बचपन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (65 बार पढ़ा जा चुका है)

बचपन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में मनुष्य के बचपन का पूरा प्रभाव दिखता है | सम्पूर्ण जीवन की जड़ बचपन को कहा जा सकता है | जिस प्रकार एक बहुमंजिला भवन को सुदृढ बनाने के लिए उस भवन की बुनियाद ( नींव) का मजबूत होना आवश्यक हे उसी प्रकार मनुष्य को जीवन में बहुमुखी , प्रतिभासम्पन्न बनने के पीछे बचपन की स्थितियां - परिस्थितियाँ एवं कुशल पोषण की आवश्यकता होती है | जिस प्रकार कच्ची मिट्टी से कुम्हार जो चाहे आकार दे देता है , उसी प्रकार मनुष्य का बचपन भी कच्ची मिट्टी की तरह ही होता है | बचपन में मनुष्य का हृदय इतना सरल व कोमल होता है कि जो भी मन में बैठ गया वह जीवन भर नहीं भूलता है | इसीलिए पुरातनकाल में मातायें अपने बच्चों को ऐतिहासिक पुरुषों , बीर बालकों एवं अमर चरित्रों की कथायें / कहानियाँ सुनाई करती थीं | इन कहानियों को सुनाने का अर्थ मात्र मनोरंजन न होकरके बच्चों में उन चरित्रों का आरोपण करना ही मुख्य उद्देश्य होता था | प्रत्येक अभिभावक को यह ध्यान देना चाहिए कि अपने बच्चों के समक्ष कभी भी अभद्र भाषा या अभद्र व्यवहार नहीं करना चाहिए ! कभी बच्चों के समक्ष झूठ नहीं बोलना चाहिए ! यदि कुछ कह भी दिया है तो उसे पूरा करने का प्रयास करना चाहिए ! यदि किसी कारणवश आप किये गये वायदे को नहीं पूरा कर पा रहे हैं तो सम्भव हो तो उसे समझाने का प्रयास करें या फिर दूसरे दिन उससे किये गये वायदे को पूरा करने का प्रयास करें ! क्योंकि यदि बच्चे के समक्ष अभद्रता की जाती है या झूठ बोला जाता है तो इसका गहरा प्रभाव उस बाल सुलभ मन पर पड़ता है | क्योंकि बच्चे कुछ भी सिखाने की अपेक्षा देखकर अधिक सीखते हैं | अत: बच्चों के सामने उत्तम चरित्र ही प्रस्तुत करना ठीक रहता है | यदि उनके समक्ष आप अनुचित व्यवहार करते हैं तो बच्चा समझेगा यह हमारे कुल की रीति है और फिर बच्चा उसी सोॉच के अनुसार स्वयं को ढालने लगेगा |* *आज समाज में जिस प्रकार अनाचार , चोरी , झूठ , फरेब एवं घूसखोरी बढ रही है उसका कारण कहीं न कहीं से बचपन में मिले संस्कारों का विशेष योगदान माना जा सकता है | आज किसी भी कार्यालय में चले जाईये यदि आपको अपना काक्य सम्पन्न कपाना है तो फिर आपको "सुविधा शुल्क" देना ही पड़ेगा | यह सुविधा शुल्क लेने की आदत कब और कैसे पड़ जाती है यह विचारणीय विन्दु है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूँ कि आज सुविधा शुल्क लेना और बिना ले लिए कोई कार्य न करना बच्चे बचपन से ही सीख रहे हैं | याद कीजिए ! जब आप अपने बच्चे को दुकान पर किसी सामग्री हेतु धन देकर भेजने लगते हैं तो कह देते हैं कि बेटा ! एक रूपया आप ले लीजिएगा ! बच्चा खुशी से झूमता हुआ दुकान पर चला जाता है क्योंकि उसको सुविधा शुल्क मिल गया है | यही छोटी - छोटी सुविधायें आगे चलकर बच्चे का चरित्र निर्माण करती हैं | जब बच्चा किसी विभाग में किसा उच्च पद पर पदासीन होता है तो किसी भी कार्य को सुविधा शुल्क लिये बिना न करना उसकी आदत में हो जाता है | इसके लिए दोषी हम और आप स्वयं हैं क्योंकि इस आदत का बीजारोपण उसके बचपन में हमारे आपके द्वारा ही किया गया है |* *बचपन मानव की निर्माणशाला होने के साथ ही बहुत ही संवेदनशील समय होता है | यहीं से एक नव यात्री अपनी जीवनयात्रा प्रारम्भ करता है , अत: प्रत्येक अभिभावक को इसका विशेष ध्यान रखना चाहिए |*

अगला लेख: नारी :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 सितम्बर 2018
*इस धरती पर मनुष्य का प्रसन्न होना एक मानसिक दशा है | प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए धन - ऐश्वर्य का होना आवश्यक नहीं है | प्राय: देखा जाता है कि मध्यमवर्गीय लोग धनी लोगों से कहीं अधिक प्रसन्न रहते हैं , अपने परिवार व मित्रों के बीच उनके खुशी के ठहाके सुने जा सकते हैं | प्रसन्न रहने का रहस्य यही है क
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवतिभारत ! अभियुत्थानं अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ! परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ! धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे - युगे !! भगवान श्री कृष्ण एक अद्भुत , अलौकिक दिव्य जीवन चरित्र | जो सभी अवतारों में एक ऐसे अवतार थे जिन्होंने यह घोषणा की कि मैं परमात्मा हूँ
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म ने मानव मात्र को सुचारु रूप से जीवन जीने के लिए कुछ नियम बनाये थे | यह अलग बात है कि समय के साथ आज अनेक धर्म - सम्प्रदायों का प्रचलन हो गया है , और सनातन धर्म मात्र हिन्दू धर्म को कहा जाने लगा है | सनातन धर्म जीवन के प्रत्येक मोड़ पर मनुष्यों के दिव्य संस्कारों के साथ मिलता है | जी
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस संसार में समाज के प्रमुख स्‍तम्‍भ स्त्री और पुरुष हैं | स्त्री और पुरुष का प्रथम सम्‍बंध पति और पत्‍नी का है, इनके आपसी संसर्ग से सन्‍तानोत्‍प‍त्ति होती है और परिवार बनता है | कई परिवार को मिलाकर समाज और उस समाज का एक मुखिया होता था जिसके कुशल नेतृत्व में वह समाज विकास करता जाता था | इस विकास
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धरती पर मनुष्य का प्रसन्न होना एक मानसिक दशा है | प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए धन - ऐश्वर्य का होना आवश्यक नहीं है | प्राय: देखा जाता है कि मध्यमवर्गीय लोग धनी लोगों से कहीं अधिक प्रसन्न रहते हैं , अपने परिवार व मित्रों के बीच उनके खुशी के ठहाके सुने जा सकते हैं | प्रसन्न रहने का रहस्य यही है क
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर भगवान के अनेकों अवतार हुए हैं , इन अवतारों में मुख्य एवं प्रचलित श्री राम एवं श्री कृष्णावतार माना जाता है | भगवान श्री कृष्ण सोलह कलाओं से युक्त पूर्णावतार लेकर इस धराधाम पर अवतीर्ण होकर अनेकों लीलायें करते हुए भी योगेश्वर कहलाये | भगवान श्री कृष्ण के पूर्णावतार का रहस्य समझने का प्रय
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य एक अलौकिक प्राणी है | मनुष्य ने वैसे तो आदिकाल से लेकर वर्तमान तक अनेकों प्रकार के अस्त्र - शस्त्रों का आविष्कार करके अपने कार्य सम्पन्न किये हैं | परंतु मनुष्य का सबसे बड़ा अस्त्र होता है उसका विवेक एवं बुद्धि | इस अस्त्र के होने पर मनुष्य कभी परास्त नहीं हो सकता परंतु आवश्यकता हो
03 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में उत्पन्न चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ , इस सम्पूर्ण सृष्टि के शासक / पालक ईश्वर का युवराज मनुष्य अपने अलख निरंजन सत चित आनंग स्वरूप को भूलकर स्वयं ही याचक बन बैठा है | स्वयं को दीन हीन व दुर्बल दर्शाने वाला मनुष्य उस अविनाशी ईश्वर का अंश होने के कारण आत्मा रूप में अजर अमर अव
03 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण का अवतार पूर्णावतार कहा जाता है क्योंकि वे १६ कलाओं से युक्त थे | "अवतार किसे कहते हैं यह जानना परम आवश्यक है | चराचर के प्रत्येक जड़ - चेतन में कुछ न कुछ कला अवश्य होती है | पत्थरों में एक कला होती है दो कला जल में पाई जाती है | अग्नि में तीन कलायें पाई जाती हैं तो वायु में चार क
04 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x