उसने कभी निराश नहीं किया

17 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

"उसने कभी निराश नहीं किया" एक ऐसी कहानी है जो हम सभी को आस्था से जोड़ती है।मेरी कुछ मान्यतायें हैं और शायद आप में से बहुतों की भी होंगी कि ईश्वर हर पल हमारी मदद करता है।हमें क्या करना है? हमें ईश्वर पर विश्वास करना है। हमें कर्म करना है। ध्यान रखना है कि हमारा कर्म किसी के दुख का कारण तो नहीं। ईश्वर से माँगने की जरुरत नहीं है। वह हमारी हर स्थिति-परिस्थिति को जानता है और उतनी सहायता जरुर करता है जिससे हमारा कल्याण होता है। उसकी सहायता सही समय पर और उचित मात्रा में मिलती है,ना कम,ना ज्यादा। व्यवहार में ही नहीं,विचार और मानसिक स्तर पर भी हमें साफ-सुथरा रहना होगा। जितनी मात्रा में हम अपनी सफाई करते जायेंगें,सुधरते जायेंगे उतनी मात्रा में उसकी कृपा मिलती जायेगी और हमारा जीवन सुखी होता जायेगा।

"उसने कभी निराश नही किया" शीघ्र ही आप सभी को पधढ़ने को मिलेगी। उम्मीद है कि यह कथा आपके मन में ईश्वर-प्रेम और विश्वास का बीज बोयेगी। शुभकामनाओं सहित

विजय कुमार तिवारी

17/09/2018

अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



रेणु
23 सितम्बर 2018

प्रतीक्षा है कहानी की आदरणीय |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 सितम्बर 2018
को
मौलिक कविता 21/11/1984कोख की रोशनीविजय कुमार तिवारीतुम्हारी कोख में उगता सूरज,पुकारता तो होगा?कुछ कहता होगा,गाता होगा गीत? फड़कने नहीं लगी है क्या-अभी से तुम्हारी अंगुलियाँ?बुनने नहीं लगी हो क्या-सलाईयों में उन के डोरे?उभर नहीं रहा क्या-एक पूरा बच्चा?तुम्हारे लिए रोते हुए,अंगली थामकर चलते हुए। उभर र
12 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
कहानीबदले की भावनाविजय कुमार तिवारीभोर की रश्मियाँ बिखेरने ही वाली थीं,चेतन बाहर आने ही वाला था कि उसके मोबाईल पर रिंगटोन सुनाई दिया। उसने कान से लगाया।उधर से किसी के हँसने की आवाज आ रही थी और हलो का उत्तर नही। कोई अपरिचित नम्बर था और हँसी भी मानो व्यंगात्मक थी। कौन हो सकती है? बहुत याद करने पर भी क
12 सितम्बर 2018
28 सितम्बर 2018
तु
कवितातुम खुश होविजय कुमार तिवारीआदिम काल में तुम्हीं शिकार करती थी,भालुओं का,हिंस्र जानवरों का और कबीले के पुरुषों का,बच्चों से वात्सल्य और जवान होती लड़कियों से हास-परिहासतुम्हारी इंसानियत के पहलू थे। तुम्हारी सत्ता के अधीन, पुरुष ललचाई निगाहों से देखता था,तुम्हारे फेंके गये टुकड़ों पर जिन्दा थाऔर
28 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
जन्म-जन्मान्तर के वैर के लिए क्षमा और प्रार्थना विजय कुमार तिवारी अजीब सी उहापोह है जिन्दगी में। सुख भी है,शान्ति भी है और सभी का सहयोग भी। फिर भी लगता है जैसे कटघरे में खड़ा हूँ।घर पुराना और जर्जर है। कितना भी मरम्मत करवाइये,कुछ उघरा ही दिखता है। इधर जोड़िये तो उधर टूटता है। मुझे इससे कोई फर्क नहीं
23 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा और पुनर्जन्मविजय कुमार तिवारी यह संसार मरणधर्मा है। जिसने जन्म लिया है,उसे एक न एक दिन मरना होगा। मृत्यु से कोई भी बच नहीं सकता। इसीलिए हर प्राणी मृत्यु से भयभीत रहता है। हमारे धर्मग्रन्थों में सौ वर्षो तक जीने की कामना की गयी है-जीवेम शरदः शतम। ईशोपनिषद में कहा गया है कि अपना कर्म करते हुए मन
23 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-2विजय कुमार तिवारीसौम्या शरीर से कमजोर थी परन्तु मन से बहुत मजबूत और उत्साहित। प्रवर जानता था कि ऐसे में बहुत सावधानी की जरुरत है। जरा सी भी लापरवाही परेशानी में डाल सकती है। पहले सौम्या ने अपनी अधूरी पढ़ायी पूरी की और मेहनत से आगे की तैयारी
26 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
अपना रोल मॉडल को कहाँ ढूढें?अपने मॉडल को पाने सबसे अच्छी जगह आपके विचार से सम्बन्धित संघ है। ऐसे संगठनों में स्वयंसेवी बनना अक्सर कुछ सबसे सफल सदस्यों से मिलने के लिए रास्ते विकसित करने का एक अच्छा तरीका है। विचार से सम्बंधित सम्मेलन भी एक उत्कृष्ट जरिया हो सकता हैं। यदि
09 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा और पुनर्जन्मविजय कुमार तिवारी यह संसार मरणधर्मा है। जिसने जन्म लिया है,उसे एक न एक दिन मरना होगा। मृत्यु से कोई भी बच नहीं सकता। इसीलिए हर प्राणी मृत्यु से भयभीत रहता है। हमारे धर्मग्रन्थों में सौ वर्षो तक जीने की कामना की गयी है-जीवेम शरदः शतम। ईशोपनिषद में कहा गया है कि अपना कर्म करते हुए मन
23 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x