पुष्कर : भगवान ब्रह्मा का एकमात्र मंदिर

12 सितम्बर 2018   |  Pratibha Bissht   (77 बार पढ़ा जा चुका है)

पुष्कर : भगवान ब्रह्मा का एकमात्र मंदिर - शब्द (shabd.in)

पुष्कर, जिसे अक्सर राजस्थान के गुलाब उद्यान के रूप में जाना जाता है, संस्कृति और ज्ञान का एक शहर है। पुष्कर भारत के सबसे पुराने शहरों में से एक है और हिंदु भक्तो के लिए पांच पवित्र धामों में से एक है। यह भगवान ब्रह्मा को समर्पित बहुत कम मंदिरों में से एक है। पुष्कर में नवंबर के महीने में आयोजित होने वाले वार्षिक पुष्कर ऊंट मेले के लिए प्रसिद्ध है। यह राजस्थान में उन बहुत कम स्थानों में से एक है जो किले की वजह से प्रसिद्ध नहीं है। यह पवित्र शहर पर्यटकों को अपने कई मंदिरों के लिए और व्यापक रूप से आकर्षित करता है। शहर तीन तरफ से छोटी पहाड़ियों से घिरा हुआ है और तरफ से रेगिस्तान से । यह अजमेर शहर से केवल 10 किमी की दूरी पर ही है।


पुष्कर से जुडी और खबरें यहाँ पढ़े :


ब्रह्मा मंदिर:

राजस्थान के पुष्कर में स्थित जगत्पिता ब्रह्मा मंदिर भगवान ब्रह्मा को समर्पित सबसे प्रसिद्ध हिंदू मंदिर है। भगवान ब्रह्मा ब्रह्मांड के निर्माता के रूप में माना जाता है। भारत में ब्रह्मा को समर्पित एकमात्र मंदिर होने के नाते, हर साल यह लाखों तीर्थयात्रियों आते है। मूल रूप से 14 वीं शताब्दी में बनाया गया ब्रह्मा मंदिर 2000 वर्ष पुराना माना जाता है। शुरुआत में ऋषि विश्वामित्र द्वारा निर्मित, इस मंदिर का नवीकरण आदि शंकराचार्य के निरिक्षण में कई बार हुआ। संगमरमर और विशाल पत्थरो से निर्मित इस मंदिर में भगवान ब्रह्मा की छवियां उनकी दो पत्नियों, गायत्री और सावित्री के साथ हैं।

ऐसा माना जाता है कि भगवान ब्रह्मा यज्ञ को शांतिपूर्वक और राक्षसों के किसी भी बाधा के बिना करना चाहते थे। जब वह एक शांत जगह की खोज कर रहे थे तब उनके हाथ से कमल का फूल पुष्कर में गिर गया। इसलिए, उन्होंने पुष्कर में अपना यज्ञ करने का फैसला किया। 'पुष्प' का अर्थ है 'फूल' और 'कर' का अर्थ है 'हाथ'। दुर्भाग्य से, भगवान ब्रह्मा की पत्नी, सावित्री उनके साथ मौजूद नहीं थीं। इसलिए, उन्होंने गुर्जर समुदाय की एक लड़की गायत्री से शादी की और यज्ञ के सभी अनुष्ठानों को पूरा किया। जब सावित्री ने अपने पति को किसी और महिला से विवाह करते देखा तो वह परेशान हो गई और उन्होंने ब्रह्मा को शाप दिया कि उसकी भक्तों द्वारा कहीं भी उनकी पूजा नहीं की जाएगी, बल्कि केवल पुष्कर में होगी। इसलिए, ब्रह्मा मंदिर भगवान ब्रह्मा को समर्पित एकमात्र मंदिर है।

पुष्कर झील:

50 से अधिक स्नान घाटों से घिरा हुआ, पुष्कर झील राजस्थान के पुष्कर में अरावली पर्वतमाला के बीच है। हिंदू धर्मशास्त्र के अनुसार, इसमें पांच पवित्र झीलों को सामूहिक रूप है जिसे पंच-सरोवर कहा जाता है जो इस प्रकार है - मानसरोवर, बिंदू सरोवर, नारायण सरोवर, पम्पा सरोवर और पुष्कर सरोवर।

इनमें से पुष्कर सरोवर या पुष्कर झील सबसे महत्वपूर्ण है। ऐसा माना जाता है कि इन घाटों के पानी में औषधीय मूल्य होते हैं और सभी त्वचा की समस्याओं का इलाज कर सकता हैं।

वराह मंदिर:

12 वीं शताब्दी में बनाया गया वराहा मंदिर मुगल सम्राट औरंगजेब द्वारा नष्ट कर दिया गया था। इसे बाद में 18 वीं शताब्दी में राजा सवाई मान सिंह द्वितीय द्वारा पुनर्निर्मित किया गया था।

रंगजी मंदिर:

रंगजी मंदिर मुगल वास्तुकला की झलक के साथ दक्षिण भारतीय वास्तुकला शैली का प्रतिबिंब है। यह पुष्कर के शीर्ष तीन मंदिरों में से एक है जो विष्णु के एक अवतार रंगजी को समर्पित है। यह मंदिर दक्षिण भारतीय तीर्थयात्रियों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है। ऐसा माना जाता है कि मंदिर को 1823 में सेठ पूरन मल गानेरीवाल द्वारा शुरू किया गया था जो हैदराबाद से थे। मंदिर में अन्य देवताओं की मूर्तियां भी हैं जिनमे देवी लक्ष्मी, भगवान कृष्ण और श्री रामानुजचार्य शामिल हैं।

सावित्री मंदिर:

सावित्री मंदिर, जो 1687 में रत्नागिरी पहाड़ी के शीर्ष पर बनाया गया था, भगवान ब्रह्मा की पत्नी सावित्री को समर्पित है। ब्रह्मा जी की पहली पत्नी सावित्री के साथ साथ यह उनकी दूसरी पत्नी गायत्री की मूर्ति भी मौजूद हैं।

मेड़ता शहर:

मेड़ता एक पुराना शहर है। मीराबाई भगवान कृष्ण की बहुत प्रसिद्ध भक्त यहां पैदा हुए थी। वह एक कवि और राजकुमारी थीं जिन्होंने भगवान कृष्ण पर कई प्रशंसित गीत और कविता लिखी थी।

मन महल:

मन महल मूल रूप से अम्बर के राजा मान सिंह प्रथम द्वारा बनाया गया था। यह पवित्र पुष्कर झील के पूर्वी हिस्से में स्थित है। मन महल को अब राजस्थान पर्यटन विकास निगम (आरटीडीसी) के प्रशासन में एक होटल में बदल दिया गया है।

महादेव मंदिर:

भगवान महादेव को समर्पित यह मंदिर पुष्कर में सबसे पवित्र स्थल में से एक है। 19वीं शताब्दी में निर्मित, इस मंदिर में भगवान शिव की एक पांच चेहरों की सफेद संगमरमर की मूर्ति है।

गुलाब गार्डन:

गुलाब गार्डन राजस्थान के रेगिस्तान में एक सुखद आकर्षण है। गुलाब की कुछ प्रजातियां स्थानीय किसानों द्वारा उगाई जाती हैं जबकि कुछ दुनिया के विभिन्न हिस्सों से यह ले के आई गई हैं।

पुष्कर पशु मेला:

पुष्कर शहर में पुष्कर झील के किनारे आयोजित वार्षिक पांच दिवसीय ऊंट और पशु मेला दुनिया के सबसे बड़े ऊंट मेले में से एक है। कार्तिक पूर्णिमा के समय आयोजित, इस मेले को 'दुनिया का सबसे बड़ा पशु मेला' भी कहा जाता है।

राजस्थान उत्सव की भूमि है, और पुष्कर निस्संदेह इसका केंद्र है। इस शहर में कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मेले आयोजित किए जाते हैं। इनमें से सबसे प्रसिद्ध पुष्कर मेला है जो अक्टूबर के अंत में या नवंबर के शुरू में एक हफ्ते के लिए आयोजित किया जाता है।इन मेलों में कई छोटे स्टालों शामिल होते हैं जो परंपरागत राजस्थानी कपड़े, खाद्य पदार्थ के साथ-साथ सजावट का सामान बेचते हैं।

इस समय के दौरान पुष्कर में इंटरनेशनल हॉट एयर बुलून फेस्टिवल भी आयोजित किया जाता है और दुनिया भर से उत्साही लोगों को आकर्षित करता है।

'पुष्कर मेला' फेयर भारत में सबसे प्रसिद्ध और सबसे पुराने मेलों में से एक है जहां आगंतुक भारतीय संस्कृति के असंख्य रंगो को देख सकते हैं। मेला, जिसे 'पुष्कर मेला' के नाम से जाना जाता है, मुख्य रूप से कार्तिक पूर्णिमा महोत्सव की महिमा करने के लिए मनाया जाता है।

पुष्कर शहर अपने बड़े और व्यस्त शॉपिंग स्थलों के लिए व्यापक रूप से जाना जाता है। यह के बजारों में पारंपरिक राजस्थानी हस्तशिल्प, आभूषण, चमड़े और स्टड 'कुंडन' स्टड के चीज़ें मिलती है, यह के स्थानीय पारंपरिक राजस्थानी परिधान भी यह आसानी से पाए जाते है।


पुष्कर : भगवान ब्रह्मा का एकमात्र मंदिर - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: राष्ट्रीय पोषण सप्ताह



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अगस्त 2018
बुधवार को एशियाई खेलों 2018 में पुरुषों की ट्रिपल जंप श्रेणी में अर्पिंदर सिंह ने स्वर्ण पदक जीत लिया है | अर्पिंदर सिंह ने भारतके लिए 10 वां गोल्डमेडल जीता | अर्पिंदर
29 अगस्त 2018
28 अगस्त 2018
नीना वाराकिल ने सोमवारको चल रहेएशियाई खेलों में महिलाओंकी लंबी कूदप्रतियोगिता में दूसरेस्थान पर रहने के बादभारत को एथलेटिक्सक्षेत्र में एक
28 अगस्त 2018
30 अगस्त 2018
गुजरात कीराजधानीगांधीनगरअपनेसमृद्धसांस्कृतिकविरासत,सुंदरमंदिरोंऔरशांतवातावरणकेलिएजानाजाता है।गांधीनगरसाबरमतीनदीकेपश्चिमीतटपरस्थितहै।देशकेसबसेखूबसूरतमंदिरमेंसेएकअक्षरधाममंदिरयहाँपेहै।राष्ट्रपितामहात्मागांधीकेनामपरइसशहरकानामगांधीनगररखागयाहै,यहचंडीगढ़केबादभारतकादूसरानियोजितशहरहै।यहशहरतीससेक्टर्समेंबंटा
30 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रीएनटी राम रावके पुत्र - अभिनेता-राजनेता नंदमुरी हरिकृष्ण का आज सुबहनालगोंडा में सड़कदुर्घटना में निधन हो गया । 61 वर्षीय हैदराबाद से नेल्लोर जा रहे थे | दुर्घटना अन्नपार्थी गांव के पास हुई थी। वह अपनी कार खुद
29 अगस्त 2018
28 अगस्त 2018
एशियाई गेम्स 2018 मेंपुरुषों के 800 मीटर फाइनलमें मनजीत सिंहने स्वर्ण जीताजबकि जिनसन जॉनने रजत जीतलिया है | मनजीत सिंह ने1:46:15 मिनट में यह रेसपूरी की जबकि जिनसन जॉनसन ने 1:46:35 मिनट का समय लिया
28 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x