मनुष्य के विचार , वचन एवं व्यवहार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (84 बार पढ़ा जा चुका है)

मनुष्य के विचार   , वचन एवं व्यवहार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस सकल सृष्टि में अनेकों प्राणियों के मध्य मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जिसमें कुछ विशेष विशेषतायें हैं जो कि अन्य प्राणियों में नहीं मिलती हैं | मनुष्य की तीन विशेष मौलिक विशेषतायें हैं :- विचार , वचन एवं व्यवहार | किसी अन्य प्राणी की अपेक्षा किसी भी विषय पर विचार करने की जो क्षमता है वह अन्य में नहीं पायी जाती | वचन की जो शक्ति मनुष्य में है वह किसी और में नहीं है | तीसरी सबसे प्रमुख विशेषता है मनुष्य का व्यवहार | ये तीन मुख्य विशेषतायें मनुष्य के अतिरिक्त और किसी भी प्राणी में नहीं पाई जाती हैं | यही तीनों विशेषताएं मनुष्य को विशिष्ट प्राणी बनाती हैं | विचार अर्थात अपने चिंतन करने की क्षमता के कारण मनुष्य ने आज तक बहुत विकास किये | आज जो संसार का बदला हुआ स्वरूप दिख रहा है वह मनुष्य के चिंतन का ही परिणाम है | विचार शक्ति ने साहित्य को जन्म देकर उसे अनेकानेक विभागों में विभक्त करके पूरी संस्कृति को कहाँ से कहाँ पहुँचा दिया | यह कहा जा सकता है कि मनुष्य की विचार शक्ति ने सृष्टि का नवीनीकरण कर दिया | दूसरा तथ्य है मनुष्य के वचन | संसार के जितने भी प्राणी हैं बोलते तो सभी हैं परंतु उनके वचन सीमित हैं | मनुष्य ने अपनी क्षमताओं के बल पर अपनी भाषा को असीमित किया जिसके कारण वह जो चाहे वह बोल सकता है | अब बात करें मनुष्य के व्यवहार की | विचार कीजिए पशु पक्षियों का जो व्यवहार सृष्टि के आदि में था वही आज भी है | परंतु मनुष्य ने समय के साथ अपना व्यवहार बदला है | मनुष्य ने अपने व्यवहार का परिष्कार किया है | इसी व्यवहार का परिणाम है कि आज मनुष्य कोई भी कार्य विधि एवं निषेध का विचार करके ही करता है | इन्हीं मुख्य तीनों विशेषताओं ने मनुष्य को अलौकिकता प्रदान की |* *आज मनुष्य अपने इन तीन विशेष गुणों के कारण नित्य विकास एवं सफलता के नये अध्याय लिख रहा है | परंतु इसी संसार में कुछ ऐसे नकारात्मक लोग भी हैं जिनके विचार , वचन एवं व्यवहार इतने दूषित हैं कि वे सभ्य समाज के प्राणी कहे जाने योग्य ही नहीं दिखाई पड़ते | दूसरों के प्रति कुत्सित विचार मन में पाले हुए कुछ लोग अपने मन ही मन कुढा करते हैं इसका परिणाम यह होता है कि वे उन्हीं विचारों के चक्रव्यूह में फंसकर दूसरों पर आघात करने का नित्य नया तरीका ही ढूंढा करते हैं | यह कहना अतिशयोक्ति न हो होगी कि आज संसार में जितनी भी विकृतियां देखने को मिल रही हैं उसका कारण कहीं न कहीं से मनुष्य के वचन ही हैं | राजनीतिक , सामाजिक एवं धार्मिक मंचों से आज ऐसे वचन बोले जा रहे हैं जो मनुष्य को उन्मादी बनाकर किसी भी संघर्ष के लिए तैयार कर रहे हैं | मनुष्य के वचन ही उसके अस्त्र हैं | अपने वचनों से ही चाहे तो अनेक मित्र बना सकता है या फिर शत्रुओं को भी बढा सकता है | आज मनुष्य ही मनुष्य के साथ कब कैसा व्यवहार कर देगा यह कोई जानता ही नहीं | आज आपसी विश्वसनीयता समाप्त होती जा रही है | मैंने "आचार्य अर्जुन तिवारी" ने जो गुरुओं से प्रसाद स्वरूप प्राप्त किया है उसके अनुसार मनुष्य का व्यवहार त्र्यात्मक होना चाहिए | प्रवृत्ति , निवृत्ति एवं उपेक्षा | अर्थात जो उपादेय है उसमें प्रवृत्त होते हुए , कुत्सित व्यवहार से निवृत्ति लेकर (छोड़कर) उपेक्षणीय व्यवहार की उपेक्षा करके ही मनुष्य सफल होकर सर्वप्रिय बन सकता है |* *मनुष्य के विकास में उसके विचार , वचन एवं व्यवहार का बहुत बड़ा योगदान रहा है | इसे बनाये एवं बचाये रखने वाला ही हर क्षेत्र में सफल हो सकता है |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*ईश्वर ने सृष्टि की सुंदर रचना की, जीवों को उत्पन्न किया | फिर नर-नारी का जोड़ा बनाकर सृष्टि को मैथुनी सृष्टि में परिवर्तित किया | सदैव से पुरुष के कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाली नारी समय समय पर उपेक्षा का शिकार होती रही है | और इस समाज को पुरुषप्रधान समाज की संज्ञा दी जाती रही है | जबकि यह न तो सत्य
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियां बताई गयी हैं जिनमें सबका सिरमौर बनी मानवयोनि | वैसे तो मनुष्य का जन्म ही एक जिज्ञासा है इसके अतिरिक्त मनुष्य का जन्म जीवनचक्र से मुक्ति पाने का उपाय जानने के लिए होता अर्थात यह कहा जा सकता है कि मनुष्य का जन्म जिज्ञासा शांत करने के लिए होता है , परंतु मनुष्य जिज्ञास
29 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर भगवान के अनेकों अवतार हुए हैं , इन अवतारों में मुख्य एवं प्रचलित श्री राम एवं श्री कृष्णावतार माना जाता है | भगवान श्री कृष्ण सोलह कलाओं से युक्त पूर्णावतार लेकर इस धराधाम पर अवतीर्ण होकर अनेकों लीलायें करते हुए भी योगेश्वर कहलाये | भगवान श्री कृष्ण के पूर्णावतार का रहस्य समझने का प्रय
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में गुरु का कितना महत्त्व है यह आज किसी से छुपा नहीं है | सनातन काल से गुरुसत्ता ने शिष्यों का परिमार्जन करके उन्हें उच्चकोटि का विद्वान बनाया है | शिष्यों ने भी गुरु परम्परा का निर्वाह करते हुए धर्मध्वजा फहराने का कार्य किया है | इतिहास में अनेकों कथायें मिलती हैं जहाँ परिवार / समाज से उ
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में गुरु का कितना महत्त्व है यह आज किसी से छुपा नहीं है | सनातन काल से गुरुसत्ता ने शिष्यों का परिमार्जन करके उन्हें उच्चकोटि का विद्वान बनाया है | शिष्यों ने भी गुरु परम्परा का निर्वाह करते हुए धर्मध्वजा फहराने का कार्य किया है | इतिहास में अनेकों कथायें मिलती हैं जहाँ परिवार / समाज से उ
03 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x