आज का समाज :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

13 अगस्त 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (78 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का समाज :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*धरती पर मनुष्य के विकास में मनुष्य का मनुष्य के प्रति प्रेम प्रमुख था | तब मनुष्य एक ही धर्म जानता था :- "मानव धर्म" | एक दूसरे के सुख - दुख समाज के सभी लोग सहभागिता करते थे | किसी गाँव या कबीले में यदि किसी एक व्यक्ति के यहाँ कोई उत्सव होता था तो वह पूरे गाँ का उत्सव बन जाता था , और यदि किसी के यहाँ किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती थी तो यह पूरे गाँव का दुख होता था और उस रात्रि पूरे गाँव में चूल्हा नहीं जलता था | यह था आपसी प्रेम और मानवती | प्राचीन कहानियाँ पढी जायँ तो मनुष्य का मनुष्य से ही नहीं अपितु पशु - पक्षियों से भी प्रेम भरा व्यवहार देखने को मिलता है | और पशु - पक्षी भी मनुष्य के दुख में दुखी एवं सुख में प्रसन्न होकर भाव - भंगिमा प्रदर्शित करते थे | रामायण का वह प्रसंग बरबस ही याद आ जाता है जब राक्षसराज रावण जगतजननी जगदम्बा माता सीता का हरण करके ले जा रहा था तब कोई मनुष्य सहायता करने वाला नहीं था , वहाँ पर सीता को बचाने का प्रयास एक गीध (जटायु) ने करने का प्रयास किया भले ही वह वीरगति को प्राप्त हो गया परंतु प्रयास तो किया एक अबला को बचाने का | यह था पारस्परिक प्रेम का अद्भुत उदाहरण | धीरे - धीरे मनुष्य अपनी मनुष्यता भूलता चला गया और इसका परिणाम हमें एक विकृत समाज के रूप में देखने को मिल रहा है |* *आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में मनुष्य एक दूसरे को पहचानने से इन्कार कर दे रहा है | गाँव तो अभी कुछ सीमा तक ठीक कहे जा सकते हैं परंतु महानगरों में पड़ोसी एक दूसरे को न तो जानते हैं और न ही जानने का प्रयास ही करते है | सब अपरिचित की तरह जीवनयापन कर रहे हैं | किसी के पास किसी के लिए समय नहीं है | किसी अनहोनी घटना पर किसी की सहायता मिल पायेगी इसका भरोसा कैसे कर लिया जाय | सब कुछ पा लेने पर भी मनुष्य स्वयं को अकेला पाता है | इसका दोषी कौन है ?? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समाज के लोगों से पूछना चाहता हूँ कि आज जिस तरह चोरी , डकैती , बलात्कार तक हो रहे हैं और मनुष्य वहाँ से आँखें बन्द करके निकल लेता है तो दोषी कौन है ?? जब भी अपराध की कोई बड़ी घटना हो जाती है, तो सारा ठीकरा पुलिस के सिर फोड़ा जाता है | नि:संदेह पुलिस की जवाबदेही का प्रसंग उठना चाहिए, पर हमें यह भी सोचना होगा कि अपराधों में बढ़ोतरी के पीछे समाज में बढ़ रही मनुष्य की मनुष्य के प्रति दूरी प्रमुख कारण है | महिलाओं एवं बुजुर्गों की उपेक्षा और उनके बढ़ते जाते अकेलेपन के लिए क्या सरकार को दोषी ठहराया जा सकता है ?? यह तो हमारे पारिवारिक मूल्यों के तिरोहित होने का ही परिणाम है | जब तक मनुष्य - मनुष्य के प्रति पुन: संवेदनशील नहीं होगा तब तक अपराधों को रोक पाना असम्भव है |* *आज पारिवारिक व सामाजिक रिश्तों का पतन जिस तरह हो रहा है यदि इसे न सम्हाला गया तो आने वाला समय और भी विकृत ही होगा |*

अगला लेख: मित्र एवं मित्रता दिवस ----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
*राखी के बंधन का जीवन में बहुत महत्त्व है | राखी बाँधने का अर्थ क्या हुआ इस पर भी विचार कर लिया जाय कि राखी का अर्थ है रक्षण करने वाला | तो आखिर यह रक्षा कि जिम्मेदारी है किसके ऊपर /? अनेक प्रबुद्धजनों से वार्ता का सार एवं पुराणों एवं वैदिक अनुष्ठानों से अब तक प्राप्त ज्ञान के आधार पर यही कह सकते है
27 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
*ईश्वर की अनुपम कृति है मानव | अनेक गुणों का समावेश करके ईश्वर ने मनुष्य की रचना की है | इस धराधाम पर आकर इन्हीं गुणों के माध्य से मनुष्य ने अपना नाम इतिहास पुराणों में स्वर्णाक्षरों में लिखाया है | वैसे तो मनुष्य के सभी गुणों का बखान कर पाना तो सम्भव नहीं है परंतु जो गुण मनुष्य को मनुष्य बनाये रखने
06 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
*सनातन साहित्यों में मनुष्यों के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें से अन्तिम एवं महत्वपूर्ण है मोक्ष , जिसकी प्राप्ति करना प्रत्येक मनुष्य का लक्ष्य होता है | मोक्ष प्राप्त करने के लिए भगवत्कृपा का होना परमावश्यक है | भगवत्कृपा प्राप्त करने के लिए भक्तिमार्ग का अनु
03 अगस्त 2018
30 जुलाई 2018
*इस धराधाम पर भाँति भाँति के मनुष्य देखने को मिलते हैं कोई जन्म से राजकुमार होता है तो कोई निर्धन | कुछ लोग इसे ईश्वर का अन्याय भी कहते हैं , जबकि यह ईश्वर का अन्याय नहीं बल्कि मनुष्य के कर्मों का फल होता है | जो जैसा कर्म करता है उसका पुनर्जन्म उसी प्रकार होता है | हमारे शास्त्र बताते हैं कि मृत्
30 जुलाई 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जिस प्रकार संसार में उपलब्ध लगभग सभी वस्तुओं को अपने योग्य बनाने के लिए उसे परिमार्जित करके अपने योग्य बनाना पड़ता है उसी प्रकार मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वयं का परिष्कार करना परम आवश्यक है | बिना परिष्कार के मानव जीवन एक बिडंबना बनकर रह जाता है | सामान्य मनुष्य , यों ही अ
22 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
*सनातन धर्म इतना व्यापक एवं वृहद है कि मनुष्य के जीवन की सभी आवश्यक आवश्कताओं की पूर्ति एवं प्रयोग कैसे करें यह सब इसमें प्राप्त हो जाता है | अंत में मनुष्य को मोक्ष कैसे प्राप्त हो यह विधान भी सनातन ग्रंथों में व्यापक स्तर पर दृश्यमान है | यह कहा जा सकता है कि सनातन धर्म अर्थात "जीवन के साथ भी , जी
10 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
*ईश्वर की अनुपम कृति है मानव | अनेक गुणों का समावेश करके ईश्वर ने मनुष्य की रचना की है | इस धराधाम पर आकर इन्हीं गुणों के माध्य से मनुष्य ने अपना नाम इतिहास पुराणों में स्वर्णाक्षरों में लिखाया है | वैसे तो मनुष्य के सभी गुणों का बखान कर पाना तो सम्भव नहीं है परंतु जो गुण मनुष्य को मनुष्य बनाये रखने
06 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
*संसार में मनुष्य के लिए जितना महत्त्व परिवार व सगे - सम्बन्धियों का है उससे कहीं अधिक महत्त्व एक मित्र है | बिना मित्र बनाये न तो कोई रह पाया है और न ही रह पाना सम्भव है | मित्रता का जीवन में एक अलग ही स्थान है | मित्र बना लेना तो बहुत ही आसान है परंतु मित्रता को स्थिर रखना और जीवित रखना, सदा-सदा क
06 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
*पुण्यभूमि भारत की संस्कृति एवं संस्कार सम्पूर्ण विश्व के लिए आदर्श प्रस्तुत करते आये है | ऐसी दिव्य संस्कृति एवं महान संस्कार विश्व के किसी भी देश में देखने को नहीं मिलते | हमारे संस्कार हमें यही शिक्षा देते हैं कि मनुष्य चाहे जितना उच्च पदस्थ हो परंतु उसका भाव सदैव छोटा ही बने रहने का होना चाहिए |
06 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
*हमारी भारतीय संस्कृति सदैव से ग्राह्य रही है | हमारे यहाँ आदिकाल से ही प्रणाम एवं अभिवादन की परम्परा का वर्णन हमारे शास्त्रों में सर्वत्र मिलता है | कोई भी मनुष्य जब प्रणाम के भाव से अपने बड़ों के समक्ष जाता है तो वह प्रणीत हो जाता है | प्रणीत का अर्थ है :- विनीत होना , नम्र होना या किसी वरिष्ठ के
21 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x