कल की रात

23 अगस्त 2018   |  आयेशा मेहता   (110 बार पढ़ा जा चुका है)

कल की रात  - शब्द (shabd.in)

कल की रात ,बिना पलक झपके ,

एक ही लय में , एक ही सुर में ,

टकटकी लगाए मैं चाँद को देख रही थी ा

आँखों में न तो उदासी था ,

और न ही पानी ,

बस .. दिल में दर्द का एक डुबान था ा

ऐसा लग रहा था ,

मानो दूर समुंदर में ,

एक तूफान आने वाला है ,

जो अक्सर ख़ामोशी के बाद आता है ा

एक धुआँ आसमान में था ,

हौले -हौले उसमें चाँद छिप रहा था ,

और एक धुआँ मेरे अंदर उठ रहा था ,

जज्जबातों का ,काँपते हुए दर्द का ,

शायद कोई अधूरा ख्वाहिश ,

मद्धम -मद्धम जलकर राख हो रहा था ा

अगला लेख: दुर्दशा नारी की



रेणु
28 अगस्त 2018

बहुत ही हृदय स्पर्शी कथा काव्य प्रिय आयशा ।एक सजीव चित्र उभरा है रचना में ।स्नेह के साथ

अलोक सिन्हा
24 अगस्त 2018

बहुत अच्छी रचना है | बहुत मन से और भावनाओं में डूब कर लिखी हुई |

आयेशा मेहता
24 अगस्त 2018

धन्यवाद प्रिय अलोक जी यदि इसी तरह आपका आशीर्वाद मेरे साथ रहा तो शायद इससे भी बेहतर लिख पाऊँगी ा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 सितम्बर 2018
जब उनको मेरी जरुरत होती है वो दिखा देते है की प्यार करते है जरुरत खत्म होते हि वो मेरे दिल को तोड़ देते है कभी इतना करीब रखते है कि सब दूरियाँ मिटा देते है जरुरत खत
07 सितम्बर 2018
16 अगस्त 2018
क्या लिखूँ उनके लिए ? जो करोड़ो दिलों पर राज किए ा कौन नहीं है आपके कायल ?सम्पूर्ण राष्ट्र को आप गौरवान्वित किये ा मिट गया है शरीर आपका ,पर हमेशा जीवित रहेंगे ,हमारे दिलों में जयजयकार बनके ा
16 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
मै
मै दर्द मै लिपटी हुई इक रात हु आँखों से बरसती हुई बरसात हु मुझको गले से लगा लो आज अपने आप से बिछड़ी हुई रीत हु मेरा कोई नहीं तुम्हारे सीवा मै
31 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x