कल की रात

23 अगस्त 2018   |  आयेशा मेहता   (113 बार पढ़ा जा चुका है)

कल की रात  - शब्द (shabd.in)

कल की रात ,बिना पलक झपके ,

एक ही लय में , एक ही सुर में ,

टकटकी लगाए मैं चाँद को देख रही थी ा

आँखों में न तो उदासी था ,

और न ही पानी ,

बस .. दिल में दर्द का एक डुबान था ा

ऐसा लग रहा था ,

मानो दूर समुंदर में ,

एक तूफान आने वाला है ,

जो अक्सर ख़ामोशी के बाद आता है ा

एक धुआँ आसमान में था ,

हौले -हौले उसमें चाँद छिप रहा था ,

और एक धुआँ मेरे अंदर उठ रहा था ,

जज्जबातों का ,काँपते हुए दर्द का ,

शायद कोई अधूरा ख्वाहिश ,

मद्धम -मद्धम जलकर राख हो रहा था ा

अगला लेख: दुर्दशा नारी की



रेणु
28 अगस्त 2018

बहुत ही हृदय स्पर्शी कथा काव्य प्रिय आयशा ।एक सजीव चित्र उभरा है रचना में ।स्नेह के साथ

अलोक सिन्हा
24 अगस्त 2018

बहुत अच्छी रचना है | बहुत मन से और भावनाओं में डूब कर लिखी हुई |

आयेशा मेहता
24 अगस्त 2018

धन्यवाद प्रिय अलोक जी यदि इसी तरह आपका आशीर्वाद मेरे साथ रहा तो शायद इससे भी बेहतर लिख पाऊँगी ा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अगस्त 2018
फि
वक़्त तूने फिर वही कहानी दोहराई फिर से दिल टुटा फिर से आँख भर आई फिर से तन्हाई फिर से रुस्वाई , फिर से बेवफाई फिर से दिल तूने प्यार में चोट खाई कहा खो गई है मंज़िल
29 अगस्त 2018
26 अगस्त 2018
भाई तुम्हे याद है जब तुम महज 11 साल के थे और मैं 13 साल की ा तुम बहूत बीमार थे ा तुम्हारा ऑपरेशन हुआ था ा ऑपरेशन के बाद मैं तुम्हे देखने तुम्हारे वार्ड में गयी ा उस टाइम पर भी तुम पर दवाइओं का असर था और तुम ढंग से होश में नहीं आये थे ा मैं तुम्हे देखकर वार्ड से बाहर आ रही थी तो तुमने कसकर मेरा ह
26 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
रू
टुटा टुटा है बदन बुझा बुझा है मन जबकि आज सुलझी हुई है हर उलझन कतरा कतरा करके बहता है आँखों से समन्दर फिर भी होठो पे , सजी हुई है मुस्कान रूठा
04 सितम्बर 2018
22 अगस्त 2018
जो टूट गया मेरे अंदर , कागजों पर बिखर गया ,जिसे लब्ज कह न सका ,वो कलम कह गया ा एहसास है ,जिसकी कोई आस नहीं ,उलझा हुआ है दिल में ,होठों पर उसका नाम नहीं ,वो ज़िन्दगी के रंगों में नहीं ,आंसुओं में घुल गया ,जो दिल में न जुड़ सका ,शब्दों में ढल गया ा न तो जूनून
22 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x