छिन्नमस्तिका मंदिर: भूख की तड़प में देवी मां ने काट लिया था अपना ही सिर, अब होती है पूजा!

10 सितम्बर 2018   |  रवि मेहता   (207 बार पढ़ा जा चुका है)

छिन्नमस्तिका मंदिर: भूख की तड़प में देवी मां ने काट लिया था अपना ही सिर, अब होती है पूजा!

रांची। झारखंड की राजधानी रांची से करीब 80 किलोमीटर दूर रजरप्पा स्थित छिन्नमस्तिके मंदिर शक्तिपीठ के रूप में काफी विख्यात है। यहां भक्त बिना सिर वाली देवी मां की पूजा करते हैं और मानते हैं कि मां उन भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी करती हैं। मान्यता है कि असम स्थित मां कामाख्या मंदिर सबसे बड़ी शक्तिपीठ है, जबकि दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी शक्तिपीठ रजरप्पा स्थित मां छिन्नमस्तिके मंदिर ही है।

रजरप्पा के भैरवी-भेड़ा और दामोदर नदी के संगम पर स्थित मां छिन्नमस्तिके मंदिर आस्था की धरोहर है। मंदिर के वरिष्ठ पुजारी असीम पंडा ने बताया कि वैसे तो यहां साल भर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है, लेकिन शारदीय नवरात्रि और चैत्र नवरात्रि के समय भक्तों की संख्या बढ़ जाती है। मंदिर की उत्तरी दीवार के साथ रखे एक शिलाखंड पर दक्षिण की ओर रुख किए माता छिन्नमस्तिके का दिव्य रूप अंकित है। मंदिर के निर्माण काल के बारे में पुरातात्विक विशेषज्ञों में मतभेद है। कई विशेषज्ञ का कहना है कि इस मंदिर का निर्माण 6000 साल पहले हुआ था और कई इसे महाभारतकालीन का मंदिर बताते हैं।

छिन्नमस्तिके मंदिर के अलावा, यहां महाकाली मंदिर, सूर्य मंदिर, दस महाविद्या मंदिर, बाबाधाम मंदिर, बजरंगबली मंदिर, शंकर मंदिर और विराट रूप मंदिर के नाम से कुल सात मंदिर हैं। पश्चिम दिशा से दामोदर और दक्षिण दिशा से कल-कल करती भैरवी नदी का दामोदर में मिलना मंदिर की खूबसूरती का बढ़ावा देता है। मंदिर के अंदर जो देवी काली की प्रतिमा है, उसमें उनके दाएं हाथ में तलवार और बाएं हाथ में अपना ही कटा हुआ सिर है। शिलाखंड में मां की तीन आंखें हैं। बायां पैर आगे की ओर बढ़ाए हुए वह कमल पुष्प पर खड़ी हैं। पांव के नीचे विपरीत रति मुद्रा में कामदेव और रति शयनावस्था में हैं।

मां छिन्नमस्तिके का गला सर्पमाला तथा मुंडमाल से सुशोभित है। बिखरे और खुले केश, आभूषणों से सुसज्जित मां नग्नावस्था में दिव्य रूप में हैं। दाएं हाथ में तलवार तथा बाएं हाथ में अपना ही कटा मस्तक है। इनके अगल-बगल डाकिनी और शाकिनी खड़ी हैं जिन्हें वह रक्तपान करा रही हैं और स्वयं भी रक्तपान कर रही हैं। इनके गले से रक्त की तीन धाराएं बह रही हैं।

इसीलिए नाम पड़ा छिन्नमस्तिका

माता द्वारा सिर काटने के पीछे एक पौराणिक कथा है। जनश्रुतियों और कथा के मुताबिक कहा जाता है कि एक बार मां भवानी अपनी दो सहेलियों के साथ मंदाकिनी नदी में स्नान करने आई थीं। स्नान करने के बाद सहेलियों को इतनी तेज भूख लगी कि भूख से बेहाल उनका रंग काला पड़ने लगा। उन्होंने माता से भोजन मांगा। माता ने थोड़ा सब्र करने के लिए कहा, लेकिन वे भूख से तड़पने लगीं। सहेलियों के विनम्र आग्रह के बाद मां भवानी ने खड्ग से अपना सिर काट दिया, कटा हुआ सिर उनके बाएं हाथ में आ गिरा और खून की तीन धाराएं बह निकलीं।

सिर से निकली दो धाराओं को उन्होंने उन दोनों की ओर बहा दिया। बाकी को खुद पीने लगीं। तभी से मां के इस रूप को छिन्नमस्तिका नाम से पूजा जाने लगा। पुजारी कन्हैया पंडा के मुताबिक, यहां हर साल बड़ी संख्या में साधु, महात्मा और श्रद्धालु नवरात्रि में शामिल होने के लिए आते हैं। 13 हवन कुंडों में विशेष अनुष्ठान कर सिद्धि की प्राप्ति करते हैं। मंदिर का मुख्य द्वारा पूरब मुखी है। मंदिर के सामने बलि का स्थान है। बलि-स्थान पर प्रतिदिन औसतन सौ-दो सौ बकरों की बलि चढ़ाई जाती है।

रजरप्पा जंगलों से घिरा हुआ है, इसलिए एकांत वास में साधक तंत्र-मंत्र की सिद्धि प्राप्ति में जुटे रहते हैं। नवरात्रि के मौके पर असम, पश्चिम बंगाल, बिहार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश समेत कई प्रदेशों से साधक यहां जुटते हैं।

रात में मां करती है यहां विचरण!
-यहां प्रतिवर्ष बड़ी संख्या में साधु, माहत्मा और श्रद्धालु नवरात्रि में शामिल होने के लिए आते हैं। 13 हवन कुंडों में विशेष अनुष्ठान कर सिद्धि की प्राप्ति करते हैं।
-रजरप्पा जंगलों से घिरा हुआ है। जहां दामोदर व भैरवी नदी का संगम भी है। शाम होते ही पूरे इलाके में सन्नाटा पसर जाता है।
-लोगों का मानना है कि मां छिन्नमिस्तके यहां रात्रि में विचरण करती है। इसलिए एकांत वास में साधक तंत्र-मंत्र की सिद्धि प्राप्ति में जुटे रहते हैं।

छिन्नमस्तिका मंदिर: भूख की तड़प में देवी मां ने काट लिया था अपना ही सिर, अब होती है पूजा!

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/06/28/rajrappa-mandir/

अगला लेख: 5वीं पास लड़के ने घर के समान से बनाया हेलीकाप्टर पहली उड़ान भरते ही पुलिस ने जो किया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
बेटा दुनिया से जा चुका था लेकिन मां मानने को तैयार नहीं। वो बेटे के शव को ऑटो में लादकर इंदौर से उज्जैन पहुंच गई। रामघाट के समीप सिद्ध आश्रम के पास शिप्रा किनारे शव लेकर बैठने की जिद करने लगी। इस भरोसे में कि महाकाल जिंदा कर देंगे।ऑटो चालक ने होमगार्ड जवान को इसकी जानकारी
03 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
आज के समय में नौकरी या व्यापार करने वाले लोगों को ऐसी Bikes ज्यादा पसंद आती हैं, जो माइलेज में सबसे आगे होती हैं यानी कि उनकी माइलेज दूसरी बाइक्स से काफी ज्यादा होती है। मगर बाजार में ज्यादा से ज्यादा 60-70 किमी प्रति लीटर की माइलेज देने वाली बाइक्स ही मौजूद हैं और कंपनी
31 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
बॉलीवुड की अजीब दुनिया में, अफवाहें सिद्धांतों और तुलनाओं के आधार पर चारों ओर तैरती हैं। एक बार ऐसी अफवाह जो कई लोगों के लिए बहुत अद्भुत थी, यह थी कि सोनाक्षी सिन्हा रीना रॉय की बेटी हो सकती हैं। कुछ लोग यह भी आरोप लगाते हैं कि चूंकि सोनाक्षी के पिता शत्रुघ्न सिन्हा का री
31 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
विधायक महोदय बड़े उत्साह से शादी की तैयारी कर चुके थे। कपड़ा तैयार था। बाजे-गाजे का साटा हो चुका था. शादी की रस्में शुरू हो चुकी थी. मकान का रंग-रोगन भी हो गया. रिश्तेदार भी आ गए. गाड़ी की बुकिंग हो गई. और तो और सीएम एवं डिप्टी सीएम को भी निमंत्रण चला गया. तारीख तय थी. म
04 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
नई दिल्ली। पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर रामेश्वरम में कलाम के मैमोरियल का उद्घाटन किया था। रामेश्वरम वही जगह है जिसे हिंदू धर्म के चार धामों में से एक माना जाता है।रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिलनाडु के राम
02 सितम्बर 2018
06 सितम्बर 2018
पेट्रोल का नाम सुनते ही चार पहिया मालिकों के तन-बदन में आग लग जाती है। बाइक वालों का गुस्सा भी सातवें आसमान पर पहुंच जाता है। सरकार के समर्थक बगलें झांकने लगते हैं और सरकार के विरोधियों के चेहरे पर पेट्रोल के बढ़ते दाम देखकर चमक आ जाती है। बेलगाम पेट्रोल सरकार के सामने सबसे बड़ी टेंशन है। पता ही नही
06 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*इस धराधाम पर मनुष्य अपने जीवनकाल में अनेक शत्रु एवं मित्र बनाता रहता है , यहाँ समय के साथ मित्र के साथ शत्रुता एवं शत्रु के साथ मित्रता होती है | परंतु मनुष्य के कुछ शत्रु उसके साथ ही पैदा होते हैं और समय के साथ युवा होते रहते हैं | इनमें मनुष्य मुख्य पाँच शत्रु है :- काम क्रोध मद लोभ एवं मोह | ये
29 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
आज के युग में हर दिन आपको नये-नये आविष्कार देखने को मिल सकते हैं लेकिन क्या आपने कभी किसी 5वीं पास शख्स को हेलीकॉप्टर बनाते हुए देखा हैं अगर नहीं तो आइए आपको बताते इस शख्स के बारें में...बाँदा के रहने वाले नारद 21 साल के हैं आपको बता दें की पढ़ाई तो इन्होंने सिर्फ 5वीं कक
31 अगस्त 2018
02 सितम्बर 2018
नई दिल्ली। पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर रामेश्वरम में कलाम के मैमोरियल का उद्घाटन किया था। रामेश्वरम वही जगह है जिसे हिंदू धर्म के चार धामों में से एक माना जाता है।रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिलनाडु के राम
02 सितम्बर 2018
05 सितम्बर 2018
एससी-एसटी और ओबीसी को लेकर स्वर्ण जातियों द्वारा प्रदर्शन अब रंग लाने लगा है. मोदी सरकार अब लगने लगा है कि सवर्ण वर्ग उनसे नाराज होता जा रहा है. सरकार के खिलाफ सवर्ण जातियों की बढ़ती नाराजगी को देखते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को कई शीर्ष मंत्रियों के साथ बैठक
05 सितम्बर 2018
16 सितम्बर 2018
आजकल ए.सी का ज़माना है। अब घरों और ऑफिसों में गर्मी से निपटने के लिए लोग एसी का प्रयोग करते हैं। अब गर्मी ही इतनी भयंकर पड़ती है कि एसी के बिना काम नहीं चल पाता। ठंडा पानी, कूलर, पंखा ये सब गर्मी के आगे फेल हो जाते हैं और ऐसे में जान बचाता है तो बस एसी।आपको जानकर हैरानी ह
16 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
27 अगस्त 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x