हरतालिका व्रत – तीज का महत्व

09 सितम्बर 2018   |  प्रियंका   (117 बार पढ़ा जा चुका है)

हरतालिका व्रत – तीज का महत्व

तीज का त्यौहार हिन्दुओ का एक पवित्र त्यौहार व पर्व है, इसको हरतालिका व्रत, तीजा या तीजा के नाम से भी जाना जाता हैं|


तीज फेस्टिवल के व्रत को भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हस्त नक्षत्र के दिन मनाया जाता है| इस दिन स्त्रियाँ (कुवारी और सौभाग्यवती) भगवन गौरी-शंकर जी की पूजा करती हैं|


हरितालिका तीज उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल और बिहार में मनाया जात है| इस तीज के त्यौहार को करवाचौथ के त्यौहार से भी बहुत कठिन माना जाता है|


ऐसा क्यों?


तीज का पर्व करवाचौथ के पर्व से कठिन इसलिए माना जाता है क्योंकि करवाचौथ में आप चाँद देखने के बाद व्रत को तोड़ दिया जाता है वहीं दूसरी तरफ इस व्रत को पूरे दिन किया जाता है जिसे निर्जला व्रत कहते हैं|


इस व्रत को अगले दिन पूजन के पश्चात ही तोड़ा जा सकता है|


हरतालिका व्रत से जुडी बहुत सारी मान्यता है जिसमे से एक मान्यता यह है की|


Image result for हरतालिका तीज 2018

तीज व्रत को करने वाली स्त्रिया माँ पार्वती जी के समान ही सुखपूर्वक पतिरमण करके शिवलोक को जाती हैं|


तीज का व्रत क्यों मनाया जाता हैं


तीज का व्रत इसलिए रखा जाता है क्योंकि जितनी भी सौभाग्यवती स्त्रियां है वे अपने सुहाग को अखण्ड बनाए रखने अथवा जो अविवाहित युवतियां है वह अपने मन मुताबिक वर पाने के लिए हरितालिका तीज का व्रत रखती हैं|


इस व्रत कि विशेषता इसलिए और बड जाती है क्योंकि सर्वप्रथम तीज व्रत को माता पार्वती ने भगवन शिव शंकर के लिए रखा था इसलिए तीज का महत्व और ज्यादा बड जाता हैं|


तीज के दिन गौरी−शंकर भगवन की भी पूजा की जाती है और जितनी भी स्त्रियां है जो इस दिन व्रत रखती है वह सूर्योदय से पूर्व ही उठ जाती हैं और नहा धोकर पूरा श्रृंगार करती हैं


गौरी−शंकर भगवन की भी पूजा करने के लिए केले के पत्तों से मंडप बनाकर इनकी प्रतिमा स्थापित की जाती है| इसके अतिरिक्त माँ पार्वती जी को सुहाग का सारा सामान चढ़ाया जाता है|


इस दिन रात को तीज के गीत (भजन) और कीर्तन का आनंद लिया जाता है और जागरण कर तीन बार आरती की जाती है और भगवान् शिव पार्वती विवाह की कथा भी सुनी जाती है|


तीज व्रत की अनिवार्यता और समापन


इस व्रत को पात्र कुवारी कन्यायें या सुहागिन महिलाएं दोनों ही रख सकते हैं परन्तु एक बार अगर आपने व्रत रख लिया तो जीवन पर्यन्त इस व्रत को रखना पड़ता हैं|


अगर किसी प्रकार कोई महिला गंभीर रोगी की हालात या बिमार है तो उसके बदले दूसरी महिला या फिर उसका पति भी इस व्रत को रख सकता हैं|


तीज व्रत का समापन


Image result for हरतालिका तीज 2018

इस व्रत में जिसने व्रत रखा होता है उसको सोना नहो होता इसलिए वह रात्रि में भजन कीर्तन के साथ रात्री जागरण में भाग लेती है|


इस दिन प्रातः काल स्नान करने के पश्चात् श्रद्धा एवम भक्ति पूर्वक किसी सुपात्र सुहागिन महिला को खाद्य सामग्री, वस्त्र, श्रृंगार सामग्री, फल, मिष्ठान्न एवम यथा शक्ति आभूषण का दान करना चाहिए|


तीज के दिन महिलायें पारम्परिक डिज़ाइन के वस्त्र पहनती है, अपना सिंघार करती है अथवा अपने हाथों और पैरों में मेहंदी लगाकर तीज फेस्टिवल का आनन्द लेती हैं


उत्तरी भारत के आसपास देखा जाने वाला तीज जुलूस देखने योग्य होता है क्योंकि यह तीज माता के सम्मान के लिए भव्य व्यवस्था के रूप में दर्शाया जाता है|


देवी पार्वती या तीज माता की प्रतिमा को सोने के गहरे और सुंदर रेशम से सजाया जाता हैं| इसमें कई प्रकार के संगीत, नृत्य का प्रदंशन होता है जिसे पूरे शहर में चरों और घुमाया जाता है|


हरतालिका तीज व्रत कथा


एक बार भगवान शिव ने पार्वतीजी को उनके पूर्व जन्म का स्मरण कराने के उद्देश्य से इस व्रत के माहात्म्य की कथा कही थी|


श्री भोलेशंकर बोले- हे गौरी! पर्वतराज हिमालय पर स्थित गंगा के तट पर तुमने अपनी बाल्यावस्था में बारह वर्षों तक अधोमुखी होकर घोर तप किया था| इतनी अवधि तुमने अन्न न खाकर पेड़ों के सूखे पत्ते चबा कर व्यतीत किए| माघ की विक्राल शीतलता में तुमने निरंतर जल में प्रवेश करके तप किया| वैशाख की जला देने वाली गर्मी में तुमने पंचाग्नि से शरीर को तपाया| श्रावण की मूसलधार वर्षा में खुले आसमान के नीचे बिना अन्न-जल ग्रहण किए समय व्यतीत किया|


तुम्हारे पिता तुम्हारी कष्ट साध्य तपस्या को देखकर बड़े दुखी होते थे| उन्हें बड़ा क्लेश होता था| तब एक दिन तुम्हारी तपस्या तथा पिता के क्लेश को देखकर नारदजी तुम्हारे घर पधारे| तुम्हारे पिता ने हृदय से अतिथि सत्कार करके उनके आने का कारण पूछा

नारदजी ने कहा- गिरिराज! मैं भगवान विष्णु के भेजने पर यहां उपस्थित हुआ हूं| आपकी कन्या ने बड़ा कठोर तप किया है| इससे प्रसन्न होकर वे आपकी सुपुत्री से विवाह करना चाहते हैं| इस संदर्भ में आपकी राय जानना चाहता हूं|


नारदजी की बात सुनकर गिरिराज गद्‍गद हो उठे| उनके तो जैसे सारे क्लेश ही दूर हो गए| प्रसन्नचित होकर वे बोले- श्रीमान्‌! यदि स्वयं विष्णु मेरी कन्या का वरण करना चाहते हैं तो भला मुझे क्या आपत्ति हो सकती है| वे तो साक्षात ब्रह्म हैं| हे महर्षि! यह तो हर पिता की इच्छा होती है कि उसकी पुत्री सुख-सम्पदा से युक्त पति के घर की लक्ष्मी बने| पिता की सार्थकता इसी में है कि पति के घर जाकर उसकी पुत्री पिता के घर से अधिक सुखी रहे|


तुम्हारे पिता की स्वीकृति पाकर नारदजी विष्णु के पास गए और उनसे तुम्हारे ब्याह के निश्चित होने का समाचार सुनाया| मगर इस विवाह संबंध की बात जब तुम्हारे कान में पड़ी तो तुम्हारे दुख का ठिकाना न रहा|


तुम्हारी एक सखी ने तुम्हारी इस मानसिक दशा को समझ लिया और उसने तुमसे उस विक्षिप्तता का कारण जानना चाहा| तब तुमने बताया - मैंने सच्चे हृदय से भगवान शिवशंकर का वरण किया है, किंतु मेरे पिता ने मेरा विवाह विष्णुजी से निश्चित कर दिया| मैं विचित्र धर्म-संकट में हूं| अब क्या करूं? प्राण छोड़ देने के अतिरिक्त अब कोई भी उपाय शेष नहीं बचा है| तुम्हारी सखी बड़ी ही समझदार और सूझबूझ वाली थी|


उसने कहा- सखी! प्राण त्यागने का इसमें कारण ही क्या है? संकट के मौके पर धैर्य से काम लेना चाहिए| नारी के जीवन की सार्थकता इसी में है कि पति-रूप में हृदय से जिसे एक बार स्वीकार कर लिया, जीवनपर्यंत उसी से निर्वाह करें| सच्ची आस्था और एकनिष्ठा के समक्ष तो ईश्वर को भी समर्पण करना पड़ता है| मैं तुम्हें घनघोर जंगल में ले चलती हूं, जो साधना स्थली भी हो और जहां तुम्हारे पिता तुम्हें खोज भी न पाएं| वहां तुम साधना में लीन हो जाना| मुझे विश्वास है कि ईश्वर अवश्य ही तुम्हारी सहायता करेंगे|


तुमने ऐसा ही किया| तुम्हारे पिता तुम्हें घर पर न पाकर बड़े दुखी तथा चिंतित हुए| वे सोचने लगे कि तुम जाने कहां चली गई| मैं विष्णुजी से उसका विवाह करने का प्रण कर चुका हूं| यदि भगवान विष्णु बारात लेकर आ गए और कन्या घर पर न हुई तो बड़ा अपमान होगा| मैं तो कहीं मुंह दिखाने के योग्य भी नहीं रहूंगा| यही सब सोचकर गिरिराज ने जोर-शोर से तुम्हारी खोज शुरू करवा दी|



इधर तुम्हारी खोज होती रही और उधर तुम अपनी सखी के साथ नदी के तट पर एक गुफा में मेरी आराधना में लीन थीं| भाद्रपद शुक्ल तृतीया को हस्त नक्षत्र था| उस दिन तुमने रेत के शिवलिंग का निर्माण करके व्रत किया| रात भर मेरी स्तुति के गीत गाकर जागीं| तुम्हारी इस कष्ट साध्य तपस्या के प्रभाव से मेरा आसन डोलने लगा| मेरी समाधि टूट गई| मैं तुरंत तुम्हारे समक्ष जा पहुंचा और तुम्हारी तपस्या से प्रसन्न होकर तुमसे वर मांगने के लिए कहा|


तब अपनी तपस्या के फलस्वरूप मुझे अपने समक्ष पाकर तुमने कहा - मैं हृदय से आपको पति के रूप में वरण कर चुकी हूं| यदि आप सचमुच मेरी तपस्या से प्रसन्न होकर आप यहां पधारे हैं तो मुझे अपनी अर्धांगिनी के रूप में स्वीकार कर लीजिए|


तब मैं 'तथास्तु' कह कर कैलाश पर्वत पर लौट आया| प्रातः होते ही तुमने पूजा की समस्त सामग्री को नदी में प्रवाहित करके अपनी सहेली सहित व्रत का पारणा किया| उसी समय अपने मित्र-बंधु व दरबारियों सहित गिरिराज तुम्हें खोजते-खोजते वहां आ पहुंचे और तुम्हारी इस कष्ट साध्य तपस्या का कारण तथा उद्देश्य पूछा| उस समय तुम्हारी दशा को देखकर गिरिराज अत्यधिक दुखी हुए और पीड़ा के कारण उनकी आंखों में आंसू उमड़ आए थे|


तुमने उनके आंसू पोंछते हुए विनम्र स्वर में कहा- पिताजी! मैंने अपने जीवन का अधिकांश समय कठोर तपस्या में बिताया है| मेरी इस तपस्या का उद्देश्य केवल यही था कि मैं महादेव को पति के रूप में पाना चाहती थी| आज मैं अपनी तपस्या की कसौटी पर खरी उतर चुकी हूं| आप क्योंकि विष्णुजी से मेरा विवाह करने का निर्णय ले चुके थे, इसलिए मैं अपने आराध्य की खोज में घर छोड़कर चली आई| अब मैं आपके साथ इसी शर्त पर घर जाऊंगी कि आप मेरा विवाह विष्णुजी से न करके महादेवजी से करेंगे|


गिरिराज मान गए और तुम्हें घर ले गए| कुछ समय के पश्चात शास्त्रोक्त विधि-विधानपूर्वक उन्होंने हम दोनों को विवाह सूत्र में बांध दिया|


हे पार्वती! भाद्रपद की शुक्ल तृतीया को तुमने मेरी आराधना करके जो व्रत किया था, उसी के फलस्वरूप मेरा तुमसे विवाह हो सका| इसका महत्व यह है कि मैं इस व्रत को करने वाली कुंआरियों को मनोवांछित फल देता हूं| इसलिए सौभाग्य की इच्छा करने वाली प्रत्येक युवती को यह व्रत पूरी एकनिष्ठा तथा आस्था से करना चाहिए


अगला लेख: लिज्जत पापड़ के सफलता की कहानी : 7 औरतों ने 80 रुपये उधार लेके की थी शुरुआत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 सितम्बर 2018
अखंड सौभाग्य के लिए किया जाने वाला व्रत हरितालिका तीज 12 सितंबर को है। भाद्र शुक्ल तृतीया बुधा के चित्रा नक्षत्र को तीज व्रत रखा जाता है, जिसमें महिलाएं पतियों के सुख- सौभाग्य, निरोग्यता के लिए माता गौरी की पूजा करती हैं। आचार्य राजनाथ झा बताते हैं कि इस बार सुबह से ही यह
07 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
आज भारत की बैडमिंटन स्टार ज्वाला गुट्टा का जन्मदिन है, आज ही के दिन 7 सितम्बर 1983 को महाराष्ट्र के वर्धा में इनका जन्म हुआ था । ज्वाला अपने खेल और कैरियर के साथ साथ अपनी निजी जिंदगी के फैसलों को भी लेकर खबरों में बराबर बनी रहती है ।ज्वाला ने 4 साल की छोटी उम्र से ही बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था ।
07 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
गांव का नाम जहन में आते ही सबसे पहले वहां होने वाली असुविधाओं का ख्याल आता है। लेकिन समय के साथ अब गांवों की तस्वीर बदल रही है। आज हम आपको ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे है जिसकी तरक्की की कहानी सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। आप यकीन नहीं करेंगे। जी हां, इस गांव में गरीब नहीं बल्कि सभी बेहद अमीर लोग
07 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू कर रहे हनुमा विहारी ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए अपने पहले टेस्ट मैच में ही शानदार अर्धशतक जड़ दिया | इंग्लैंड के खिलाफ पांचवे टेस्ट में हनुमा ने 124 गेंदों में 56 रन की पारी खेली जिसमें 7 चौके और 1 छक्का शामिल है | इंग्लैंड के मुश्किल ह
09 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
15 मार्च 1959 को साउथ मुंबई की 7 औरते ने मिलकर एक ऐसा बिसनेस शुरू किया, जिसके बारे में किसीने सोचा भी नहीं था। इन औरतो ने पापड़ बनाने का काम शुरू किया ताकि को खुद भी कुछ पैसे कमा सके, पहले दिन पापड़ बेचकर जिन्होंने सिर्फ 50 पैसे की कमाई की थी आज वो उसी पापड़ की कंपनी की कमाई 1600 करोड हैं। 7 औरतों न
08 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण(यूआईडीएआई) पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए बाल आधार जारी कारता है, यह आधार कार्ड नीले रंग का होता है और बच्चे की उम्र पांच वर्ष पूरी हो जाने पर यह आधार कार्ड अमान्य हो जाता है । इसे निकटतम स्थायी नामांकन केंद्र जाकर इसी आधार संख्या से अपनी जनसंखियक़ी और बॉयोमेट्रि
07 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार लखनऊ में निषाद सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर तंज़ कसा | योगी ने अपने बयान में अखिलेश को मुग़ल शासक औरंगजेब के सामान बताया | निषाद सम्मलेन में योगी ने कहा कि “जो अपने पिता और चाचा का नहीं हुआ, आप सबको खु
08 सितम्बर 2018
11 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
11 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
बिहार में मॉब लिंचिंग का मामला सामने आया है. ख़बर है बिहार के शहर बेगुसराई का, जहाँ भीड़ ने इंसाफ का जिम्मा अपने हाथ ले लिया और अपहरण के शक में 3 लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी | बिहार में हाल में ही एक महिला को निर्वस्त्र करके गली गली घुमाने की ख़बर आई थी और अब ये | सुशासन बाबु नितीश कुमार के राज्य मे
07 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x