शनि का धनु में गोचर और वक्री शनि

09 सितम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (67 बार पढ़ा जा चुका है)

शनि का धनु में गोचर और वक्री शनि

वक्री और मार्गी शनि

26 अक्टूबर 2017 से 24 जनवरी 2020 तक शनि का गोचर धनु राशि में रहेगा | इसी मध्य 18 अप्रेल 2018 से 6 सितम्बर तक शनिदेव वक्री भी रहे | लगभग साढ़े चार माह वक्री चाल चलने के बाद 6 सितम्बर को 17:24 के लगभग शनिदेव मार्गी हुए हैं | धनु राशि में संचार करते हुए वर्तमान में वृश्चिक, धनु और मकर राशियों पर साढ़ेसाती का प्रभाव भी चल रहा है | साथ ही वृषभ और कन्या राशियों पर शनि की ढैया भी चल रही है | सामान्यतः शनि के वक्री होने पर व्यापार में मन्दी, राजनीतिक दलों में मतभेद, जन साधारण में अशान्ति तथा प्राकृतिक आपदाओं जैसे बाढ़ और आँधी तूफ़ान आदि की सम्भावनाएँ अधिक रहती हैं | किन्तु अब पुनः मार्गी हो जाने पर इस प्रकार की घटनाओं में कमी की सम्भावना की जा सकती है | वैदिक ज्योतिष के अनुसार शनि को कर्म और सेवा का कारक माना जाता है | यही कारण है कि शनि के वक्री अथवा मार्गी होने का प्रभाव व्यक्ति के कर्मक्षेत्र पर भी पड़ता है | शनि को अनुशासनकर्ता भी माना जाता है और धनु राशिचक्र की नवम राशि है | नवम भाव भाग्य, धर्म, आध्यात्म, पिता, गुरु और शिक्षक का माना जाता है | धनु का राश्यधिपति गुरु भी इन्हीं समस्त बातों का प्रतिनिधित्व करता है | सम्भवतः इसीलिए धनु राशि में शनि का होना इस सत्य का भी संकेत होता है कि हमारे स्वयं के अनुभव ही हमारे सबसे बड़े गुरु होते हैं जिनसे शिक्षा प्राप्त करके हम अपनी नकारात्मकताओं को त्याग कर सकारात्मकता के साथ पुनः खड़े होकर आगे बढ़ने का प्रयास करते हैं | साथ ही यह भी कि आशावादी होना अच्छा है, किन्तु आवश्यकता से अधिक आशावादी होकर निष्कर्मण्य हो बैठ रहना मूर्खता ही कहा जाएगा | तो आइये जानने का प्रयास करते हैं कि धनु राशि में गोचर करते हुए वक्री और पुनः मार्गी होने के जनसाधारण पर क्या प्रभाव हो सकते हैं...

मेष : शनि आपके लिए कर्म स्थान और लाभ स्थानों का स्वामी होकर आपके नवम भाव में गोचर कर रहा है | कार्य तथा आर्थिक लाभ और व्यक्तिगत सम्बन्धों की दृष्टि से यह गोचर आपके लिए भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है | शनि के वक्री होने की स्थिति में अभी तक आपके व्यक्तिगत जीवन में अनेक प्रकार की उथल पुथल की स्थिति चल रही थी | किन्तु अब पुनः मार्गी होने से उस स्थिति में धीरे धीरे सुधार की आशा की जा सकती है | समाज में मान सम्मान तथा कार्य में प्रगति की सम्भावना भी की जा सकती है | व्यक्तिगत सम्बन्धों की दृष्टि से भी यह समय आपके लिए भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है |

वृषभ : आपके लिए आपका योगकारक होकर शनि का गोचर आपके अष्टम भाव में हो रहा है | आपकी राशि के लिए शनि की ढैया भी चल रही है | बहुत अधिक अनुकूल यह गोचर नहीं कहा जा सकता | वक्री रहते हुए इसके कारण आपके आत्म विशवास में भी कमी आई होगी | कार्य में भी रुकावटों का सामना करना पड़ा होगा | अब मार्गी होने पर सम्भव है परिस्थितियों में कुछ सुधार का अनुभव हो, किन्तु कुछ अधिक सुधार की आशा नहीं की जा सकती | आपको विशेष रूप से अपने स्वास्थ्य तथा पारिवारिक विवादों के प्रति सावधान रहने की आवश्यकता है | इन बातों का विपरीत प्रभाव आपके कार्य पर भी पड़ सकता है | कार्यक्षेत्र में गुप्त शत्रुओं को पहचान कर उनकी ओर से भी सावधान रहने की आवश्यकता है |

मिथुन : आपके अष्टमेश और भाग्येश का गोचर आपके सप्तम भाव में चल रहा है | मिश्रित फल देने वाला गोचर है | आरम्भ में आपके लिए यह गोचर भाग्यवर्द्धक रहा होगा, किन्तु शनि के वक्री होने की स्थिति में आपके परिश्रम का जितना परिणाम आपको प्राप्त होना चाहिए थे सम्भव है उतना अच्छा परिणाम आपको न प्राप्त हुआ हो | अब शनि के मार्गी होने से परिस्थितियों में सुधार की आशा की जा सकती है | व्यक्तिगत सम्बन्धों में यदि आप स्पष्ट नहीं रहेंगे या किसी प्रकार का दुराव छिपाव करेंगे तो आपके लिए घातक हो सकता है | साथ ही स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है |

कर्क : सप्तमेश और अष्टमेश होकर शनि का छठे भाव में गोचर जीवन में बहुत सी उथल पुथल का कारक होता है | आरम्भ से ही इस गोचर के कारण आपको व्यक्तिगत सम्बन्धों में बहुत कठिनाइयों और छल कपट का सामना करना पड़ा है | किन्तु शनि की वक्री चाल के रहते हुए कुछ संघर्षों के बाद परिस्थितियों में सुधार भी हुआ होगा | किसी कोर्ट केस में भी आपको अनुकूल परिणाम प्राप्त हुआ होगा | अब शनि पुनः मार्गी हो गया है | यदि आपने अपने समय और योग्यताओं का उचित रूप से उपयोग नहीं किया तो ऐसा करना आपकी प्रगति में बाधक हो सकता है | प्राणायाम और ध्यान की प्रक्रियाओं के द्वारा अपने आत्मविश्वास को पुनः एकत्र करके उचित दिशा में प्रयास करने का समय है यह | साथ ही स्वास्थ्य की ओर से सावधान रहने की भी आवश्यकता है |

सिंह : आपके षष्ठेश और सप्तमेश का गोचर आपके पञ्चम भाव में हुआ है | यह गोचर आपके लिए अनुकूल फल देने वाला नहीं कहा जा सकता | आरम्भ में ही आपने जो ग़लत निर्णय लिए हैं उनका परिणाम आप भोग चुके हैं | इसी बीच वक्री शनि के कारण आपके मनोबल में भी गिरावट आई है और आप स्वयं को एक असमंजस की स्थिति में भी अनुभव कर रहे हैं | यद्यपि शनि अब मार्गी हो चुका है किन्तु फिर भी आपको अधिक मानसिक श्रम करने की आवश्यकता है | Romantically यदि Involve हैं तो वहाँ आपको सोच समझकर आगे बढ़ने की आवश्यकता है | किन्तु व्यावसायिक क्षेत्र में प्रतिद्वंद्वियों को पीछे छोड़कर आपके कार्य में प्रगति का समय प्रतीत होता है |

कन्या : एक ओर आपके लिए पंचमेश और षष्ठेश होकर शनि का गोचर आपके चतुर्थ भाव में हो रहा है वहीं दूसरी ओर शनि की ढैया भी चल रही है | गोचर का आरम्भ ही बहुत सी पारिवारिक समस्याओं के साथ हुआ है जिसका विपरीत प्रभाव आपके कार्यक्षेत्र पर भी पड़ा होगा | वक्री होने की स्थिति में आपके लिए बहुत सी समस्याओं में वृद्धि भी हो सकती है | इस अवधि में आपने अपने बहुत से मित्रों के लिए नकारात्मक सोच बना ली है | किसी भी नकारात्मक सोच का प्रभाव आपके अपने स्वास्थ्य और कार्य पर ही विपरीत प्रभाव डालता है | शनि के पुनः मार्गी हो जाने की स्थिति में परिस्थितियों में सुधार की सम्भावना तो है, किन्तु इस समय आपका अधिक ध्यान अपने कार्य की अपेक्षा पारिवारिक समस्याओं के समाधान तथा घर के Renovation की ओर अधिक जाएगा | साथ ही आप इस समय स्वाध्याय में प्रवृत्त हो सकते हैं | सन्तान से सम्बन्धित कोई समस्या भी आपके लिए चिन्ता का विषय हो सकती है |

तुला : आपके लिए योगकारक का गोचर आपके तृतीय भाव में चल रहा है | आरम्भ अनुकूल रहा, किन्तु वक्री होने के बाद सम्भव है पारिवारिक समस्याओं को सुलझाने में आपका अधिक समय व्यतीत हुआ होगा | किन्तु अब शनि मार्गी हो चुका है अतः आपको चिन्तित होने की आवश्यकता नहीं है | आप इस अवधि में अपना लक्ष्य निर्धारित करके उसके अनुसार आगे बढ़ने का प्रयास करेंगे और उसमें आपको सफलता भी प्राप्त हो सकती है | सम्भव है अभी तक व्यावसायिक स्तर पर आपको कुछ निराशा का अनुभव हुआ हो, किन्तु अब उत्साहपूर्वक आप कुछ नया कार्य भी आरम्भ कर सकते हैं | यह समय छोटे मोटे लाभ पर ध्यान देने की अपेक्षा कोई बड़ा दूरगामी लक्ष्य निर्धारित करने का है |

वृश्चिक : आपके लिए साढ़ेसाती का अन्तिम पड़ाव चल रहा है जो आपके लिए उतना अधिक अशुभ नहीं है | यद्यपि शनि के धनु राशि में गोचर के बाद से और उसके बाद वक्री होने की स्थिति में परिस्थितियाँ अधिकाँश में विपरीत ही रही होंगी | मानसिक तनाव के कारण आपके स्वास्थ्य पर भी विपरीत प्रभाव रहा होगा | किन्तु अब जब शनिदेव मार्गी हो चुके हैं और साढ़ेसाती भी अपने अन्तिम पड़ाव पर पहुँच चुकी है तो परिस्थितियों में सुधार की सम्भावना की जा सकती है | कार्य में उन्नति और धनप्राप्ति के योग प्रतीत होते हैं | किन्तु परिश्रम अधिक करना पड़ेगा | साथ ही, जिन लोगों के विषय में विगत समय में आपने नकारात्मक सोच बनाई है उसमें भी सुधार होगा और आप पुनः उन लोगों के साथ सम्बन्धों को सुधारने का प्रयास कर सकते हैं | व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों ही स्तरों पर मित्रों तथा सम्बन्धियों के साथ सम्बन्धों में सुधार करना आपके हित में रहेगा | सम्बन्धों में किसी प्रकार की अपेक्षा से हम अपना स्वयं का अनर्थ करते हैं |

धनु : आपकी राशि पर साढ़ेसाती अपने मध्यकाल में चल रही है | शनि आपका द्वितीयेश भी है और तृतीयेश भी | इस गोचर के आरम्भ से ही आपके लिए मानसिक तनाव की स्थितियाँ रही होंगी | किन्तु चुनौतियों के बाद भी अर्थलाभ निरन्तर होता रहा होगा | शनि के वक्री होने की स्थिति में आय से अधिक व्यय की समस्या भी रही होगी | साथ ही आपके स्वास्थ्य पर भी इसका विपरीत प्रभाव ही पड़ा है | अब शनि यद्यपि मार्गी हो चुका है किन्तु अभी जब तक साढ़ेसाती का यह मध्यभाग पूर्ण नहीं हो जाता तब तक आपको सावधानीपूर्वक चलने की आवश्यकता है | आर्थिक दृष्टि से यद्यपि समय उतना प्रतिकूल नहीं प्रतीत होता | समाज में मान सम्मान में वृद्धि की भी सम्भावना है किन्तु भावनात्मक और स्वास्थ्य की दृष्टि से आपको सावधान रहने की आवश्यकता है | किसी भी समस्या के प्रति चिन्तित होकर आप अपने स्वास्थ्य की ही हानि करेंगे | अच्छा यही रहेगा कि अपनी जीवन शैली में परिवर्तन करें ताकि आपकी सोच सकारात्मक बन सके और आप निष्ठापूर्वक अपने लक्ष्य के प्रति अग्रसर रह सकें |

मकर : आपके लिए साढ़ेसाती का प्रथम चरण चल रहा है | साथ ही लग्नेश और द्वितीयेश का बारहवें भाव में गोचर भी उतना अधिक शुभ नहीं कहा जा सकता | आपने इस गोचर के आरम्भ से ही अनावश्यक खर्चों में अधिकता तथा स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं का अनुभव किया होगा, जो शनि के वक्री होने से और भी बढ़ गई होंगी | सम्भव है किसी कोर्ट केस का सामना भी इस अवधि में हुआ हो | ननिहाल पक्ष के साथ भी सम्बन्धों में दरार की सम्भावना हो सकती है | अब शनि के मार्गी हो जाने से कुछ सुधार की सम्भावना की जा सकती है | यदि आपका कार्य विदेश से सम्बन्ध रखता है तो आपके लिए धनलाभ की सम्भावना की जा सकती है | मानसिक तनाव तो रहेगा किन्तु आप अपनी जीवन शैली में सुधार कर लेंगे तो बहुत सी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से बचे रह सकते हैं | आध्यात्मिक तथा धार्मिक गतिविधियों में वृद्धि की भी सम्भावना है | विदेश यात्राओं में वृद्धि की भी सम्भावना है | किन्तु इन यात्राओं के दौरान आपको अपने स्वास्थ्य की ओर से सावधान रहने की आवश्यकता है |

कुम्भ : आपके लिए लग्नेश और द्वादशेश का लाभ स्थान में गोचर अत्यन्त शुभ प्रतीत होता है | वक्री शनि भी आपके लिए अशुभ नहीं प्रतीत होता | आपके लिए कार्य में प्रगति के साथ ही आर्थिक स्थिति में दृढ़ता की सम्भावना भी की जा सकती है | यदि नौकरी में हैं तो पदोन्नति के साथ ही स्थानान्तरण भी सम्भव है | आप किसी व्यावसायिक कार्य से भी विदेश यात्राएँ कर सकते हैं और यों ही सपरिवार भी कहीं घूमने जाने की योजना बना सकते हैं | किन्तु अपने अधिकारियों के साथ तथा पिता अथवा बड़े भाई के साथ किसी प्रकार का विवाद आपके हित में नहीं रहेगा | यदि आपने अपना Temperament सही रखा तो अधिकारियों का, सहकर्मियों का तथा परिवार के लोगों का भी सहयोग आपको प्राप्त होता रह सकता है | आप नया घर अथवा वाहन भी खरीद सकते हैं अथवा प्रॉपर्टी में पैसा Invest भी कर सकते हैं, जिसका भविष्य में आपको लाभ होगा | परिवार में किसी बुज़ुर्ग महिला के स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता है | साथ ही समय तथा कार्य का उचित रूप से प्रबन्धन करने की आवश्यकता है |

मीन : आपका व्यवसाय अथवा Job यदि विदेश से सम्बन्ध रखती है तो आपके लिए यह गोचर अत्यन्त भाग्यवर्द्धक प्रतीत होता है | किन्तु बीच में कुछ समय शनि के वक्री रहने की स्थिति में सम्भव है जीवन में कुछ ऐसा घटित हुआ हो जिसके कारण आप अपने कार्य से भी तथा जीवन से भी निराशा का अनुभव कर रहे हैं | इस अवधि में आपने अपने कार्य के सम्बन्ध में कुछ ग़लत निर्णय ले लिए हैं जिनसे बहुत शीघ्र मुक्ति सम्भव है न हो सके | शनि के मार्गी हो जाने से आपकी सोच में धीरे धीरे सकारात्मकता आणि आरम्भ होगी और आप अधिक एकाग्र होकर अपने जीवन की घटनाओं का अनुशीलन कर सकेंगे | नौकरी में हैं तो आपको अपने अधिकारियों के साथ समझदारी से व्यवहार करने की आवश्यकता है | आपका अपना व्यवसाय है तो उसमें भी बहुत अधिक उत्साह के प्रदर्शन की आवश्यकता नहीं है | कुछ समय शान्त बैठकर परिस्थितियों की निरीक्षण करते हुए अपनी योजनाओं और प्राथमिकताओं का निर्धारण कीजिए |

अन्त में, ग्रहों के गोचर अपने नियत समय पर होते ही रहते हैं – ग्रहों की वक्री-मार्गी चाल भी नियत समय पर आती जाती रहती है - यह एक ऐसी खगोलीय घटना है जिसका प्रभाव मानव सहित समस्त प्रकृति पर पड़ता है | किन्तु इस सबसे भी प्रमुख बात यह है कि व्यक्ति का अपना कर्म प्रधान होता है | तो, कर्मशील रहते हुए अपने लक्ष्य की ओर हम सभी अग्रसर रहें यही कामना है...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/09/09/retrograde-direct-saturn/

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 सितम्बर 2018
3 से 9 सितम्बर तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहो
02 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
27 अगस्त से 2सितम्बर तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवल
27 अगस्त 2018
02 सितम्बर 2018
श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ सोमवार, 03 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:00 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:40 पर चन्द्र राशि : वृषभ चन्द्र नक्षत्र : रोहि
02 सितम्बर 2018
26 अगस्त 2018
सर्वप्रथम सभी कोप्रेम और सौहार्द के प्रतीक रक्षाबन्धन के इस उल्लासमय पावन पर्व की हार्दिकशुभकामनाएँ...इस रक्षा बन्धन आइये मिलकर शपथ लें कि“वृक्षारोपण के साथ ही वृक्षाबन्धन” भी करेंगे ताकि वृक्षों की रक्षा की जा सके...क्योंकि इन्हीं से तो मिलती है हमें शुद्ध और ताज़ी हवा –
26 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x