समलैंगिकों का प्रतीक है यह रंगीन झंडा, क्या आप जानते हैं इसकी कहानी?

07 सितम्बर 2018   |  अभय शंकर   (81 बार पढ़ा जा चुका है)

समलैंगिकों का प्रतीक है यह रंगीन झंडा, क्या आप जानते हैं इसकी कहानी?

देश के तमाम समलैंगिकों को उनका अधिकार मिल गया है। उनकी खुशी का को ठिकाना नहीं है। बता दें कि गुरूवार को सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले ने देश के तमाम समलैंगिक लोगों को उनके संवैधानिक अधिकार दे दिए। इस फैसले में कोर्ट ने समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया। फैसले के बाद से ही समलैंगिक समुदाय में खुशी की लहर है। समलैंगिकता का प्रतीक इंद्रधनुषीय झंड़ा फैसले के बाद से ही सोशल मीडिया, इंटरनेट और सड़कों पर देखने को मिल रहा है। ये झंड़ा आमतौर पर समलैंगिक लोगों के हर फेस्टिवल, परेड और जश्न के दौरान देखने को मिलता है। समलैंगिक लोगों के इस इंद्रधनुषीय झंडे का आखिर मतलब क्या है और ये झंडा कैसे इन लोगों का प्रतीक बन गया? आईए जानते हैं...

ये झंड़ा सैन फ्रांसिस्को के कलाकार, सैनिक और समलैंगिक अधिकारों के पक्षधर गिल्बर्ट बेकर ने 1978 में डिजाइन किया था। 1974 में जब बेकर अमेरिकी राजनेता हार्वे मिल्क से मिले तो हार्वे ने ही उन्हें सैन फ्रांसिस्को के वार्षिक गौरव परेड के लिए इस तरह को झंड़ा तैयार करने को कहा था। हार्वे मिल्क अमेरिका के एक लोकप्रिय समलैंगिक आइकन थे। 2015 में मॉर्डन ऑर्ट म्यूजियम से अपने एक इंटरव्यू में बेकर ने कहा कि हार्वे से मिलने से पहले से ही वे समलैंगिक लोगों के लिए एक प्रतीकात्मक झंड़ा बनाने का सोच रहे थे, जो विशेषतौर पर अमेरिकी झंड़े की तरह दिखता हो। समलैंगिक झंड़े के अलग-अलग रंग अलग-अलग समुदायों के बीच की एकजुटता दिखाता है। इस झंड़े के हर रंग का अपना एक अगल मतलब होता है।

गुलाबी रंग- सेक्शुएलिटी, लाल रंग-ज़िंदगी, नारंगी रंग- इलाज, पीला रंग-सूरज की रोशिनी, हरा रंग- प्रकृति, नीला रंग- सौहार्द, बैंगनी रंग- व्यक्ति की आत्मा का प्रतीक. .लेकिन बाद में इस झंड़े में जरूरत के हिसाब से नए रंग जोड़े गए और पुराने रंगों को हटाया गया। 1978 में हार्वे मिल्क की मौत के बाद इस झंड़े के समलैंगिक समुदाय की पहचान बनाने की मांग की जाने लगी।


Source : Dainik savera times

अगला लेख: कौन है ये महिला, जो 24 साल से लगातार मोदी को बांध रही है राखी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रक्षा बंधन पर आज उनकी मुंहबोली बहन कमर मोहसिन शेख ने राखी बांधी और उनके स्वास्थ्य तथा लंबी आयु की कामना की। सुश्री शेख सुबह प्रधानमंत्री आवास सात लोक कल्याण मार्ग पहुंची और प्रधानमंत्री को पूरे विधि विधान से राखी बांधी। बाद में उन्होंने संवादद
27 अगस्त 2018
19 सितम्बर 2018
मुज़फ़्फरनगर...इस शहर के नाम के साथ ही कई अप्रिय घटनाओं की स्मृतियां जुड़ गई हैं. ये नाम कहीं भी पढ़ते हैं, तो दिमाग़ में पहले ही सवाल कौंध जाता है,'फिर कुछ हुआ क्या?'मुज़फ़्फरनगर शहर में ही एक कस्बा है, लढ्ढेवाला. तंग गलियों और कॉन्क्रीट के घरों का ये कस्बा. कस्बे के एक
19 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
सरकार को प्रस्तुतअपनी मसौदा रिपोर्टमें, कानून आयोग ने लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ कराने के प्रस्ताव का समर्थन किया है।एक साथ चुनावआयोजित करने केलिए संविधान औरचुनावी कानून में बदलावकी सिफारिश कीहै,
31 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*हिन्दी खबर* चैनल विस्तार कर रहा है। *यूपी, एमपी, उत्तराखंड एवं छत्तीसगढ़* में सफलतापूर्वक संचालन के बाद अब राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, जम्मू कश्मीर, बिहार, झारखंड, गुजरात और महाराष्ट्र में *प्रदेश प्रतिनिधि/स्टेट हेड/ब्यूरो चीफ* की नियुक्तियां की जा रहीं हैं।अधिक जानकारी के लिए निचे दी
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
हम में से ज्यादातर लोग अपनी सांस को रोकने और पेट पिचकाने के बाद बड़े आराम से कह देते हैं कि हम तो फिट हैं भईया।कुछ एक लोग तो खुद को फिट दिखाने के लिए लोउर-टीशर्ट पहनकर योगा दिवस वाले दिन योगा करने भी पहुंच जाते हैं लेकिन शरीर को जरा सा मोड़ने को कह दो आह से आउच तक निकल आत
02 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी 10 बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा सांसद रहे. हालांकि, लोकसभा के जीते हुए 10 चुनाव के अलावा भी उन्होंने लोकसभा चुनाव लड़े, जिनमें वो हारे थे. लखनऊ लोकसभा सीट से अटल ने सात बार चुनाव लड़ा. पहला 1954 में, दूसरा 1957 में और फिर 1991
02 सितम्बर 2018
18 सितम्बर 2018
भारत कहने को तो एक महान देश है, पर मैं नहीं मानती... क्यों क्योंकि जिस देश में बड़े-बड़े मंचों पर, चुनावी रैलियों में, महिला सशक्तिकरण की डिबेटों में, तो एक औरत को देवी का दर्ज़ा दिया जाता है, उसी देश में उसकी सुरक्षा मुद्दा नहीं बनता, बल्कि उसकी सुरक्षा से ज़्यादा एक पीपल के
18 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
भारतीय दंड संहिता का सेक्शन 377, जिसके अंतर्गत आपसी सहमति से बने समलैंगिक संबंध आपराधिक थे, अब आपराधिक नहीं रहेंगे. 6 सिंतबर 2018 को सुप्रीम कोर्ट के जीफ़ जस्टिस दीपक मिश्रा ने ऐतिहासिक फ़ैसला सुनाते हुए कहा कि Homosexuality या समलैंगिकता अपराध नहीं है.दीपक मिश्रा के शब्द
07 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
जयपुर की सहिंता अग्रवाल ने खुद से पहले अपनी मां के लिए पति ढूंढा और उनकी धूमधाम से शादी भी करवाई। वर्तमान में यह घटना सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है।संहिता अग्रवाल कहती है कि उसको अपने द्वारा लिए गए इस फैसले पर गर्व है। संहिता का कहना है कि उसने दो साल पहले अपने पिता
31 अगस्त 2018
02 सितम्बर 2018
नई दिल्ली। पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर रामेश्वरम में कलाम के मैमोरियल का उद्घाटन किया था। रामेश्वरम वही जगह है जिसे हिंदू धर्म के चार धामों में से एक माना जाता है।रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिलनाडु के राम
02 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
मेैं जब 18 साल की थी, तब मैंने हंसराज कॉलेज, नई दिल्ली में ज्वाइंट सेकेट्री का चुनाव जीता. उस समय मैं एबीवीपी और एनएसयूआई की छात्र राजनीति से काफी निराश थी. मेरी विचारधारा भाजपा से तो मिलती नहीं है और कांग्रेस में उस समय बहुत अलग तरह की राजनीति चलती थी. हमारे यहां समाजवाद
02 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x