राष्ट्रीय खेल दिवस से जुड़ी बातें

25 अगस्त 2018   |  Pratibha Bissht   (109 बार पढ़ा जा चुका है)

राष्ट्रीय खेल दिवस से जुड़ी  बातें

हॉकी लेजेंड ध्यान चंद का जन्म 9 अगस्त 1905 को इलाहाबाद में हुआ था। ध्यान चंद को व्यापक रूप से सबसे अच्छा हॉकी खिलाड़ी माना जाता है। उनकी गोल स्कोरिंग क्षमता असाधारण थी | ध्यान चंद ने 1928, 1932 और 1936 में लगातार तीन ओलंपिक स्वर्ण पदक जीते थे और भारत की जीत में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। ध्यान चंद को 1956 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। वह सेना से मेजर के पद से सेवानिवृत्त हुए थे। किस्मत ने Dhyan Chand के जीवन में एक बड़ी भूमिका निभाई थी क्योंकि ध्यान चंद को युवावस्था में कुश्ती बहुत दिलचस्पी थी।


राष्ट्रीय खेल दिवस से जुडी़ बातें


Dhyan Chand


साल 1936 ओलंपिक में जर्मनी के साथ एक मैच के दौरान, जर्मनी के आक्रामक गोलकीपर टीटो वार्नहोल्ज़ के साथ टकराव के दौरान ध्यान चंद का दांत टूट गया था । मेडिकल अटेंशन के बाद ध्यान चंद मैदान में लौट आये थे और ध्यान चंद ने खिलाड़ियों को स्कोरिंग के जरिए जर्मनों को "सबक सिखाने" के लिए कहा था। भारतीय खिलाड़ियों ने बार-बार जर्मन सर्कल में गेंद को बैकपीडल में लिया था। उनका जन्मदिन 29 अगस्त भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है और राष्ट्रपति इस दिन राजीव गांधी खेल रत्न, अर्जुन और द्रोणाचार्य पुरस्कार जैसे पुरस्कार प्रदान करते हैं। मिनिस्ट्री ऑफ यूथ अफेयर्स एंड स्पोर्ट्स, भारत सरकार द्वारा ध्यान चंद अवार्ड दिया जाता है | यह अवार्ड स्पोर्ट्स एंड गेम्स के क्षेत्र में लाइफ टाइम अचीवमेंट के लिए दिया जाता है | यह पुरस्कार 2002 में शुरू किया गया था।


तर्कसंगत रूप से महानतम हॉकी खिलाड़ी के सम्मान में 2002 में दिल्ली में राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम का नाम बदलकर ध्यान चंद राष्ट्रीय स्टेडियम रखा गया था।
ध्यान चंद के बेटे अशोक ध्यान चंद ने 1975 के कुआला लुम्पुर हॉकी विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ एक मैच में स्वर्ण पदक जीतने के लिए एक महत्वपूर्ण गोल किया था।
विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के साथ-साथ खेल अकादमियों में और पूरे देश में राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है। देश के खेल परिदृश्य को बढ़ावा देने के लिए कई खेल आयोजनों और अन्य कार्यक्रमों का आयोजन करके यह दिन मनाया जाता है। कुछ कार्यक्रमो में विभिन्न उभरते हुए खिलाड़ियों को पुरस्कार भी वितरित किये जाते हैं जिन्होंने अतीत में खेल के क्षेत्र में बहुत योगदान दिया था। इस राष्ट्रीय खेल दिवस का जश्न मुख्य रूप से पंजाब और चंडीगढ़ में मनाया जाता है। मेजर ध्यान चंद के पिता ब्रिटिश भारतीय सेना में कार्यरत थे और अपने खाली समय में हॉकी खेला करते थे| शायद यही है से ध्यान चंद को अपनी प्रतिभा मिली। 1922 से 1926 तक, उन्होंने सेना के लिए कई हॉकी टूर्नामेंट खेलें और अंततः उन्हें भारतीय सेना टीम के लिए चुना गया जो न्यूजीलैंड दौरा करने जा रही थी । इस टीम ने केवल 1 गेम हारा था | भारत लौटने पर, उन्हें तुरंत लांस नाइक के पद पर पदोन्नत किया गया जो लांस निगम के बराबर है। 1925 में, 1 928 ओलंपिक के लिए देश की टीम का चयन करने के लिए एक अंतर-प्रांतीय टूर्नामेंट आयोजित किया गया था। ध्यान चंद को संयुक्त प्रांतों में खेलने के लिए चुना गया और उन्हें ब्रिटिश भारतीय सेना द्वारा भाग लेने की अनुमति दी गई।


ध्यान चंद से जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्य :


Dhyan Chand

1. ध्यान चंद को 16 साल की उम्र में ब्रिटिश भारतीय सेना में सिपाही के रूप में नियुक्त किया गया था। | चूंकि ध्यान सिंह रात के दौरान बहुत अभ्यास किया करते थे, इसलिए उन्हें अपने साथी खिलाड़ियों द्वारा "चांद" उपनाम दिया गया था | रात में उनका अभ्यास सत्र हमेशा चंद्रमा के निकलने के साथ मेल खाता था । 'चांद' का मतलब हिंदी में चंद्रमा होता है।

2. ध्यान चंद 1 928 एम्स्टर्डम ओलंपिक में 14 गोल के साथ अग्रणी गोल-स्कोरर थे। भारत की जीत के बारे में एक समाचार रिपोर्ट में कहा गया था की , "यह हॉकी का खेल नहीं है बल्कि जादू है। ध्यान चंद वास्तव में हॉकी के जादूगर थे। "

3. हालांकि ध्यान चंद कई यादगार मैचों में शामिल थे। लेकिन वह एक विशेष हॉकी मैच को अपना सर्वश्रेष्ठ मैच मानते हैं। "अगर मुझसे कोई पूछे कि कौन सा सबसे अच्छा मैच मैंने खेला था, मैं बिना हिचकिचाए कहूंगा कि यह कलकत्ता कस्टम्स और झांसी हीरोज के बीच 1933 बीटन कप फाइनल था। "

4. 1932 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में, भारत ने यूएसए को 24-1 से और जापान को 11-1 से हराया था।
ध्यान चंद ने 12 गोल किए जबकि उनके भाई रूप सिंह ने भारत के 35 गोलों में से 13 गोल किए थे इसके बाद से उन्हें 'हॉकी ट्विन्स ' कहा जाने लगा |

5. एक बार, जब ध्यान चंद एक मैच में स्कोर नहीं कर पाए थे, उन्होंने गोल पोस्ट के माप के बारे में मैच रेफरी के साथ तर्क किया। सभी के लिए आश्चर्य की बात है, वह सही थे, गोल पोस्ट अंतरराष्ट्रीय नियमों के तहत निर्धारित आधिकारिक न्यूनतम चौड़ाई के उल्लंघन में पाया गया था।

6. 1936 में बर्लिन ओलंपिक में भारत के पहले मैच के बाद, हॉकी स्टेडियम में अन्य खेल आयोजनों को देखते हुए लोग। एक जर्मन समाचार पत्र ने बैनर शीर्षक लिखा : 'ओलंपिक परिसर में अब भी एक जादूई शो है।' बर्लिन के पूरे शहर में पोस्टर थे: "भारतीय जादूगर ध्यान चंद को एक्शन में देखने के लिए हॉकी स्टेडियम जाएं।"

7. व्यापक रिपोर्टों के मुताबिक, जर्मन तानाशाह एडॉल्फ हिटलर ने बर्लिन ओलंपिक में ध्यान चंद के प्रभावशाली प्रदर्शन के बाद, ध्यान चंद को जर्मन की नागरिकता और जर्मन सेना में पद की थी। भारतीय जादूगर ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया था।

8. ऑस्ट्रेलियाई महान डॉन ब्रैडमैन ने 1935 में एडीलेड में ध्यान चंद से मुलाकात की। उनके खेल को देखने के बाद,
ब्रैडमैन ने टिप्पणी की, "वह क्रिकेट में रनों की तरह गोल करते है"।

9. ध्यान चंद ने अपने 22 साल के करियर में (1 926-48) 400 से अधिक गोल किए हैं।

10. नीदरलैंड के हॉकी अधिकारियों ने एक बार ध्यान चंद की हॉकी स्टिक तोड़ दी ताकि वह यह पता लगा सके कि स्टिक के अंदर कोई चुंबक तो नहीं है।

11. ध्यान चंद को "द विज़ार्ड" भी कहा जाता था।

12. ध्यान चंद को सम्मान देने के लिए, ऑस्ट्रिया के वियना के निवासियों ने चार हाथों और चार हॉकी स्टिक के साथ उनकी एक मूर्ति स्थापित की है जो खेल उनकी निपुणता को दर्शाता है।


राष्ट्रीय खेल दिवस से जुड़ी  बातें

अगला लेख: मनाली : लवर्स पैराडाइस



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
Momo Challenge: खतरनाक ब्लू व्हेल के बाद अब इंटरनेट पर ‘Momo’ चैलेंज बच्चों के लिए घातक साबित हो रहा है। ‘Momo’ एक सोशल मीडिया अकाउंट है जो फेसबुक, व्हाट्सएप, और यू-ट्यूब पर मौजूद है। जानकारी के मुताबिक इस अकाउंट के जरिए बच्चों को हिंसक तस्
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
नई दिल्ली : भारत को लंबे संघर्ष के बाद अंग्रेजों की गुलामी से मुक्ति मिलने जा रही थी. स्वतंत्रता की तारीख (Independence Day) मुकर्रर हो गई थी. देश में हर तरफ जश्न का माहौल था, लेकिन जैसे-जैसे यह तारीख (15 अगस्त) नजदीक आती जा रही थी दिल्ली के वायसराय हाउस में माउंटबेटेन क
14 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
भारत में उत्पादोंके सकल उत्पादनका 40 प्रतिशत लघुउद्योगों द्वारा आपूर्ति कीजाती है| यह भारत के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाताहै। 30 अगस्त 2000 को भारतीय सरकार ने छोटे पैमाने पर उद्योग का समर्थन करन
27 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
शनिवार को सीबीआई ने बालिका गृह की जांच मामले में मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के बेटे राहुल आनंद को हिरासत में लेने के बाद देर रात छोड़ दिया। ऐस
12 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
रविवार को 85 वर्ष की उम्र में नोबेल पुरस्कार विजेत, भारतीय मूल के मशहूर लेखक और ख्यातिलब्ध ब्रिटिश उपन्यासकार सर वीएस नायपॉल का निधन हो गया। उनके परिजनों ने उनकी मृत्यु की पुष्टि की। लंदन स्थित अपने घर में उन्होंने आखिरी सांस ली। नायपॉल का जन्म 17 अगस्त 1932 को ट्रिनि
12 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
रविवार कोजम्मू-कश्मीर के बटमालू क्षेत्र में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में एक पुलिसकर्मी शहीद हो गया जबकि तीन जवान घायल हो गए और आतंकवादी एनकाउंटर साइट से फरार हो गए लेकिन उनके दो मददगारों (ओजीडब्ल्यू) क
12 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
खुदीराम बोस (Khudiram Bose) (188 9 -1 90 8) एक भारतीयस्वतंत्रता सेनानी थे , भारतीयस्वतंत्रता आंदोलन में सबसे कम उम्र के क्रांतिकारियों में सेएक थे | खुदीराम बोस का जन्म बंगाल के मेदिनीपुर जिले के बहावैनी गांव में 3 दिसंबर 1889 को हुआ था। उनके पिता त्रिलोक्यानथ बसु नद
11 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी की हालत नाजुक बनी हुई है|10 अगस्त को किडनी की समस्या के कारण उन्हें दोबारा अस्पताल में भर्ती करवाया गया था | उनकी गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिले
12 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हम आपको बता रहे हैं, देश में मौजूद एक ऐसे रेलवे स्टेशन के बारे में जिसके अंदर जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा की जरूरत होती है।सुनने में बड़ा अजीब लगता है न, कि विदेश जाने के लिए पासपोर्ट और वीजा चाहिए और यहां रेलवे स्टेशन में जाने के लिए, पर
14 अगस्त 2018
12 अगस्त 2018
रविवार यानि आज नासा पार्कर सोलर प्रोब यान लॉन्च करेगा। यह यान पहले शनिवार को लॉन्च किया जाना था पर किन्ही
12 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
शनिवार को अमेरिका में अलास्‍का एयरलाइंस का एक कर्मचारी सिएटल एयरपोर्ट से विमान को बिना अनुमति के ले उड़ा इससे वाशिंगटन के सिएटल टैकोमा अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट पर हड़कंप मच गई | हालाँकि उड़ान के कुछ देर बाद ही वह विमान दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया है और वो उस विमान को क
11 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
हम हर साल 14 सितंबर को हिन्दी दिवस मनाते हैं आपके मन में ये सवाल जरूर आता होगा कि इसी दिन क्यों मनाया जाता है हम आपको बताते हैं 14 सितंबर को ही हिन्दी दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि आज ही के दिन 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया था कि हिन्दी भारत
16 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
11 अगस्त को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी नेताओं व कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने के लिए जयपुर में रोड शो करेंगे। राजस्थान में पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के दौरे के बाद कांग्रेस भी राहुल गांधी के जयपुर दौरे से अप
11 अगस्त 2018
11 अगस्त 2018
आज रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अलिगढ़ में उत्तर प्रदेश के रक्षा औद्योगिक गलियारे का शुभारम्भ करेंगे । मेक इन इंडिया के तहत तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश को रक्षा क्षेत्र में प्रस्तावित गलियारे के लिये चुना गया था। इस गलियारे क
11 अगस्त 2018
15 अगस्त 2018
भारत के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पूरा देश आजादी के जश्न में डूबा हुआ है. कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक देश के हर एक कोने में आजादी के जश्न की तैयारियां की जा रही हैं. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सबसे खास होता है देश की राजधानी लाल किले पर मनाए जाने वाला जश्न और प्
15 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
वे बुद्धिमानी होते हैं। वे परिवार उन्मुख भी होते हैं। उनकी यादाश्त बहुत तेज़ होती हैं| वो भावनाओं को महसूसकरने में सक्षम होते हैं, गहन दुःख से लेकर आनंद के किनारे खुशी के साथ-साथसहानुभूति और आश्चर्यचकित करने वाली आत्म-जागरूकता होती है इ
13 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
राष्ट्रीय पोषण सप्ताह (National Nutrition Week) पूरे देश में 1 से 7 सितंबर तक मनाया जाएगा। इस वार्षिक आयोजन का मूल उद्देश्य स्वास्थ्य के लिए
29 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x