अगर आप लंबे समय तक बैठकर करते हैं काम तो हो जाएं चौकन्ने!

05 सितम्बर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

अगर आप लंबे समय तक बैठकर करते हैं काम तो हो जाएं चौकन्ने!

अगर आप लंबे समय तक बैठकर काम करते रहते हैं, कोई ब्रेक नहीं लेते तो इससे आपको स्वास्थ्य संबंधी बहुत सी दिक्कतें हो सकती हैं. वैज्ञानिकों ने यह जानकारी दी है. लगातार बैठे रहने को कम करने के लिए सर्वाधिक प्रभावी और व्यावहारिक तरीका क्या हो सकता है, इस पर अभी और अध्ययन किए जाने की जरूरत है. अमेरिका में रियो ग्रांदे वैली में यूनिवर्सिटी आफ टेक्सास की लिंडा इयानेस ने यह जानकारी दी है. इयानेस ने बताया, ‘‘ लंबे समय तक बैठे रहने के खराब प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने में नर्सो की महत्वपूर्ण भूमिका है.’’

हालिया सालों में किए गए अध्ययनों में यह पाया गया है लंबे समय तक बैठकर काम करने और कई गंभीर बीमारियों के खतरे की आशंका के बीच सीधा संबंध है. कुछ लोगों का यह दावा रहता है कि वे लंबे समय तक बैठ कर काम करने के बाद कसरत करके इस नुकसान की भरपाई कर लेते हैं लेकिन अमेरिकन जर्नल आफ नर्सिंग के अनुसार किसी भी कसरत से लंबे समय तक बैठे रहने से होने वाले नुकसान को कम नही किया जा सकता है.

लगातार लंबे समय तक बैठने से सेहत को भारी नुकसान, हो सकती है जानलेवा

लगातार लंबे समय तक बैठने से सेहत को भारी नुकसान, हो सकती है जानलेवा
एक ही जगह पर अधिक समय तक बैठे रहना दिल के लिए खतरनाक है. विश्व में होने वाली कुल मौतों में से 4 प्रतिशत लोगों की मौत सिर्फ इसलिए हुई क्योंकि वह एक दिन में 3 से 4 घंटे तक बैठे रहते हैं . लगातार बैठे रहना, आराम करना या जागते हुए भी लेटे रहना या पढ़ते हुए, टीवी देखने या कंप्यूटर पर लंबे समय तक काम करना या लेटे हुए उन पर काम करना आदि भी जोखिम पैदा कर सकता है. ये सेहत के लिए काफी नुकसानदेह है, जोकि जानलेवा बन रही है1काम की वजह से यदि आप कुर्सी पर 3 घंटे से लगातार बैठे हैं तो जान लें यह सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है.

दुनिया में 54 देशों में हाल में हुए अध्ययन के आधार पर पाया गया कि दुनिया में 3.8 प्रतिशत लोगों की मौत का कारण 3 घंटे या उससे ज्यादा देर तक कुर्सी पर लगातार बैठे रहना है . यानी केवल इस आदत से हर साल 4.33 लाख लोगों की मौत हो रही है . अमेरिकन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव मेडीसिन में प्रकाशित यह ताजा अध्ययन स्पेन की सेन जॉर्ज यूनिवर्सिटी ज़ारागोज़ा ने किया है .

इस अध्ययन में चेयर इफेक्ट को लेकर 2002 से 2011 के बीच के आंकड़े देखे गए. इस अध्ययन के प्रमुख लेखक लियोनार्डो रेज़ेन्डे कहते हैं कि समय से पूर्व बीमारियों की वजह से होने वाली मौतों को रोकने के लिए व्यक्ति को अपनी व्यवहारिक आदतों में बदलाव करना चाहिए. अध्ययन कहता है कि 60 फीसदी लोग 3 घंटे से ज्यादा समय तक अपनी जगह पर बैठे रहते हैं. युवा हर दिन करीब 4.7 घंटे लगातार कुर्सी पर बैठ रहे हैं . उन्होंने अपने अध्ययन में इस बात पर भी जोर दिया कि अपने बैठने के घंटों को कम करके लाइफ एक्सपेंटेंसी में सालाना 0.20 फीसदी का इजाफा किया जा सकता है .

लगातार बैठे रहने की वजह से सबसे ज्यादा मौतें यूरोपीय देशों, मध्यपूर्वी देशों, अमेरिका और दक्षिण एशियाई देशों में हुई . इसमें सबसे ज्यादा 11.6 फीसदी लेबनान, 7.6 फीसदी नीदरलैंड और 6.9 फीसदी डेनमार्क में हुईं . अध्ययन में यह भी बताया है कि यदि हम अपने लगातार बैठने के समय में 2 घंटों की कमी कर लें तो इसकी वजह से होने वाली मौत के खतरे को तीन गुना तक कम कर सकते हैं .

यानी यह खतरा 2.3 फीसदी तक कम हो जाएगा . लगातार बैठने से होनी वाली मौतें सबसे ज्यादा लेबनान में हुईं . यहां यह आंकड़ा 11.6 फीसदी पाया गया . नीदरलैंड 7.6फीसदी, डेनमार्क 6.9 फीसदी है.

अगर आप लंबे समय तक बैठकर करते हैं काम तो हो जाएं चौकन्ने! |

http://zeenews.india.com/hindi/health/if-you-sit-for-long-periods-of-work-then-be-careful/442095

अगला लेख: इसीलिए एक ही गोत्र में नहीं की जानी चाहिए शादी, वर्ना समाज तो क्या विज्ञान की नजरों में भी जाएंगे गिर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 सितम्बर 2018
यूं तो हमें आज़ाद हुए 71 साल हो चुके हैं, लेकिन आज भी हमारी एक चीज़ अंग्रेजों के कब्ज़े में है. शायद ही आप में से कुछ लोगों को ये बात पता होगी कि महाराष्ट्र में एक ऐसी रेलवे लाइन है, जिस पर आधिकारिक तौर से इंडियन रेलवे का हक़ नहीं है और इसके संचालन का ज़िम्मा ब्रिटेन की एक
06 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
बिलेनियर अजय पीरामल के बेटे आनंद पीरामल सुर्खियों में हैं। असल में आनंद पीरामल दिसंबर में देश के सबसे अमीर शख्‍स मुकेश अंबानी के दामाद बनने जा रहे हैं। वैसे आनंद पीरामल सिर्फ अपनी शादी की खबरों से चर्चा में नहीं हैं। वह 10 अरब डॉलर के पीरामल ग्रुप के एग्‍जीक्‍यूटिव डायरे
04 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
पूरी दुनिया में रेलवे का ट्रैक बिछा हुआ है और हम सब ने ये भ देखा होगा कि रेलवे ट्रैक पर पत्थर के छोटे-छोटे टुकड़े या फिर गिट्टियां बिछी होती हैं। क्या कभी सोचा है कि ये गिट्टियां क्यूं बिछाई जाती है, ये शायद ही आप जानते होंगे। आज हम आपको विस्तार से बता रहे हैं कि रेलवे ट्र
04 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
देश में हाल ही में अभी गुजरात विधानसभा चुनाव हुए। यहां पूरे देश ने इस बार बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर देखी। हालांकि कांग्रेस चुनाव नहीं जीत पाई लेकिन पार्टी ने इस बार यहां जबरदस्त प्रदर्शन किया। अब सभी पार्टियां 2018 में कई राज्यों में होने वाले विधानसभा और 2
04 सितम्बर 2018
05 सितम्बर 2018
नई दिल्ली : तेल की ऊंची कीमतों के बीच केंद्र सरकार ने सख्‍त निर्णय लिया है. उसने जैव-ईंधनों के आयात पर शर्तें लगाने के कुछ ही दिनों के भीतर इनके निर्यात पर भी अंकुश लगा दिया. माना जा रहा है कि पेट्रोल में एथेनॉल या मेथनॉल का मिश्रण बढ़ाने की सरकार की योजना से तेल की कीमतो
05 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
जब से फ़ोन स्मार्ट हुए हैं, तब से एक पेशे की जो सबसे ज़्यादा बेइज़्ज़ती हुए है, वो हैं फ़ोटोग्राफ़र. स्मार्टफ़ोन में 'पिक्सल' बे लगाम बढ़ रहे हैं. 3 साल पहले तक 2 मेगा पिक्सल कैमरा वाला फ़ोन रखना रुतबे की बात होती थी, आज 24 वाले को भी कोई भाव नहीं देता. अच्छी बात है, लोग तस्वीरे ख़ींच रहे हैं. बुरी
04 सितम्बर 2018
22 अगस्त 2018
देशभर में बकरीद का जश्‍न मनाया जा रहा है. सोशल मीडिया पर भी लोग बकरीद और ईद-उल-अजहा से जुड़े बधाई संदेश शेयर कर रहे हैं. वहीं कई लोग कुबार्नी को लेकर फनी मीम भी शेयर कर रहे हैं.इन मीम में बकरों से जुड़े ज्‍यादातर फोटोज शेयर हो रहे हैं.
22 अगस्त 2018
05 सितम्बर 2018
पटना: कौन बनेगा करोड़पति के 10वें सीजन की शुरुआत 3 स‍ितंबर से हो चुकी है. हर बार की तरह इस बार भी शो में नए प्रत‍ियोगी द‍िलचस्प कहान‍ियां और प्रेरणा देने वाले किस्सों के साथ मौजूद हैं. शो में तीसरे द‍िन (5 सि‍तंबर) हॉट सीट पर एक ऐसी कंटेस्टेंट बैठेगी, ज‍िसके संघर्ष की कहा
05 सितम्बर 2018
05 सितम्बर 2018
किस्साःमेरी पढ़ाई हुई है जामिया से. वहां की कैंटीन में एक वक्त 18 रुपए में थाली मिलती थी. कायदा था कि उसमें 2 रोटियां मिलें. लेकिन मिलती थीं 2 पूरियां. वो भी तब तक, जब तक होती थीं. एक बार खत्म तो खत्म. फिर एक दिन हम कैंटीन पहुंचे तो देखा कि थाली में रोटी भी है और सलाद भी.
05 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
वैसोडिलेशन रक्त वाहिकाओं का फैलाव है, जो रक्तचाप(हृदय पर दवाब बनाकर पूरे शरीर में रक्त की आपूर्ति के लिए बाध्य करता है) को कम करता है । जो पदार्थ वैसोडिलेशन का कारण हैं उन्हें वैसोडिलेटर के रूप में जाना जाता है। वैसोडिलेटर का प्राथमिक कार्य शरीर में ऊतकों या क्षेत्र में
09 सितम्बर 2018
01 सितम्बर 2018
आज हम आपके लिए जुगाड़ के कुछ ऐसे महारथियों की तस्वीरें लेकर आए हैं, जिन्हें देखने के बाद आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे।इनका सेल्फी लेने का हथियार तो देख लीजिए।Third party image referenceबियर की बोतल के ढक्कन को सर के ऊपर बिना टच किए हुए कैसे टिकाया जाता है कोई इनसे सीखे।Th
01 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x