6 साल की बच्ची के पेट से निकला कुछ ऐसा, देखकर डॉक्टर्स के पैरों के नीचे खिसक गई जमीन,

20 सितम्बर 2018   |  अभय शंकर   (88 बार पढ़ा जा चुका है)

6 साल की बच्ची के पेट से निकला कुछ ऐसा, देखकर डॉक्टर्स के पैरों के नीचे खिसक गई जमीन,

6 साल की बच्ची के पेट में काफी समय से दर्द रहता था। जब उसकी सर्जरी की गई तो पेट से कुछ ऐसा निकला, देखकर डॉक्टरों की आंखें खुली की खुली रह गईं।

पेट में 1 मीटर लंबी चोटी

मामला पंजाब के लुधियाना का है। 6 साल की गुरजीत छह महीने से अपने ही बाल खा रही थी। जो उसके पेट में जाकर एक मीटर लंबी बालों की चोटी बन गए। पेट में गोला सा महसूस हुआ तो दर्द भी बढ़ गया। भूख न लगने पर उसका वजन भी केवल 14 किलो तक रह गया था। उसके परिजन उसे पक्खोवाल रोड स्थित अनमोल अस्पताल में लाए तो सर्जन डॉ. दलजीत सिंह ने टीम के साथ उसका आपरेशन कर पेट की छोटी आंत में फंसी करीब एक मीटर लंबी बालों की चोटी निकाली। अब बच्ची नार्मल है और उसे अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है।

ऐसे पता चला

गांव दाद निवासी छह साल की बच्ची गुरजोत कौर के पेट में दर्द रहता था। उसे भूख भी नहीं लग रही थी। हाथ लगाने पर पेट के बीच एक गोला सा महसूस होता था। इस पर मां-बाप उसे अस्पताल में लाए। डॉ. दलजीत ने बताया कि उसका अल्ट्रासाउंड कराया तो पता चला कि पेट में गोले के आकार का कुछ है। मगर स्थिति क्लियर नहीं हुई। फिर बच्ची की एंडोस्कोपी कराई गई। जिसमें पता चला कि पेट की छोटी आंत में मेहदे के पास बालों का गुच्छा है। लेकिन यह एक मीटर लंबा हो सकता है, इसका पता ऑपरेशन के बाद ही चला।


सर्जरी के बाद साइकेट्रिस्ट

बालों के इस गुच्छे ने एक साइड से मेहदे का आकार ले रखा था और दूसरी साइड में करीब एक मीटर लंबे सांप जैसी चोटी बनी हुई थी। 4 सितंबर को बच्ची का आपरेशन किया गया और 10 को बच्ची को छुट्टी दे दी गई है। डॉ. दलजीत सिंह के मुताबिक, आपरेशन के बाद ऐसे बच्चों का इलाज साइकेट्रिस्ट से कराना जरूरी है। क्योंकि अगर वह किसी मानसिक रोग से पीड़ित हैं तो सर्जरी के बाद फिर से बाल खाना शुरू कर सकते हैं। साइकेट्रिस्ट से इलाज कराने पर बच्चा इस आदत को छोड़ देगा।

रेपुंजल सिंड्रोम बीमारी का नाम, विश्व में अब तक सिर्फ 40 केस

डॉ. दलजीत के मुताबिक जो बच्चे खुद को अकेला महसूस करते हैं या जिनकी घर में अनदेखी हो रही होती है तो वे इस तरह की मानसिकता का शिकार हो जाते हैं और अपने ही बालों को नोंचकर खाना शुरू कर देते हैं। जिस बच्चे के पेट से इतनी बड़ी बालों की चोटी निकले, उसे रेपुंजल सिंड्रोम कहा जाता है। पूरे विश्व में इस तरह के अब तक 40 केस ही हुए हैं। जिनमें से चार व्हीट एलर्जी के हैं। यह बच्ची भी व्हीट एलर्जी से पीड़ित है। सामान्य स्थिति में बाल खाने पर इसे ट्राइकोबेजुआर नामक बीमारी कहा जाता है।


मां-बाप रखें खास ध्यान

अगर कोई बच्चा अपने ही बाल या कोई असाधारण चीज खा रहा हो तो उसे अनदेखा न करें। बल्कि उसे तुरंत किसी साइकेट्रिस्ट के पास ले जाकर उसकी काउंसलिंग भी कराई जानी चाहिए। क्योंकि उसकी यह आदत कोई बड़ी समस्या खड़ी कर सकती है। अगर बच्चे के पेट में गोले जैसा कुछ महसूस हो तो तुरंत किसी सर्जन को दिखाना चाहिए।

https://www.firkee.in/omg/oh-teri-ki/one-meter-pony-tail-found-in-the-stomoch-of-6-year-old-kid?pageId=5

अगला लेख: महिला ने दिन दहाड़े बस में लगा दी आग, वजह जानकर सन्न रह जाएगा दिमाग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 सितम्बर 2018
बिहार का फेमस फूड लिट्टी-चोखा अपने बेहतरीन स्वाद के कारण आज दुनिया भर में प्रसिद्ध होता जा रहा है। लोग इसे बड़े चाव से खाना पसंद करते हैं। जो इसे खाते हैं, वह कई तरह के सेहत लाभ का भी फायदा उठाते हैं, लेकिन जो लोग इसे नहीं खाते वे कई तरह के इससे होने वाले सेहत लाभ से वंचि
18 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
पटना: सोमवार को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि को लेकर कांग्रेस सहित कई विपक्षी दलों द्वारा भारत बंद किया जा रहा है। जहां एक तरफ पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर विपक्ष सड़क पर हंगामा कर रही है ,वही दूसरी तरफ सोशल मीडिया परभारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान व ब
10 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
महिलाओं के कई रूप होते हैं, जब वो प्यार करती है तो उसका स्नेह निर्मोही और निष्छल होता है लेकिन जब वो चंडी का रूप धारण करती है तो प्रलय आ जाता है। इस प्रलय की आग में लोगों का अभिमान तक जलकर खाक हो जाता है। ऐसा ही एक प्रलय उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में आया। म
20 सितम्बर 2018
18 सितम्बर 2018
भोजपुरी फिल्म के सुपरस्टार अरविंद अकेला कल्लू के गाने आए दिन इंटरनेट पर वायरल होते रहते हैं. इसी क्रम में उनका एक और गाना 'मोदी योगी के सरकार' वायरल हो रहा है. कल्लू ने यह गाना पीएम मोदी के लिए गाया है. कल्लू का यह गाना पीएम मोदी के जन्मदिन पर बनाया गया. कल्लू से हुई बातचीत के दौरान उन्होंने बताया क
18 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
वैसोडिलेशन रक्त वाहिकाओं का फैलाव है, जो रक्तचाप(हृदय पर दवाब बनाकर पूरे शरीर में रक्त की आपूर्ति के लिए बाध्य करता है) को कम करता है । जो पदार्थ वैसोडिलेशन का कारण हैं उन्हें वैसोडिलेटर के रूप में जाना जाता है। वैसोडिलेटर का प्राथमिक कार्य शरीर में ऊतकों या क्षेत्र में
09 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x