क्या हम आजाद हैं ???:--- आचार्य अर्जुन तिवारी

14 अगस्त 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (223 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या हम आजाद हैं ???:--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस पृथ्वी पर जन्मा प्रत्येक जीव को स्वतंत्रता का अधिकार है एवं प्रत्येक जीव स्वतंत्र रहना भी चाहता है | पराधीनता के जीवन से मृत्यु अच्छी है | मानस में गोस्वामी तुलसीदास जी की चौपाई "पराधीन सपनेहुँ सुख नाहीं" यह प्रमाणित करती है कि पराधीनता में रहकर मोहनभोग भी खाने को मिल जाय तो वह तृप्ति नहीं मिल पाती जो संतुष्टि स्वतंत्रता की सूखी रोटी में प्राप्त होती है | हमारा देश भारत वर्षों पराधीन रहा | धीरे - धीरे दमनकारी नीतियों के विरुद्ध चिन्गारी भड़कने लगी और उसे हवा दिया हमारे देश के अमर युवा क्रांतिकारियों ने | चिनगारी को हवा का समर्थन मिला तो वह विकारल अग्नि का स्वरूप लेकर पूरे देश में फैल गयी | आजाद , भगतसिंह , महारानी लक्ष्मीबाई , मंगल पांडे , सुखदेव , (वे अनेक अमर शहीद दिव्यात्मा जिन सबका नाम भी इतिहास में नहीं है ) आदि महापुरुषों ने इस संग्राम में अंग्रेजों के छक्के छुड़ाते हुए अपना आत्म बलिदान करके स्वतंत्रता का मार्ग प्रशस्त किया | ऐसे में देश महान आत्मा सुभाष चन्द्र बोश को कैसे भूल सकता है जिनकी "आजाद हिन्द फोज" ने इस महासंग्राम में अपना सब कुछ लुटा दिया | अनेक बलिदानियों के संयुक्त प्रयास से अंग्रेज हमारा देश छोड़ने को विवश हो गये और १५ अगस्त सन् १९४७ को हमारा देश स्वतंत्र हो गया | १५ अगस्त सन् १९४७ की सुबह आसमान से सूरज भारतीयों के लिए एक नया जीवन लेकर प्रकट हुआ और लोगों ने लम्बे समय के बाद बहुत कुछ गंवा करके खुली हवा में सांस ली |* *आज हम अंग्रेजों की दासता से तो स्वतंत्र हो गये हैं परंतु यह स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद भी चारों ओर पराधीनता ही दिखाई पड॒ती है | अंग्रेजों के चले जाने के बाद भी क्या हम आजाद हुए ?? संविधान की दृष्टि से देखा जाय तब तो हम आजाद कहे जा सकते हैं परंतु समाजिक , मानसिक एवं राजनीतिक रूप से हम आज भी गुलाम ही हैं | आज भी हमारे सर्वोच्च सदन में गुलामी की प्रतीक अंग्रेजी भाषा में ही कानून पारित किये जाते हैं | देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति जी को भी आजाद भारत में अंग्रेजी में अपना अभिभाषण देने की आजादी ही हमारी गुलामी का प्रतीक है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देश के रणनीतिकारों से पूछना चाहूँगा कि क्या हम वास्तव में आजाद हैं ?? संसद की बात छोड़ दिया जाय तो सबसे हास्यास्पद दृश्य तो भारतीय न्यायालयों का है , जहाँ बहस होते समय अधिवक्ता ने क्या बहस की और न्यायाधीश ने क्या निर्णय दिया यह उस बेचारे री समझ में ही नहीं आता जिसका मामला होता है क्योंकि ऊँची अदालतों में अंग्रेजी बोलना गर्व की बात एवं अपनी राष्ट्रभाषा में निरणय सुनाना शायद अपमान की बात लगती होगी | आज हम आजाद हेते हुए भी गुलामी का जीवन जी रहे हैं | इसके लिए जिम्मेदार भी हम सभी ही हैं |* *हमारे देश को स्वतंत्र कराने के लिए अपने प्राणों का बलिदान करने वाले अमर शहीदों के सपनों का भारत क्या यही है ??? यह विचारणीय विषय है |*

अगला लेख: आज का समाज :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
*धरती पर मनुष्य के विकास में मनुष्य का मनुष्य के प्रति प्रेम प्रमुख था | तब मनुष्य एक ही धर्म जानता था :- "मानव धर्म" | एक दूसरे के सुख - दुख समाज के सभी लोग सहभागिता करते थे | किसी गाँव या कबीले में यदि किसी एक व्यक्ति के यहाँ कोई उत्सव होता था तो वह पूरे गाँ का उत्सव बन जाता था , और यदि किसी के यह
13 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जिस प्रकार संसार में उपलब्ध लगभग सभी वस्तुओं को अपने योग्य बनाने के लिए उसे परिमार्जित करके अपने योग्य बनाना पड़ता है उसी प्रकार मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वयं का परिष्कार करना परम आवश्यक है | बिना परिष्कार के मानव जीवन एक बिडंबना बनकर रह जाता है | सामान्य मनुष्य , यों ही अ
22 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*राखी के बंधन का जीवन में बहुत महत्त्व है | राखी बाँधने का अर्थ क्या हुआ इस पर भी विचार कर लिया जाय कि राखी का अर्थ है रक्षण करने वाला | तो आखिर यह रक्षा कि जिम्मेदारी है किसके ऊपर /? अनेक प्रबुद्धजनों से वार्ता का सार एवं पुराणों एवं वैदिक अनुष्ठानों से अब तक प्राप्त ज्ञान के आधार पर यही कह सकते है
27 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
*हमारी भारतीय संस्कृति सदैव से ग्राह्य रही है | हमारे यहाँ आदिकाल से ही प्रणाम एवं अभिवादन की परम्परा का वर्णन हमारे शास्त्रों में सर्वत्र मिलता है | कोई भी मनुष्य जब प्रणाम के भाव से अपने बड़ों के समक्ष जाता है तो वह प्रणीत हो जाता है | प्रणीत का अर्थ है :- विनीत होना , नम्र होना या किसी वरिष्ठ के
21 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*हमारा देश भारत विविधताओं का देश है , इसकी पहचान है इसके त्यौहार | कुछ राष्ट्रीय त्यौहार हैं तो कुछ धार्मिक त्यौहार | इनके अतिरिक्त कुछ आंचलिक त्यौहार भी कुछ क्षेत्र विशेष में मनाये जाते हैं | त्यौहार चाहे राष्ट्रीय हों , धार्मिक हों या फिर आंचलिक इन सभी त्यौहारों की एक विशेषता है कि ये सभी त्यौहार
27 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
*सनातन धर्म इतना व्यापक एवं वृहद है कि मनुष्य के जीवन की सभी आवश्यक आवश्कताओं की पूर्ति एवं प्रयोग कैसे करें यह सब इसमें प्राप्त हो जाता है | अंत में मनुष्य को मोक्ष कैसे प्राप्त हो यह विधान भी सनातन ग्रंथों में व्यापक स्तर पर दृश्यमान है | यह कहा जा सकता है कि सनातन धर्म अर्थात "जीवन के साथ भी , जी
10 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
देशभक्ति आज़ादी अभी मैं कैसे जश्न मनाऊँ,कहाँ आज़ादी पूरी है, शब्द स्वप्न है बड़ा सुखद, सच में जीना मजबूरी है। आज़ादी यह बेशकीमती, भेंट किया हमें वीरों ने, सत्तावन से सैंतालीस तक ,शीश लिया शमशीरों ने। साल बहत्तर उमर हो रही,अभी भी चलना सीख रहा, दृष्टिभ्रम विकास नाम का,छल जन-मन को दीख रहा। जाति,धर्म
16 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
*सनातन साहित्यों में मनुष्यों के लिए चार पुरुषार्थ बताये गये हैं :- धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष | इनमें से अन्तिम एवं महत्वपूर्ण है मोक्ष , जिसकी प्राप्ति करना प्रत्येक मनुष्य का लक्ष्य होता है | मोक्ष प्राप्त करने के लिए भगवत्कृपा का होना परमावश्यक है | भगवत्कृपा प्राप्त करने के लिए भक्तिमार्ग का अनु
03 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बात सुनो भाई भगत सिंहगुंडे चोर इंडिया के…बात सुनो भाई भगत सिंहगुंडे चोर इंडिया के…भारत माँ को लुटते है जनता के सपने टूटते हैं,गरीब भूके मरते है अमीरों के घर भरते है….लड़किया सड़े तेजाब मैजवानी रुले शराब में…आज देश आजाद है आज देश आजाद हैआपकी क़ुरबानी पर नाज है.पर क्या करे ऐसी आजादी काहर दिन दिखती बर्बाद
14 अगस्त 2018
15 अगस्त 2018
जब तक हैं सूरज चाँद --अटल नाम तुम्हारा है , ओ ! माँ भारत के लाल ! अमर बलिदान तुम्हारा है !!-आनी ही थी मौत तो इक दिन -- जाने किस मोड़ पे आ जाती.- कैसे पर गर्व से फूलती , - मातृभूमि की छाती ;-दिग -दिंगत में गूंज रहा आज--यशोगान तुम्हारा है !!ओ ! माँ भार
15 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x