ऋषि पंचमी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

14 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (97 बार पढ़ा जा चुका है)

ऋषि पंचमी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी है | परंतु मनुष्य को गलतियों का पुतला भी कहा गया है ` किसी भी समय किसी भी विषय में भूल हो जाना स्वाभाविक है या यूं कहिये कि यह मानव स्वभाव है | जीवन में नैतिक या अनैतिक किसी भी प्रकार की भूलों का प्रायश्चित करने के लिए हमारे महर्षियों ने व्रत विधान बतलाये हैं | इसी क्रम में भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को "ऋषि पंचमी" का व्रत करने का मार्गदर्शन हमें सनातन शास्त्रों से मिलता है | "ऋषि पंचमी" के व्रत में निर्जल रह कर के अरुंधति के सहित सप्तर्षियों का पूजन किया जाता है | यह पूजन करने की आवश्यकता क्यों पड़ी इसकी बड़ी रोचक कथा हमारे पुराणों में प्राप्त होती है | देवराज इंद्र ने वृत्तासुर का वघ किया जिसके कारण उनको ब्रह्म हत्या का दोष लग गया | विकट वेष बनाकर के ब्रह्म हत्या इन्द्र के पीछे पीछे घूमने लगी | ऐसी स्थिति में देवराज इंद्र सरोवर के जल में छुप गये एवं पृथ्वी के राजा "नहूष" इंद्र पद पर सुशोभित हुए | ब्रह्म हत्या से पीड़ित हो करके इंद्र ब्रह्मा जी के पास गए | ब्रह्मा जी ने ब्रह्म हत्या को चार भागों में बांट दिया | प्रथम भाग अग्नि को दिया | द्वितीय भाग वृक्षों को दे दिया | तीसरा भाग ब्रह्मा जी ने नदियों को दिया और बचा हुआ चौथा भाग स्त्रियों को दे दिया | इन चारों ने ब्रह्मा जी के आदेशानुसार ब्रह्महत्या तो अपने सिर पर ले ली परंतु इसका दोष कम करने का उपाय भी पूछा | तब ब्रह्मा जी ने इन चारों को वरदान भी दिया कि :--- यदि प्रज्ज्वलित हुई पवित्र अग्नि में कोई हविष्यान्न के अतिरिक्त अन्य सामग्री डालता है तो उसे ब्रह्महत्या का दोष लगेगा | वृक्षों को वरदान दिया कि पूर्णिमा, अमावस्या संक्रान्ति या अन्य धार्मिक पर्वों पर यदि कोई तुम्हारा छेदन भेदन करता है उस को ब्रह्महत्या का पाप लगेगा | नदियों को वरदान दिया यदि तुम्हारे जल के अंदर कोई मल मूत्र का त्याग करता है या कोई तुम्हारे अंदर थूकता है तो वह ब्रह्म हत्या का दोषी होगा | वहीं स्त्रियों को वरदान दिया कि ब्रह्म हत्या का दोस्त उस मनुष्य को लगेगा जो रजस्वला स्त्री को स्पर्श करेगा या उनके साथ मैथुन करने का प्रयास करेगा | इस प्रकार चार भागों में विभक्त ब्रह्महत्या ने इन्द्र का पीछा छोड़ दिया | अनजाने में कोई उपरोक्त कार्य करता है उसके दोष का शमन करने के लिए "ऋषि पंचमी" का व्रत रखा जाना अनिवार्य है |* *आज हमारी स्थिति यह हो गई है कि हम अपने ही मान्यताओं / पर्वों से अनभिज्ञ होते जा रहे हैं | क्योंकि हम आज अपने धर्मग्रंथों का, शास्त्रों का , पुराणों का अध्ययन नहीं करना चाहते | इन बातों के विषय में बताने वाले अपने बुजुर्गों का भी हमने त्याग कर दिया है | बुजुर्ग समय-समय पर हमको इन वर्जनाओं के विषय में बता करके सावधान किया करते थे , और भूल हो जाने पर उनका परिहार भी बताया करते थे | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह कब सकता हूँ कि आज एकल परिवार के चलन ने बुजुर्गों को हमसे दूर कर दिया , और अपनी व्यस्तताओं के कारण ग्रंथ हमसे अपने आप दूर होते चले जा रहे हैं | साथ ही साथ कहीं ना कहीं से हमारी श्रद्धा एवं विश्वास भी विचलित हुआ है | यही कारण है कि आज लोग जब हमसे हमारे धर्म के विषय में कोई चुटीला प्रश्न कर देते हैं तो हम उनका मुंह देखने के अलावा और कुछ नहीं कर पाते क्योंकि हमने अपने ग्रंथों का अध्ययन नहीं किया है , हमने अपनी संस्कृति को जानने का प्रयास नहीं किया है , इसीलिए हम वहां दोषी बन करके और विरोधियों की हंसी का पात्र बन कर के लौटने को मजबूर हो जाते हैं | नहीं ज्यादा तो कम से कम हमें अपने पर्वो , अपने त्योहारों एवं धार्मिक तिथियों के विषय में ज्ञान तो होना ही चाहिए , नहीं तो हम आने वाले दिनों में कुछ भी जानने के योग्य नहीं रह जाएंगे |* *प्रत्येक मनुष्य को २४ घंटे में कुछ समय निकालकर अपने धर्म ग्रंथों का अध्ययन अवश्य करना चाहिए ! जिससे कि हम अपनी संस्कृति के विषय में ज्ञानार्जन कर सकें |*

अगला लेख: नारी :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास के
03 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
नई दिल्ली। पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर रामेश्वरम में कलाम के मैमोरियल का उद्घाटन किया था। रामेश्वरम वही जगह है जिसे हिंदू धर्म के चार धामों में से एक माना जाता है।रामेश्वरम हिंदुओं का एक पवित्र तीर्थ है। यह तमिलनाडु के राम
02 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
रांची। झारखंड की राजधानी रांची से करीब 80 किलोमीटर दूर रजरप्पा स्थित छिन्नमस्तिके मंदिर शक्तिपीठ के रूप में काफी विख्यात है। यहां भक्त बिना सिर वाली देवी मां की पूजा करते हैं और मानते हैं कि मां उन भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी करती हैं। मान्यता है कि असम स्थित मां कामाख
10 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
भगवान श्रीकृष्ण के उपदेश आज भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं, जितने महाभारत के युद्ध से पूर्व अर्जुन के लिए थे। भगवान श्री कृष्ण का व्यवहारिक ज्ञान का सार आज भी उन तमाम युवाओं के प्रेरणासोत्र हैं जो इस प्रतियोगी युग में सफलता पाने की कामना रखते है।श्रीकृष्ण द्वारा दी गयी शिक्षा
07 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धरती पर मनुष्य का प्रसन्न होना एक मानसिक दशा है | प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए धन - ऐश्वर्य का होना आवश्यक नहीं है | प्राय: देखा जाता है कि मध्यमवर्गीय लोग धनी लोगों से कहीं अधिक प्रसन्न रहते हैं , अपने परिवार व मित्रों के बीच उनके खुशी के ठहाके सुने जा सकते हैं | प्रसन्न रहने का रहस्य यही है क
03 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण विश्व में हर्षोल्लास एवं धूमधाम से मनाया जाने वाला छ: दिवसीय श्रीकृष्ण जन्मोत्सव "जन्माष्टमी" आज भगवान की छठी मनाने के साथ पूर्णता को प्राप्त करेगा | मनुष्य जीवन जन्म लेने की छठवें दिन मनाया जाने वाला यह पर्व विशेष महत्व रखता है | भादों की अंधियारी रात में अष्टमी तिथि को कारागार में जन्म ल
08 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण सृष्टि नारी एवं पुरुष के संयोग से उत्पन्न हुई है | पुरुष में भी जिसका आचरण अतुलनीय हो जाता है उसे "पुरुषोत्तम" की संज्ञा दी जाती है | सनातन साहित्यों में वैसे तो पुरुषोत्तम शब्द का प्रयोग कई स्थानों पर भिन्न भिन्न चरित्रों के लिए किया गया है , परंतु चर्चा मात्र दो की ही प्राय: होती है | जि
08 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
*सनातन काल से हमारे समाज के सृजन में परिवार के बुजुर्गों का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है | हमारे ज्येष्ठ एवं श्रेष्ठ बुजुर्ग सदैव से हमारे मार्गदर्शक रहे हैं चाहे वे शिक्षित रहे हों या अशिक्षित | बुजुर्ग यदि अशिक्षित भी रहे हों तब भी उनके पास अपने जीवन के खट्टे - मीठे इतने अनुभव होते हैं कि वे उन अनुभ
04 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का अवतार पूर्णावतार कहा जाता है क्योंकि वे १६ कलाओं से युक्त थे | "अवतार किसे कहते हैं यह जानना परम आवश्यक है | चराचर के प्रत्येक जड़ - चेतन में कुछ न कुछ कला अवश्य होती है | पत्थरों में एक कला होती है दो कला जल में पाई जाती है | अग्नि में तीन कलायें पाई जाती हैं तो वायु में चार क
04 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का अवतार पूर्णावतार कहा जाता है क्योंकि वे १६ कलाओं से युक्त थे | "अवतार किसे कहते हैं यह जानना परम आवश्यक है | चराचर के प्रत्येक जड़ - चेतन में कुछ न कुछ कला अवश्य होती है | पत्थरों में एक कला होती है दो कला जल में पाई जाती है | अग्नि में तीन कलायें पाई जाती हैं तो वायु में चार क
04 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में त्यौहारों की कमी नहीं है | नित्य नये त्यौहार यहाँ सामाजिक एवं धार्मिक समसरता बिखेरते रहते हैं | ज्यादातर व्रत स्त्रियों के द्वारा ही किये जाते हैं | कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्रों के लिए | इसी क्रम में आज भाद्रपद कृष्णपक्ष की षष्ठी (छठ) को भगवान श्री कृष्णचन्द्र जी के
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का नाम मस्तिष्क में आने पर एक बहुआयामी पूर्ण व्यक्तित्व की छवि मन मस्तिष्क पर उभर आती है | जिन्होंने प्रकट होते ही अपनी पूर्णता का आभास वसुदेव एवं देवकी को करा दिया | प्राकट्य के बाद वसुदेव जो को प्रेरित करके स्वयं को गोकुल पहुँचाने का उद्योग करना | परमात्मा पूर्ण होता है अपनी शक्त
03 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x