नक्षत्र - एक विश्लेषण

12 सितम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण

पुनर्वसु

आज फिर नक्षत्र-चर्चा | मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दों पर चर्चा के क्रम में अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, रोहिणी, मृगशिर और आर्द्रा नक्षत्रों के बाद अब चर्चा करते हैं पुनर्वसु नक्षत्र के नाम का अर्थ क्या है और इसकी निष्पत्ति किस प्रकार हुई है |

नक्षत्र मण्डल के सप्तम नक्षत्र पुनर्वसु का शाब्दिक अर्थ है ऐसी सम्पत्ति जो निरन्तर आती रहे – निरन्तर प्राप्त होती रहे – एक के बाद एक सफलता व्यक्ति को जीवन में प्राप्त होती रहे | वसुओं को उप देवताओं के समान माना जाता है तथा वसु अपने आप में शुभता, उदारता, धन तथा सौभाग्य जैसी विशेषताओं के स्वामी होते है | पुनर्वसु नक्षत्र आर्द्रा नक्षत्र के बाद आता है तथा आर्द्रा नक्षत्र में जातक का स्वभाव भी उग्र हो सकता है जिसके कारण उसकी धन के प्रति अनिच्छा भी हो सकती है अथवा धन का अभाव भी हो सकता है | इसी कमी को पूरा करने के लिए पुनर्वसु नक्षत्र का आगमन होता है जो इसके नाम के अर्थ को सार्थक करता है। पुनर्वसु नक्षत्र का आगमन सौभाग्य का सूचक माना जाता है तथा इस प्रकार पुनर्वसु शब्द का अर्थ पुन: सौभाग्यशाली हो जाना सार्थक हो जाता है | और सौभाग्यशाली होने से अभिप्राय केवल आर्थिक स्तर पर सौभाग्यशाली होना ही नहीं होता, अपितु जीवन के हर क्षेत्र में सौभाग्यशाली होने से – जीवन के हर क्षेत्र में सफल होने से इसका अभिप्राय होता है | भगवान् विष्णु और शिव का भी एक नाम पुनर्वसु है | इसमें दो या चार तारे होते हैं | इस नक्षत्र के अन्य नाम हैं : अदिति (स्वतन्त्र, असीम, नि:सीम, समग्र, प्रसन्न, पवित्र और पृथिवी) | अदिति दक्ष की प्रिय पुत्री भी थीं जिनका विवाह काश्यप ऋषि के साथ हुआ था | द्वादश आदित्य कश्यप और अदिति के ही पुत्र माने जाते हैं (अदितेः अपत्यं पुमान् आदित्यः) | ऋग्वेद के अनुसार अदिति निरन्तर शिशुओं तथा पशु सम्पत्ति पर अपनी कृपा की वर्षा करती हुई उनकी रक्षा करती रहती है तथा क्षमा की देवी है (अदितिर्द्यौरदितिरन्तरिक्षमदितिर्माता स-पिता स-पुत्रः | विश्वे देवा अदितिः पञ्च जना अदितिर्जातमदितिर्जनित्वम् ||) | यह नक्षत्र दिसम्बर और जनवरी में पौष माह में आता है |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/09/12/constellation-nakshatras-15/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अगस्त 2018
गुरुवार, 30 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:58 पर सूर्यास्त : 18:45 पर चन्द्र राशि : मीन 20:00 तक, तत्पश्चात मेष चन्द्र नक्षत्र : रेवती 20:00 तक / पंचक समाप्ति, तत्पश्चात अश्विनी
29 अगस्त 2018
02 सितम्बर 2018
श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ सोमवार, 03 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:00 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:40 पर चन्द्र राशि : वृषभ चन्द्र नक्षत्र : रोहि
02 सितम्बर 2018
15 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
15 सितम्बर 2018
01 सितम्बर 2018
श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ रविवार, 02 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:59 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:41 पर चन्द्र राशि : वृषभ चन्द्र नक्षत्र : कृत्
01 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
09 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
27 सितम्बर 2018
25 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
25 सितम्बर 2018
28 अगस्त 2018
बुधवार, 29 अगस्त2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 05:57 पर सूर्यास्त : 18:46 पर चन्द्र राशि : मीन चन्द्र नक्षत्र : उत्तर भाद्रपद 18:47 तक, तत्पश्चात रेवती / पंचक तिथि
28 अगस्त 2018
09 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
09 सितम्बर 2018
06 सितम्बर 2018
रोहिणी सभी 27 नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति के क्रम में अबतक हमने अश्विनी, भरणी और कृत्तिका नक्षत्रों के नामों पर बात की| इसी क्रम में आज बात करते हैं रोहिणी नक्षत्र की | रोहिणी की निष्पत्ति रूह् धातु से हुई है जिसका अर्थ है उत्पन्न करना, वृद्धि करना, ऊपर चढ़ना, आगे बढ़
06 सितम्बर 2018
05 सितम्बर 2018
गुरुवार, 06 सितम्बर2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:01 पर सिंहमें / पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र सूर्यास्त : 18:37 पर चन्द्र राशि : मिथुन 09:45 तक, तत्पश्चातकर्क चन्द्र नक्षत्र : पुनर्वसु 15:13 तक, तत
05 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
08 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x