अपना सोंचा होत नहिं :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (100 बार पढ़ा जा चुका है)

अपना सोंचा होत नहिं :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सकल सृष्टि में ईश्वर ने मनुष्य को सभी अधिकार दे रखे हैंं | जैसी इच्छा हो वैसा कार्य करें यह मनुष्य के हाथ में है | इतना सब कुछ देने के बाद भी परमात्मा ने कुछ अधिकार अपने हाथ में ले रखे हैं | कर्मानुसार भोग करना मनुष्य की मजबूरी है | जिसने जैसा कर्म किया है , जिसके भाग्य में जैसा लिखा है वह उसको भोगना ही पड़ेगा | यह अधिकार परमात्मा ने मनुष्य को नहीं दिया है | आदिकाल से लेकर आज तक अनेक घटनाएं देखने को मिलती है जहां मनुष्य अपना सोचा हुआ कार्य नहीं कर पाता | किसी ने लिखा है :-- "अपना सोंचा होत नहिं हरि सोंचा तत्काल" | परमात्मा जो सोचता है या परमात्मा ने जो नियति बना रखी है वह तत्काल घटित हो जाता है , और मनुष्य की सारी योजनाएं धरी रह जाती हैं | महाराज दशरथ ने मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम को राजा बनाने की घोषणा कर दी थी परंतु परमात्मा की नियति नहीं थी और उनको बनवास जाना पड़ा | दैत्त्यगुरु शुक्राचार्य दैत्यराज बलि को स्वर्ग का राजा बनाने के लिए सौ यज्ञ करने का विधान बतलाया | राजा बलि ने ९९ यज्ञ पूरी भी कर ली , १००वीं करने जा रहा था जिसके बाद उसे स्वर्ग का राजा बनने से कोई नहीं रोक सकता था , लेकिन उसकी योजनाओं को रोका स्वयं परमात्मा ने , और बामन का अवतार रख कर के उसके सामने पहुंच गए | जो राजा अपने बाहुबल से स्वर्गाधिपति होना चाहता था उसको पाताल लोक भेज दिया | उसकी इच्छा अधूरी रह गई | इसीलिए हमारे महर्षियों ने बताया है कि मनुष्य को अपने सकारात्मक कर्म करते रहना चाहिए , कब क्या होना है ?? इसका निर्णय परमात्मा ही करेगा | क्योंकि यहां सारे विधान आपको कब क्या करना है कहां जाना है यह सब परमात्मा ने पहले से ही रच कर के रखा है | कोई काम बिगड़ जाने पर किसी का दोष ना दे करके इसे यह मानना चाहिए कि यही नियति है |* *आज के आधुनिक युग में मनुष्य ने बहुत प्रगति कर ली है चंद्रलोक की यात्रा करने वाला मंगल ग्रह पर भी पहुंच गया परंतु आज भी मनुष्य कर्म के लिखे को एवं परमात्मा की नियति को टालने में असमर्थ ही है | कुछ लोग ऐसे भी हैं जो परमात्मसत्ता को नहीं मानते हैं परंतु एक समय ऐसा आता है जब उनको भी उस सत्ता को मानना पड़ता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि मनुष्य किसी उत्सव का आयोजन तो बड़ी धूम-धाम से करता है परंतु कभी-कभी ऐसा होता है सारे आयोजन निरस्त करने पड़ते हैं , क्योंकि परमात्मा की नियत नहीं होती है | मनुष्य के समस्त संसाधन पड़े रह जाते हैं और वह परमशक्ति क्षण भर में अपना कार्य कर देती है | इसीलिए कहा गया है :-- "तेरी सत्ता के बिना हे प्रभु मंगल मूल ! पत्ता तक हिलता नहीं खिले ना कोई फूल !!" हम चाहे जितने प्रगतिशील हो जाए चाहे जितनी उन्नति कर ले लेकिन उस परमसत्ता के आगे हम हमेशा गौण ही रहेंगे | परंतु मनुष्य यह बात मानने को तैयार नहीं होता | आज का मनुष्य कहता है जो करता हूं मैं करता हूं परमात्मा क्या है परंतु वही परमात्मा अपने पर आता है मनुष्य के सारे मंसूबे धरे रह जाते हैं , और तब मनुष्य यह मानने को मजबूर हो जाता है कि इस संसार से अलग भी कोई शक्ती है जो इस संसार का संचालन कर रही है , और इसे मानना ही मनुष्य के हित में है | मनुष्य को अपना कर्म करते रहना चाहिए फल की चिंता नहीं करनी चाहिए , ऐसा योगेश्वर श्रीकृष्ण ने गीता में भी कहा है | आज अगर हम दुखी हैं तो इसका एक सबसे बड़ा कारण यह भी है कि हम स्वयं को ही सब कुछ मानने लगे हैं | जिस दिन स्वयं को कुछ ना मान करके परमात्मा को शक्ति को मानने लगेंगे उसी दिन सारे दुख दूर हो जाएंगे |* *यह मानना ही पड़ेगा कि हमारे अलावा भी कोई शक्ति है जो कि समस्त सृष्टि का संचालन कर रही है | जिसने इसको नहीं माना है वह पग-पग पर दुखी होता देखा गया है | अत: उस परम सत्ता को स्वीकार करना ही मनुष्य की बुद्धिमत्ता है |*

अगला लेख: भगवान की छठी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 सितम्बर 2018
*सनातन वैदिक धर्म में त्रिदेवों (ब्रह्मा , विष्णु एवं महेश) की सर्वोच्चता प्रत्येक देश , काल , परिस्थिति में व्याप्त है | ब्रह्मा जी सृजन करते हैं , श्री हरि विष्णु जी पालनकर्ता हैं तो भगवान रुद्र को संहारक कहा गया है | क्या भगवान शिव संहारक मात्र हैं ?? जी नहीं ! भगवान शिव का चरित्र रहस्स्यों से भर
09 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*आदिकाल से ही समाज व देश के विकास में युवाओं का अप्रतिम योगदान रहा है | समय समय पर सामाजिक बुराईयों का अन्त करने का बीड़ा युवाओं ने ही युठाया है | अपनी युवावस्था में ही मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम ने ताड़कादि का वध तो किया साथ वन को जाकर रावण आदि दुर्दांत निशाचरों का वध करके विकृत होती जा रही संस्कृत
07 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म इतना वृहद है कि नित्य किसी न किसी पर्व का एक नया दिन होता है | आज भाद्रपद शुक्लपक्ष की अष्टमी को त्याग की प्रतिमूर्ति महर्षि दधीचि का अवतरण दिवस , प्रेम की प्रतिमूर्ति रासरासेश्वरी राधिका जू का अवतरण दिवस होने के साथ आज ही सृष्टि का सृजन एवं निर्माण करने वाले "भगवान विश्वकर्मा का पूजन" (
17 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण की प्रत्येक लीला में एक रहस्य तो छुपा ही है साथ ही आम जनमानस के लिए एक संदेश भी उनकी लीला के माध्यम से मिलता है | जैसा कि ग्रंथों के माध्यम से यह बताया जाता है कि पूर्व जन्मोक्त कर्मों के आधार पर गोप ग्वाल या राक्षस बने प्राणियों का उद्धार भगवान ने "कृष्णावतार" में किया था ! इसी क्
07 सितम्बर 2018
15 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म एवं उसकी मान्यतायें इतनी वृहद एवं विस्तृत हैं कि इनका जोड़ सम्पूर्ण विश्व में कहीं नहीं मिलेगा | सम्पूर्ण विश्व ने कभी न कभी , किसी न किसी रूप में हमारे देश की संस्कृति से कुछ न कुछ शिक्षा अवश्य ग्रहण की है | बस अंतर यह है कि उन्होंने उन मान्यताओं को स्वीक
15 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
भा
*बिनु सत्संग विवेक न होई* *प्यारे भगवत्प्रेमी सज्जनों-* *प्रभु की कृपा से संत मिलते हैं आर जब संत मिलते हैं तो सत्संग होता है और सत्संग से ही विवेक विवेक जागृत होता* *सत्य और विवेक एक दूसरे के पूरक हैं ज्ञान होगा तो सत्संग में जाओगे और सत्संग में जाओगे तो ज्ञान मिलेगा जहां पर स
10 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण सृष्टि नारी एवं पुरुष के संयोग से उत्पन्न हुई है | पुरुष में भी जिसका आचरण अतुलनीय हो जाता है उसे "पुरुषोत्तम" की संज्ञा दी जाती है | सनातन साहित्यों में वैसे तो पुरुषोत्तम शब्द का प्रयोग कई स्थानों पर भिन्न भिन्न चरित्रों के लिए किया गया है , परंतु चर्चा मात्र दो की ही प्राय: होती है | जि
08 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में अनेकों प्राणियों के मध्य मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जिसमें कुछ विशेष विशेषतायें हैं जो कि अन्य प्राणियों में नहीं मिलती हैं | मनुष्य की तीन विशेष मौलिक विशेषतायें हैं :- विचार , वचन एवं व्यवहार | किसी अन्य प्राणी की अपेक्षा किसी भी विषय पर विचार करने की जो क्षमता है वह अन्य में नहीं
07 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x