पहचानो स्वयं को :------ आचार्य अर्जुन तिवारी

03 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (76 बार पढ़ा जा चुका है)

पहचानो स्वयं को :------ आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस सकल सृष्टि में उत्पन्न चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ , इस सम्पूर्ण सृष्टि के शासक / पालक ईश्वर का युवराज मनुष्य अपने अलख निरंजन सत चित आनंग स्वरूप को भूलकर स्वयं ही याचक बन बैठा है | स्वयं को दीन हीन व दुर्बल दर्शाने वाला मनुष्य उस अविनाशी ईश्वर का अंश होने के कारण आत्मा रूप में अजर अमर अविनाशी है | उसकी आत्मा नित्य , सनातन एवं पुरातन है | ईश्वर अंश होने के कारण मनुष्य में ब्रह्नस्वरूप हो जाने की क्षमता एवं सामर्थ्य है क्योंकि इस संसार के मालिक का सच्चा उत्तराधिकारी तो मनुष्य ही है परंतु मनुष्य को यह बात शायद विस्मृत हो गयी है | मनुष्य स्वयं की शक्ति की अनभिज्ञता के कारण ही याचक बनता रहा है | प्राय: वह वासना , तृष्णा एवं कामना का भिक्षापात्र लिए दूसरों के सामने फैलाता रहता है | वह कभी वासना की याचना करता है तो कभी कामना की , कभी लोभ में गिरता है तो कभी क्रोध में फुंफकारता है , कभी मोह में अपने कर्तव्यों की अवहेलना तक करता दिखाई पड़ता है | विचारणीय यह है कि जो मनुष्य अपने कर्नों के माध्यम से ब्रह्मलोक तक को प्राप्त करने की क्षमता रखता हो उसके द्वारा दीन हीन बनकर याचक का कार्य करना कितना लज्जाजनक एवं निंदनीय है |* *आज संसार की चकाचौंध में मनुष्य स्वयं को पहचान पाने में असमर्थवान प्रतीत हो रहा है | यदि इसका कारण खोजा जाय तो एक तो मनुष्य की अज्ञानता दूसरे उनको मिलने वाले सद्गुरु भी हैं | आज का मनुष्य ऐसे ही सद्गुरुओं की खोज करके दीक्षा लेना चाहता है जिसके पीछे एक भीड़ खड़ी हो और चमक दमक से परिपूर्ण हो गुरुआश्रम | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि गुरु का आश्रम बाहरी कृतिम प्रकाश से आच्छादित हो या न हो परंतु आंतरिक ज्ञान एवं आध्यात्मिकता से परिपूर्ण अवश्य होना चाहिए | आज व्यक्ति के मोह , लोभ एवं क्रोथ बढने का एक कारण यह भी है कि जिन्हें हम अपना मार्गदर्शक मानते हैं उनमें यह गुण पहले से ही उपलब्ध होते हैं ! अब यदि हम किसी से कुछ पाने की इच्छा लेकर किसी के पास गये हैं तो सम्बन्धित व्यक्ति हमें वही दे पायेगा जो उसके पास है | आज स्वयं को पहचानने की शिक्षा मिलना दिखावा मात्र बनकर रह गयी है | यही कारण है कि मनुष्य आज अनेक परेशानियों से घिरकर दर - दर भटक रहा है | आज आवश्यकता है स्वयं को पहचानने की ! जब मनुष्य स्वयं को , स्वयं की शक्तियों को पहचान जाता है तब उसके अज्ञान का अंधेरा समाप्त हो जाता है और उसका भटकाव बन्द हो जाता है |* *उपरोक्त अंधेरे को समाप्त करने के लिए हमें सर्वप्रथम चित्तशुद्धि करना पड़ेगा | इसके लिए अभ्यास , वैराग्य , ईश्वर की शरणागति , निष्काम कर्म आदि अनेक उपाय हैं | किसी भी उपाय का अवलंबन करके हम अपने शुद्ध स्वरूप को पा सकते हैं |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*राखी के बंधन का जीवन में बहुत महत्त्व है | राखी बाँधने का अर्थ क्या हुआ इस पर भी विचार कर लिया जाय कि राखी का अर्थ है रक्षण करने वाला | तो आखिर यह रक्षा कि जिम्मेदारी है किसके ऊपर /? अनेक प्रबुद्धजनों से वार्ता का सार एवं पुराणों एवं वैदिक अनुष्ठानों से अब तक प्राप्त ज्ञान के आधार पर यही कह सकते है
27 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियां बताई गयी हैं जिनमें सबका सिरमौर बनी मानवयोनि | वैसे तो मनुष्य का जन्म ही एक जिज्ञासा है इसके अतिरिक्त मनुष्य का जन्म जीवनचक्र से मुक्ति पाने का उपाय जानने के लिए होता अर्थात यह कहा जा सकता है कि मनुष्य का जन्म जिज्ञासा शांत करने के लिए होता है , परंतु मनुष्य जिज्ञास
29 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
06 सितम्बर 2018
*मनुष्य इस संसार में अपने क्रिया - कलापों से अपने मित्र और शत्रु बनाता रहता है | कभी - कभी वह अकेले में बैठकर यह आंकलन भी करता है कि हमारा सबसे बड़ा शत्रु कौन है और कौन है सबसे बड़ा मित्र ?? इस पर विचार करके मनुष्य सम्बन्धित के लिए योजनायें भी बनाता है | परंतु क्या मनुष्य का शत्रु मनुष्य ही है ?? क्
06 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x