भगवान की छठी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (160 बार पढ़ा जा चुका है)

भगवान की छठी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सम्पूर्ण विश्व में हर्षोल्लास एवं धूमधाम से मनाया जाने वाला छ: दिवसीय श्रीकृष्ण जन्मोत्सव "जन्माष्टमी" आज भगवान की छठी मनाने के साथ पूर्णता को प्राप्त करेगा | मनुष्य जीवन जन्म लेने की छठवें दिन मनाया जाने वाला यह पर्व विशेष महत्व रखता है | भादों की अंधियारी रात में अष्टमी तिथि को कारागार में जन्म लेकरके रात ही रात गोकुल यशोदा जी के अंक में पहुंचकरके भगवान कन्हैया कंस के भय से भयभीत वसुदेव एवं देवकी को संतुष्टि प्रदान करते हैं | जन्म के छठे दिन जब गोकुल की सारी गोपियां यशोदा मैया के आंगन में एकत्र हो गई नवजात शिशु की छठी मनाने के लिए | धूमधाम से छठी पर्व मनाया जा रहा था | तभी उन्हीं नारियों में एक राक्षसी जिसका नाम पूतना था एक दिव्यांगना के रूप में वहां पर आई | जिसे कंस ने भेजा था और जिसका उद्देश्य था बालकृष्ण का वध करना | पूतना नाम का अर्थ ही होता है कि " जो किसी दूसरे के पूत को ना देख सके | नाम ही था पूत - ना | अंततोगत्वा भगवान कन्हैया के हाथों पूतना की मृत्यु हुई , और तब से लेकर आज तक हठी का यह पर्व सावधानी वाला पर्व माना जाने लगा | आज के दिन भगवान कन्हैया का श्रृंगार करके आँखों में काजल लगाया जाता है एवं विशेष रूप से छप्पन भोग एवं कढी चावल तथा मालपुए का भोग भी लगाया जाता है | इस तरह भगवान की छठी का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है | भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव पर्व का आज समापन दिवस होता है | जगह जगह भगवान कृष्ण की डोल एक शोभायात्रा के रूप में गाँव व क्षेत्र का भ्रमण कराके पर्व का समापन किया है |* *आज भी जब घर में किसी नवजात का जन्म होता है तो जन्म के छठवें दिन उस बालक की छठी मनाई जाती है | आज के दिन प्रसूता को उपहार दिए जाते हैं एवं घर की महिलाएं मिलकर के ढोलक की थाप पर सोहर गीत बधाई गीत आदि गाती है | हमारे गांवों में प्रचलन है की बालक की बुआ बालक को काजल लगाती हैं, एवं रात्रि भर जागरण किया जाता है | ऐसी मान्यता है की आज की रात में सोना नहीं चाहिए क्योंकि जिस प्रकार भगवान कन्हैया को मारने के लिए पूतना का आगमन हुआ था उसी प्रकार हमारे बालक के ऊपर कोई संकट ना आवे, इसलिए जागरण किया जाता है | यही कारण है कि छठी के दिन बाहर के किसी भी आदमी को घर में नहीं आने दिया जाता है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि छठी बालक के जीवन में एक संकल्प के रूप में होता है | क्योंकि ऐसी मान्यता है कि आज के ही दिन विधाता उस बालक का भाग्य लिखते हैं | किसी ने कहा है:-- "जो विधना ने लिख दिया छठी रात के अंक" | परंतु इससे अलग हटकर यदि देखा जाए तो यह रात्रि उस नवजात के लिए संसार में पदार्पण करने के बाद काम, क्रोध, मद, लोभ, अहंकार एवं मोहरूपी षडरिपुओं से बचे रहने का संकल्प होता है | नवजात बालक जिसने अभी तक संसार नहीं देखा होता है उसके लिए विगत स्मृति बनी होती है | स्वयं वह मन ही मन इन षडरिपुओं से बचने का संकल्प लेकर सूतिका कक्ष से बाहर निकलता है | परंतु अपने विकास क्रम में परिवार की मोह माया में वह अपने सारे संकल्पों भूल जाता है और मोह माया में लिपटकर अज्ञानता की ओर अग्रसर हो जाता है |* *भगवान कन्हैया की छठी के दिन संपूर्ण देशवासियों को जन्माष्टमी पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं:---- |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
*हमारा देश भारत विविधताओं का देश है , इसकी पहचान है इसके त्यौहार | कुछ राष्ट्रीय त्यौहार हैं तो कुछ धार्मिक त्यौहार | इनके अतिरिक्त कुछ आंचलिक त्यौहार भी कुछ क्षेत्र विशेष में मनाये जाते हैं | त्यौहार चाहे राष्ट्रीय हों , धार्मिक हों या फिर आंचलिक इन सभी त्यौहारों की एक विशेषता है कि ये सभी त्यौहार
27 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
!! भगवत्कृपा हि के वलम् !! *भगवान श्री कृष्ण का चरित्र इतना अलौकिक है कि इसको जितना ही जानने का प्रयास किया जाय उतने ही रहस्य गहराते जाते हैं , इन रहस्यों को जानने के लिए अब तक कई महापुरुषों ने प्रयास तक किया परंतु थोड़ा सा समझ लेने के बाद वे भी आगे समझ पाने की स्थिति में ही नहीं रह गये क्
04 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर भगवान के अनेकों अवतार हुए हैं , इन अवतारों में मुख्य एवं प्रचलित श्री राम एवं श्री कृष्णावतार माना जाता है | भगवान श्री कृष्ण सोलह कलाओं से युक्त पूर्णावतार लेकर इस धराधाम पर अवतीर्ण होकर अनेकों लीलायें करते हुए भी योगेश्वर कहलाये | भगवान श्री कृष्ण के पूर्णावतार का रहस्य समझने का प्रय
03 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियां बताई गयी हैं जिनमें सबका सिरमौर बनी मानवयोनि | वैसे तो मनुष्य का जन्म ही एक जिज्ञासा है इसके अतिरिक्त मनुष्य का जन्म जीवनचक्र से मुक्ति पाने का उपाय जानने के लिए होता अर्थात यह कहा जा सकता है कि मनुष्य का जन्म जिज्ञासा शांत करने के लिए होता है , परंतु मनुष्य जिज्ञास
29 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का अवतार पूर्णावतार कहा जाता है क्योंकि वे १६ कलाओं से युक्त थे | "अवतार किसे कहते हैं यह जानना परम आवश्यक है | चराचर के प्रत्येक जड़ - चेतन में कुछ न कुछ कला अवश्य होती है | पत्थरों में एक कला होती है दो कला जल में पाई जाती है | अग्नि में तीन कलायें पाई जाती हैं तो वायु में चार क
04 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी 10 बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा सांसद रहे. हालांकि, लोकसभा के जीते हुए 10 चुनाव के अलावा भी उन्होंने लोकसभा चुनाव लड़े, जिनमें वो हारे थे. लखनऊ लोकसभा सीट से अटल ने सात बार चुनाव लड़ा. पहला 1954 में, दूसरा 1957 में और फिर 1991
02 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का नाम मस्तिष्क में आने पर एक बहुआयामी पूर्ण व्यक्तित्व की छवि मन मस्तिष्क पर उभर आती है | जिन्होंने प्रकट होते ही अपनी पूर्णता का आभास वसुदेव एवं देवकी को करा दिया | प्राकट्य के बाद वसुदेव जो को प्रेरित करके स्वयं को गोकुल पहुँचाने का उद्योग करना | परमात्मा पूर्ण होता है अपनी शक्त
03 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x