हमारे संस्कार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (31 बार पढ़ा जा चुका है)

हमारे संस्कार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जीवन को दिव्याधिदिव्य बनाने के लिए मनुष्य के जन्म के पहले से ही लेकर मृत्यु तक कुल मुख्य सोलह संस्कारों का प्रावधान रखा गया है | जिस तरह ये संस्कार दिव्य हैं उसी प्रकार इनको मनाने का विधान भी दिव्याधिदिव्य ही रहा है | प्रत्येक संस्कार का प्रारम्भ घी के दीप प्रज्ज्वलन के साथ होता रहा है | किसी भी शुभकार्य में दीपक का बड़ा महत्त्व माना गया है | दीपक को प्रत्यक्ष देवता मानकर अत: उसको साक्षी मानकर ही समस्त कार्य किये जाते रहे हैं | दीपक जलाकर मंत्र पढे जाते हैं :- भो दीपं देवरुपस्त्वं कर्मसाक्षीह्यविघ्नकृत् ! यावत्कर्म समाप्तिस्यात् तावत्तवसन्निधो भव !! अर्थात हे दीप देवता आप देव स्वरूप होकर हमारे कर्मों के साक्षी बनते हुए कार्य को निर्विघ्नता प्रदान करें एवं जब तक हमारा यह कार्य सम्पन्न न हो जाय तब तक आप समुपस्थित विराजमान होकर स्थिर रहें | जब इस प्रकार के संस्कार तिये जाते थे तो मनुष्य का जीवन दिव्य एवं सच्चरित्र होता था | समय समय पर किये जाने वाले संस्कार मनुष्य को दिव्यता प्रदान करते रहे हैं | मनुष्य इन संस्कारों के साथ अपनी जीवन यात्रा प्रारम्भ करता था तो संस्कारों के साथ ही उसकी अन्तिम क्रिया भी सम्पन्न होती रही है | कहने का तात्पर्य यह है कि मनुष्य का चरित्र निर्माण संस्कारों के मध्य ही होता रहा है | इन्हीं संस्कारों के कारण ही हमें राम , कृष्ण , महावीर , बुद्ध , वीर शिवाजी , महाराणा प्रताप एवं स्वामी विवेकानन्द जैसी महान विभूतियों के दिव्य जीवन दर्शन की झलक देखने को मिलती है |* *आज हमारे समाज में महान चरित्रों का स्थान चाटुकारों ने ले लिया है | परिवार से लेकर समाज एवं देशभर में आज यदि १०० चाटुकार मिल जायेंगे तो बड़ी मुश्किल से एकाध संस्कारी / चरित्रवान व्यक्ति देखने को मिलता है | इसका मुख्य कारण यही है कि हमारे जीवन में संस्कारों का लोप हो रहा है | आज स्वयं को वैज्ञानिक युग प्राणी होने का दावा करने वाला मनुष्य आज तक सनातन धर्म के प्रावधानों की वैज्ञानिकता को समझ ही नहीं पाया क्योंकि उसने कभी इन पर ध्यान देना ही उचित नहीं समझा | आज मानव जीवन से संस्कारों का पलायन हो गया है | सिर्फ कुछ संस्कार बचे हैं वह भी दिखावा मात्र के लिए | जैसे जन्मोत्सव संस्कार , विवाह संस्कार एवं अन्तिम संस्कार | आज के जन्मोत्सव संस्कार को मनाने की विधि देखकर बरबस हंसी आ जाती है | आज दीपक का स्थान मोमबत्तियों ने ले लिया है | जिस दीपक को जीवनज्योति माना गया है उसके स्थान पर मोमबत्ती जलाकर जिसका जन्मोत्सव है उसी के मुख से बुझवा देना आज के नियम बन गये हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" विचार करता हूँ कि जिस बालक का जन्मोत्सव इतने धूमधाम से मनाया जा रहा है उसी के द्वारा जीवन ज्योति के रूप में प्रज्ज्वलित की गयी मोमबत्तियों को बुझाना सिर्फ अपशकुन करने के अतिरिक्त कुछ भी नहीं है | जिस प्रकार वह बालक फूंक मारकर वह मोमबत्तियां बुझाना प्रारम्भ करता है वह उसकी आदत में आ जाता है और आगे चलकर वही बालक अपने माता - पिता एवं अनेक सगे - सम्बंधियों के रिश्तों को भी फूंक मारकर उड़ाने का कार्य करता है | क्योंकि उसे बचपन से ही संस्कार में बुझाना ही सिखाया जाता रहा है तो वह सृजनात्मक कैसे हो सकता है | इस प्रकार के जन्मोत्सव कभी भी हमारी निधा नहीं रहे हैं परंतु आज हम पाश्चात्य संस्कृति के मोहपाश में जकड़कर अपनी संस्कृति का परित्याग करके पतनोन्मुखी होते जा रहे हैं |* *आज आवश्यकता है कि हम अपने संस्कारों को मानें या न मानें परंतु उनके विषय मों जानें अवश्य | क्योंकि जब तक जानेंगे नहीं तो मानेंगे क्या ? तो आईये चलें एक कदम अपनी संस्कृति की ओर |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जब से मानवी सृष्टि हुई तब से लेकर आज तक मनुष्य के साथ सुख एवं दुख जुड़े हुए हैं | समय समय पर इस विषय पर चर्चायें भी होती रही हैं कि सुखी कौन ? और दुखी कौन है ?? इस पर अनेक विद्वानों ने अपने मत दिये हैं | लोककवि घाघ (भड्डरी) ने भी अपने अनुभव के आधार पर इस विषय पर लिखा :- "बिन व्याही ब
22 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जिस प्रकार संसार में उपलब्ध लगभग सभी वस्तुओं को अपने योग्य बनाने के लिए उसे परिमार्जित करके अपने योग्य बनाना पड़ता है उसी प्रकार मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वयं का परिष्कार करना परम आवश्यक है | बिना परिष्कार के मानव जीवन एक बिडंबना बनकर रह जाता है | सामान्य मनुष्य , यों ही अ
22 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में गुरु का कितना महत्त्व है यह आज किसी से छुपा नहीं है | सनातन काल से गुरुसत्ता ने शिष्यों का परिमार्जन करके उन्हें उच्चकोटि का विद्वान बनाया है | शिष्यों ने भी गुरु परम्परा का निर्वाह करते हुए धर्मध्वजा फहराने का कार्य किया है | इतिहास में अनेकों कथायें मिलती हैं जहाँ परिवार / समाज से उ
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*राखी के बंधन का जीवन में बहुत महत्त्व है | राखी बाँधने का अर्थ क्या हुआ इस पर भी विचार कर लिया जाय कि राखी का अर्थ है रक्षण करने वाला | तो आखिर यह रक्षा कि जिम्मेदारी है किसके ऊपर /? अनेक प्रबुद्धजनों से वार्ता का सार एवं पुराणों एवं वैदिक अनुष्ठानों से अब तक प्राप्त ज्ञान के आधार पर यही कह सकते है
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धरती पर मनुष्य का प्रसन्न होना एक मानसिक दशा है | प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए धन - ऐश्वर्य का होना आवश्यक नहीं है | प्राय: देखा जाता है कि मध्यमवर्गीय लोग धनी लोगों से कहीं अधिक प्रसन्न रहते हैं , अपने परिवार व मित्रों के बीच उनके खुशी के ठहाके सुने जा सकते हैं | प्रसन्न रहने का रहस्य यही है क
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
*हमारी भारतीय संस्कृति सदैव से ग्राह्य रही है | हमारे यहाँ आदिकाल से ही प्रणाम एवं अभिवादन की परम्परा का वर्णन हमारे शास्त्रों में सर्वत्र मिलता है | कोई भी मनुष्य जब प्रणाम के भाव से अपने बड़ों के समक्ष जाता है तो वह प्रणीत हो जाता है | प्रणीत का अर्थ है :- विनीत होना , नम्र होना या किसी वरिष्ठ के
21 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*हमारा देश भारत विविधताओं का देश है , इसकी पहचान है इसके त्यौहार | कुछ राष्ट्रीय त्यौहार हैं तो कुछ धार्मिक त्यौहार | इनके अतिरिक्त कुछ आंचलिक त्यौहार भी कुछ क्षेत्र विशेष में मनाये जाते हैं | त्यौहार चाहे राष्ट्रीय हों , धार्मिक हों या फिर आंचलिक इन सभी त्यौहारों की एक विशेषता है कि ये सभी त्यौहार
27 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
*सनातन काल से हमारे समाज के सृजन में परिवार के बुजुर्गों का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है | हमारे ज्येष्ठ एवं श्रेष्ठ बुजुर्ग सदैव से हमारे मार्गदर्शक रहे हैं चाहे वे शिक्षित रहे हों या अशिक्षित | बुजुर्ग यदि अशिक्षित भी रहे हों तब भी उनके पास अपने जीवन के खट्टे - मीठे इतने अनुभव होते हैं कि वे उन अनुभ
04 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास के
03 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x