चलो ,अपने बुझे रिस्ते को दफनाते हैं !

03 सितम्बर 2018   |  आयेशा मेहता   (64 बार पढ़ा जा चुका है)

चलो ,अपने बुझे रिस्ते को दफनाते हैं ! - शब्द (shabd.in)

रास्ते अलग होने से पहले ,

चलो अपने बुझे रिस्ते को दफनाते हैं ा

तन-मन का क्या ?

उससे तो अलग हो ही जायेंगे ,

एक-दूसरे के आत्माओं से जो उलझे हैं ,

चलो,पहले उनको सुलझाते हैं ा

जरा रात की ख़ामोशी में ,

बीतें पन्नों को पलटना ,

मेरे साथ बिताये पल से ,

खूबसूरत लम्हों को चुन लेना ,

दिल तुम्हारा फिर से बैठ जाएगा,

बेबजह मेरी यादों से उलझ जाओगे ,

पर इस बार तुम टूटना नहीं ,

उन यादों की पोटली बना ,

अग्नि को समर्पित कर देना ा

मैं भी उसी दहकते आग में ,

सभी नज्मों को तोड़कर फेंक दूंगी ,

जो तुम्हारी याद में लिखी थी ,

और वे सभी जख्म भी उड़ेल दूंगी ,

जिसे देकर मुझे ,तुम खुद भी तो रोये थे ा

हमारे ही आँखों के सामने ,

हमारी आत्माएँ धू-धू कर जलेगी ,

आग की लपेटों से ,

पूरा कायनात पिघल जाएगा ,

और हमारा मोम-सा देह ,

प्राण-विहीन हो ,बेसुध पत्थर का हो जाएगा

अगला लेख: सूरज की अपार ज्योति हूँ !



रेणु
11 सितम्बर 2018

बहुत मर्मस्पर्शी और सराहनीय रचना प्रिय आयेशा | लिखते रहिये | आप बेहतरीन लिख रही हैं | सस्नेह --

अलोक सिन्हा
04 सितम्बर 2018

बहुत अच्छी व् मार्मिक रचना है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अगस्त 2018
वो हसते रहे मैं रोता रहा प्यार मे उनका जुल्म बढ़ता रहा नफरत कि धुप से जला ये दिल उनकी जुल्फों का साया ढूंढता रहा इतना तन्हा हु मै आजकल खाली वक़्त में उनको याद करता रहा
29 अगस्त 2018
08 सितम्बर 2018
कॉ
खब्‍ती डॉट इन का वह बंदाबड़ी सी मोबाइल परहनुमानजी की फोटू निहारताव्यस्त था थोड़ी टीप-टाप के बादमुखातिब होता बोला - अरे, आ गएहां, एक बात कहनी थीहां हां कहिएमेरी कुर्सी टेबल दीवार की तरफ है, चिपकी सी अनइजी लगता हैहां आ आ...आपसे एक बात कहनी थी कल जाते वक्‍त आप बिना बताये निकल गये थेहां, टाइम से निकला थाअ
08 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
जब था छोटागाँव में, घर मेंसबका प्यारा, सबका दुलाराथोडा सा कष्ट मिलने परमाँ के कंधे पररखकर अपना सिरसरहोकर दुनिया से बेखबरबहा देता, अपने सारे अश्कमाँ के हाथ की थपकियाँदेती सांत्वनासाहस व झपकियाँसमय ने, परिस्थितियों नेउम्र से पहले बड़ा कर दियाअब जब भीजरूरत महसूस करतासांत्वना, आश्वासन कीमाँ के पास जाता
10 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x