हिन्दी पञ्चांग

05 सितम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (41 बार पढ़ा जा चुका है)

हिन्दी पञ्चांग  - शब्द (shabd.in)

गुरुवार, 06 सितम्बर 2018 – नई दिल्ली

विरोधकृत विक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन

सूर्योदय : 06:01 पर सिंह में / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र

सूर्यास्त : 18:37 पर

चन्द्र राशि : मिथुन 09:45 तक, तत्पश्चात कर्क

चन्द्र नक्षत्र : पुनर्वसु 15:13 तक, तत्पश्चात पुष्य / गुरु-पुष्यामृत योग दूसरे दिन 12:56 तक

तिथि : भाद्रपद कृष्ण एकादशी 12:15 तक, तत्पश्चात भाद्रपद कृष्ण द्वादशी

करण : बालव 12:15 तक, तत्पश्चात कौलव 22:45 तक, तत्पश्चात तैतिल

योग : वरीयान 25:59 तक, तत्पश्चात परिघ

राहुकाल : 13:53 से 15:26

यमगंड : 06:05 से 07:39

गुलिका : 09:12 से 10:46

अभिजित मुहूर्त : 11:54 से 12:44

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
12 सितम्बर 2018
26 अगस्त 2018
सोमवार, 27 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनभाद्रपदमासारम्भ सूर्योदय : 05:56 पर सूर्यास्त : 18:48 पर चन्द्र राशि : कुम्भ चन्द्र नक्षत्र : शतभिषज 15:03 तक, तत्पश्चात पूर्वा भाद्रपद / पंचक
26 अगस्त 2018
17 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
17 सितम्बर 2018
25 अगस्त 2018
येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल: |तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल ॥जिस रक्षासूत्र को महान शक्तिशाली राजा इन्द्र को बाँधा गया था और उन्हेंबलप्राप्त होकर वे युद्ध में विजयी हुए थे उसी रक्षासूत्र में हम आपको बाँधते हैं| आप अपने संकल्पों में अडिग रहते हुए कर्तव्य प
25 अगस्त 2018
02 सितम्बर 2018
श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ सोमवार, 03 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:00 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:40 पर चन्द्र राशि : वृषभ चन्द्र नक्षत्र : रोहि
02 सितम्बर 2018
22 अगस्त 2018
नक्षत्रों की व्युत्पत्ति तथा उनके अर्थअभी तक हमने 27 नक्षत्रों के आधार पर बारह हिन्दी महीनों केनाम तथा उनके वैदिक नामों के विषय में चर्चा कर रहे थे | किन्तु जिन नक्षत्रों के नाम पर हिन्दी महीनों के नाम रखे गए उन नक्षत्रों केनाम किस प्रकार बने यह विचारणीय प्रश्न है | तो अब
22 अगस्त 2018
30 अगस्त 2018
शुक्रवार, 31 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:58 पर सूर्यास्त : 18:44 पर चन्द्र राशि : मेष चन्द्र नक्षत्र : अश्विनी 20:46 तक, तत्पश्चात भरणी तिथि :
30 अगस्त 2018
18 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
18 सितम्बर 2018
28 अगस्त 2018
कृत्तिका :-बात चल रही है वैदिक ज्योतिषके आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्न इत्यादि के विचार के लिएप्रमुखता से प्रयोग में आने वाले 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पति (किस धातु आदि से किस नक्षत्र का नाम बना)किस प्रकार हुई तथा इनके अर्थ क्या हैं इस विषय पर | पिछले लेख मेंइसी
28 अगस्त 2018
28 अगस्त 2018
बुधवार, 29 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:57 पर सूर्यास्त : 18:46 पर चन्द्र राशि : मीन चन्द्र नक्षत्र : उत्तर भाद्रपद 18:47 तक, तत्पश्चात रेवती / पंचक तिथि
28 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
शनिवार, 25 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:55 पर सूर्यास्त : 18:50 पर चन्द्र राशि : मकर 23:13 तक, तत्पश्चातकुम्भ चन्द्र नक्षत्र : श्रवण 09:48 तक, तत्पश्चात धनिष्ठा / पंचक प्रारम्भ 23:13 पर
24 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
गुरुवार, 30 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:58 पर सूर्यास्त : 18:45 पर चन्द्र राशि : मीन 20:00 तक, तत्पश्चात मेष चन्द्र नक्षत्र : रेवती 20:00 तक / पंचक समाप्ति, तत्पश्चात अश्विनी
29 अगस्त 2018
01 सितम्बर 2018
श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ रविवार, 02 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:59 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:41 पर चन्द्र राशि : वृषभ चन्द्र नक्षत्र : कृत्
01 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
गुरुवार, 30 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:58 पर सूर्यास्त : 18:45 पर चन्द्र राशि : मीन 20:00 तक, तत्पश्चात मेष चन्द्र नक्षत्र : रेवती 20:00 तक / पंचक समाप्ति, तत्पश्चात अश्विनी
29 अगस्त 2018
26 अगस्त 2018
सोमवार, 27 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनभाद्रपदमासारम्भ सूर्योदय : 05:56 पर सूर्यास्त : 18:48 पर चन्द्र राशि : कुम्भ चन्द्र नक्षत्र : शतभिषज 15:03 तक, तत्पश्चात पूर्वा भाद्रपद / पंचक
26 अगस्त 2018
01 सितम्बर 2018
श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ रविवार, 02 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:59 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:41 पर चन्द्र राशि : वृषभ चन्द्र नक्षत्र : कृत्
01 सितम्बर 2018
11 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
11 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ सोमवार, 03 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:00 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:40 पर चन्द्र राशि : वृषभ चन्द्र नक्षत्र : रोहि
02 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
शनिवार, 01 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:59 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:42 पर चन्द्र राशि : मेष 27:01 तक, तत्पश्चातवृषभ चन्द्र नक्षत्र : भरणी 21:01 तक, तत्पश्चात
31 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
27 अगस्त से 2सितम्बर तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवल
27 अगस्त 2018
19 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
19 सितम्बर 2018
24 अगस्त 2018
भरणी वैदिक ज्योतिष के आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्नइत्यादि के विचार के लिए प्रमुखता से प्रयोग में आने वाले “नक्षत्रों की व्युत्पत्ति और उनके नामों” पर वार्ता केक्रम में अश्विनी नक्षत्र के बाद अब दूसरा नक्षत्र होता है भरणी | भरणी शब्द की व्युत्पत्ति हुई है भरण में ङीप्
24 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x