वो देश जहां प्रधानमंत्री भी साइकिल पर चलता है!

27 अगस्त 2018   |  प्राची सिंह   (99 बार पढ़ा जा चुका है)

भारत के ज़्यादातर बड़े शहरों में जब भी कोई पैदल घूमना चाहता है या साइकिल लेकर सड़क पर निकलना चाहता है तब उसे मायूस होकर या खीज कर कहना ही पड़ता है की सब जगह बाइक या कार वाले ही भरे हुए हैं. साइकिल के लिए तो जगह ही नहीं है.

अगर कोई बेचारा हिम्मत कर साईकिल लिए दिल्ली की सड़क पर निकल भी आए तो बगल से सांय सांय करती हुई गाड़ियां ऐसे निकलती हैं लगता है साईकिल उड़ ही जाएगी.

लेकिन दुनिया का एक देश ऐसा भी है जहां इसके बिलकुल उलट होता है. अगर कोई कार या मोटरसाइकिल वाला सड़क पर निकल आए तो वह खीज कर कहता है की कार के लिए तो जगह ही नहीं है. क्योकि पूरी सड़क साइकिल चलाने वाले ही घेरे रहते हैं. यहां तक की प्रधानमंत्री भी साईकिल चला रहा होता है.

यह कहना गलत नहीं होगा की नीदरलैंड के एम्स्टर्डम में साइक्लिस्ट ही शासन करते हैं. और उनकी ज़रूरतें पूरी करने के लिए करने के लिए शहर ने खूब काम किए हैं. साइकिल एम्स्टर्डम में इतनी पॉपुलर है कि नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रुट्ट भी संसद साइकिल से ही जाते हैं.

एम्स्टर्डम शहर के रिंग रोड और लेन साइकिल वालों के लिए विस्तृत नेटवर्क से लैस है. वह इतना सुरक्षित और आरामदायक है कि बच्चों से लेकर बुज़ुर्ग लोग साइकिल का सबसे आसान साधन के रूप में उपयोग करते हैं. साइकिल चलाने का यह कल्चर केवल एम्स्टर्डम नहीं बल्कि सभी डच शहरों में है.

डच लोग साइकिल चलाने को अपना जन्म सिद्ध अधिकार समझते हैं और अक्सर मज़ाक में कहते हैं कि साइकिलें धरती पर समय की शुरुवात से ही हैं. लेकिन ऐसा है नहीं. 1950 और 60 के दशक में, कारों की संख्या एम्स्टर्डम और दूसरे शहरों में लगातार बढ़ रही थी और साइकिल चलने वालों को खतरा था कि ऐसा हुआ तो सड़कों पर कारों का ही कब्ज़ा होगा.

लेकिन साइकिलों को लेकर लोगों ने लगातार सामजिक और न्यायिक सक्रियता दिखाई और यह ध्यान दिए के चाहे जितनी कारें बढ़ें साइकिलों के लिए जगह रहनी चाहिए. 70 के दशक में किये गए इन्ही प्रयासों से सरकारों को सड़कों की बनावट और पैदल चलने के लिए फुटपाथ बनाने पर ध्यान देना पड़ा. और आज नीदरलैंड का शहर एम्स्टर्डम दुनिया की साइकिल राजधानी बन गया है.

20 वीं शताब्दी की शुरुआत में, डच शहरों में साइकिलों की संख्या बहुत अधिक थी और साइकिल को पुरुषों और महिलाओं के लिए परिवहन का एक सम्मानजनक तरीका माना जाता था. लेकिन जब युद्ध के बाद के युग में डच अर्थव्यवस्था में तेजी आई, तो ज्यादा लोग कार खरीदने में सक्षम हो गए और शहरी नीति निर्माताओं ने कार को भविष्य के यात्रा मोड के रूप में देखा.

कारों के लिए रास्ता बनाने के लिए पूरे एम्स्टर्डम के कई हिस्से नष्ट किये गए और बदले गए. साइकिल का उपयोग प्रति वर्ष 6% गिरता रहा और सामान्य विचार भी यह था कि अंततः साइकिलें पूरी तरह से गायब हो जाएंगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

बढ़ते हुए ट्रैफिक का नुकसान साफ़ दिख रहा था. 1971 में सड़क दुर्घटनों में हुई मौतों की संख्या 3,300 पर पहुंच गई. उस वर्ष यातायात दुर्घटनाओं में 400 से ज्यादा बच्चे मारे गए थे.

इस चौंकाने वाले भारी नुकसान से लोगों में रोष पैदा हुआ और खूब विरोध प्रदर्शन हुए. इन सभी विरोद प्रदर्शनों में सबसे ऐतिहासिक और यादगार था स्टॉप डी किंडर्मोर्ड (“बाल हत्या रोको”) था.

इन विरोध प्रदर्शनों में साइकिल का ही सबसे ज़्यादा इस्तेमाल हुआ. युवा, बच्चे, और बुज़ुर्ग सभी मिलकर प्रदर्शन करते थे. प्रदर्शन के दौरान गीत गए जाते थे, घर की सभी काम सडकों पर आकर किये जाते थे. यहां तक कि लोगों ने अपने डाइनिंग टेबल भी सड़क पर लगाकर वहां डिनर करना शुरू कर दिया था.

‘स्टॉप डी किंडर्मोर्ड’ की बातें डच सरकार को सुननी पड़ीं और उसने उसने अपने मुख्यालय को एक दुकान में स्थापित किया, और सुरक्षित शहरी नियोजन के लिए विचार विकसित करने के लिए आगे बढ़े. जिसके परिणामस्वरूप अंततः वुनेरफ बनाई गई. वुनेराफ़ नै तरह की सड़क थी जिसपर स्पीड ब्रेकर और मोड़ हों और स्पीड लिमिट तय की गई ताकि गाड़ियां धीमी चलें.

यह बड़ी जीत थी लेकिन स्टॉप डी किंडरमोर्ड की स्थापना के दो साल बाद, कार्यकर्ताओं के एक और समूह ने प्रथम क्षेत्र में साइकिलों के लिए अधिक जगह मांगने के लिए फर्स्ट ‘अचल रियल डच साइकलिस्ट्स यूनियन’ की स्थापना की – जो सड़क के खतरनाक हिस्सों पर साइकिल सवारी का आयोजन, और साईकिल चलने वालों से जुडी समस्याओं पर बात करने लगा.

1973 का तेल संकट जब सऊदी अरब और अन्य अरब तेल निर्यातकों ने यम किपपुर युद्ध में इजरायल का समर्थन करने के लिए अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, जापान और नीदरलैंड पर प्रतिबंध लगाया – तेल की कीमत चौगुनी हो गई. एक टेलीविजन भाषण के दौरान, प्रधान मंत्री डेन उइल ने डच नागरिकों से एक नई जीवनशैली अपनाने और ऊर्जा बचाने के बारे में गंभीर होने का आग्रह किया. सरकार ने कार-मुक्त रविवार की एक श्रृंखला की घोषणा की: बेहद शांत सन्डे जब सभी साइकिल चलने लगे और लोगों ने जाना कि कारें आने से पहले उनका जीवन कैसा था.

धीरे-धीरे, डच राजनेता साइकिल चालन के कई फायदों से अवगत हो गए, और उनकी परिवहन नीतियां पुरानी हो गईं – उन्हें लगा शायद कार भविष्य के परिवहन के साधन नहीं थी. 1980 के दशक में, डच कस्बों और शहरों ने अपनी सड़कों को और अधिक साइकिल अनुकूल बनाने के उपायों पर काम करना शुरू किया.

अब साइकिल पथ चमकदार और खूब सारे दिखाई दे रहे थे. यह एम्स्टर्डम के लिए कुछ नया था. साइकिल चालक मार्गों का उपयोग करने के लिए अपने मार्ग बदल रहे थे क्योकि अब विकल्प कई हो गए थे.

इसके बाद, डेल्फ़्ट शहर ने रिंग रोड का एक संपूर्ण नेटवर्क बनाया और यह पता चला कि इससे लोगों को अपनी बाइक पर जाने के लिए प्रोत्साहित किया गया था. एक-एक करके, अन्य शहरों का पालन किया.

आजकल नीदरलैंड में 22,000 मील के रिंग रोड हैं. यूके के 2% की तुलना में,नीदरलैंड में साइकिलों से ही यात्राओं की एक चौथाई से अधिक की दूरी तय की जाती है – और यह एम्स्टर्डम में 38%.सभी प्रमुख डच शहरों ने “साइकिल सिविल सेवकों” को नामित किया है, जो नेटवर्क को बनाए रखने और सुधारने के लिए काम करते हैं. और बाइक की लोकप्रियता अभी भी बढ़ रही है. इलेक्ट्रिक साइकिलों का भी जबरदस्त विकास हुआ है.

Source: News18

वो देश जहां प्रधानमंत्री भी साइकिल पर चलता है!

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/08/23/the-country-where-the-prime-minister-also-runs-on-the-bicycle/

वो देश जहां प्रधानमंत्री भी साइकिल पर चलता है!

अगला लेख: पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक , लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
ब्लड शुगर की कमी से पूरा शरीर प्रभावित होता हैंब्लड शुगर के मरीजों के अलग-अलग लक्षण हो सकते हैं।ब्लड शुगर को सामान्य रखना चाहिए।हमारे शरीर के हर सेल को काम करने के लिए एनर्जी की जरूरत होती है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि एनर्जी का मुख्य स्रोत शुगर है। ब्लड शुगर यानी रक्त शर्करा, ब्रेन, हार्ट और डाज
14 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम 5.05 बजे निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे। अटलजी के निधन पर 7 दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा गई की।अटल बिहारी वाजपेयी दो महीने से एम्स में भर्ती थे, लेकिन पिछले 36 घंटों के दौरान उनकी सेहत बिगड़ती चली गई। उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा
17 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
नई दिल्ली : भारत को लंबे संघर्ष के बाद अंग्रेजों की गुलामी से मुक्ति मिलने जा रही थी. स्वतंत्रता की तारीख (Independence Day) मुकर्रर हो गई थी. देश में हर तरफ जश्न का माहौल था, लेकिन जैसे-जैसे यह तारीख (15 अगस्त) नजदीक आती जा रही थी दिल्ली के वायसराय हाउस में माउंटबेटेन क
14 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018. शाम के पांच बजकर पांच मिनट हो रहे थे. दिल्ली के सबसे बड़े अस्पताल एम्स के बाहर देश-दुनिया की मीडिया के साथ ही नेताओं का भी जमावड़ा लगा हुआ था. सबको उम्मीद थी कि भारत के पूर्व प्रधानमंत्री रहे वाजपेयी को लेकर कुछ अच्छी खबर आएगी. खबर आई भी, लेकिन बुरी खबर आई.
17 अगस्त 2018
13 अगस्त 2018
बिहार के वैशाली जिले में 'पकड़उवा विवाह' का एक और मामला प्रकाश में आया है. यहां रेलवे में कार्यरत इंजीनियर युवक को अगवा कर एक युवती से शादी करा दी गई. बाद में हालांकि युवक की मां ने स्थानीय थाने में इस मामले की प्राथमिकी दर्ज करा दी.पुलिस के अनुसार, समस्तीपुर रेल मंडल में
13 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
राजधानी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत नाजुक बनी हुई है. पिछले 36 घंटे में उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हुआ है. इस बीच थोड़ी देर में एम्स की ओर से वाजपेयी का नया हेल्थ बुलेटिन जारी किया जाएग
16 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता - आज़ादी अभी अधूरी है।सपने सच होने बाक़ी हैं, राखी की शपथ न पूरी है॥जिनकी लाशों पर पग धर कर आजादी भारत में आई।वे अब तक हैं खानाबदोश ग़म की काली बदली छाई॥कलकत्ते के फुटपाथों पर जो आंधी-पानी सहते हैं।उनसे पूछो, पन्द्रह अगस्त के बारे में क्या कहते हैं॥हिन्दू के नाते उनका दुख स
14 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
कड़े फैसले लेने वाले प्रधानमंत्री, संवेदनाओं के रस में डूबी कविताएं लिखने वाले कवि, हाजिरजवाब और कुशल वक्ता...देश के पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ढेर सारी खूबियों वाली शख्सियत थे। उनके निधन से एक तरफ जहां पूरा देश गम में डूबा है, वहीं दूसरी तरफ उनका ऐसा वीडियो सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हो रहा है, जिस
17 अगस्त 2018
26 अगस्त 2018
पीटीआई ने गुरुवार को सूचना दी की,भारत और चीन ने रक्षा एक्सचेंजों और सहयोग पर समझौता करने के एक नए द्विपक्षीय ज्ञापन का मसौदा तैयार करने पर सहमति व्यक्त की है और दोकलम जैसे स्टैंडऑफ से बचने के लिए अपने सेनाओं के बीच बातचीत में वृद्धि की
26 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
1. एक बार तीन बच्चे स्कूल से घर लौट रहे थे और रास्ते में आते हुए वे अपने घर के बारे में बातचीत कर रहे थे बात करते करते वे अपने अपने पापा के बारे में बात करने लगे।पहला लड़का: अरे मेरे पापा से तेज तो दुनिया में कोई भी नही है वे 90 किमी प्रति घंटा की रफ़्तार से गेंद फैंकते ह
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
रिलायंस जिओ अपनी फाइबर ब्रॉडबैंड सर्विस को जिओ गीगा फाइबर के नाम से लॉन्च करने वाली है। यह सबसे बड़ी फिक्स्ड लाइन ब्रॉडबैंड सर्विस है। कंपनी का दावा है कि जिओ गीगा फाइबर की मदद से कस्टमर्स 1GBPS की तेज इंटरनेट स्पीड पा सकेंगे और यह 1100 शहरों में अवेलेबल होगी। जिओ गीगा फा
14 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैदेखना है ज़ोर कितना बाज़ुए-क़ातिल में हैवक़्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँहम अभी से क्या बताएँ क्या हमारे दिल में हैसरफ़रोशी की...देख फाँसी का ये फंदा ख़ौफ़ से है काँपताउफ़्फ़ कि जल्लादों की हालत भी बड़ी मुश्किल में हैनर्म स्याही से लिखे शेरों की बातें चुक गईंइ
14 अगस्त 2018
15 अगस्त 2018
देश के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आज लालकिले पर आयोजित मुख्य समारोह में राजनीतिक दलों के प्रमुख नेताओं, सरकार के मंत्रियों, सेना के शीर्ष अधिकारियों, राजनयिकों और दूसरे क्षेत्रों के प्रमुख लोगों ने शिकरत की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लालकिले की प्राचीर से संबोधन
15 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
लद्दाख कब जाएंमई के अंतिम हफ्ते से सितंबर तक लद्दाख जा सकते हैं। यहां सड़क या हवाई मार्ग से ही पहुंचा जा सकता है। सड़क से जाना चाहें, तो एक रास्ता मनाली और दूसरा श्रीनगर होते हुए है। दोनों ही रास्तों पर दुनिया के कुछ सबसे ऊंचे दर्रे यानी पास पड़ते हैं। मई से पहले और सितंब
14 अगस्त 2018
17 अगस्त 2018
भारतीय राजनीति में ऐसे गिने चुने ही नेता रहे जिन्हें ना केवल जनता बल्कि राजनीतिक बिरादरी में भी दिली सम्मान मिला। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी भी उन्हीं राजनेताओं में से एक रहे जिन्हें राजनीती से इतर ऐसा सम्मान मिला जो बहुत कम लोगों को मिलता है। दिल्ली के एम्स मे
17 अगस्त 2018
18 अगस्त 2018
पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता, जिसे सिटी ऑफ़ जॉय के रूप में जाना जाता है , भारत का दूसरा सबसे बड़ा महानगर तथा पाँचवाँ सबसे बड़ा बन्दरगाह है | आबादी के हिसाब से कोलकाता भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है | कोलकाता शहर हुबली नदी के बायें किनारे पर स्थित है | ब्रिटिश शासन के दौरान जब कोलकाता एकीकृत भारत क
18 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
इंग्‍लैंड केखिलाफ चौथे टेस्‍ट मैचके पहले दिन , भारतीय गेंदबाजों नेइंग्‍लैंड को पहले दिन 76.4 ओवर में 246 रनों पर समेट लिया | इंग्लैंड की तरफ से सैम कुरेन ने सर्वाधिक 78 रन बनाये जिसकी बदौलत इंग्लैंड
31 अगस्त 2018
15 अगस्त 2018
भारत के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पूरा देश आजादी के जश्न में डूबा हुआ है. कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक देश के हर एक कोने में आजादी के जश्न की तैयारियां की जा रही हैं. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सबसे खास होता है देश की राजधानी लाल किले पर मनाए जाने वाला जश्न और प्
15 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
कॉमेडी किंग कहे जाने वाले कपिल शर्मा ने पिछले कुछ समय से लाइमलाइट से दूरी बना ली है. एक समय टीवी इंडस्ट्री में राज करने वाले कपिल अपने बिहेवियर के कारण धीरे-धीरे अपनी पॉपुलैरिटी खोते गए और नतीजन कपिल इंडस्ट्री से दूर हो गए. एक एडिटर से लड़ाई के बाद तो उन्होंने सोशल मीडिया
14 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
राजधानी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत नाजुक बनी हुई है. पिछले 36 घंटे में उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हुआ है. इस बीच थोड़ी देर में एम्स की ओर से वाजपेयी का नया हेल्थ बुलेटिन जारी किया जाएग
16 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
हम हर साल 14 सितंबर को हिन्दी दिवस मनाते हैं आपके मन में ये सवाल जरूर आता होगा कि इसी दिन क्यों मनाया जाता है हम आपको बताते हैं 14 सितंबर को ही हिन्दी दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि आज ही के दिन 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया था कि हिन्दी भारत
16 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बेटा – मुझे शादी नहीं करनी!! मुझे सभी औरतों से डर लगता है!पिता- कर ले बेटा! फिर एक ही औरत से डर लगेगा, बाकी सब अच्छी लगेंगी।पिता बेटे पर गुस्सा करते हुए – एक काम ढंग से नहीं होता तुझसे , तुम्हें पुदीना लाने के लिए कहा था और तुम ये धनिया ले आए , तुझ जैसे बेवकूफ को तो घर से निकाल देना चाहिए बेटा: पापा
14 अगस्त 2018
20 अगस्त 2018
40 वर्ष की उम्र में प्रधानमंत्री बनने वाले श्री राजीव गांधी भारत के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री थे और संभवतः दुनिया के उन युवा राजनेताओं में से एक हैं जिन्होंने सरकार का नेतृत्व किया है। उनकी माँ श्रीमती इंदिरा गांधी 1966 में जब पहली ब
20 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x