“छंद चवपैया " (मात्रिक )जय जय शिवशंकर प्रभु अभ्यांकर नमन करूँ गौरीशा।

13 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (83 बार पढ़ा जा चुका है)

शिल्प विधान- कुल मात्रा =३० (१० ८ १२) १० और ८ पर अतिरिक्त तुकान्त


“छंद चवपैया " (मात्रिक )


जय जय शिवशंकर प्रभु अभ्यांकर नमन करूँ गौरीशा।

जय जय बर्फानी बाबा दानी मंशा शिव आशीषा॥


प्रतिपल चित लाऊँ तोहीं ध्याऊँ मन लागे कैलाशा।

ज्योतिर्लिंग द्वादस पावन पावस दर्शन चित अभिलाषा॥


हे डमरूधारी शिव अवतारी सोमनाथ हितकारी।

हे मल्लिकार्जुन हे महाकाल हे शिव भीमा धारी॥


हे रामेश्वरम बैद्यनाथम केदारनाथ धामम

हे जगत निरूपम नागेश्वरम हे काशी अभिरामम॥


हे घृश्नेश्वर ओंकार प्रखर हे विश्वनाथ दानी।

त्रयम्ब्केश्वरम ममलेश्वरम हे शिव अवघड़दानी॥


शिव नीलकंठ हे त्रिशूल धर हे बाबा नंदी असवारी।

हे महादेव मुनि सोमवार दिन श्रावण भक्त सुखारी॥


तन धरि मृगछाला चंद कराला जटा-जूट हर गंगा।

भल भष्म भुवाला विषधर काला घूँट रही माँ भंगा॥


गौतम गुण गाए मन हर्षाए क्षमा करहु भगवंता।

तम व्याधि न आए शुभता छाए बाढ़े कुल सुत संता॥


महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "मिलन मुक्तक"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2018
वज़्न- १२२२ १२२२ १२२२ १२२२ काफ़िया-आन रदीफ़- का आरा"गज़ल"उड़ा अपना तिरंगा है लगा आसमान का तारातिरंगा शान है जिसकी वो हिंदुस्तान का प्याराकहीं भी हो किसी भी हाल में फहरा दिया झंडाजुड़ी है डोर वीरों से चलन इंसान का न्यारा।।किला है लाल वीरों का जहाँ रौनक सिपाही कीगरजता शेर के मान
16 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
“मुक्तक”तर्क तौलते हैं सभी लिए तराजू हाथ। उचित नीति कहती सदा मिलों गले प्रिय साथ। माँ शारद कहती नहीं रख जिह्वा पर झूठ- ज्ञान-ध्यान गुरुदेव चित अर्चन दीनानाथ॥-१ प्रथम न्याय सम्मान घर दूजा सकल समाज। तीजा अपने आप का चौथा हर्षित आज। धन-निर्धन सूरज धरा हो सबका बहुमान- गाय भाय बेटी-बहन माँ- ममता अधिराज॥-२
03 अगस्त 2018
20 अगस्त 2018
"दोहा"इंसानों के महल में पलती ललक अनेक।खिले जहाँ इंसानियत उगता वहीँ विवेक।।जैसी मन की भावना वैसा उभरा चित्र।सुंदर छाया दे गया खिला साहसी मित्र।।अटल दिखी इंसानियत सुंदर मन व्यवहार।जीत लिया कवि ने जगत श्रद्धा सुमन अपार।।महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
20 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
५-८-१८ मित्र दिवस के अनुपम अवसर पर आप सभी मित्रों को इस मुक्तक के माध्यम से स्नेहल मिलन व दिली बधाई"मिलन मुक्तक"भोर आज की अधिक निराली ढूँढ़ मित्र को ले आई।सुबह आँख जब खुली पवाली रैन चित्र वापस पाई।देख रहे थे स्वप्न अनोखा मेरा साथी आया है-ले भागा जो अधर कव्वाली मैना कोयलिया
06 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x