समलैंगिकों का प्रतीक है यह रंगीन झंडा, क्या आप जानते हैं इसकी कहानी?

07 सितम्बर 2018   |  अभय शंकर   (87 बार पढ़ा जा चुका है)

समलैंगिकों का प्रतीक है यह रंगीन झंडा, क्या आप जानते हैं इसकी कहानी?

देश के तमाम समलैंगिकों को उनका अधिकार मिल गया है। उनकी खुशी का को ठिकाना नहीं है। बता दें कि गुरूवार को सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले ने देश के तमाम समलैंगिक लोगों को उनके संवैधानिक अधिकार दे दिए। इस फैसले में कोर्ट ने समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया। फैसले के बाद से ही समलैंगिक समुदाय में खुशी की लहर है। समलैंगिकता का प्रतीक इंद्रधनुषीय झंड़ा फैसले के बाद से ही सोशल मीडिया, इंटरनेट और सड़कों पर देखने को मिल रहा है। ये झंड़ा आमतौर पर समलैंगिक लोगों के हर फेस्टिवल, परेड और जश्न के दौरान देखने को मिलता है। समलैंगिक लोगों के इस इंद्रधनुषीय झंडे का आखिर मतलब क्या है और ये झंडा कैसे इन लोगों का प्रतीक बन गया? आईए जानते हैं...

ये झंड़ा सैन फ्रांसिस्को के कलाकार, सैनिक और समलैंगिक अधिकारों के पक्षधर गिल्बर्ट बेकर ने 1978 में डिजाइन किया था। 1974 में जब बेकर अमेरिकी राजनेता हार्वे मिल्क से मिले तो हार्वे ने ही उन्हें सैन फ्रांसिस्को के वार्षिक गौरव परेड के लिए इस तरह को झंड़ा तैयार करने को कहा था। हार्वे मिल्क अमेरिका के एक लोकप्रिय समलैंगिक आइकन थे। 2015 में मॉर्डन ऑर्ट म्यूजियम से अपने एक इंटरव्यू में बेकर ने कहा कि हार्वे से मिलने से पहले से ही वे समलैंगिक लोगों के लिए एक प्रतीकात्मक झंड़ा बनाने का सोच रहे थे, जो विशेषतौर पर अमेरिकी झंड़े की तरह दिखता हो। समलैंगिक झंड़े के अलग-अलग रंग अलग-अलग समुदायों के बीच की एकजुटता दिखाता है। इस झंड़े के हर रंग का अपना एक अगल मतलब होता है।

गुलाबी रंग- सेक्शुएलिटी, लाल रंग-ज़िंदगी, नारंगी रंग- इलाज, पीला रंग-सूरज की रोशिनी, हरा रंग- प्रकृति, नीला रंग- सौहार्द, बैंगनी रंग- व्यक्ति की आत्मा का प्रतीक. .लेकिन बाद में इस झंड़े में जरूरत के हिसाब से नए रंग जोड़े गए और पुराने रंगों को हटाया गया। 1978 में हार्वे मिल्क की मौत के बाद इस झंड़े के समलैंगिक समुदाय की पहचान बनाने की मांग की जाने लगी।


Source : Dainik savera times

अगला लेख: कौन है ये महिला, जो 24 साल से लगातार मोदी को बांध रही है राखी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
06 सितम्बर 2018
पेट्रोल का नाम सुनते ही चार पहिया मालिकों के तन-बदन में आग लग जाती है। बाइक वालों का गुस्सा भी सातवें आसमान पर पहुंच जाता है। सरकार के समर्थक बगलें झांकने लगते हैं और सरकार के विरोधियों के चेहरे पर पेट्रोल के बढ़ते दाम देखकर चमक आ जाती है। बेलगाम पेट्रोल सरकार के सामने सबसे बड़ी टेंशन है। पता ही नही
06 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
मेैं जब 18 साल की थी, तब मैंने हंसराज कॉलेज, नई दिल्ली में ज्वाइंट सेकेट्री का चुनाव जीता. उस समय मैं एबीवीपी और एनएसयूआई की छात्र राजनीति से काफी निराश थी. मेरी विचारधारा भाजपा से तो मिलती नहीं है और कांग्रेस में उस समय बहुत अलग तरह की राजनीति चलती थी. हमारे यहां समाजवाद
02 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
सरकार को प्रस्तुतअपनी मसौदा रिपोर्टमें, कानून आयोग ने लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ कराने के प्रस्ताव का समर्थन किया है।एक साथ चुनावआयोजित करने केलिए संविधान औरचुनावी कानून में बदलावकी सिफारिश कीहै,
31 अगस्त 2018
18 सितम्बर 2018
भारत कहने को तो एक महान देश है, पर मैं नहीं मानती... क्यों क्योंकि जिस देश में बड़े-बड़े मंचों पर, चुनावी रैलियों में, महिला सशक्तिकरण की डिबेटों में, तो एक औरत को देवी का दर्ज़ा दिया जाता है, उसी देश में उसकी सुरक्षा मुद्दा नहीं बनता, बल्कि उसकी सुरक्षा से ज़्यादा एक पीपल के
18 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा इन दिनों अपनी फिल्म 'हैप्पी फिर से भाग जाएगी' की वजह से चर्चा में बनी हुई हैं। इसके अलावा एक और वजह है जिसके कारण सोनाक्षी सुर्खियों में बनी हुई हैं। बात दरअसल ये हैं कि सोनाक्षी सिन्हा जल्द ही बॉलीवुड स्टार सलमान खान के घर की बह
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
जयपुर की सहिंता अग्रवाल ने खुद से पहले अपनी मां के लिए पति ढूंढा और उनकी धूमधाम से शादी भी करवाई। वर्तमान में यह घटना सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है।संहिता अग्रवाल कहती है कि उसको अपने द्वारा लिए गए इस फैसले पर गर्व है। संहिता का कहना है कि उसने दो साल पहले अपने पिता
31 अगस्त 2018
02 सितम्बर 2018
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी 10 बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा सांसद रहे. हालांकि, लोकसभा के जीते हुए 10 चुनाव के अलावा भी उन्होंने लोकसभा चुनाव लड़े, जिनमें वो हारे थे. लखनऊ लोकसभा सीट से अटल ने सात बार चुनाव लड़ा. पहला 1954 में, दूसरा 1957 में और फिर 1991
02 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
सोशल मीडिया. वो प्लेटफॉर्म, जिसने 2014 में बीजेपी को सत्ता तक पहुंचाने का रास्ता बनाया. मुख्यत: फेसबुक और ट्विटर. पिछले दो हफ्ते से सोशल मीडिया पर लोग केंद्र सरकार को हांक रहे हैं कि वो केरल की ज़्यादा मदद क्यों नहीं कर रही है. सरकार की आलोचना के लिए लोग यही तर्क इस्तेमाल
27 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x