भारत के लिए क्यों जरूरी है संस्कृत दिवस ? जानिए इसका महत्व

22 अगस्त 2018   |  Pratibha Bissht   (103 बार पढ़ा जा चुका है)

भारत के लिए क्यों जरूरी है संस्कृत दिवस ? जानिए इसका महत्व - शब्द (shabd.in)

संस्कृत भाषा के महत्व को मनाने के लिए संस्कृत दिवस (sanskrit day) मनाया जाता है। संस्कृत सभी भारतीय भाषाओ की जननी है। यह हिंदू धर्म की पवित्र भाषा है जिसका प्रयोग बौद्ध धर्म, जैन धर्म, सिख धर्म और हिंदू धर्म के दार्शनिक प्रवचनों के लिए किया गया है। पारंपरिक हिंदू कैलेंडर के अनुसार श्रवण महीने की पूर्णिमा पर संस्कृत दिवस मनाया जाता है।


संस्कृत दिवस का महत्व:

sanskrit day

संस्कृत दिवस को मनाने का विचार एक अद्वितीय है क्योंकि यह भाषा धीरे-धीरे कम बोली जा रही है। हालांकि, इसका महत्व असाधारण था, क्योंकि यह सभी भारतीय भाषाओं की जननी है। यह प्राचीन भाषाओं में से पहली है जिसकी विशेषता भारत में पाई जाती है। संस्कृत दिवस को मनाने का मुख्य विचार लोगों के बीच संस्कृत के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाना है। आम आदमी और युवाओं को समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और संस्कृत की परंपरा के बारे में बताने के लिए। यह वह भाषा है जो लोगों को मूल देवनागरी या संस्कृत भाषा में मूल वेदों के साथ-साथ कई अन्य महत्वपूर्ण ग्रंथों को पढ़ने का मौका दे सकती है, जिसमें ये लिखे गये है। संस्कृत को देव भाषा भी कहा जाता है जिसका अर्थ देवों द्वारा बोली जाने वाली भाषा है। यह सबसे पुरानी इंडो-यूरोपीय भाषाओं में से एक है। संस्कृत का वर्तमान रूप बीसी के दूसरे सहस्राब्दी में वापस देखा जा सकता है। संस्कृत भाषा के महत्व को चिह्नित करने के लिए संस्कृत दिवस मनाया जाता है। यह भारत में बोली जाने वाली प्राचीन भाषाओं में सबसे पहली है। संस्कृत दिवस हर साल श्रवण पूर्णिमा दिवस पर मनाया जाता है। 1969 में पहली बार संस्कृत दिवस का मनाया गया था। संस्कृत दिवस पर भाषा को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न गतिविधियां, कार्यशालाएं और सेमिनार आयोजित किए जाते हैं। वर्तमान समय में, संस्कृत का उपयोग केवल पूजा अनुष्ठानों और अकादमिक गतिविधियों तक ही सीमित है। संस्कृत एक सुंदर भाषा है और संस्कृत ने हमारे समाज को प्राचीन काल से समृद्ध किया है। हम विदेशियों के योगदान को अनदेखा नहीं कर सकते हैं जिन्होंने दुनिया को संस्कृत साहित्य के महत्व के बारे में बताया ।


सर विलियम जोन्स सितंबर 1783 में कोलकता में ब्रिटिश सुप्रीम कोर्ट ऑफ ज्यूडिएचर के एक न्यायाधीश के रूप में भारत आए थे | वह एक अंग्रेजी भाषाविद्, संस्कृत में विद्वान और एशियाई समाज के संस्थापक थे। उन्होंने "अभिजनन शकुंतला" और "रितु समहर" (संस्कृत कवि कालिदास द्वारा लिखे गए नाटक) और "गीता गोविंदा" (कवि जयदेव द्वारा लिखित) को अंग्रेजी में अनुवाद किया। उन्होंने "मनुस्मृति" (मनु के नियम) को भी अंग्रेजी में अनुवाद किया। एक और विद्वान सर चार्ल्स विल्किन्स ने 1785 में भगवद्गीता को अंग्रेजी में अनुवादित किया था डीडी न्यूज ने इस भाषा को जनता तक पहुंचाने में अग्रणी भूमिका निभाई है। दैनिक संस्कृत बुलेटिन हर सुबह एक साप्ताहिक कार्यक्रम वर्तवल्ली में चलाये जाते है। भारत की बेहतरीन विरासत संस्कृत भाषा और साहित्य है। विलियम जोन्स ने 200 पहले घोषित किया था, संस्कृत ग्रीक से अधिक परिपूर्ण है, लैटिन से अधिक जटिल और अधिक उत्कृष्ट परिष्कृत |' संस्कृत ने अनगिनत विचारों की अभिव्यक्ति के लिए एक समृद्ध माध्यम प्रदान किया है| यह भारतीय सभ्यता और संस्कृति का एक सही दर्पण है| संस्कृत हमेशा से भारत के सभी हिस्सों में रहने वाले लोगो को सांस्कृतिक रूप से जोड़े रखने में प्रभावी रही है | हमारे दैनिक जीवन में संस्कृत का उपयोग बेहद सीमित है। जबकि हम सभी महत्वपूर्ण श्लोकों और मंत्रों के छंदों से संस्कृत में हिंदू देवताओं से प्रार्थना करते हैं| पूजा के बाहर हमारे जीवन में संस्कृत की भूमिका अब नहीं रही | इस संस्कृत दिवस को मनाने का उद्देश्य संस्कृत को आम बोल चाल की भाषा में बदलना हऔर सालों बाद, भाषाविद इस सपने को वास्तविकता में बदलने का प्रयास कर रहे है।


संस्कृत शब्द का अर्थ ?

Sanskrit Day


संस्कृत शब्द को कम से कम निर्मित, परिष्कृत या अत्यधिक विस्तृत के रूप में अनुवादित किया जा सकता है। अर्थ से ही यह पता लगाया जा सकता है कि यह एक भाषा है जो सुसंस्कृत परिष्कृत और समझदार लोगों द्वारा उपयोग की जाती है।

संस्कृत का उपयोग : 2001 की जनगणना के अनुसार, 14, 135 लोगों ने संस्कृत को अपनी मूल भाषा या स्थानीय भाषा के रूप में पंजीकृत करवाया था इस संख्या को बढ़ाने के बढ़ाने के लिए प्रभावी ढंग से लोगों को इस भाषा की समृद्धि की व्याख्या करने के लिए उन तक पहुंचने के प्रयास किए जा रहे हैं। सीखना भाषा को पुन: स्थापित करने का पहला कदम है। व्यावहारिक रूप से संस्कृत भाषा में कोई पत्रकारिता नहीं है; कोई आधुनिक साहित्य नहीं; कोई फिल्म उद्योग नहीं; कोई टेलीविजन चैनल या संगीत उद्योग नहीं है। यह अजीब बात है कि भारत में दार्शनिक, साहित्यिक और कलात्मक प्रवचनों पर हावी होने के बाद भी संस्कृत सार्वजनिक जीवन से कैसे गायब हो गयी।

अनुष्ठान / उत्सव: संस्कृत भाषा का इस्तेमाल सुसंस्कृत, परिष्कृत और समझदार लोगों द्वारा किया जाता था। शोधकर्ताओं ने संस्कृत को दो खंडों में वर्गीकृत किया है - वैदिक संस्कृत और शास्त्रीय संस्कृत। उन लोगों तक पहुंचने के प्रयास किए जा रहे हैं जो संस्कृत से अच्छी तरह से जानते हैं ताकि वे भाषा की समृद्धि को दूसरो को समझा सकें। संगीत में संस्कृत का उपयोग ज्यादातर हिंदुस्तानी और कर्नाटक शास्त्रीय संगीत में किया जाता है।संस्कृत दिवस उत्सव के संदर्भ में, संस्कृत में लेखन सहित विभिन्न पुस्तकों को वितरित करने वाले शिविर स्थापित किए गए हैं। विभिन्न टेलीविजन चैनलो पर संस्कृत कार्यक्रम प्रसारित किए जाते हैं। संस्कृत दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य संस्कृत को बढ़ावा देना और संस्कृत के महत्व के बारे में आम जनता को शिक्षित करना है। संस्कृत समृद्ध भारतीय सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक है। यह हमारे अतीत की असली कुंजी है और हमारे प्राचीन ग्रंथों और हमारी धार्मिक-सांस्कृतिक परंपराओं में असंख्य रहस्यों को जानने में मदद करती है।
संस्कृत का अध्ययन, विशेष रूप से वैदिक संस्कृत हमें ज्ञान प्रदान करने में सक्षम है| हाल के अध्ययनों में, यह पाया गया है कि संस्कृत हमारे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के लिए सबसे अच्छा विकल्प है। हालांकि, यह केवल शास्त्रीय भाषा नहीं है बल्कि यह भारत का प्राचीन साहित्य है। संस्कृत को हिंदू धर्म की प्राथमिक भाषा के रूप में जाना जाता है और संस्कृत से कई अन्य भाषाओं का निर्माण भी हुआ है। हालांकि संस्कृत को पहली भारतीय भाषा के रूप में जाना जाता है, जिसने तमिल, हिंदी इत्यादि जैसी कई अन्य शाखाएं विकसित की हैं|

अगला लेख: मुंबई : सपनो का शहर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अगस्त 2018
शहीद मेजर कौस्तुभ राणे का अंतिम संस्कार गुरूवार सुबह 10 बजे होगा। मेजर कौस्तुभ राणे का पार्थिव शरीरश्रीनगर से दिल्ली पहुंचा और बुधवार रात तक उनका पार्थिव शरीर दिल्ली से मुंबई पहुंच गया था। पार्थिव शरीर मुंबई लाने के बाद सेना द्वारा उनके पार्थिव को सम्मान सलामी दी गई।ग
09 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
केंद्रीय कैबिनेट ने तीन तलाक विधेयक 2017 में कुछ संशोधन को मंजूरी दे दी है| जिसमें तीन तलाक यानि तलाक-ए-बिद्दत को गैर जमानती अपराध तो माना गया है लेकिन संशोधन के हिसाब से अब मजिस्ट्रेट को बेल देने का अधिकार होगा|इस विधेयक के अनुसार ,
09 अगस्त 2018
15 अगस्त 2018
भारत के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पूरा देश आजादी के जश्न में डूबा हुआ है. कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक देश के हर एक कोने में आजादी के जश्न की तैयारियां की जा रही हैं. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सबसे खास होता है देश की राजधानी लाल किले पर मनाए जाने वाला जश्न और प्
15 अगस्त 2018
09 अगस्त 2018
केरल में भारी बारिश के कारण बुधवार से गुरुवार के बीच बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं में 22 लोगों की मौत हो गई है| आपदा प्रबंधन अधिकारियों के अनुसार, सबसे ज्यादा इडुक्की जिले में 11 लोगों की मौत हो गई है। अदिमाली
09 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
प्रत्येक वर्ष 10 अगस्त को विश्व जैव-ईंधन दिवस के रूप में मनाया जाता है| "विश्व जैव ईंधन दिवस" ​​का उद्देश्य गैर जीवाश्मईंधन (ग्रीन ईंधन) के बारे में जागरूकता पैदा करना है।इस दिन 18 9 3 में,पहली बार सररूडल
08 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
वे बुद्धिमानी होते हैं। वे परिवार उन्मुख भी होते हैं। उनकी यादाश्त बहुत तेज़ होती हैं| वो भावनाओं को महसूसकरने में सक्षम होते हैं, गहन दुःख से लेकर आनंद के किनारे खुशी के साथ-साथसहानुभूति और आश्चर्यचकित करने वाली आत्म-जागरूकता होती है इ
13 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
'10 अगस्त'को प्रत्येक वर्ष 'डेंगू निरोधकदिवस' मनाया जाताहै। इसका उद्देश्यलोगों में डेंगूके प्रति जागरुकताफैलाना तथा उन्हें इसकेप्रति सचेत करना भी है| डेंगू दुनिया केकई हिस्सों मेंतेजी से उभरतीमहामारी-प्रवण वायरल बीमारीहै। डेंगू (Dengue) एक मच्छरसे उत्पन्न होनेवाला
10 अगस्त 2018
08 अगस्त 2018
प्रत्येक वर्ष 10 अगस्त को विश्व जैव-ईंधन दिवस के रूप में मनाया जाता है| "विश्व जैव ईंधन दिवस" ​​का उद्देश्य गैर जीवाश्मईंधन (ग्रीन ईंधन) के बारे में जागरूकता पैदा करना है।इस दिन 18 9 3 में,पहली बार सररूडल
08 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x