नक्षत्र - एक विश्लेषण

08 सितम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (70 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण  - शब्द (shabd.in)

मृगशिरा

मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दों पर चर्चा के क्रम में अश्विनी, भरणी, कृत्तिका और रोहिणी नक्षत्रों के बाद अब चर्चा करते हैं मृगशिर और आर्द्रा नक्षत्रों की |

नक्षत्रमण्डल में मृगशिर पञ्चम पंचम है | मृगशिरा का शाब्दिक अर्थ है हिरण का सिर | या किसी भी पशु का सिर – मृग अर्थात पशु | इस नक्षत्र में तीन तारे एक मृग के सिर के आकार में होते हैं | सम्भवतः इसीलिए मृगशिर नक्षत्र के जातकों का शरीर अपेक्षाकृत विशाल होता है | जिस हिन्दी माह में यह नक्षत्र पड़ता है उस माह का नाम भी मृगशिर ही है | खैर नामक एक विशिष्ट वृक्ष की शाखाएँ भी मृग के शिर के समान होने के कारण उसे मृगशिर कहा जाता है |

मृगशिर नक्षत्र के नाम पर आधारित मृगशिर माह नवम्बर और दिसम्बर माह के दौरान आता है | इस नक्षत्र के अन्य नाम हैं – शशभृत, शशि, शशांक, मृगांक, विधु, हिमाँशु, सुधाँशु इत्यादि (सभी चन्द्रमा के पर्यायवाची)) | इसी से इस नक्षत्र की शीतलता का अनुमान लगाया जा सकता है |

आर्द्रा

नक्षत्र मण्डल का छठा नक्षत्र है आर्द्रा | जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है - आर्द्र अर्थात गीला | नम, मुलायम, दयालु, उदार, प्रेम करने योग्य | इस नक्षत्र में केवल एक तारा होता है | यह केतु का पर्यायवाची भी है | इसे भाग्य की देवी भी कहा जाता है | माना जाता है कि भगवान् भास्कर जब आर्द्रा नक्षत्र पर होते हैं तब पृथिवी रजस्वला होती है | इस नक्षत्र के अन्य नाम हैं : रूद्र, शिव, त्रिनेत्र (सभी भगवान् शिव के नाम) | यही कारण है कि रूद्र से सम्बन्धित समस्त क्लेश, दुःख और अत्याचार या उत्पीड़िन, क्रोध, भयंकरता या कोलाहल का डरावनापन इत्यादि सबके लिए आर्द्रा का ग्रहण किया जाता है | यह नक्षत्र भी नवम्बर – दिसम्बर अर्थात मृगशिर माह में ही आता है |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/09/08/constellation-nakshatras-14/

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अगस्त 2018
गुरुवार, 30 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:58 पर सूर्यास्त : 18:45 पर चन्द्र राशि : मीन 20:00 तक, तत्पश्चात मेष चन्द्र नक्षत्र : रेवती 20:00 तक / पंचक समाप्ति, तत्पश्चात अश्विनी
29 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
शनिवार, 01 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:59 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:42 पर चन्द्र राशि : मेष 27:01 तक, तत्पश्चातवृषभ चन्द्र नक्षत्र : भरणी 21:01 तक, तत्पश्चात
31 अगस्त 2018
27 अगस्त 2018
मंगलवार, 28 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:57 पर सूर्यास्त : 18:47 पर चन्द्र राशि : कुम्भ 10:39 तक, तत्पश्चात मीनचन्द्र नक्षत्र : पूर्वा भाद्रपद 17:08 तक, तत्पश्चात उत्तर भाद्रपद / पंचक
27 अगस्त 2018
28 अगस्त 2018
बुधवार, 29 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:57 पर सूर्यास्त : 18:46 पर चन्द्र राशि : मीन चन्द्र नक्षत्र : उत्तर भाद्रपद 18:47 तक, तत्पश्चात रेवती / पंचक तिथि
28 अगस्त 2018
28 अगस्त 2018
कृत्तिका :-बात चल रही है वैदिक ज्योतिषके आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्न इत्यादि के विचार के लिएप्रमुखता से प्रयोग में आने वाले 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पति (किस धातु आदि से किस नक्षत्र का नाम बना)किस प्रकार हुई तथा इनके अर्थ क्या हैं इस विषय पर | पिछले लेख मेंइसी
28 अगस्त 2018
14 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
14 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
12 सितम्बर 2018
28 अगस्त 2018
कृत्तिका :-बात चल रही है वैदिक ज्योतिषके आधार पर मुहूर्त, पञ्चांग, प्रश्न इत्यादि के विचार के लिएप्रमुखता से प्रयोग में आने वाले 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पति (किस धातु आदि से किस नक्षत्र का नाम बना)किस प्रकार हुई तथा इनके अर्थ क्या हैं इस विषय पर | पिछले लेख मेंइसी
28 अगस्त 2018
14 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
14 सितम्बर 2018
19 सितम्बर 2018
https://ptvktiwari.blogspot.com/2018/09/23-2018.html<!--[if !supportLineBreakNewLine]--><!--[endif]--> Home»»Unlabelled» 23 सितंबर 2018 गणेश विसर्जन मुहूर्त आवश्यक मन्त्र एवं विधि 23 सितंबर गणेश विसर्जन मुहूर्त आवश्यक मन्त्र एवं विधिकिसी भी कार्य को पूर्णता प्रदान करनेके ल
19 सितम्बर 2018
26 अगस्त 2018
सोमवार, 27 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनभाद्रपदमासारम्भ सूर्योदय : 05:56 पर सूर्यास्त : 18:48 पर चन्द्र राशि : कुम्भ चन्द्र नक्षत्र : शतभिषज 15:03 तक, तत्पश्चात पूर्वा भाद्रपद / पंचक
26 अगस्त 2018
06 सितम्बर 2018
रोहिणी सभी 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति के क्रम में अबतक हमने अश्विनी, भरणी और कृत्तिका नक्षत्रों के नामों पर बात की| इसी क्रम में आज बात करते हैं रोहिणी नक्षत्र की | रोहिणी की निष्पत्ति रूह् धातु से हुई है जिसका अर्थ है उत्पन्न करना, वृद्धि करना, ऊपर चढ़ना, आगे बढ़
06 सितम्बर 2018
24 अगस्त 2018
शनिवार, 25 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:55 पर सूर्यास्त : 18:50 पर चन्द्र राशि : मकर 23:13 तक, तत्पश्चातकुम्भ चन्द्र नक्षत्र : श्रवण 09:48 तक, तत्पश्चात धनिष्ठा / पंचक प्रारम्भ 23:13 पर
24 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
कल शनिवार एक सितम्बर को 23:27 केलगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारकशुक्र मित्र ग्रह बुध की कन्या राशि से निकल कर अपनी स्वयं की राशि तुला में प्रविष्टहो जाएगा | शुक्र के
31 अगस्त 2018
30 अगस्त 2018
शुक्रवार, 31 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:58 पर सूर्यास्त : 18:44 पर चन्द्र राशि : मेष चन्द्र नक्षत्र : अश्विनी 20:46 तक, तत्पश्चात भरणी तिथि :
30 अगस्त 2018
26 अगस्त 2018
सर्वप्रथम सभी कोप्रेम और सौहार्द के प्रतीक रक्षाबन्धन के इस उल्लासमय पावन पर्व की हार्दिकशुभकामनाएँ...इस रक्षा बन्धन आइये मिलकर शपथ लें कि“वृक्षारोपण के साथ ही वृक्षाबन्धन” भी करेंगे ताकि वृक्षों की रक्षा की जा सके...क्योंकि इन्हीं से तो मिलती है हमें शुद्ध और ताज़ी हवा –
26 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
शनिवार, 25 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:55 पर सूर्यास्त : 18:50 पर चन्द्र राशि : मकर 23:13 तक, तत्पश्चातकुम्भ चन्द्र नक्षत्र : श्रवण 09:48 तक, तत्पश्चात धनिष्ठा / पंचक प्रारम्भ 23:13 पर
24 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x