नक्षत्र एक विश्लेषण

22 अगस्त 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (79 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र एक विश्लेषण

नक्षत्रों की व्युत्पत्ति तथा उनके अर्थ

अभी तक हमने 27 नक्षत्रों के आधार पर बारह हिन्दी महीनों के नाम तथा उनके वैदिक नामों के विषय में चर्चा कर रहे थे | किन्तु जिन नक्षत्रों के नाम पर हिन्दी महीनों के नाम रखे गए उन नक्षत्रों के नाम किस प्रकार बने यह विचारणीय प्रश्न है | तो अब जानने का प्रयास करते हैं कि इन 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पति (किस धातु आदि से किस नक्षत्र का नाम बना) किस प्रकार हुई तथा इनके अर्थ क्या हैं | आज अश्विनी नक्षत्र की व्युत्पत्ति और उसका अर्थ...

अश्विनी :-

अश्विनी नक्षत्र अश्व में इनि और ङीप् प्रत्ययों के योग से बना है | भाचक्र अथवा राशि चक्र का प्रथम नक्षत्र है यह | आश्विन माह का भी यह प्रमुख नक्षत्र है इसीलिए इस माह का नाम आश्विन है |

इसका शाब्दिक अर्थ होता है अश्वारोही – घुड़सवार | इसके अतिरिक्त भगवान् सूर्य की एक पत्नी का नाम भी अश्विनी है |

इस विषय में एक कथा उपलब्ध होती है कि विश्वकर्मा ने अपनी पुत्री संज्ञा का विवाह सूर्य के साथ कर दिया था | वहाँ उसके वैवस्वत और यम नामक दो पुत्र तथा यमुना नाम की एक पुत्री हुई | किन्तु कोमल स्वभाव संज्ञा सूर्य के प्रचण्ड ताप को सहन नहीं कर पा रही थी इसलिए वन में जाकर घोड़ी के रूप में छिपकर सूर्य का ताप कम करने के लिए तपस्या करने लगी | सूर्य को जब इस बात का पता चला तो वे भो घोड़े का रूप बनाकर वन में चले गए और वहाँ संज्ञा के साथ उन्होंने संसर्ग किया | जिससे संज्ञा को नासत्य, दस्त्र और रैवत नामक पुत्र उत्पन्न हुए | इनमें से नासत्य और दस्त्र अश्विनीकुमार के नाम से प्रसिद्द हुए जो ज्ञान और गति के देवता माने जाते हैं | दोनों कुमार बाद में देवताओं के वैद्य तथा Surgeons बने |

इस नक्षत्र में तीन तारे होते हैं तथा ये तीन तारे एक साथ मिलकर अश्व के मुख जैसी आकृति बनाते हैं | इस नक्षत्र का महीना है आश्विन अर्थात सितम्बर और अक्टूबर |

इस नक्षत्र के अन्य नाम हैं नासत्य – अर्थात जो सत्य न हो, दस्त्र – उग्र (ये दोनों ही अश्विनीकुमारों के नाम हैं) | इनके अतिरिक्त अशिष्ट, असभ्य, बाधक, मूर्ख, गधा, दो का अंक, ठण्ड का मौसम आदि के लिए भी आश्विन शब्द का प्रयोग किया जाता है | घोड़े को भी अश्विन कहा जाता है |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/08/22/constellation-nakshatras-10/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अगस्त 2018
येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल: |तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल ॥जिस रक्षासूत्र को महान शक्तिशाली राजा इन्द्र को बाँधा गया था और उन्हेंबलप्राप्त होकर वे युद्ध में विजयी हुए थे उसी रक्षासूत्र में हम आपको बाँधते हैं| आप अपने संकल्पों में अडिग रहते हुए कर्तव्य प
25 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
शिवस्तुति:आज श्रावण कृष्ण त्रयोदशी / चतुर्दशी को प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि कापावन पर्व है | हम सभी ने देखा काँवड़ में गंगाजल भर कर लाने वाले काँवड़यात्री शिवभक्तों का उत्साह | न जाने कहाँ कहाँ से आकर पूर्णश्रद्धा के साथ हरिद्वार ऋषिकेश तक की लम्बी यात्रा करके ये काँवड़
09 अगस्त 2018
07 अगस्त 2018
बुधवार, 08 अगस्त2018 – नई दिल्ली सूर्योदय : 05:46 सूर्यास्त : 19:06 पर चन्द्र राशि : मिथुन चन्द्र नक्षत्र : मृगशिर 10:47 तक, तत्पश्चात आर्द्रा तिथि : श्रावण कृष्ण द्वादशी 26:10 (अर्द्धरात्र्योत्त
07 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
भरणी वैदिक ज्योतिष के आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्नइत्यादि के विचार के लिए प्रमुखता से प्रयोग में आने वाले “नक्षत्रों की व्युत्पत्ति और उनके नामों” पर वार्ता केक्रम में अश्विनी नक्षत्र के बाद अब दूसरा नक्षत्र होता है भरणी | भरणी शब्द की व्युत्पत्ति हुई है भरण में ङीप्
24 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
13 से 19 अगस्त तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहो
12 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
मंगलवार, 14 अगस्त 2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:49 सूर्यास्त : 19:01 पर चन्द्र राशि : कन्या चन्द्र नक्षत्र : उत्तर फाल्गुनी 17:21 तक, तत्पश्चात हस्त तिथि :
13 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
शुक्रवार, 10 अगस्त 2018 – नई दिल्लीविरोधकृत विक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:47 सूर्यास्त : 19:05 पर चन्द्र राशि : कर्क चन्द्र नक्षत्र : पुष्य 24:54 (अर्द्धरात्र्योत्तर 02:54) तक, तत्पश्चात आश्लेषा
09 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
शनिवार, 11 अगस्त 2018 – नई दिल्लीविरोधकृत विक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:48 सूर्यास्त : 19:04 पर चन्द्र राशि : कर्क 24:04 तक, तत्पश्चातसिंह चन्द्र नक्षत्र : आश्लेषा 24:04 तक, तत्पश्चात मघा तिथि
10 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
भरणी वैदिक ज्योतिष के आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्नइत्यादि के विचार के लिए प्रमुखता से प्रयोग में आने वाले “नक्षत्रों की व्युत्पत्ति और उनके नामों” पर वार्ता केक्रम में अश्विनी नक्षत्र के बाद अब दूसरा नक्षत्र होता है भरणी | भरणी शब्द की व्युत्पत्ति हुई है भरण में ङीप्
24 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
शुक्रवार, 17 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:51 पर कर्कराशि और आश्लेषा नक्षत्र में (सूर्य का सिंह राशि और मघा नक्षत्र में प्रवेश –सिंह संक्रान्ति - 06:50 पर)सूर्यास्त : 18:58 पर चन्द्र राशि : तुला च
16 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x