब भी देते हैं. ऐसी स्थिति में सरमायेदारों से पंगा लेना आसान नहीं था. फिर भी तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने साहसी कद
26 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
Pratlipi एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां खुले विचारों से आप कुछ भी लिख सकते हैं। ये एक ऑनलाइन वेबसाइट है जहां पर आप किसी भी विषय पर लिखकर खुद पब्लिश कर सकते हैं। इसका मुख्यालय बैंगलुरू में है और इस वेबसाइट पर आ
31 जुलाई 2019
06 अगस्त 2019
Senior BJP leader and former foreign minister Sushma Swaraj passed away a while ago at AIIMS on Tuesday. The BJP veteran, who suffered a massive heart attack, died at the age of 67. Her last Twitter post was about thanking Prime Minister Narendra Modi about the government’s move on Kashmir stating t
06 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
जून 1975, इंदिरा गांधी इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद बतौर सांसद अयोग्य ठहरा दी गई थीं. जयप्रकाश नारायण सम्पूर्ण क्रांति का नारा दे रहे थे. लेकिन किसी ने नहीं सोचा था कि घिरी हुई सरकार आपातकाल जैसा कदम उठा लेगी. 25 जून की रात उस समय विपक्ष का चेहरा रहे चंद्रशेखर नेपाल
07 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
आजादी कौन नहीं चाहता....एक पक्षी भी पिंजड़े में फड़फड़ाता है क्योंकि उसे आजादी चाहिए होती है। जब बकरे को काटने के लिए ले जाते हैं तब भी आजादी की चाहत लिए बकरा चिल्लाता रहता है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि आजादी है तो जीवन है वरना इंसान घुटने लगता है। मगर आज से करीब 73 साल पहले भारत देश गुलाम था अंग्र
12 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x