सुंदरता मन की :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

06 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (89 बार पढ़ा जा चुका है)

सुंदरता मन की :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य इस संसार में अपने क्रिया - कलापों से अपने मित्र और शत्रु बनाता रहता है | कभी - कभी वह अकेले में बैठकर यह आंकलन भी करता है कि हमारा सबसे बड़ा शत्रु कौन है और कौन है सबसे बड़ा मित्र ?? इस पर विचार करके मनुष्य सम्बन्धित के लिए योजनायें भी बनाता है | परंतु क्या मनुष्य का शत्रु मनुष्य ही है ?? क्या यह मान लिया जाय कि मनुष्य के लिए मनुष्य ही शत्रु एवं मित्र की भूमिका निभाता है ! शायद इसे सत्य नहीं माना जा सकता | इस तथ्य को स्पष्ट करते हुए योगेश्वर श्रीकृष्ण ने गीता में कहा है :---- "आत्मैव आत्मनों मित्रः आत्मच रिपुरात्मनः" अर्थात:- आत्मा ही आत्मा मित्र और आत्मा ही आत्मा का शत्रु है | बाहरी शत्रु हजार प्रयत्न करने पर भी इतनी हानि नहीं पहुँचा सकते, जितना छुट्टल मन बात की बात में पहुँचाता है | इससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि मनुष्य का सबसे बड़ा मित्र यदि उसका मन है तो उससे बढकर शत्रु भी दूसरा कोई नहीं है | लगभग हमारे सभी धर्मग्रंथों का कहना है कि :- मन का संयम किये बिना, चित्त वृत्तियाँ रोके बिना, विचारों को एक स्थान पर केन्द्रित किये बिना, कुछ नहीं हो सकता | मन की आज्ञानुसार शरीर काम करता है | यदि मन क्षण में यहाँ, क्षण में वहाँ भटकता फिरे और तरह तरह की इच्छाऐं करता रहे तो शारीरिक शक्तियों को भी क्षण- क्षण में अपना व्यापार बदलना पड़ेगा | इसलिए मन का संयमी होना परम आवश्यक है | संयमी मन एक अमूल्य निधि है , यह कुबेर का खजाना है ! संयमी मन वह पारस पत्थर है जिसको साध लेने के बाद संसार में कुछ भी अप्राप्य नहीं रह जाता |* *आज अधिकतर अपराध एवं लोगों में वैमनस्यता मन के अनियंत्रित होने के कारण ही हो रहे हैं | अनियंत्रित मन के कारण ही अनियंत्रित कामनाओं का जन्म होता है , और परिणाम होता है कि एक और विषम परिस्थिति मनुष्य के समक्ष खड़ी हो जाती है | इसीलिए शंकराचार्य जी ने कहा था कि :-- "जिसने मन को जीत लिया समझ लो उसने संसार को जीत लिया" | मन को जीतना बहुत कठिन अवश्य है परंतु असम्भव नहीं है | जैसे कि लोग बाजार जाते हैं ठेले पर तरह तरह की मिठाईयाँ एवं चाट की दुकानें लगी रहती हैं पेट में न तो जगह है और न ही भूख परंतु मन नहीं मानता और लोग मन के लालच में आकर ठूंसकर खा तो लेते हैं परंतु परिणाम दुखदायी हो जाता है और कभी कभी तो मनुष्य चिकित्सालय भी पहुँच जाता है | इसका कारण सिर्फ एक ही है मन की स्वतंत्रता | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जहाँ तक जान पाया हूँ वह यही है कि :-- दस इन्द्रियों और अनेक वासनाओं में भटक कर मन हमारी जो जो दुर्गतियाँ करता हैं उन पर कुछ क्षण गंभीरता पूर्वक विचार करते ही यह निश्चय हो जाता है कि असंयत मन हमारा सबसे बड़ा दुश्मन है | वह शारीरिक, मानसिक, आर्थिक, सामाजिक, पारलौकिक सब प्रकार की हानियाँ पहुँचाता है और मनुष्य को पशु बना देता है | अत: इससे यह सिद्ध हो जाता है कि मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु एवं मित्र मनुष्य का मन ही है | लोग संसार को जीतने निकल पड़ते हैं और जीत भी लेते हैं परंतु अपने मन को नहीं जीत पाते हैं | यह कहना अतिशयोक्ति न होगी कि पहले की अपेक्षा मनुष्य आज अपने मन का दास अधिक हो गया है | अपनी चित्तवृत्तियों को संयमित करके ही मनुष्य संसार में कुछ कर सकता है |* *शरीर को चमका लेना जितना आसान है मन को चमकाना उतना ही कठिन ! परंतु असम्भव नहीं है | अपने सबसे बड़े शत्रु (मन) पर विजय प्राप्त करना ही मनुष्य का लक्ष्य होना चाहिए |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में उत्पन्न चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ , इस सम्पूर्ण सृष्टि के शासक / पालक ईश्वर का युवराज मनुष्य अपने अलख निरंजन सत चित आनंग स्वरूप को भूलकर स्वयं ही याचक बन बैठा है | स्वयं को दीन हीन व दुर्बल दर्शाने वाला मनुष्य उस अविनाशी ईश्वर का अंश होने के कारण आत्मा रूप में अजर अमर अव
03 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं
20 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर भगवान के अनेकों अवतार हुए हैं , इन अवतारों में मुख्य एवं प्रचलित श्री राम एवं श्री कृष्णावतार माना जाता है | भगवान श्री कृष्ण सोलह कलाओं से युक्त पूर्णावतार लेकर इस धराधाम पर अवतीर्ण होकर अनेकों लीलायें करते हुए भी योगेश्वर कहलाये | भगवान श्री कृष्ण के पूर्णावतार का रहस्य समझने का प्रय
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
09 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म की मान्यतायें कभी भी आधारहीन नहीं रही हैं | यहाँ चौरासी लाख योनियों का विवरण मिलता है | इन्हीं चौरासी लाख योनियों में एक योनि है हम सबकी अर्थात मानव योनि | ये चौरासी लाख योनियाँ आखिर हैं क्या ?? इसे वेदव्यास भगवान ने पद्मपुराण में लिखा है :-- जलज नव लक्षाण
09 सितम्बर 2018
22 अगस्त 2018
*इस संसार में जब से मानवी सृष्टि हुई तब से लेकर आज तक मनुष्य के साथ सुख एवं दुख जुड़े हुए हैं | समय समय पर इस विषय पर चर्चायें भी होती रही हैं कि सुखी कौन ? और दुखी कौन है ?? इस पर अनेक विद्वानों ने अपने मत दिये हैं | लोककवि घाघ (भड्डरी) ने भी अपने अनुभव के आधार पर इस विषय पर लिखा :- "बिन व्याही ब
22 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x