हलछठ का व्रत एवं नारी :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (103 बार पढ़ा जा चुका है)

हलछठ का व्रत एवं नारी :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के बड़े भाई शेषावतार का जन्मोत्सव अलग ढंग से मनाया जाता है | आज के पर्व में मातायें अपने पुत्रों की दीर्घायु के लिए व्रत रखती हैं | इसे हलछठ , ललही छठ , या तिन्नी छठ के नाम से जाना जाता है | बलराम को हल और मूसल से खास प्रेम था | यही उनके प्रमुख अस्त्र भी थे | इसलिए इस दिन किसान हल, मूसल और बैल की पूजा करते हैं. इसे किसानों के त्योहार के रूप में भी देखा जाता है | आज के दिन मातायें व्रत रहकर छठी माता से अपने पुत्रों के कुशलता की प्रार्थना करती हैं | महुए की दातौन करके व्रत का शुभारम्भ होता है | चूंकि बलराम जी का अस्त्र हल एवं मूसल था अत: आज के दिन मातायें हल से जोते हुए खेत के अनाज या फलों का सेवन नहीं करती है | महुआ एवं तिन्नी के चावल (एक विशेष चावल जो झीलों में स्वयं उगता है) का ही सेवन करती हैं | विशेष बात यह है कि सभी प्रकार के वैदिक / पौराणिक अनुष्ठानों में विशेष महत्वपूर्ण स्थान रखने वाले गाय के दूध या दही का आज के त्याग किया जाता है | आज भैंस के ही दूध दही एवं घी का सेवन माताओं द्वारा किया जाता है |* *आज एक नवीन विषय पर चिंतन करने की आवश्यकता है कि दिस समाज को पुरुष प्रधान समाज कहा जाता है वह समाज क्या वास्तव में पुरुष प्रधान ह?? किसी भी समाज का निर्माण होता है परिवारों से , और परिवार के निर्माण में एक नारी की महत्तवपूर्ण भूमिका होती है | तो समाज अकेले पुरुष का ही क्यों ? वह नारी जो आजीवन किसी न किसी रूप में पुरुष के प्रति समर्पित ही रहती है उस नारी के प्रति पुरुष के मन में सम्मान का भाव क्यों क्षणिक ही होता है ? बचपन में भाई की कुशलता के लिए व्रत से इनकी यात्रा प्रारम्भ होती है | भाई के लिए बहुला चौथ का निर्जल व्रत ! विवाहोपरान्त पति के लिए करवा चौथ व हरितालिका तीज का निर्जल व्रत फिर पुत्रों के लिए व्रत | मेरे "आचार्य अर्जुन तिवारी" के कहने का तात्पर्य मात्र इतना है कि एक नारी जीवन भर अपने परिवार के सदस्यों के लिए अलग - अलग व्रत रहा करती है , परंतु क्या कभी किसी भाई ने अपनी बहन के लिए कोई व्रत रखा ? क्या किसी पति ने अपनी पत्नी के लिए उपवास किया या किसी पुत्र ने कभी अपनी माँ के लिए कोई व्रत किया ?? शायद नहीं ! नारी के इन व्रतों के बदले में पुरुषों के द्वारा सदैव इनको उपेक्षा ही मिली है | आखिर ऐसा क्यों होता जो हमारे लिए बिना जल पिये बिना अन्न खाये पूरा दिन व्यतीत कर देती है उसको यदि हम बदले में कुछ न दे पायें तो सम्मान तो दे ही सकते हैं | विचार कीजिएगा |* *जिस पुत्र ने अपनी माँ को घर से दुत्कार कर वृद्धाश्रम भेज दिया ऐसे भी कुपुत्र के लिए हलछठ का व्रत करने वाली देवियों को दण्डवत् प्रणाम |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
*राखी के बंधन का जीवन में बहुत महत्त्व है | राखी बाँधने का अर्थ क्या हुआ इस पर भी विचार कर लिया जाय कि राखी का अर्थ है रक्षण करने वाला | तो आखिर यह रक्षा कि जिम्मेदारी है किसके ऊपर /? अनेक प्रबुद्धजनों से वार्ता का सार एवं पुराणों एवं वैदिक अनुष्ठानों से अब तक प्राप्त ज्ञान के आधार पर यही कह सकते है
27 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
*हमारी भारतीय संस्कृति सदैव से ग्राह्य रही है | हमारे यहाँ आदिकाल से ही प्रणाम एवं अभिवादन की परम्परा का वर्णन हमारे शास्त्रों में सर्वत्र मिलता है | कोई भी मनुष्य जब प्रणाम के भाव से अपने बड़ों के समक्ष जाता है तो वह प्रणीत हो जाता है | प्रणीत का अर्थ है :- विनीत होना , नम्र होना या किसी वरिष्ठ के
21 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जिस प्रकार संसार में उपलब्ध लगभग सभी वस्तुओं को अपने योग्य बनाने के लिए उसे परिमार्जित करके अपने योग्य बनाना पड़ता है उसी प्रकार मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए स्वयं का परिष्कार करना परम आवश्यक है | बिना परिष्कार के मानव जीवन एक बिडंबना बनकर रह जाता है | सामान्य मनुष्य , यों ही अ
22 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास के
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
*सनातन काल से हमारे समाज के सृजन में परिवार के बुजुर्गों का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है | हमारे ज्येष्ठ एवं श्रेष्ठ बुजुर्ग सदैव से हमारे मार्गदर्शक रहे हैं चाहे वे शिक्षित रहे हों या अशिक्षित | बुजुर्ग यदि अशिक्षित भी रहे हों तब भी उनके पास अपने जीवन के खट्टे - मीठे इतने अनुभव होते हैं कि वे उन अनुभ
04 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियां बताई गयी हैं जिनमें सबका सिरमौर बनी मानवयोनि | वैसे तो मनुष्य का जन्म ही एक जिज्ञासा है इसके अतिरिक्त मनुष्य का जन्म जीवनचक्र से मुक्ति पाने का उपाय जानने के लिए होता अर्थात यह कहा जा सकता है कि मनुष्य का जन्म जिज्ञासा शांत करने के लिए होता है , परंतु मनुष्य जिज्ञास
29 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में गुरु का कितना महत्त्व है यह आज किसी से छुपा नहीं है | सनातन काल से गुरुसत्ता ने शिष्यों का परिमार्जन करके उन्हें उच्चकोटि का विद्वान बनाया है | शिष्यों ने भी गुरु परम्परा का निर्वाह करते हुए धर्मध्वजा फहराने का कार्य किया है | इतिहास में अनेकों कथायें मिलती हैं जहाँ परिवार / समाज से उ
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धरती पर मनुष्य का प्रसन्न होना एक मानसिक दशा है | प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए धन - ऐश्वर्य का होना आवश्यक नहीं है | प्राय: देखा जाता है कि मध्यमवर्गीय लोग धनी लोगों से कहीं अधिक प्रसन्न रहते हैं , अपने परिवार व मित्रों के बीच उनके खुशी के ठहाके सुने जा सकते हैं | प्रसन्न रहने का रहस्य यही है क
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x