नक्षत्र - एक विश्लेषण

24 अगस्त 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

भरणी

वैदिक ज्योतिष के आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्न इत्यादि के विचार के लिए प्रमुखता से प्रयोग में आने वाले “नक्षत्रों की व्युत्पत्ति और उनके नामों” पर वार्ता के क्रम में अश्विनी नक्षत्र के बाद अब दूसरा नक्षत्र होता है भरणी | भरणी शब्द की व्युत्पत्ति हुई है भरण में ङीप् प्रत्यय लगाकर हुई है | भरण का शाब्दिक अर्थ है पालन पोषण करना, भार वहन करना आदि | इस नक्षत्र में भी अश्विनी नक्षत्र के समान ही तीन तारे होते हैं तथा यह भी आश्विन माह तथा सितम्बर और अक्टूबर के महीनों में पड़ता है |

जो व्यक्ति अपने आस पास के लोगों तथा अन्य प्राणियों की देख भाल करता हो, उनका ध्यान रखता हो, पालन पोषण करता हो उसे भरण करने वाला कहा जाता है | अपने स्वयं के सामान की देखभाल करना भी इसका स्वभाव होता है | इसके अतिरिक्त ऐसे मजदूर को भी भरण करने वाला कहते हैं जो भार ढोता हो – अपने सर पर कुछ सामान रखकर यहाँ से वहाँ पहुँचाता हो | कुली के अर्थ में भी इस शब्द का प्रयोग होता है | राहु का विशेषण भी इसे माना जाता है |

भरणी नक्षत्र के अन्य नाम हैं : अन्तक – किसी भी वस्तु, वातावरण अथवा समस्या का अन्त करने वाला अथवा किसी भी कार्य को या वार्तालाप को या विवाद इत्यादि को उसके अन्त तक या पूर्णता तक पहुँचाने वाला या नष्ट करने वाला | सीमा के अर्थ में भी भरणी शब्द का प्रयोग किया जाता है | इसके अतिरिक्त यम अर्थात युगल यानी Twin के अर्थ में भी इसका प्रयोग होता है | साथ ही किसी बात के लिए रोकना, नियन्त्रित करना, बाधा डालना, आत्म नियन्त्रण यानी Self-Control तथा महान नैतिक – धार्मिक – आध्यात्मिक कर्तव्यों का निर्वाह करना तथा रीति रिवाजों का पालन करने के अर्थ में भी इस शब्द का प्रयोग किया जाता है |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/08/24/constellation-nakshatras-11/

अगला लेख: नक्षत्र एक विश्लेषण



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 सितम्बर 2018
रोहिणी सभी 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति के क्रम में अबतक हमने अश्विनी, भरणी और कृत्तिका नक्षत्रों के नामों पर बात की| इसी क्रम में आज बात करते हैं रोहिणी नक्षत्र की | रोहिणी की निष्पत्ति रूह् धातु से हुई है जिसका अर्थ है उत्पन्न करना, वृद्धि करना, ऊपर चढ़ना, आगे बढ़
06 सितम्बर 2018
12 अगस्त 2018
हिन्दी पञ्चांगसोमवार, 13 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनहरियाली / मधुस्रवा तीज की हार्दिक बधाई औरशुभकामनाएँसूर्योदय : 05:49 सूर्यास्त : 19:02 पर चन्द्र राशि : सिंह चन्द्र नक्षत्र : पूर्वा फाल्गुनी 19:08 त
12 अगस्त 2018
26 अगस्त 2018
सर्वप्रथम सभी कोप्रेम और सौहार्द के प्रतीक रक्षाबन्धन के इस उल्लासमय पावन पर्व की हार्दिकशुभकामनाएँ...इस रक्षा बन्धन आइये मिलकर शपथ लें कि“वृक्षारोपण के साथ ही वृक्षाबन्धन” भी करेंगे ताकि वृक्षों की रक्षा की जा सके...क्योंकि इन्हीं से तो मिलती है हमें शुद्ध और ताज़ी हवा –
26 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
13 से 19 अगस्त तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहो
12 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
स्वतन्त्रतादिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ बुधवार, 15 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:50 सूर्यास्त : 19:00 पर चन्द्र राशि : कन्या 27:54(अर्द्धरात्र्योत्तर 03:54) तक, तत्पश्चात तुला चन्द्र नक्षत्
14 अगस्त 2018
26 अगस्त 2018
सोमवार, 27 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनभाद्रपदमासारम्भ सूर्योदय : 05:56 पर सूर्यास्त : 18:48 पर चन्द्र राशि : कुम्भ चन्द्र नक्षत्र : शतभिषज 15:03 तक, तत्पश्चात पूर्वा भाद्रपद / पंचक
26 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
27 नक्षत्रों का हिन्दी महीनों में विभाजन तथाहिन्दी माहों के वैदिक नामपिछले अध्यायमें चर्चा की थी 27 नक्षत्रों की और उनके नामों का उल्लेख किया था | जैसाकि पहले भी लिखा है कि जिस हिन्दी माह की शुक्ल चतुर्दशी-पूर्णिमा को जिस नक्षत्रका उदय होता है उसी के आधार पर उस माह का नाम
10 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x