सुंदरता मन की :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

06 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (97 बार पढ़ा जा चुका है)

सुंदरता मन की :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य इस संसार में अपने क्रिया - कलापों से अपने मित्र और शत्रु बनाता रहता है | कभी - कभी वह अकेले में बैठकर यह आंकलन भी करता है कि हमारा सबसे बड़ा शत्रु कौन है और कौन है सबसे बड़ा मित्र ?? इस पर विचार करके मनुष्य सम्बन्धित के लिए योजनायें भी बनाता है | परंतु क्या मनुष्य का शत्रु मनुष्य ही है ?? क्या यह मान लिया जाय कि मनुष्य के लिए मनुष्य ही शत्रु एवं मित्र की भूमिका निभाता है ! शायद इसे सत्य नहीं माना जा सकता | इस तथ्य को स्पष्ट करते हुए योगेश्वर श्रीकृष्ण ने गीता में कहा है :---- "आत्मैव आत्मनों मित्रः आत्मच रिपुरात्मनः" अर्थात:- आत्मा ही आत्मा मित्र और आत्मा ही आत्मा का शत्रु है | बाहरी शत्रु हजार प्रयत्न करने पर भी इतनी हानि नहीं पहुँचा सकते, जितना छुट्टल मन बात की बात में पहुँचाता है | इससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि मनुष्य का सबसे बड़ा मित्र यदि उसका मन है तो उससे बढकर शत्रु भी दूसरा कोई नहीं है | लगभग हमारे सभी धर्मग्रंथों का कहना है कि :- मन का संयम किये बिना, चित्त वृत्तियाँ रोके बिना, विचारों को एक स्थान पर केन्द्रित किये बिना, कुछ नहीं हो सकता | मन की आज्ञानुसार शरीर काम करता है | यदि मन क्षण में यहाँ, क्षण में वहाँ भटकता फिरे और तरह तरह की इच्छाऐं करता रहे तो शारीरिक शक्तियों को भी क्षण- क्षण में अपना व्यापार बदलना पड़ेगा | इसलिए मन का संयमी होना परम आवश्यक है | संयमी मन एक अमूल्य निधि है , यह कुबेर का खजाना है ! संयमी मन वह पारस पत्थर है जिसको साध लेने के बाद संसार में कुछ भी अप्राप्य नहीं रह जाता |* *आज अधिकतर अपराध एवं लोगों में वैमनस्यता मन के अनियंत्रित होने के कारण ही हो रहे हैं | अनियंत्रित मन के कारण ही अनियंत्रित कामनाओं का जन्म होता है , और परिणाम होता है कि एक और विषम परिस्थिति मनुष्य के समक्ष खड़ी हो जाती है | इसीलिए शंकराचार्य जी ने कहा था कि :-- "जिसने मन को जीत लिया समझ लो उसने संसार को जीत लिया" | मन को जीतना बहुत कठिन अवश्य है परंतु असम्भव नहीं है | जैसे कि लोग बाजार जाते हैं ठेले पर तरह तरह की मिठाईयाँ एवं चाट की दुकानें लगी रहती हैं पेट में न तो जगह है और न ही भूख परंतु मन नहीं मानता और लोग मन के लालच में आकर ठूंसकर खा तो लेते हैं परंतु परिणाम दुखदायी हो जाता है और कभी कभी तो मनुष्य चिकित्सालय भी पहुँच जाता है | इसका कारण सिर्फ एक ही है मन की स्वतंत्रता | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जहाँ तक जान पाया हूँ वह यही है कि :-- दस इन्द्रियों और अनेक वासनाओं में भटक कर मन हमारी जो जो दुर्गतियाँ करता हैं उन पर कुछ क्षण गंभीरता पूर्वक विचार करते ही यह निश्चय हो जाता है कि असंयत मन हमारा सबसे बड़ा दुश्मन है | वह शारीरिक, मानसिक, आर्थिक, सामाजिक, पारलौकिक सब प्रकार की हानियाँ पहुँचाता है और मनुष्य को पशु बना देता है | अत: इससे यह सिद्ध हो जाता है कि मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु एवं मित्र मनुष्य का मन ही है | लोग संसार को जीतने निकल पड़ते हैं और जीत भी लेते हैं परंतु अपने मन को नहीं जीत पाते हैं | यह कहना अतिशयोक्ति न होगी कि पहले की अपेक्षा मनुष्य आज अपने मन का दास अधिक हो गया है | अपनी चित्तवृत्तियों को संयमित करके ही मनुष्य संसार में कुछ कर सकता है |* *शरीर को चमका लेना जितना आसान है मन को चमकाना उतना ही कठिन ! परंतु असम्भव नहीं है | अपने सबसे बड़े शत्रु (मन) पर विजय प्राप्त करना ही मनुष्य का लक्ष्य होना चाहिए |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*हमारा देश भारत विविधताओं का देश है , इसकी पहचान है इसके त्यौहार | कुछ राष्ट्रीय त्यौहार हैं तो कुछ धार्मिक त्यौहार | इनके अतिरिक्त कुछ आंचलिक त्यौहार भी कुछ क्षेत्र विशेष में मनाये जाते हैं | त्यौहार चाहे राष्ट्रीय हों , धार्मिक हों या फिर आंचलिक इन सभी त्यौहारों की एक विशेषता है कि ये सभी त्यौहार
27 अगस्त 2018
10 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में मानव जीवन का उद्देश्य मोक्ष की प्राप्ति होना बताया गया है | प्रत्येक व्यक्ति जीवन भर चाहे जैसे कर्म - कुकर्म करता रहे परंतु चौथेपन में वह मोक्ष की कामना अवश्य करता है | प्राय: यह प्रश्न उठा करते हैं कि मोक्ष की प्राप्ति तो सभी चाहते हैं परंतु मृत्यु के बाद मनुष्य को क्या गति प्राप्त
10 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं
20 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियां बताई गयी हैं जिनमें सबका सिरमौर बनी मानवयोनि | वैसे तो मनुष्य का जन्म ही एक जिज्ञासा है इसके अतिरिक्त मनुष्य का जन्म जीवनचक्र से मुक्ति पाने का उपाय जानने के लिए होता अर्थात यह कहा जा सकता है कि मनुष्य का जन्म जिज्ञासा शांत करने के लिए होता है , परंतु मनुष्य जिज्ञास
29 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x