नक्षत्र - एक विश्लेषण

06 सितम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (89 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

रोहिणी

सभी 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति के क्रम में अब तक हमने अश्विनी, भरणी और कृत्तिका नक्षत्रों के नामों पर बात की | इसी क्रम में आज बात करते हैं रोहिणी नक्षत्र की | रोहिणी की निष्पत्ति रूह् धातु से हुई है जिसका अर्थ है उत्पन्न करना, वृद्धि करना, ऊपर चढ़ना, आगे बढ़ना, उन्नति करना आदि | इसके अतिरिक्त लम्बे बालों वाली स्त्री के लिए भी रोहिणी शब्द का प्रयोग होता है | दक्ष प्रजापति की पुत्री का नाम भी रोहिणी है, जिसका विवाह चन्द्रमा के साथ हुआ था और जो चन्द्रमा की सबसे अधिक प्रिय पत्नी है – “उपरागान्ते शशिनः समुपागता रोहिणी योगम्” |

इसके अतिरिक्त श्री कृष्ण के बड़े भाई बलराम की माता तथा महाराज वसुदेव की एक पत्नी का नाम भी रोहिणी था | प्रथम बार रजस्वला हुई युवा कन्या को भी रोहिणी कहा जाता है “नववर्षा च रोहिणी” | सम्भव है इसीलिए रोहिणी नक्षत्र की वर्षा को भी उत्तम माना जाता है | संगीत में एक विशेष श्रुति अथवा मूर्च्छना को भी रोहिणी नाम दिया गया है | आकाश में जो बिजली चकती है उसे भी रोहिणी कहा जाता है | समस्त दुष्कर्मों को नियन्त्रित करने के लिए हाथ में लगाम लिए प्रजेश नामक देवता का भी एक नाम रोहिणी है | इसे प्राजापत्य – वह शक्ति जो रचना करती है – भी कहा जाता है |

बुध को चन्द्र और रोहिणी की सन्तान माना जाता है | माना जाता है कि रोहिणी वास्तव में देवगुरु बृहस्पति की पत्नी तारा थीं | चन्द्रमा तारा पर आसक्त थे इसलिए उसका अपहरण करके अपने साथ ले गए | जब बृहस्पति को इस बात का पता चला तो उन्होंने चन्द्रमा से अपनी पत्नी वापस माँगी लेकिन चन्द्रमा ने मना कर दिया | जिसके परिणामस्वरूप दोनों में युद्ध हुआ | इस युद्ध में चन्द्रमा विजयी हुए और उन्होंने तारा अर्थात रोहिणी के साथ रहना आरम्भ कर दिया | कुछ समय बाद दोनों के एक पुत्र उत्पन्न हुआ जिसे बुध नाम दिया गया जो चन्द्रमा का उत्तराधिकारी घोषित हुआ |

इस नक्षत्र में पाँच तारे एक गाड़ी के आकार में होते हैं और यह अक्टूबर तथा नवम्बर के मध्य पड़ता है | इस नक्षत्र के अन्य नाम हैं धातृ – रचना करने वाला अथवा धारण करने वाला, द्रुहिन् – द्रोह करना, वृद्धि...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/09/06/constellation-nakshatras-13/

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 अगस्त 2018
सोमवार, 27 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनभाद्रपदमासारम्भ सूर्योदय : 05:56 पर सूर्यास्त : 18:48 पर चन्द्र राशि : कुम्भ चन्द्र नक्षत्र : शतभिषज 15:03 तक, तत्पश्चात पूर्वा भाद्रपद / पंचक
26 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
शनिवार, 25 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:55 पर सूर्यास्त : 18:50 पर चन्द्र राशि : मकर 23:13 तक, तत्पश्चातकुम्भ चन्द्र नक्षत्र : श्रवण 09:48 तक, तत्पश्चात धनिष्ठा / पंचक प्रारम्भ 23:13 पर
24 अगस्त 2018
28 अगस्त 2018
कृत्तिका :-बात चल रही है वैदिक ज्योतिषके आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्न इत्यादि के विचार के लिएप्रमुखता से प्रयोग में आने वाले 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पति (किस धातु आदि से किस नक्षत्र का नाम बना)किस प्रकार हुई तथा इनके अर्थ क्या हैं इस विषय पर | पिछले लेख मेंइसी
28 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
शनिवार, 01 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:59 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:42 पर चन्द्र राशि : मेष 27:01 तक, तत्पश्चातवृषभ चन्द्र नक्षत्र : भरणी 21:01 तक, तत्पश्चात
31 अगस्त 2018
15 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
15 सितम्बर 2018
25 अगस्त 2018
येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल: |तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल ॥जिस रक्षासूत्र को महान शक्तिशाली राजा इन्द्र को बाँधा गया था और उन्हेंबलप्राप्त होकर वे युद्ध में विजयी हुए थे उसी रक्षासूत्र में हम आपको बाँधते हैं| आप अपने संकल्पों में अडिग रहते हुए कर्तव्य प
25 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
गुरुवार, 30 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:58 पर सूर्यास्त : 18:45 पर चन्द्र राशि : मीन 20:00 तक, तत्पश्चात मेष चन्द्र नक्षत्र : रेवती 20:00 तक / पंचक समाप्ति, तत्पश्चात अश्विनी
29 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
नक्षत्रों की व्युत्पत्ति तथा उनके अर्थअभी तक हमने 27 नक्षत्रों के आधार पर बारह हिन्दी महीनों केनाम तथा उनके वैदिक नामों के विषय में चर्चा कर रहे थे | किन्तु जिन नक्षत्रों के नाम पर हिन्दी महीनों के नाम रखे गए उन नक्षत्रों केनाम किस प्रकार बने यह विचारणीय प्रश्न है | तो अब
22 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
भरणी वैदिक ज्योतिष के आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्नइत्यादि के विचार के लिए प्रमुखता से प्रयोग में आने वाले “नक्षत्रों की व्युत्पत्ति और उनके नामों” पर वार्ता केक्रम में अश्विनी नक्षत्र के बाद अब दूसरा नक्षत्र होता है भरणी | भरणी शब्द की व्युत्पत्ति हुई है भरण में ङीप्
24 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
कल शनिवार एक सितम्बर को 23:27 केलगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारकशुक्र मित्र ग्रह बुध की कन्या राशि से निकल कर अपनी स्वयं की राशि तुला में प्रविष्टहो जाएगा | शुक्र के
31 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
27 अगस्त से 2सितम्बर तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवल
27 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x