आज का शब्द (26)

16 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (176 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (26)  - शब्द (shabd.in)

प्रमुदित :

१- प्रसन्न


२- आह्लादित


३- प्रफुल्ल


४- प्रहर्षित


५- पुलकित


प्रयोग : सागर निज छाती पर जिनके,


अगणित अर्णव-पोत उठाकर I


पंहुचाया करता था प्रमुदित,


भूमण्डल के सकल तटों पर I I


-पं0 रामनरेश त्रिपाठी







अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 मई 2015
निर्वाण : १- मोक्ष २- कैवल्य ३- तथागति ४- अमृतत्व ५- परमपद प्रयोग : बुद्ध का जीवन हज़ार धाराओं में होकर बहता है। जन्म से लेकर निर्वाण तक उनके जीवन की प्रधान घटनाएँ अजंता की दीवारों पर कुछ ऐसे लिख दी गई हैं कि आँखें अटक जाती हैं, हटने का नाम नहीं लेतीं।
18 मई 2015
13 मई 2015
वैविध्य : १- विविधता, २- अनेकता, ३- विभिन्नता, ४- अनेकत्व, ५- वैभिन्य प्रयोग : भारतीय संस्कृति में कितना वैविध्य है फिर भी अप्रतिम एकता I
13 मई 2015
18 मई 2015
आविर्भाव : १- उत्पत्ति २- उद्भव ३- जन्म ४- प्रादुर्भाव ५- उद्गम प्रयोग : पृथ्वी पर सबसे पहले एककोशीय जीवों का आविर्भाव हुआ i
18 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x