पिता की मौत के बाद बेटी ने मां के लिए खोजा पति और धूमधाम से शादी भी करवाई।

31 अगस्त 2018   |  अभय शंकर   (77 बार पढ़ा जा चुका है)

पिता की मौत के बाद बेटी ने मां के लिए खोजा पति और धूमधाम से शादी भी करवाई।

जयपुर की सहिंता अग्रवाल ने खुद से पहले अपनी मां के लिए पति ढूंढा और उनकी धूमधाम से शादी भी करवाई। वर्तमान में यह घटना सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है।

संहिता अग्रवाल कहती है कि उसको अपने द्वारा लिए गए इस फैसले पर गर्व है। संहिता का कहना है कि उसने दो साल पहले अपने पिता को खो दिया । पिता के जाने के बाद घर में वह, उसकी बड़ी बहन और उसकी मां ही रह गए थे।

चूंकि बड़ी बहन की शादी हो चुकी थी इसलिए वे अपने परिवार में व्यस्त हो गई। घर में बचे हम दोनों लोगों ने जो समय गुजारा वह बहुत दुःखद और कठिन था।

मम्मी कभी भी रात को अचानक उठ जाती थी और पापा को पूछने लगती थी। कभी वह उनकी फोटों को देख कर घंटों रोती रहती थी। इस बीच मेरी नौकरी दूसरे शहर में लग गई और मैंने मम्मी की दूसरी शादी करने का फैसला किया। इसके लिए मैंने मैट्रीमोनी वेबसाइट पर अकाउंट खोला और अपना नंबर वहां दिया। कई लोगों से इस बीच बातचीत हुई, पर अंत में एक व्यक्ति मिले जिनकी उम्र मेरी मम्मी के जितनी ही थी और वे भी मम्मी की तरह ही सरकारी नौकरी में थे, वे मुझे समझदार लगे मुझे।

इसके बाद जब मैंने मम्मी से इस बारे में बात की तो वह नहीं मानी। यह बात कई दिनों तक हम लोगों के बीच में चली और उन्होंने अपनी मां को समझाया कि किसी भी व्यक्ति के जाने के बाद अपने जीवन को कष्ट देना सही नहीं है और समाज के बारे में भी उतना ही सोचना चाहिए जितना जरूरी हो, क्योंकि जब आप बुढ़े हो जाते हैं तब समाज आपको पूछने नहीं आता है। कुल मिलाकर वे मान गई और कुछ दिन पहले उनकी शादी भी हो गई। अब वे खुश हैं और उनकी पहले जैसी मुस्कराहट देखकर मैं भी खुश हूं।

सहिंता का फैसला समाज के लिए एक सीख बन चुका है। सवाल यह है कि अपने समाज में इतना सकारात्मक कार्य का होना इतना आम और आसान क्यों नहीं है। हमारे हाथ में जीवन की घटनाओं का होना या न होना तो नहीं है, पर इतना जरूर होता है कि हम अपने जीवन को एक और मौका दे ताकि हम बीते समय से निकल कर एक नया जीवन जी सकें।

पिता की मौत के बाद बेटी ने मां के लिए खोजा पति और धूमधाम से शादी भी करवाई।

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/08/30/mother-got-married/

अगला लेख: कौन है ये महिला, जो 24 साल से लगातार मोदी को बांध रही है राखी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 सितम्बर 2018
मेैं जब 18 साल की थी, तब मैंने हंसराज कॉलेज, नई दिल्ली में ज्वाइंट सेकेट्री का चुनाव जीता. उस समय मैं एबीवीपी और एनएसयूआई की छात्र राजनीति से काफी निराश थी. मेरी विचारधारा भाजपा से तो मिलती नहीं है और कांग्रेस में उस समय बहुत अलग तरह की राजनीति चलती थी. हमारे यहां समाजवाद
02 सितम्बर 2018
23 अगस्त 2018
मौसम विभाग ने दिल्ली, उत्तर प्रदेश और बिहार सहित 16 राज्यों के कुछ इलाकों में गुरुवार और शुक्रवार को तेज बारिश की चेतावनी जारी की है. विभाग द्वारा 26 अगस्त तक के लिए जारी बारिश संबंधी पूर्वानुमान के मुताबिक उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिमी मध्य प
23 अगस्त 2018
02 सितम्बर 2018
नई दिल्ली। पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर रामेश्वरम में कलाम के मैमोरियल का उद्घाटन किया था। रामेश्वरम वही जगह है जिसे हिंदू धर्म के चार धामों में से एक माना जाता है।रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिलनाडु के राम
02 सितम्बर 2018
21 अगस्त 2018
आपने अटल बिहारी वाजपेयी, श्रीदेवी, जयललिता, करुणानिधि और शहीद हुए हमारे वीर जवानों के शव तिरंगे में जरूर लिपटे देखे होंगे लेकिन क्या आपको मालूम है जिस तिरंगे में देश के सपूतों को लपेटा जाता है उस तिरंगे का क्या किया जाता है।फ्लैग कोड ऑफ इंडिया 2002 के अनुसार पदम् भूषण, पद
21 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रक्षा बंधन पर आज उनकी मुंहबोली बहन कमर मोहसिन शेख ने राखी बांधी और उनके स्वास्थ्य तथा लंबी आयु की कामना की। सुश्री शेख सुबह प्रधानमंत्री आवास सात लोक कल्याण मार्ग पहुंची और प्रधानमंत्री को पूरे विधि विधान से राखी बांधी। बाद में उन्होंने संवादद
27 अगस्त 2018
15 सितम्बर 2018
आप तो ये सभी जानते ही होंगे की दान पुराणों और शास्त्रों में सबसे सर्वश्रेष्ठ माना गया है फिर किसी चीज का दान हो. दान करने से मनुष्य को अनचाही समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है चाहे वो कन्या का दान क्यों न हो लेकिन अगर आपसे कही अनजाने में किसी गलत चीज का दान हो गया तो उसका अ
15 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
टीवी पर जब सिर्फ दूरदर्शन चैनल का प्रसारण हुआ करता था तो इंसानी दिमाग विज्ञापनों को भी उतने चाव से देखा करता था जितने मन से फिल्में। टीवी के एड, उनके कलाकार और उनकी टैगलाइन मुंह पर रटी और दिमाग पर छपी हुई थी। कैसी जीभ लपलपाई से लेकर दिमाग की बत्ती जला दे तक की टैगलाइन, मो
02 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
जी
11 सितम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x