चलो ,अपने बुझे रिस्ते को दफनाते हैं !

03 सितम्बर 2018   |  आयेशा मेहता   (111 बार पढ़ा जा चुका है)

चलो ,अपने बुझे रिस्ते को दफनाते हैं ! - शब्द (shabd.in)

रास्ते अलग होने से पहले ,

चलो अपने बुझे रिस्ते को दफनाते हैं ा

तन-मन का क्या ?

उससे तो अलग हो ही जायेंगे ,

एक-दूसरे के आत्माओं से जो उलझे हैं ,

चलो,पहले उनको सुलझाते हैं ा

जरा रात की ख़ामोशी में ,

बीतें पन्नों को पलटना ,

मेरे साथ बिताये पल से ,

खूबसूरत लम्हों को चुन लेना ,

दिल तुम्हारा फिर से बैठ जाएगा,

बेबजह मेरी यादों से उलझ जाओगे ,

पर इस बार तुम टूटना नहीं ,

उन यादों की पोटली बना ,

अग्नि को समर्पित कर देना ा

मैं भी उसी दहकते आग में ,

सभी नज्मों को तोड़कर फेंक दूंगी ,

जो तुम्हारी याद में लिखी थी ,

और वे सभी जख्म भी उड़ेल दूंगी ,

जिसे देकर मुझे ,तुम खुद भी तो रोये थे ा

हमारे ही आँखों के सामने ,

हमारी आत्माएँ धू-धू कर जलेगी ,

आग की लपेटों से ,

पूरा कायनात पिघल जाएगा ,

और हमारा मोम-सा देह ,

प्राण-विहीन हो ,बेसुध पत्थर का हो जाएगा

अगला लेख: सूरज की अपार ज्योति हूँ !



कामिनी सिन्हा
29 सितम्बर 2018

इतनी गहरी भावनाये,इतने मर्मस्पर्शी शब्द इतनी काम उम्र में .........वाकई ,आप बहुत आगे जाएगी ,स्नेह

आयेशा मेहता
01 अक्तूबर 2018

प्रिय कामिनी जी आपके प्यार और आशीर्वाद के लिए मैं आपका सदा आभारी रहूँगी ा

रेणु
11 सितम्बर 2018

बहुत मर्मस्पर्शी और सराहनीय रचना प्रिय आयेशा | लिखते रहिये | आप बेहतरीन लिख रही हैं | सस्नेह --

अलोक सिन्हा
04 सितम्बर 2018

बहुत अच्छी व् मार्मिक रचना है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 सितम्बर 2018
मै
तेरी जुस्तजू में मरने को जिन्दगी कहता हु तेरी आरजू मे जीने को बन्दगी कहता हु मै कल तक जियूँगा नहीं आज मे जीने को जिन्दगी कहता हु तुझ से बिछड़ के जीना , मेरा नसीब
08 सितम्बर 2018
28 अगस्त 2018
खुद की ही सोच से , जन्मी हुई एक बीज हूँ ा पत्थरों में विलीन हो ,पत्थरों से ही उपजी हूँ ,अनन्त काल से शिलाओं पर ,बेख़ौफ़ उभरी हुई अमिट तहरीर हूँ ा जो घुलती है, न मिटती है ,जलती है न बुझती है ,बस मौन रह ,अपनी अमर गाथाएं कहती है ा मैं
28 अगस्त 2018
08 सितम्बर 2018
कॉ
खब्‍ती डॉट इन का वह बंदाबड़ी सी मोबाइल परहनुमानजी की फोटू निहारताव्यस्त था थोड़ी टीप-टाप के बादमुखातिब होता बोला - अरे, आ गएहां, एक बात कहनी थीहां हां कहिएमेरी कुर्सी टेबल दीवार की तरफ है, चिपकी सी अनइजी लगता हैहां आ आ...आपसे एक बात कहनी थी कल जाते वक्‍त आप बिना बताये निकल गये थेहां, टाइम से निकला थाअ
08 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x