काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 अगस्त 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (169 बार पढ़ा जा चुका है)

काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये पाँच पिशाच हैं जो अपने अपने अवसर पर मनुष्यों का रक्त पीते रहते हैं और मनुष्य जान भी नहीं पाता | कभी - कभी तो जानकर भी कुछ कर पाने की स्थिति में नहीं होता है | इनमें सबसे प्रबल एवं खतरनाक है सबसे पहला "काम" रूपी शत्रु | ईश्वर की सृष्टि में जिन गुणों एवं अवगुणों का सृजन हुआ है वे व्यर्थ नहीं हैं परंतु जब उनका वेग बढता है तो वे घातक एवं दुष्परिणाम दायक होने लगते हैं | वैवाहिक जीवन की आधारशिला "काम" पर ही स्थिर है | स्त्री - पुरुष के आकर्षण को ही काम कहा गया है जिससे आकर्षित होकर दोनों का समागम होता है एवं संतानोत्पादन करके सृष्टि को गतिमान बनाये रखने में सहयोगी की भूमिका निभाते हैं | परंतु यही काम जब बढ जाता है तो मनुष्य अंधा एवं बहरा हो जाता है | उसे अपने लक्ष्य के आगे न तो कुछ सुनाई पड़ता और न ही दिखाई | कामान्धता में मनुष्य ऐसे कुकृत्य कर डालता है जो अमानवीय कहा जाता है | काम इतना प्रबल होता है कि अथर्ववेद में लिखना पड़ा :-- तत स्वत्वर्मास ज्यामान् विश्वहा महांस्तस्मैते ते काम नम इत्कृणोमि !! अर्थात :-- काम सबसे पहले पैदा हुआ इसको न देव जीत सके, न पितर और न मनुष्य जीत सके | इसलिए है काम् तू सब प्रकार से बहुत बड़ा है ! अतः मैं तुझे नमस्कार करता हूं ! काम की प्रबलता को मनुष्य आत्मसंयम एवं ब्रह्मचर्य के द्वारा यदि प्रयास करे तो जीत तो नहीं सकता परंतु नियंत्रित कर सकता है | हमारे महापुरुषों ने इस प्रबल शत्रु को नियंत्रित करके ही अपनी तपश्चर्या को आगे बढाया है | इस संसार में कोई इस कामरूपी शत्रु के वारों से बच पाया हो ऐसा कहना या लिखना शायद सम्भव नहीं है परंतु हाँ आज भी अनेक गृहस्थ हैं जो इस प्रबल शत्रु को नियंत्रित करके समाज में उदाहरण प्रस्तुत कर रहे हैं |* *आज के परिवेश में काम क्रोध मद लोभ एवं मोह ने चारों ओर विधिवत अपना जाल फैला रखा है | आज का मनुष्य इन अवगुणों से एकदम घिरकर अपने कृत्य कर रहा है | विशेषकर युवापीढी काम रूपी प्रबल शत्रु के चंगुल में इस प्रकार फंस गयी है कि निकलने का मार्ग नहीं पा रही है | किसी भी गुण या वस्तु की अधिकता सदैव से घातक ही सिद्ध हुई है | उसी प्रकार अनियंत्रित काम से व्यभिचार व बलात्कार की सृष्टि होती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह कह सकता हूँ कि इस कामरूपी अवगुण का विस्तार करने में सहायक की भूमिका आज समाज में अश्लील साहित्य, विज्ञापन, सिनेमा व टी.वी. सीरियलों में प्रदर्शित उत्तेजक दृश्य, संवाद व संगीत और अर्धनग्न पहनावा, तामसी भोजन व मद्यपान आदि निभा रहे हैं | आज जिस प्रकार की फिल्में परोसी जा रही हैं उससे युवा मन में यह दुर्गुण तेजी से पनप रहा है | विशेषकर भोजपुरी फिल्में तो सारी हदें पार रही हैं | आज समाज में बलात्कार , व्यभिचार का सबसे बड़ कारण फिल्मों के माध्यम से युवाओं को परोसी जा रही अश्लीलता को कहा जाय तो अतिशयोक्ति न होगी | इससे बचकर ही जीवन को सुंदर बनाया जा सकता है |* *काम पर विजय तो नहीं प्राप्त की जा सकती परंतु अच्छे साहित्यों का अध्ययन एवं सात्विक भोजन तथा स्वयं के विचारों में परिवर्तन करके इस पर नियंत्रण अवश्य किया जा सकता है |*

अगला लेख: सुख एवं दुख :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 सितम्बर 2018
अखंड सौभाग्य के लिए किया जाने वाला व्रत हरितालिका तीज 12 सितंबर को है। भाद्र शुक्ल तृतीया बुधा के चित्रा नक्षत्र को तीज व्रत रखा जाता है, जिसमें महिलाएं पतियों के सुख- सौभाग्य, निरोग्यता के लिए माता गौरी की पूजा करती हैं। आचार्य राजनाथ झा बताते हैं कि इस बार सुबह से ही यह
07 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
!! भगवत्कृपा हि के वलम् !! *भगवान श्री कृष्ण का चरित्र इतना अलौकिक है कि इसको जितना ही जानने का प्रयास किया जाय उतने ही रहस्य गहराते जाते हैं , इन रहस्यों को जानने के लिए अब तक कई महापुरुषों ने प्रयास तक किया परंतु थोड़ा सा समझ लेने के बाद वे भी आगे समझ पाने की स्थिति में ही नहीं रह गये क्
04 सितम्बर 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जब से मानवी सृष्टि हुई तब से लेकर आज तक मनुष्य के साथ सुख एवं दुख जुड़े हुए हैं | समय समय पर इस विषय पर चर्चायें भी होती रही हैं कि सुखी कौन ? और दुखी कौन है ?? इस पर अनेक विद्वानों ने अपने मत दिये हैं | लोककवि घाघ (भड्डरी) ने भी अपने अनुभव के आधार पर इस विषय पर लिखा :- "बिन व्याही ब
22 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
*हमारी भारतीय संस्कृति सदैव से ग्राह्य रही है | हमारे यहाँ आदिकाल से ही प्रणाम एवं अभिवादन की परम्परा का वर्णन हमारे शास्त्रों में सर्वत्र मिलता है | कोई भी मनुष्य जब प्रणाम के भाव से अपने बड़ों के समक्ष जाता है तो वह प्रणीत हो जाता है | प्रणीत का अर्थ है :- विनीत होना , नम्र होना या किसी वरिष्ठ के
21 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का नाम मस्तिष्क में आने पर एक बहुआयामी पूर्ण व्यक्तित्व की छवि मन मस्तिष्क पर उभर आती है | जिन्होंने प्रकट होते ही अपनी पूर्णता का आभास वसुदेव एवं देवकी को करा दिया | प्राकट्य के बाद वसुदेव जो को प्रेरित करके स्वयं को गोकुल पहुँचाने का उद्योग करना | परमात्मा पूर्ण होता है अपनी शक्त
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियां बताई गयी हैं जिनमें सबका सिरमौर बनी मानवयोनि | वैसे तो मनुष्य का जन्म ही एक जिज्ञासा है इसके अतिरिक्त मनुष्य का जन्म जीवनचक्र से मुक्ति पाने का उपाय जानने के लिए होता अर्थात यह कहा जा सकता है कि मनुष्य का जन्म जिज्ञासा शांत करने के लिए होता है , परंतु मनुष्य जिज्ञास
29 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
बीते कई दिनों से दिल्ली और उत्तर भारत के तमाम इलाकों से कांवड़ियों के उत्पात की खबरें आ रही हैं. आम लोगों से लेकर पुलिस तक की गाड़ियां तोड़ी गईं और लोगों से मारपीट की तमाम घटनाएं हुईं. कांवड़ियों के रूट से गुज़रने वाले तमाम लोग जहां इन घटनाओं से डरे हुए हैं, वहीं सोशल मीड
14 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*हमारा देश भारत विविधताओं का देश है , इसकी पहचान है इसके त्यौहार | कुछ राष्ट्रीय त्यौहार हैं तो कुछ धार्मिक त्यौहार | इनके अतिरिक्त कुछ आंचलिक त्यौहार भी कुछ क्षेत्र विशेष में मनाये जाते हैं | त्यौहार चाहे राष्ट्रीय हों , धार्मिक हों या फिर आंचलिक इन सभी त्यौहारों की एक विशेषता है कि ये सभी त्यौहार
27 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जिस प्रकार संसार में उपलब्ध लगभग सभी वस्तुओं को अपने योग्य बनाने के लिए उसे परिमार्जित करके अपने योग्य बनाना पड़ता है उसी प्रकार मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वयं का परिष्कार करना परम आवश्यक है | बिना परिष्कार के मानव जीवन एक बिडंबना बनकर रह जाता है | सामान्य मनुष्य , यों ही अ
22 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
एक बेटी इतनी बड़ी हो सकती है की वह आपकी गोद में ना समाये, पर वह इतनी बड़ी कभी नहीं होती की आपके दिल में ना समा सके । एक बेटी, अतीत की खुशनुमा यादें होती है, वर्तमान पलों का आनंद और भविष्य की आशा और उम्मीद होती है । “अज्ञात” एक बेटी को जन्
27 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का अवतार पूर्णावतार कहा जाता है क्योंकि वे १६ कलाओं से युक्त थे | "अवतार किसे कहते हैं यह जानना परम आवश्यक है | चराचर के प्रत्येक जड़ - चेतन में कुछ न कुछ कला अवश्य होती है | पत्थरों में एक कला होती है दो कला जल में पाई जाती है | अग्नि में तीन कलायें पाई जाती हैं तो वायु में चार क
04 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x