दुर्लभो मानुषो देहो देहिनाम् क्षणभंगुर: :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (383 बार पढ़ा जा चुका है)

दुर्लभो मानुषो देहो देहिनाम् क्षणभंगुर: :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में मानवयोनि पाकर आज मनुष्य इस जीवन को अपने - अपने ढंग से जीना चाह रहा है और जी भी रहा है | जब परिवार में बालक का जन्म होता है तो बड़े उत्साह के साथ तरह - तरह के आयोजन होते हैं | छठवें दिन छठी फिर आने वाले दिनों अनेकानेक उत्सव बालक के एक वर्ष , दो वर्ष आदि होने पर उत्साहपूर्वक मनाये जाते हैं | यहाँ मनुष्य यह भूल जाना है कि इस संसार में जीव एक निश्चित आयु लेकर आता है ! और दिनों दिन उसकी आयु कम होती जा रही है | तरह - तरह के भोगविलासों में लिप्त मनुष्य इस संसार में आने का प्रयोजन भूल जाता है | सद्गुरुओं द्वारा सद्मार्ग बताये जाने पर वह कल कर लेने का वादा करता रहता है | जबकि हमारे शास्त्र कहते हैं कि... यह मनुष्य जीवन केवल अपने सुख भोगने के लिए नहीं है अपितु अपने जीवन निर्वाह के साथ साथ इसका कुछ अंश परमार्थ सेवा के लिए भी जरूरी है | गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में कहते हैं---- "एहि तनु कर फल विषय न भाई !" अर्थात इस मनुष्य देह का उद्देश्य केवल विषय भोग नहीं है, संसार का भौतिक सुख लेना नहीं है बल्कि दूसरों की सेवा करना है | श्रीमदभागवत में कहा गया है कि---- "दुर्लभो मानुषो देहो देहिनाम् क्षणभंगुर:" ये मानव देह मिलना बड़ा दुर्लभ है और अगर मिल भी जाय तो यह क्षणभंगुर है , इसलिए इसका विनियोग सत्कार्यों में करना चाहिए | इसलिए प्रत्येक मनुष्य को अपने अच्छे कर्मों से सम्पूर्ण प्राणियों की सेवा करनी चाहिए |* *आज इस सत्य को स्वीकार करना तो दूर कोई सुनना भी नहीं चाहता | लोग कहते हैं -- जो करना है कर लो "जिंदगी न मिलेगी दुबारा" | यह सत्य भी है कि दुबारा मानव जीवन ही मिल जाय यह आवश्यक नहीं है | मानवजीवन पाकर भी यदि मन में वैराग्य न हुआ तो सब व्यर्थ | वैराग्य का अर्थ यह नहीं कि आप परिवार / संसार से विरक्त हो जायं ! जी नहीं ! मानस में गोस्वामी तुलसीदास जी लिखते हैं----अब प्रभु कृपा करहु एहि भाँती ! सब तजि भजनु करौं दिन राती !! अर्थात :- ‘हे प्रभु ! तू मुझ पर ऐसी कृपा करना कि सब कुछ छोड़कर मैं दिन-रात तेरा ही भजन करूँ | लोग कहते हैं कि तुलसीदास जी सब छोड॒ने को कह रहे हैं जो कि सम्भव नहीं है | जबकि बाबा जी के ‘सब’ का आशय सभी प्रकार के दोषों से है | महाभारत में तेरह दोषों यथा – क्रोध, काम, शोक, मोह, विधित्सा, परासुता, मद, लोभ, मात्सर्य, ईर्ष्या, निंदा, दोषदृष्टि व कंजूसी की उत्पत्ति, वृद्धि व निवृत्ति विषयक विस्तृत व्याख्या मिलती है |यहाँ तुलसीदासजी के वचनों में आये हुए ‘सब’ अर्थात् हम शरीरों में जो अहम् करते हैं उसे छोड़कर, शरीर को ‘मैं’ मानना छोड़कर ‘जो कुछ कर्म करूँ वह सब तेरी बन्दगी हो जाय’ इस प्रकार का भावार्थ यहाँ लेना है | शरीर को ‘मैं’ मानने से ही काम, क्रोध, लोभ, मोह, उद्वेग, भय, चिन्ता, ईर्ष्यादि दोष उत्पन्न होते हैं और हमारे चित्त में इन दोषों के रहते हम चाहे कितना भी भजन क्यों न करें, आध्यात्मिक ऊंचाइयों को छूना मुश्किल है और शरीर को ‘मैं’ मानने का दोष निकल जाने पर आध्यात्मिक ऊँचाइयों को छूना हमारे लिये आसान है जिससे नित्य नवीन रस भी सहज में प्रगट होता है |* *यदि इस क्षणभंगुर जीवन को सार्थक करना है तो अपने अन्दर आसन जमा चुके "मैं" को मारना ही होगा | बिना "मैं" का त्याग किये मनुष्य भगवत्प्राप्ति कर ही नहीं सकता | जीवन मुट्ठी की रेत की तरह फिसल रहा है अत: सचेत होने की आवश्यकता है |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में मानव जीवन का उद्देश्य मोक्ष की प्राप्ति होना बताया गया है | प्रत्येक व्यक्ति जीवन भर चाहे जैसे कर्म - कुकर्म करता रहे परंतु चौथेपन में वह मोक्ष की कामना अवश्य करता है | प्राय: यह प्रश्न उठा करते हैं कि मोक्ष की प्राप्ति तो सभी चाहते हैं परंतु मृत्यु के बाद मनुष्य को क्या गति प्राप्त
10 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*हमारा देश भारत विविधताओं का देश है , इसकी पहचान है इसके त्यौहार | कुछ राष्ट्रीय त्यौहार हैं तो कुछ धार्मिक त्यौहार | इनके अतिरिक्त कुछ आंचलिक त्यौहार भी कुछ क्षेत्र विशेष में मनाये जाते हैं | त्यौहार चाहे राष्ट्रीय हों , धार्मिक हों या फिर आंचलिक इन सभी त्यौहारों की एक विशेषता है कि ये सभी त्यौहार
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में उत्पन्न चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ , इस सम्पूर्ण सृष्टि के शासक / पालक ईश्वर का युवराज मनुष्य अपने अलख निरंजन सत चित आनंग स्वरूप को भूलकर स्वयं ही याचक बन बैठा है | स्वयं को दीन हीन व दुर्बल दर्शाने वाला मनुष्य उस अविनाशी ईश्वर का अंश होने के कारण आत्मा रूप में अजर अमर अव
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में गुरु का कितना महत्त्व है यह आज किसी से छुपा नहीं है | सनातन काल से गुरुसत्ता ने शिष्यों का परिमार्जन करके उन्हें उच्चकोटि का विद्वान बनाया है | शिष्यों ने भी गुरु परम्परा का निर्वाह करते हुए धर्मध्वजा फहराने का कार्य किया है | इतिहास में अनेकों कथायें मिलती हैं जहाँ परिवार / समाज से उ
03 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं
20 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x