मनुष्यों की गति :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (66 बार पढ़ा जा चुका है)

मनुष्यों की गति   :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में मानव जीवन का उद्देश्य मोक्ष की प्राप्ति होना बताया गया है | प्रत्येक व्यक्ति जीवन भर चाहे जैसे कर्म - कुकर्म करता रहे परंतु चौथेपन में वह मोक्ष की कामना अवश्य करता है | प्राय: यह प्रश्न उठा करते हैं कि मोक्ष की प्राप्ति तो सभी चाहते हैं परंतु मृत्यु के बाद मनुष्य को क्या गति प्राप्त होती है | इसका उदाहरण हमें हमारे धार्मिक ग्रंथों में देखने को मिलता है | गीता में स्वयं योगेश्वर श्री कृष्ण कहते हैं :-- "ऊर्ध्वं गच्छन्ति सत्त्वस्था मध्ये तिष्ठन्ति राजसाः ! जघन्यगुण वृत्तिस्था अधो गच्छन्ति तामसा: !!" अर्थात :- सत्त्वगुण में स्थित पुरुष स्वर्गादि उच्च लोकों को जाते हैं, रजोगुण में स्थित राजस पुरुष मध्य में अर्थात मनुष्य लोक में ही रहते हैं और तमोगुण के कार्यरूप निद्रा, प्रमाद और आलस्यादि में स्थित तामस पुरुष अधोगति को अर्थात कीट, पशु आदि नीच योनियों को तथा नरकों को प्राप्त होते हैं | इसको और सरल भाषा में ये कहा जा सकता है कि कर्मों पर आधारित जीव की ३ तरह की गतियां होती हैं :- १- उर्ध्व गति, २- स्थिर गति और ३- अधो गति | प्रत्येक जीव की ये ३ तरह की गतियां होती हैं | यदि कोई मनुष्यात्मा मरकर उर्ध्व गति को प्राप्त होती है तो वह देवलोक को गमन करती है | स्थिर गति का अर्थ है कि वह फिर से मनुष्य बनकर वह सब कार्य फिर से करेगा, जो कि वह कर चुका है | अधोगति का अर्थ है कि अब वह संभवत: मनुष्य योनि से नीचे गिरकर किसी पशु योनि में जाएगा या यदि उसकी गिरावट और भी अधिक है तो वह उससे भी नीचे की योनि में जा सकता है अर्थात नीचे गिरने के बाद कहां जाकर वह अटकेगा, कुछ कह नहीं सकते | कहने का तात्पर्य यह है कि जीव के अगली योनि या मोक्ष का निर्धारण उसके कर्मों के आधार पर ही होता है |* *आज प्राय: देखने को मिलता है कि बहुतायत की संख्या में लोग मठों , मन्दिरों एवं ज्योतिषियों के पास लाईन लगाकर यह जानने की उत्कण्ठा रखते हैं कि उनका भविष्य क्या होगा ?? आज तो सोशल मीडिया के माध्यम से भी अनेकों विद्वान लोगों का भविष्य बता रहे हैं | परंतु मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का यही मानना है कि ऐसा जानने की इच्छा करने वाले लोग या तो धर्मग्रंथों को मानते नहीं हैं और यदि मानते भी हैं तो उनका विश्वास दृढ नहीं है | क्योंकि लगभग प्रत्येक धर्मग्रंथ में यही पढने को मिलता है कि "भाग्य का निर्माण कर्मोंं के आधार पर ही होता है" बाबा तुलसीदास जी ने तो मानस में स्पष्ट कह दिया है कि :- "काहु न कोउ सुख दुख कर दाता ! निज कृत कर्म भोग सब ताता !! मानस की यह चौपाई पढ लेने के बाद मनुष्य को स्वयं समझ जाना चाहिए कि हमारा भविष्य कैसा होगा | मोक्ष मिलना या न मिलना हमारे ही हाथ में हैं | यह भी कहा जा सकता है कि हमको जीवन मरण के इस चक्र से छुटकारा यदि हमें कोई दिला सकता है तो वह हम स्वयं एवं कर्म हैं | आज जिस प्रकार का वातावरण विकसित हो गया है उसे देखकर तो यही लगता है कि ऊर्ध्वगति प्राप्त करने वालों की संख्या कम एवं अधोगति का संख्याबल ज्यादा ही है |* *हमारा प्रयास यही होना चाहिए कि यदि ऊर्ध्वगति को न प्राप्त हों सकें तो अधोगति से भी बचे रहें एवं स्थिर गति प्राप्त करके पुन: मनुष्य होकर प्रायश्चित कर सकें |*

अगला लेख: काम प्रवृत्ति :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में उत्पन्न चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ , इस सम्पूर्ण सृष्टि के शासक / पालक ईश्वर का युवराज मनुष्य अपने अलख निरंजन सत चित आनंग स्वरूप को भूलकर स्वयं ही याचक बन बैठा है | स्वयं को दीन हीन व दुर्बल दर्शाने वाला मनुष्य उस अविनाशी ईश्वर का अंश होने के कारण आत्मा रूप में अजर अमर अव
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*सनातन संस्कृति इतनी मनोहारी है कि समय समय पर आपसी प्रेम सौहार्द्र को बढाने वाले त्यौहार ही इसकी विशिष्टता रही है | शायद ही कोई ऐसा महीना हो जिसमें कि कोई त्यौहार न हो , इन त्यौहारों के माध्यम से समाज , देश एवं परिवार के बिछड़े तथा अपनों से दूर रह रहे कुटुंबियों को एक दूसरे से मिलने का अवसर मिलता है
27 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास
03 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं
20 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
*सनातन काल से मनुष्य धर्मग्रंथों का निर्देश मान करके ईश्वर को प्राप्त करने का उद्योग करता रहा है | भिन्न - भिन्न मार्गों से भगवत्प्राप्ति का यतन किया जाता रहा है | इन्हीं में एक यत्न है माला द्वारा मंत्रजप | कुछ लोग यह पूंछते रहते हैं कि धर्मग्रंथों में दिये गये निर्देशानुसार यदि निश्चित संख्या में
29 अगस्त 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
27 अगस्त 2018
*मानव शरीर को गोस्वामी तुलसीदास जी ने साधना का धाम बताते हुए लिखा है :--- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाइ न जेहि परलोक संवारा !! अर्थात :- चौरासी लाख योनियों में मानव योनि ही एकमात्र ऐसी योनि है जिसे पाकर जीव लोक - परलोक दोनों ही सुधार सकता है | यहाँ तुलसी बाबा ने जो साधन लिखा है वह साधन आखिर क्या ह
27 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x