पटरी पर

25 अगस्त 2018   |  हर्ष वर्धन जोग   (101 बार पढ़ा जा चुका है)

पटरी पर

लापरवाही केके के चेहरे से और हाव भाव से झलकती रहती थी. बाल अगर पंखे की हवा में तितर बितर हो गए तो हो गए केके ने कंघी नहीं करनी है. अगर किसी दिन एक जूते की लेस खुली रह गई तो रह गई कसनी नहीं है. कई बार बैंक में काम करते करते केके जूते उतार देता और फाइल लेकर हॉल के दूसरे कोने तक नंगे पैर या फिर जुराबों में ही घूम आता. या फिर केबिन में भी आ जाता. उसका रुमाल जेब में ना होकर कभी टेबल पर, कभी कुर्सी पर और कभी फर्श पर पड़ा होता था. लोग देख कर मुस्करा देते या कमेन्ट मार देते पर केके को कोई फर्क नहीं पड़ता. सुबह बैंक आता तो कमीज़ पेंट के अंदर होती पर शाम तक कभी थोड़ी तो कभी पूरी कमीज़ पेंट के बाहर निकल चुकी होती थी. ये तो भला हो झुमरी तलैय्या के ग्राहकों का कोई शिकायत नहीं करते हैं.

पर ऐसी ग़लतफ़हमी भी नहीं रखनी चाहिए कि केके समझदार नहीं है. बन्दा डायरेक्ट अफसर लगा है बैंक में इसलिए इंटेलिजेंस की कमी नहीं है. और अभी है भी कंवारा इसलिए बे लगाम भी है. जो भी आएगी वो केके की मुश्कें कस देगी क्यूँ जी ? आप से क्या छिपा है अब आप और हम तो एक ही कश्ती में सवार हैं ! केबिन में बैठा जब भी केके को देखता था तो मिक्स फीलिंग होती थी. कभी उस पर हंसी आती थी और कभी खीझ भी होती थी. कमबख्त अच्छी तनखा लेता है, बैंक में पब्लिक डीलिंग करता है पर ढंग से क्यूँ नहीं रह सकता ? खोया खोया ही रहता है.

उधर रीजनल ऑफिस को हमारी ब्रांच में एक ऑफिसर या मैनेजर पोस्ट करने की डिमांड भेजी हुई थी. उन्होंने एक कन्या ऑफिसर भेज दी. वैसे तो कन्या होने से कोई फर्क नहीं पड़ता पर कन्या को लेट बैठाना या डांट लगाना अटपटा लगता है. खैर झुमरी तल्लैय्या ब्रांच के सभी चौंतीस लोगों ने नई ऑफिसर का स्वागत किया. स्वभाव में नई ऑफिसर केके के उलट निकली. नई ऑफिसर की टेबल साफ़ सुथरी रहती और वो खुद भी चाक चौबंद नज़र आती थी. बातें भी बिंदास ही करती थी और केके की तरह झेंपू नहीं थी. खैर जो भी हो केके का काम थोड़ा हल्का हो गया. उसकी सीट का काफी काम नई ऑफिसर के पास चला गया.

हफ्ते दस दिन में केके में थोड़ा थोड़ा बदलाव दिखने लगा. आखिर तो कंवारा इंसान ही था और पता लगा कि नई ऑफिसर भी कंवारी थी. अब केके के बाल कंघी किये हुए और सेट से लगते थे. शायद तेल वेल लगाना शुरू कर दिया था. अब तो बेल्ट कसी हुई और कमीज़ तरीके से टक-इन की हुई लगती थी. अगर कमीज़ बाहर निकलती तो तुरंत केके उसे वापिस अंदर ठूंस देता. जूते भी बेहतर पोलिश किये हुए लगते और लेस तरीके से बंधी हुई नज़र आती थी. अब जब केके केबिन में आता तो किसी परफ्यूम की हलकी सी खुशबू भी आती थी. ऐसा लगने लगा कि केके की गाड़ी पटरी पर आ रही थी !

विश्वस्त सूत्रों ने इस बात की पुष्टि भी कर दी थी कि केके ने नई ऑफिसर की फाइल लेकर उसका जन्मदिन नोट किया था. शायद केके अपनी और नई ऑफिसर की कुंडली मिलाना चाहता होगा. केके मेरठ का रहने वाला था और नई ऑफिसर देहरादून की. अब दोनों इस शहर में अकेले रह रहे थे. बहुत सारी संभावनाएं नज़र आ रहीं थीं. ख़बरें धीरे धीरे फैलती हैं और आप तो जानते ही हैं कि इश्क और उसकी मुश्क छिपाए नहीं छिपती है !

शनिवार को पास के बाज़ार से 'कमल साड़ीज़' का एक बंदा सीधा केबिन में घुस आया. हाथ में एक बड़ा सुंदर सा पैक किया हुआ डिब्बा था. नमस्ते करके बोला,
- साब ये सेठ जी ने भेजा है.
- किस के लिए भेजा है भई ये ? दिवाली तो अभी दूर है !
- सर सेठ जी ने ये कोने में कुछ लिख कर दिया है. नहीं तो आप मोबाइल से सेठ जी से बात कर लीजिए.
- हूँ ठीक है आप जाओ.
पढ़ा तो उस डिब्बे पे छोटा सा 'केके' लिखा हुआ था. इण्टरकॉम पर केके को अंदर बुलाया.
- 'कमल साड़ीज़' से कोई गिफ्ट आया है आपके लिए केके. ये ले लो.
केके ने झेंपते हुए गिफ्ट पैक पकड़ लिया और थैंक यू कह कर भाग लिया. ऐसा लगा कि केके की गाड़ी धीरे धीरे पटरी पर आ रही थी.

पर सोमवार को अच्छी खबर नहीं मिली. हमारा शहर झुमरी तल्लैय्या छोटा सा ही है. दिल्ली से तो शर्तिया छोटा है. चाय के अड्डे तो बहुत हैं यहाँ पर बढ़िया रेस्तरां एक ही है. उसका अकाउंट हमारे यहाँ है और जाहिर है कि उसका मैनेजर लेन देन के लिए ब्रांच में आता रहता है. सोमवार को कैश जमा कराने आया तो उसने कुछ यूँ बताया:
शनिवार शाम केके जी और साथ में नई ऑफिसर रेस्तरां में आए थे. दोनों कोने वाली टेबल पर बैठे, पानी पिया और फिर सर केके जी ने खड़े होकर गिफ्ट पैक नई ऑफिसर को प्रेजेंट की. नई ऑफिसर ने ले भी ली और तुरंत खोल कर देख भी लिया कि अंदर साड़ी है. साड़ी की फोटो लेते हुए बोली,
- शुक्रिया केके जी. आप लाए हो तो रख लेती हूँ. आज की कॉफ़ी मेरी तरफ से या फिर जल्दी डिनर कर सकें तो अच्छा है डिनर कर लेते हैं. पर मैं नौ बजे के बाद नहीं रुक सकती.
- तो सर केके साब ने चिकेन बिरयानी, दाल फ्राई, रायता, सलाद, पापड़ और तंदूरी रोटी का आर्डर दिया. बाद में दोनों ने कॉफ़ी ली. दोनों एन्जॉय कर रहे थे सर. जब बिल आया तो तुरंत नई अफसर ने बिल पकड़ लिया और उन्होंने ही पे किया और केके सर से कहा,
- केके गिफ्ट के लिए फिर से शुक्रिया. साड़ी बहुत पसंद आई मुझे. मैंने तो अपने मंगेतर को इसकी फोटो भी भेज दी है. अगले महीने वो आने वाले हैं तो उनके साथ एक बार फिर डिनर करेंगे. थैंक्यू & गुड नाईट.

Sketches from Life: पटरी पर

http://jogharshwardhan.blogspot.com/2018/08/blog-post_25.html

पटरी पर

अगला लेख: इज़्ज़त की भीख (कहानी)



मीरा मंजरी
25 अगस्त 2018

बेचारे के के साहब

धन्यवाद मीरा मंजरी

मीरा मंजरी
25 अगस्त 2018

बेचारे के के साहब

धन्यवाद मीरा मंजरी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x