महिलाओं के प्रति अपराध

19 सितम्बर 2018   |  रवि रंजन गोस्वामी   (147 बार पढ़ा जा चुका है)

महिलाओं के प्रति अपराध

आजकल न्यूज़ पढ़ने और देखने में डर लगता है । न्यूज चैनलस खोलते ही बुरी खबरों की बारिश होने लगती हैं । नियमित आपराधिक खबरों में भीड़ द्वारा किसी की हत्या, सीमा पर आतंक वादियों का उत्पात, देश में कहीं न कहीं कोई गैंग रेप । और हर बात पर सरकार और विपक्ष का एक दूसरे पर हमला । और ये सब इतनी नियमितता से हो रहा है जैसे भौतिकी में न्यूटन का नियम। न्यूज़ चैनल वाले बलात्कार जैसी घटनाओं का नाटकीय रूपान्तरण कर घटना की पूरी बीभत्सता मय संगीत और स्पेशल इफैक्ट और कमेंटरी सहित दर्शको के सम्मुख परोस कर समझते हैं वे कोई महान कार्य करते हैं। बढ़ते अपराध और खास तौर से समूहिक बलात्कार की घटनायें बहुत चिंता का विषय है । इन समस्याओं का विशेषज्ञों द्वारा सामाजिक ,आर्थिक ,मानोवैज्ञानिक अध्ययन अत्यंत आवश्यक है जिसकी मदद से उपुक्त कदम उठा कर इन घटनाओं को रोका जा सके । दीर्घकालीन नीति से पहले निम्न कदम तुरंत उठाने चाहिये ।

1-महिलाओं के प्रति अपराध में त्वरित कार्यवाही हो और कठोरतम दंड दिया जाये ।

2-अश्लीलता पर अंकुश ।

3-न्यूज़ चैनल्स कम से कम हाल में हुई किसी आपराधिक घटनाओं को मनोरंजन की तरह न परोसें ।

अगला लेख: सवर्णों को इस बिहार के मांझी की चेतावनी- 15% वाला देश जला सकता है तो 85% वाला हाथ में दही लेकर नहीं बैठा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
21 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
17 सितम्बर 2018
04 अक्तूबर 2018
पन्नों पर भी पहरे हैं✒️ बैठ चुका हूँ लिखने को कुछ, शब्द दूर ही ठहरे हैं,ज़हन पड़ा है सूना-सूना, पन्नों पर भी पहरे हैं।प्रेम किया वर्णों सेभावों कलम डुबोयासींची संस्कृति अपनीपूरा परिचय बोया,झंकृत अब मानस हैचमक रही है स्याहीपद्य सृजन में ठहराभटका सा एक राही;उभरें नहीं विचार पृष्ठ पर, सोये वे भी गहरे
04 अक्तूबर 2018
16 सितम्बर 2018
सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में एक लड़का, एक लड़की के साथ मारपीट कर रहा है. उसे गालियां दे रहा है. वीडियो रिकॉर्ड करने वाला लड़का उसे रुकने के लिए कह रहा है. लेकिन खुद कोई बीच-बचाव नहीं कर रहा है. करीब पौने दो मिनट का यह वीडियो किसी ऑफिस जैसा लगा रहा है. अब इस वीडियो के बारे
16 सितम्बर 2018
11 सितम्बर 2018
2007 में हैदराबाद में हुए दोहरे बम धमाका मामले में कोर्ट का फैसला आ गया है। एनआईए की विशेष अदालत ने इस मामले में दो आरोपी अनिक सईद और इस्माइल चौधरी को मौत की सजा सुनाई। साथ ही अन्य आरोपी तारिक अंजुम को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है।वहीं, आरोपी अनीक के वकीलों ने इस फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत में अप
11 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
प्
16 सितम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x