शाह का एक ‘कॉल’ पड़ा राहुल गांधी पर भारी, इस तरह कांग्रेस के ‘भारत बंद’ में हो गया बड़ा खेल

10 सितम्बर 2018   |  रेखा यादव   (212 बार पढ़ा जा चुका है)

शाह का एक ‘कॉल’ पड़ा राहुल गांधी पर भारी, इस तरह कांग्रेस के ‘भारत बंद’ में हो गया बड़ा खेल

पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों पर विपक्ष लामबंद हो रहा है । प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने 10 सितंबर को भारत बंद का आह्वाहन किया है जिसका असर दिखना शुरू हो गया है । देश भर के बाजारों में बंद का मिला जुला असर देखने को मिल रहा है । कांग्रेस के भारत बंद में कई दूसरी राजनीतिक पार्टियां भी साथ दे रही हैं । लेकिन कई दल ऐसे भी रहे जो आखिरी समय में साथ छोड़ गए । ऐन वक्‍त में बंद से खुद को अलग करने वाली पार्टियों में शिवसेना भी एक है ।


शिवसेना ने किया बंद में शामिल होने से इनकार
महाराष्ट्र में अपनी मजबूत पकड़ रखने वाली पार्टी शिवसेना ने आखिरी समय में कांग्रेस के भारत बंद से खुद को अलग कर लिया है । शिवसेना ने आखिरी समय में गठबंधन की गरिमा का हवाला देते हुए बंद से खुद को अलग बताया । हालांकि शिवसेना लगातार इस मुद्दे पर सहयोगी दल बीजेपी को घेरे हुई थी । ऐन टाइम पर शिवसेना के बंद से पैर पीछे खींचने का कारण एक अहम कॉल बताया जा रहा है ।


शाह के कॉल ने किया खेल
बताया जा रहा है कि पार्टी को आखिरी समय पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्‍यक्ष अमति शाह की ओर से कॉल आया था । जिसके बाद ही शिवसेना ने भारत बंद में शामिल होने से इनकार कर दिया । एक अखबार के अनुसार अमित शाह और उनके बाद मुख्‍यमंत्री देवेन्‍द्र फडणवीस ने भी कॉल की थी । पार्टी के एक नेता के मुताबिक – अब हमने खुले रूप से बंद को समर्थन न देने का निर्णय लिया है । हम खुद से ही पेट्रोल की बढ़ी कीमतों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं ।

कांग्रेस ने शिवसेना का किया था आह्वाहन
महाराष्‍ट्र कांग्रेस अध्‍यक्ष अशोक चवहाण ने इससे पहले एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर जानकारी दी थी कि भारत बंद में कांग्रेस ने शिवसेना से शामिल होने का आह्वाहन किया है । उन्‍होने कहा कि उन्‍हें उम्‍मीद है शिवसेना इसमें उनका समर्थन देगी क्‍योंकि देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों ने मुश्किल बढ़ाई हुई । अब समय आ गया है कि इसके विरोध में खुलकर सामने आया जाए । चव्‍हाण ने कहा था कि उन्‍होने व्‍यकितगत तौर पर इसके लिए शिवसेना के प्रवक्‍ता और राज्‍यसभा सांसद संजय राउत से इस बारे में बात की है ।

संजय राउत का बयान
कांग्रेस के आग्रह का जवाब देते हुए संजय राउत ने भी कहा कि शिवसेना भारत बंद में भाग नहीं ले रही है । बताया जा रहा है कि शिवसेना ने इसके पीछे गठबंधन की गरिमा का हवाला दिया है । आपको बता दें शिवसेना महाराष्ट्र और केंद्र दोनों ही सरकारों में सहयोगी दल के तौर पर शामिल हैं । ऐसे में विपक्षी दलों के साथ मिलकर बंद का समर्थन सही नहीं माना जा सकता । हालांकि शिवसेना अपने स्‍तर पर बढ़ी कीमतों का लगातार विरोध कर रही है और बीजेपी की नीतियों पर भी सवाल उठा रही है ।

बंद में शामिल प्रमुख दल
कांग्रेस के अनुसार इस बंद के जरिए मोदी सरकार को जगाने की कोशिश की जा रही है । आम जनता महंगाई से त्रस्‍त है और सरकार आंख बंद किए बैठी है । कांग्रेस के अनुसार उन्‍हें कुछ 21 राजनीतिक दलों का साथ इस बंद के लिए मिला है । जिसमें राष्ट्रीय जनता दल, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, डीएमके, जनता दल सेक्युलर, राष्ट्रीय लोकदल, झारखंड मुक्ति मोर्चा, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, एमएनएस और कई अन्य दल शामिल हैं ।

शाह का एक ‘कॉल’ पड़ा राहुल गांधी पर भारी, इस तरह कांग्रेस के ‘भारत बंद’ में हो गया बड़ा खेल

https://indiabeyondnews.com/viral/amit-shahs-one-call-spoils-rahul-gandhis-bharat-band-0918/

अगला लेख: क्यों मंगलवार ,गुरुवार, शनिवार को ,नाख़ून तथा बालों को नहीं काटना चाहिए जानिये वैज्ञानिक कारण



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 सितम्बर 2018
बीजेपी के लिए बिहार में मुश्किल बढ़ती जा रही है. SC/ST एक्ट को लेकर सरकार द्वारा लाये गये अध्यादेश से सवर्ण वर्ग बीजेपी से खफा हो गये है. दो दिन पहले सवर्णों द्वारा भारत बंद का आयोजन किया गया था जिसका असर पुरे बिहार में देखने को मिला, खासकर सवर्ण बहुल जिलों में इसका ज्यादा
01 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी 10 बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा सांसद रहे. हालांकि, लोकसभा के जीते हुए 10 चुनाव के अलावा भी उन्होंने लोकसभा चुनाव लड़े, जिनमें वो हारे थे. लखनऊ लोकसभा सीट से अटल ने सात बार चुनाव लड़ा. पहला 1954 में, दूसरा 1957 में और फिर 1991
02 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
1 सोशल मीडिया एडिटर (असिस्टेंट एडिटर लेवल)2 न्यूज प्रॉड्यूसर (असिस्टेंट एडिटर लेवल)3 सिनेमा राइटर (चीफ सब एडिटर लेवल)4 दो ट्रेनी, न्यूज (पॉलिटिक्स, स्पोर्ट्स, टेक, इकॉनमिक्स या फिर बिहार में खास दिलचस्पी हो तो बढ़िया)5 एंकर. सिनेमा में खास दिलचस्पी के साथ. कुल पोजीशन- 6काम करने की जगह- फिल्म सिटी, न
07 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
भारतीय जनता पार्टी में अहम भूमिका निभाने वाले मुख्तार अब्बास नकवी यूं तो पार्टी से लेकर मोदी सरकार के अहम फैसलों पर बड़ी भूमिका निभाते हैं। इसके साथ ही वे फिलहाल मोदी कैबिनेट मंत्री का हिस्सा है। हिंदूवादी पार्टी के नाम से पहचानी जानी वाली भारतीय जनता पार्टी के साथ अपना र
04 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
नागपुर में सरकारी एजेंसी ने टॉयलेट के पानी को 78 करोड़ रुपये में बेचा है, इस पानी से निकलने वाली गैस से नागपुर शहर में 50 एसी बसें चलाई जा रही है।हेडर पढकर आप भी हैरान होंगे, कि टॉयलेट का पानी भी कोई खरीद सकता है, शायद आप सोच रहे होंगे कि उस पानी का कोई क्या इस्तेमाल करेगा। आपने मन में कई सवाल उठ रह
04 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
एक बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि सवर्ण आंदोलन के नेता देवकी नंदन ठाकुर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया है। उधर इस खबर के प्रकाश में आने के बाद सोशल मीडिया में लोग तेजी से प्रतिक्रिया दे रहे हैं।ताजा अपडेट के अनुसार कथावाचक देवकी नंदन ठाकुर को यूपी पुलिस ने
12 सितम्बर 2018
01 सितम्बर 2018
Third party image referenceये तस्वीर है महाराष्ट्र के एक सेवाग्राम आश्रम की जहाँ पर गाँधी जी खड़े है और धुप ज्यादा होने के कारण उन्होंने अपने सर के ऊपर तकिया रखा हुंआ है ताकि वह धुप से बच सके.Third party image referenceये तस्वीर मुंबई के बिरला हाउस की है जहाँ पर गाँधी जी
01 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
भगवान श्रीकृष्ण के उपदेश आज भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं, जितने महाभारत के युद्ध से पूर्व अर्जुन के लिए थे। भगवान श्री कृष्ण का व्यवहारिक ज्ञान का सार आज भी उन तमाम युवाओं के प्रेरणासोत्र हैं जो इस प्रतियोगी युग में सफलता पाने की कामना रखते है।श्रीकृष्ण द्वारा दी गयी शिक्षा
07 सितम्बर 2018
01 सितम्बर 2018
बीजेपी के लिए बिहार में मुश्किल बढ़ती जा रही है. SC/ST एक्ट को लेकर सरकार द्वारा लाये गये अध्यादेश से सवर्ण वर्ग बीजेपी से खफा हो गये है. दो दिन पहले सवर्णों द्वारा भारत बंद का आयोजन किया गया था जिसका असर पुरे बिहार में देखने को मिला, खासकर सवर्ण बहुल जिलों में इसका ज्यादा
01 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
मेैं जब 18 साल की थी, तब मैंने हंसराज कॉलेज, नई दिल्ली में ज्वाइंट सेकेट्री का चुनाव जीता. उस समय मैं एबीवीपी और एनएसयूआई की छात्र राजनीति से काफी निराश थी. मेरी विचारधारा भाजपा से तो मिलती नहीं है और कांग्रेस में उस समय बहुत अलग तरह की राजनीति चलती थी. हमारे यहां समाजवाद
02 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x