सिर्फ 100 रुपए कैंसर का इलाज करते हैं डॉक्टर येशी…सैंकड़ो लोगों को कर चुके हैं बिल्कुल ठीक

07 सितम्बर 2018   |  प्राची सिंह   (98 बार पढ़ा जा चुका है)

पटना: आज हम कैंसर के मरीजों व उनके परिजनों के लिए राहत भरी खबर लाए हैं। कैंसर से पीड़त लोग अब ऐलोपैथी के साथ तिब्बती चिकित्सा पद्धति से अपना इलाज करा सकते हैं। हिमाचल के धर्मशाला में तिब्बती हरबल क्लीनिक से आपको दो माह की दवा 100 रुपए में मिल जाएगी।

हिंदी अखबार दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में तिब्बती चिकत्सा पद्धति की नींव रखने वाले भिक्षु डॉक्टर येशी धोंडेन धर्मशाला में कैंसर ट्रीटमेंट सेंटर चला रहे हैं। इस कैंसर ट्रीटमेंट सेंटर में सुबह पांच बचे ही टोकन लेने के लिए लंबी लाइनें लगने शुरू हो जाती है। कैंसर की एडवांस स्टेज पर जब मरीज थक हार जाता है, तो डॉ. येशी की शरण में आता है।डाॅ येशी कैंसर के कई मरीजों को ठीक भी कर चुके हैं। 85 वर्षीय डॉ. येशी धोंडेन वर्ष 1960 से लेकर 1980 तक दलाईलामा के निजी चिकित्सक रह चुके हैं।

डॉक्टर येशी से मिलने के लिए उनके कैंसर ट्रीटमेंट सेंटर पर सुबह पांच बजे ही मरीजों की लाइन लग जाती है। मरीजों को मिलने के लिए टोकन दिए जाते हैं, टोकन मिलने के तीन दिन बाद डॉक्टर येशी मरीज से मिलते हैं। डॉ. येशी एक दिन में केवल 45 मरीजों की ही जांच करते हैं।

हाल ही में तिब्बती चिकित्सा पद्धति में बेहतरीन कार्य के बूते भारत सरकार की ओर से पद्मश्री अवार्ड मिलने के बाद धर्मगुरु दलाईलामा के निजी चिकित्सक रह चुके 94 वर्षीय बौद्ध भिक्षु डॉ. येशी ढोंडेन ने केंद्र का धन्यवाद भी किया। उन्होंने कहा कि मुझे नहीं मालूम कि यह अवार्ड कैसे मिला। शायद, हजारों मरीजों की दुआओं ने यह सम्मान दिलाया है। डॉ. येशी ने कहा कि अवार्ड मिलने से वह बेहद खुश हैं।

इसका श्रेय पिछले 50 वर्षों में मेरे इलाज से ठीक हुए हजारों मरीजों को जाता है। यह अच्छा है कि तिब्बतियन चिकित्सा पद्धति की वजह से हजारों मरीज ठीक हुए हैं। तिब्बतियन दवाइयां भारत में ही पैदा होती हैं इसलिए यह भारतीय आयुर्वेदा से मिलती-जुलती हैं। तिब्बतियन दवाइयां 7वीं शताब्दी में तिब्बत में भारत से बुद्धिज्म से लाई गई थीं। भारत सरकार ने शुरू से ही तिब्बतियन दवाओं को विशेष पहचान दी है। उन्होंने कहा कि वह तिब्बतियन चिकित्सा संस्थान धर्मशाला के प्रमुख भी रहे हैं।

Source: Live News

सिर्फ 100 रुपए कैंसर का इलाज करते हैं डॉक्टर येशी…सैंकड़ो लोगों को कर चुके हैं बिल्कुल ठीक

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/09/02/doctors-treating-only-100-rupees-of-cancer-hey-people-have-done-fine/

अगला लेख: सहारा इंडिया ने बिहार को दिया बड़ा झटका, कहा – आपका जमा पैसा अभी नहीं लौटा सकते



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 सितम्बर 2018
हालिया चार दिवसीय यूरोपीय प्रवास के दौरान राहुल गांधी जब ब्रिटेन के दौरे पर थे तो आयोजकों की तरफ से चंदा एकत्र करने के लिहाज से अमेरिकी तौर-तरीकों को अपनाने का मामला सामने आया है. जी न्‍यूज के अंग्रेजी अखबार DNA की रिपोर्ट के मुताबिक बड़े उद्योगपतियों और पत्रकारों के साथ
04 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
Oskar Schlemmer (4 September 1888 – 13 April 1943) was a German painter, sculptor, designer and choreographer associated with the Bauhaus school. Google praises the 130th birth commemoration of German painter, stone carver, creator and choreographer Oskar Schlemmer. He was related with the Bauhaus s
03 सितम्बर 2018
28 अगस्त 2018
वक्त बुरा होने पर इंसान वह काम भी करने लगता है जिसके बारे में उसने कभी सोचा भी नहीं होगा. कब अमीर गरीब बन जाए और कब किसी गरीब की किस्मत पलट जाए कुछ कहा नहीं जा सकता. व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा है वह होकर ही रहता है. आपकी किस्मत कोई नहीं बदल सकता. राजा को रंक बनते और रं
28 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x