आज का शब्द (26)

16 मई 2015   |  शब्दनगरी संगठन   (203 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का शब्द (26)

प्रमुदित :

१- प्रसन्न


२- आह्लादित


३- प्रफुल्ल


४- प्रहर्षित


५- पुलकित


प्रयोग : सागर निज छाती पर जिनके,


अगणित अर्णव-पोत उठाकर I


पंहुचाया करता था प्रमुदित,


भूमण्डल के सकल तटों पर I I


-पं0 रामनरेश त्रिपाठी







अगला लेख: सम्मान अमर वाणी-2015



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 मई 2015
प्रिय मित्रो, पिछली प्रश्न-पहेली का प्रश्न थोड़ा कठिन या थोड़ा उलझाऊ था, फिर भी आपने पूरे मन से हिस्सा लिया, इस बात की हमें अति प्रसन्नता है, तथा हम आपके प्रति आभार व्यक्त करते हैं। आज का प्रश्न थोड़ा सा आसान है, आशा करते हैं इसका उत्तर आप आसानी से दे सकते हैं। आज का प्रश्न है कि निम्नांकित पंक्तिया
14 मई 2015
06 मई 2015
प्रिय मित्रो,सन 1934, बरेली में जन्मे जाने-माने व्यंग्यकार और फिल्म पटकथा लेखक के पी सक्सेना के ज़बरदस्त लेखन से आप भली-भांति परिचित होंगे। उनकी गिनती वर्तमान समय के प्रमुख व्यंग्यकारों में होती है। हम ये कह सकते हैं कि यदि आपने हरिशंकर परसाई और शरद जोशी की रचनाएँ पढ़ी हैं तो के पी सक्सेना के व्यंग्य
06 मई 2015
08 मई 2015
विभव : १- वैभव २- ऐश्वर्य ३- धन-दौलत ४- अर्थ ५- वित्त सोना-चाँदी, ज़मीन-जायदाद आदि संम्पत्ति जिसकी गिनती पैसे के रूप में होती है I प्रयोग: हमारे सत्कर्म हमें किसी न किसी प्रकार के विभव की प्राप्ति कराते हैं I
08 मई 2015
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x