शिक्षक दिवस : डॉ सर्ववल्ली राधाकृष्णन की जयंती

01 सितम्बर 2018   |  Pratibha Bissht   (106 बार पढ़ा जा चुका है)

शिक्षक दिवस :  डॉ सर्ववल्ली राधाकृष्णन की जयंती

हमारे माता-पिता के बाद, सबसे महत्वपूर्ण भूमिका शिक्षकों द्वारा निभाई जाती है ,जो हमे हमारे आस-पास के जीवन के बारे में सीखने की प्रक्रिया में , इसका महत्व और अगली पीढ़ी के लिए बेहतर दुनिया बनाने के लिए हमें इस ज्ञान का उपयोग कैसे करना चाहिए यह सब सिखाते है|शिक्षक हमारे दोस्त, दार्शनिक और स्कूल में हमारे बढ़ते वर्षों और युवा वयस्कता के बाद के वर्षों के में हमारा मार्गदर्शन करते हैं।इसलिए, हमारे प्रारंभिक वर्षों में शिक्षकों द्वारा निभाई गई भूमिका को समझा महत्वपूर्ण है और शिक्षक दिवस वह दिन है जब भारत के सभी छात्र अपना अस्तित्व और योगदान मनाते हैं। शिक्षक दिवस एक विशेष दिन होता हैं जिसका उद्देश्य शिक्षकों की सराहना करना है। जबकि विश्व शिक्षक दिवस सितंबर के पांचवें दिन मनाया जाता है| इस दिन Sarvepalli Radhakrishnan का जन्म दिवस मनाया जाता है।


क्यों मनाया जाता है टीचर्स डे ?


भारत में शिक्षक दिवस प्रत्येक वर्ष 5 सितंबर को मनाया जाता है। हमारे पूरे देश में स्कूलों को सजाया जाता है और happy teachers day का जश्न मनाने के लिए विशेष आयोजन आयोजित किए जाते हैं। छात्र और शिक्षक पूर्ण उत्साह के साथ विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेते हैं। यह एक ऐसा दिन है जो सामान्य स्कूल गतिविधियों से ब्रेक प्रदान करता है| तो छात्र विशेष रूप से इस दिन के लिए तत्पर होते हैं। 5 सितंबर डॉ सर्ववल्ली राधाकृष्णन की जयंती है। जो 5 सितंबर 1888 को पैदा हुए थे | डॉ राधाकृष्णन भारत के पहले उपाध्यक्ष थे। डॉ सर्ववल्ली राधाकृष्णन ने वर्ष 1952 से 1962 तक देश की सेवा की। उन्होंने 1962 से 1 9 67 तक दूसरे राष्ट्रपति के रूप में देश को अपनी सेवा दी। डॉ राधाकृष्णन शिक्षकों का बहुत सम्मान किया करते थे | राजनीति में प्रवेश करने से पहले, उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय, मैसूर विश्वविद्यालय और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय सहित विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ाया। उनके काम के लिए उनकी सराहना की गई और उनके छात्रों ने उन्हें बेहद प्यार किया। उनका मानना ​​था कि शिक्षक वह हैं जो युवाओं को आकार देते हैं और जो बदले में देश के भविष्य को आकार देता है। यही वजह है कि उन्होंने प्रोफेसर के रूप में अपनी नौकरी को कर्मठता पूर्वक किया और अपने छात्रों को अच्छे मूल्य दिए।


Radhakrishnan

जब वह हमारे देश के राष्ट्रपति बने तब उनके छात्रों ने हर साल उनके जन्मदिन का जश्न मनाने की इच्छा व्यक्त की। उन्हें जवाब देते हुए डॉ राधाकृष्णन ने कहा, यदि वे 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाते हैं तो उनको ज्यादा प्रसनता होंगी । इस प्रकार, उनका जन्मदिन हर साल शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।
शिक्षक दिवस अत्यंत महत्वपूर्ण है| यह उन शिक्षकों के प्रयासों का सम्मान करने का एक दिन है जो पूरे वर्ष अथक रूप से काम करते हैं। शिक्षकों का काम दुनिया में सबसे कठिन नौकरियों में से एक है क्योंकि उन्हें युवा दिमाग को पोषित करने की ज़िम्मेदारी दी जाती है। उन्हें छात्रों से भरा वर्ग दिया जाता है। प्रत्येक छात्र अद्वितीय होते है और सब में अलग - अलग क्षमताये होती है। कुछ छात्र खेल में अच्छे हो सकते हैं अन्य लोग गणित में अच्छे हो सकते हैं जबकि अन्य अंग्रेजी में गहरी दिलचस्पी दिखा सकते हैं। एक अच्छा शिक्षक छात्रों को उनकी रुचि का पता लगाने में मदद करता है और उनकी क्षमताओं की पहचान करने में मदद करता है। वह छात्रों को उनके रुचि रखने वाले विषयों या गतिविधियों में अपने कौशल को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित कर सकते है और साथ ही वह यह भी सुनिश्चित करे कि छात्र पूरी तरह से अन्य विषयों या शिक्षाविदों की उपेक्षा ना कर पाए। इस पेशे से संबंधित लोगों को एक विशेष दिन समर्पित करने का कारण उन्हें सम्मान देना और कृतज्ञता व्यक्त करना है।

माता-पिता हमारे जीवन में पहले शिक्षक होते हैं और हमारे जन्म के दिन से जीवन के सबसे महत्वपूर्ण मूल्य प्रदान करते हैं | हालांकि, एक बार जब हम स्कूल जाना शुरू कर देते हैं, तो शिक्षक की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है, क्योंकि एक छात्र ज्ञान, मार्गदर्शन और प्रोत्साहन के लिए शिक्षक पर निर्भर होता है। एक शिक्षक समझता है कि हर बच्चे का विकास समान रूप से महत्वपूर्ण है और अपनी जिम्मेदारी को पहचानते है और वह विश्वास जब कोई बच्चा स्कूल में भेजा जाता है तो माता-पिता एक शिक्षक पर दिखाते है।


राधाकृष्णन जीवन परिचय


छात्र के बड़े होने के साथ शिक्षक की भूमिका बदलती है | प्राथमिक विद्यालय में, एक शिक्षक को देखभाल और समझ के साथ एक वैकल्पिक माता-पिता की भूमिका निभानी होती है| मध्य विद्यालय के वर्षों में, शिक्षक कम उम्र के छात्रों को नैतिक और नैतिक मूल्यों के साथ महत्वपूर्ण अकादमिक पाठ भी पढ़ाते है। हाई स्कूल के वर्षों में, शिक्षक छात्रों को उनके जीवन के अगले चरण के लिए तैयार करने के लिए उनके साथ युवा वयस्कों की तरह बर्ताव करना शुरू कर देते है। माता-पिता हमेशा हमारे पहले और आखिरी शिक्षक होते हैं, लेकिन हमारे जीवन में विशेष रूप से स्कूल शिक्षकों का योगदान भी अमूल्य होता है| विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक और धार्मिक पृष्ठभूमि से आने वाले छात्रों की एक कक्षा को संभालना कभी आसान काम नहीं होता है। इसके अलावा, छात्रों की अलग-अलग सीखने की क्षमता शिक्षकों को एक बड़ी चुनौती देती है, जो अकादमिक पाठ्यक्रम के समय और पाठ्यक्रम मानकों के भीतर रहते हुए अपनी भूमिकाओं को अनुकूलित करते हैं।


एक शिक्षक, महिला या पुरुष, की घर पर भी जिम्मेदारियां होती हैं और उन्हें भी उसी दबाव का सामना करते हैं जो हमारे माता-पिता घर पर होते हुए महसूस करते है | इसके बावजूद, शिक्षक हर सुबह प्रत्येक कक्षा शुरू करते समय प्रसन्न और ताजा दिखाई देते हैं लेकिन शिक्षक भी एक इंसान है जिसे विभिन्न व्यक्तिगत और पेशेवर चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, फिर भी कक्षा में रहते हुए उनकी शिक्षण प्रक्रिया प्रभावित नहीं होती हैं। ये सब बातें छात्रों को स्कूल में रहते समय समझ नहीं आती है लेकिन जब वे खुद समय के साथ परिपक्व होते हैं। उनको खुद इन सब चीज़ो का सामना करना पड़ता है तब उनको ये सब समझ में आता है | शिक्षकों का सम्मान करने के लिए भारत में शिक्षक दिवस मनाया जाता है जो पूरे वर्ष कड़ी मेहनत करते हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनके छात्र अकादमिक और साथ ही अतिरिक्त पाठ्यचर्या गतिविधियों में भी अच्छा प्रदर्शन करें। देश भर के विभिन्न स्कूलों में इस दिन कई तरह की गतिविधियां की जाती है। ये गतिविधियां शिक्षकों और छात्रों के बीच संबंध को मजबूत करने का एक अच्छा तरीका होता हैं। यह शिक्षकों के साथ-साथ छात्रों के लिए भी एक विशेष दिन है।

शिक्षक दिवस :  डॉ सर्ववल्ली राधाकृष्णन की जयंती
शिक्षक दिवस :  डॉ सर्ववल्ली राधाकृष्णन की जयंती

अगला लेख: एशियाई खेल 2018: राही सरनोबत ने रचा इतिहास



anubhav
11 जुलाई 2019

भारतीय इतिहास के महान अध्यापक रहे हैं राधाकृष्णन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 अगस्त 2018
जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में बुधवार सुबह आतंकवादियों ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सक्रिय नेता शबीर अहमद भट को गोली मार दी | समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, भट्ट को आतंकवादियों ने उनके निवास पर गोली मारी । बीजेपी सहयोगी जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के राखी-ए-कूड़े गांव का निवासी था। शबीर अहमद भाट
22 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
मध्यप्रदेश के मंदसौरमें आठ वर्षीय लड़की से गैंगेरप करने के दो महीने से भी कम समय बाद, एक विशेष अदालतद्वारा दोषी पाए जाने के बाद दो लोगों को मौत की सजा सुनाई गई। 26 जून को जबवह छुट्टी के बाद अपनेस्कूल के बाहर खड़ी थी और अपने पिता का इंतजार कर रही थी तब दो युवकों ने उस
21 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार संयुक्त अरब अमीरात ने केरल राहत निधि के लिए 700 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता की पेशकश की है, केरल के मुख्यमंत्री पिनाराय विजयन ने मंगलवार को कहा।संयुक्त अरब अमीरात मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, गुल राष्ट्र ने घोषणा की कि यह केरल में राहत
21 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x