गंगटोक: द गेटवे टू सिक्किम

21 अगस्त 2018   |  Pratibha Bissht   (116 बार पढ़ा जा चुका है)

  गंगटोक: द गेटवे टू सिक्किम

बेहद आकर्षक, पर्वत और बादलों में घिरा में घिरा शहर गंगटोक सिक्किम की राजधानी है। यहां तक कि जब देश स्वतंत्र नहीं था, तब भी सिक्किम की राजधानी गंगटोक ही थी। Gangtok पूर्व-सिक्किम में 5,410 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और सिक्किम का सबसे बड़ा शहर है | यह से दुनिया के तीसरे सबसे ऊंचे पर्वत शिखर, कंचनजंगा पर्वत का अद्भुत दृश्य दिखाई देता है। इस खूबसूरत शहर को मठों की भूमि के रूप में भी जाना जाता है। एमजी रोड को गंगटोक का दिल कहा जाता है। यह इस खूबसूरत शहर का केंद्रीय शॉपिंग हब जैसा है जिसमें सड़क के दोनों तरफ कई दुकानें, रेस्तरां और होटल हैं। इस क्षेत्र को व्यापक रूप से शहर का केंद्र माना जाता है और यह पर्यटकों के लिए खरीदारी का सबसे अच्छा गंतव्य है। पूरा क्षेत्र धूम्रपान, कूड़े, और वाहन यातायात से मुक्त है। यह केवल पैदल यात्री क्षेत्र है, और यह वाहनों को ले के जाने की अनुमति नहीं है। एमजी रोड के दोनों किनारों की इमारतों को सरकार की हरित पहल के तहत हरे रंग में चित्रित किया जाता है।


नाथू ला पास दुनिया की सबसे ऊंची ड्राइव सड़कों में से एक है, नाथुला पास भारत-चीनी सीमा पर स्थित है और यह भारत के सबसे बड़े पर्यटक आकर्षणों में से एक है। नाथू ला पहाड़ों से संरक्षित तिब्बत की चुम्बी घाटी के मनोरम दृश्य दिखाई देते है। 'नाथू' और 'ला' दो तिब्बती शब्द हैं जिसका अर्थ है 'कान सुनना' और 'पास'। यह 4302 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, और यह दुनिया की सबसे ऊंची मोटर वाहनों में से एक है, जो की सुंदर नज़रो और ताजा पहाड़ी हवा से भरपूर है। साल के अधिकांश समय यहां तापमान कम रहता है और गर्मी के दौरान नाथू ला पर्यटकों के लिए एक हॉटस्पॉट बन जाता है। इस पहाड़ी पास के बारे में एक और आकर्षक तथ्य यह है कि यह चीन और भारत के बीच तीन व्यापारिक सीमाओं में से एक है, अन्य दो हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में हैं।गंगटोक से नाथुला के रास्ते पर कई सुन्दर और मनमोहक झरने मौजूद हैं।


गंगटोक की यही है खासियत


त्सोंगमो झील या चंगू झील क्षेत्र में एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है और यद्यपि इसमें मानव निवास नहीं है, यह जगह काले ईगल, नीली सीटी, लाल स्टार्ट, लोक पूंछ, टाइट-बब्बलर इत्यादि जैसे पक्षियों का घर है। यह क्षेत्र हिमालयी वन्यजीवन का भी समर्थन करता है जैसे कि तिब्बती गज़े, बर्फ तेंदुए, यक्स, तिब्बती भेड़ियों, आदि। नाथू ला में एक शानदार वन्यजीव सीमा के अलावा समृद्ध विविधता भी देखने को मिलती है। रुमटेक मठ सिक्किम में सबसे बड़े और सबसे महत्वपूर्ण मठों में से एक है, यह गंगटोक से 23 किमी दूर एक पहाड़ी के शीर्ष पर स्थित है। इसे मूल रूप से धर्म चक्र केंद्र के रूप में जाना जाता है, यह बौद्धों के कार्ग्य पंथ से संबंधित है, जो 12 वीं शताब्दी में तिब्बत में पैदा हुए थे। यदि आप रुमटेक मठ पर चढ़ते हैं तो आप पहाड़ी के ठीक सामने स्थित पूरे गंगटोक शहर का लुभावनी दृश्य देख सकते हैं। इसके अलावा, मठ की वास्तुकला दुनिया में बेहतरीन वास्तुकला में से एक है। रुमटेक मठ में एक खूबसूरत मंदिर और भिक्षुओं के लिए एक मठ है जो दुनिया भर में बौद्ध शिक्षाओं को फैलाने के उद्देश्य से स्थापित किए गए थे।


Gangtok

गणेश टोक गंगटोक के एक प्रिय पर्यटक स्थल में से है और भगवान गणेश को समर्पित एक छोटा मंदिर है। यह मंदिर पहाड़ी के शीर्ष पर स्थित है जिससे यहां आने वाले पर्यटकों को सुंदर दृश्य देखने को मिलते हैं। कंचनजंगा पहाड़ी को अपने वास्तविक रूप में यहां से देखा जा सकता है और विशेष रूप से सुबह में यह बहुत अच्छा दिखाईदेता है। हालांकि यह मंदिर इतना छोटा है कि यह एक समय में केवल एक व्यक्ति को यह प्रवेश कर सकता है। दो एकड़ भूमि के क्षेत्र में फैला, बंजखरी फॉल्स गंगाटोक से 10-12 किलोमीटर की दूरी पर रंका मठ के रास्ते पर स्थित है। यह झरना 40 फीट की चट्टानी ऊंचाई से और बहुत बल से नीचे गिरता है, यह झरना यहां मौजूद ऊर्जा पार्क का मुख्य आकर्षण है। सुंदर लैंडस्केप गार्डन लाइम लिमे, मंगपस, लेपचा और बान झक्री पूर्वजों की मूर्तियों के साथ झरने की खूबसूरती को बढ़ाते हैं। बंजखरी नाम दो शब्दों से बना है- 'वन ' जिसका मतलब वन या जंगल और 'झक्री' पारंपरिक चिकित्सक है।

कंचनजंगा दुनिया में तीसरा सबसे ऊँची चोटी है। नेपाल, सिक्किम और तिब्बत से घिरा हुआ, इस पर्वत को पहली बार 1955 में पहचाना गया था। कंचनजंगा 'एक तिब्बती नाम है जिसका अर्थ है 'ऊंची बर्फ का पांच खजाना ', जो की पांच चोटियों के संग्रह के कारण उपयुक्त रूप से मेल खाता है, इन पांच चोटियों में से चार 8,450 से अधिक ऊंचे हैं। माउंट कांजीनजंगा दार्जिलिंग और गंगटोक के कई बिंदुओं से देखा जा सकता है।


हिमालयन जूलॉजिकल पार्क लगभग 230 हेक्टेयर जंगली भूमि फैला है, यह चिड़ियाघर 1,780 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जो माउंट खांगचेन्ज़ोंगा के शानदार दृश्य पेश करता है। 1991 में स्थापित, हिमालयी जूलॉजिकल पार्क भारत के उत्तर-पूर्वी हिस्से में स्थित अपनी तरह का पहला ऐसा जूलॉजिकल पार्क है। इस जूलॉजिकल पार्क का मुख्य आकर्षण लुप्तप्राय लाल पांडा हैं, इसके अलवा अन्य आकर्षण हैं गोल्डन फिजेंट, लेडी एम्हेर्स्ट फिजेंट, सिल्वर फिजेंट, सतीर ट्रागोपन, कालिज इत्यादि जैसे हिमालयी ब्लैक बीयर, क्लाउड तेंदुए, हिम तेंदुए जैसे पक्षियों की किस्मों , आम तेंदुए, तिब्बती भेड़िया, तेंदुए बिल्ली, हिमालयी पाम सिवेट, गोरल्स, बार्किंग हिरण, बड़े भारतीय सिवेट, पोर्क्यूपिन, यक्स इत्यादि।

सेवन सिस्टर्स वाटरफॉल्स अपने नाम को न्यायसंगत बनता है , सेवन सिस्टर्स वाटरफॉल्स में सात अलग-अलग झरने शामिल हैं जो एक विस्तृत ऊबड़ चट्टान पर अच्छी तरह से व्यवस्थित हैं जो दूरी से देखे जाने पर अलग दिखते हैं। यह वाटरफॉल्स गंगटोक से करीब 32 किलोमीटर की दूरी पर है। यह बारिश के बाद यह और भी खूबसूरत प्रतीत होता है और एक मनोरम दृश्य प्रदान करते है। भगवान हनुमान को समर्पित हनुमान टोक गंगटोक से 11 किमी की दूरी पर 7200 फीट की ऊंचाई पर गणेश टोक के पास स्थित है और यहां से भी कंचनजंगा श्रेणी का अद्भुत दृश्य दिखाई देता है। इन प्रमुख पर्यटक स्थलो के अलवा सरम्सा गार्डन, नामग्याल तिब्बत अध्ययन संस्थान, एंचेय मठ, जवाहर लाल नेहरू बॉटनिकल गार्डन, फैंबोंग ला वन्यजीव अभयारण्य, वनस्थलीपुरम हिरण पार्क, शिंगबा रोडोडेंड्रॉन अभयारण्य देखने योग्य जगहे है।


  गंगटोक: द गेटवे टू सिक्किम

अगला लेख: मुंबई : सपनो का शहर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 अगस्त 2018
प्रत्येक वर्ष 10 अगस्त को विश्व जैव-ईंधन दिवस के रूप में मनाया जाता है| "विश्व जैव ईंधन दिवस" ​​का उद्देश्य गैर जीवाश्मईंधन (ग्रीन ईंधन) के बारे में जागरूकता पैदा करना है।इस दिन 18 9 3 में,पहली बार सररूडल
08 अगस्त 2018
07 अगस्त 2018
शिलांग भारत केपूर्वोत्तर में बसाएक बेहद खूबसूरतशहर तथा यहमेघालय राज्य की राजधानीभी है| शिलांगको भारत कास्कॉटलैंड भीकहा जाता है|यह पूर्वोत्तर भारतके सबसे लोकप्रियपर्यटन स्थलों में सेएक है। यहगुवाहाटी से 104 किमी कीदूरी पर स्थितहै, काजीर
07 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
गुरुवार को यमन के सादा प्रान्त में सऊदी नीत गठबंधन के हवाई हमले में एक बस में सवार बच्चों समेत 43 लोगों की मौत हो गई और जबकि 61 अन्य घायल हो गए। इन्टरनेश्नल रेडक्रास कमेटी ने भी अपने ट्वीट में इस बात की पुष्टि की है कि मरने और घायल होन
10 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x